Biography of Arun Jaitley

अरुण जेटली का जीवन परिचय

अरुण जेटली का जीवन परिचय: (Biography of Arun Jaitley)

अरुण जेटली एक भारतीय राजनीतिज्ञ और वकील थे, जो 2014 से 2019 तक भारत सरकार के वित्त और कॉर्पोरेट मामलों के मंत्री थे।
अरुण जेटली ने स्वास्थ्य मुद्दों के कारण 2019 में मोदी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने का फैसला किया। उनका निधन 24 अगस्त 2019 को एम्स , नई दिल्ली में दोपहर 12: 07 बजे हो गया।

अरुण जेटली के बारे में संक्षिप्त विवरण: (Quik info about Arun Jaitley in Hindi)

नाम अरुण जेटली
जन्म तिथि 28 फरवरी 1952
जन्म स्थान दिल्ली, भारत
निधन तिथि 24 अगस्त 2019
उपलब्धियाँ भारत के वित्त मंत्री, भारत के रक्षा मंत्री, भारत के कॉरपोरेट मामले मंत्री, विपक्ष नेता (राज्य सभा) इत्यादि।

अरुण जेटली का प्रारंभी जीवन और शिक्षा: (Arun Jaitley’s early life and education)

अरुण जेटली का जन्म दिल्ली के महाराज किशन जेटली और रतन प्रभा जेटली के घर में हुआ था उनके पिता एक वकील के रूप में कार्यरत थे। जेटली ने अपनी प्राथमिक शिक्षा वर्ष 1957 से वर्ष 1969 तक जेवियर्स स्कूल, नई दिल्ली से उत्तीर्ण की थी जिसके बाद उन्होंने श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, नई दिल्ली से वर्ष 1973 में वाणिज्य स्नातक (कॉमर्स) की डिग्री हासिल की थी और वर्ष 1977 में उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय में कानून के संकाय (फ़ैकल्टि ऑफ लॉ कॉलेज) से एलएलबी (LLB)की डिग्री ली थी। छात्र के रूप में अपने कैरियर के दौरान, उन्होंने अकादमिक और पाठ्यक्रम के अतिरिक्त गतिविधियों दोनों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के विभिन्न सम्मानों को प्राप्त किया था।

अरुण जेटली के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य: (Important facts about Arun Jaitley)

  • दिल्ली विश्वविद्यालय कैंपस में जेटली अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के छात्र नेता थे जिसके बाद वर्ष और 1974 में दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र संघ के अध्यक्ष बने थे।
  • वह राज नारायण और जयप्रकाश नारायण द्वारा वर्ष 1973 में शुरू किए गए भ्रष्टाचार के खिलाफ एक आंदोलन के प्रमुख नेता थे।
  • वह जय प्रकाश नारायण द्वारा नियुक्त छात्र और युवा संगठन की राष्ट्रीय समिति के संयोजक के रूप में कार्यरत थे और जिसके साथ-साथ वे नागरिक अधिकार आंदोलन में भी सक्रिय थे।
  • वर्ष 1977 में जब कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा, लोकतांत्रिक युवा मोर्चा के संयोजक होने के नाते, जेटली को दिल्ली ABVP का अध्यक्ष और अखिल भारतीय का सचिव नियुक्त किया गया था।
  • जेटली लगातार वर्ष 1991 से भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य थे। लेकिन वर्ष 1999 के आम चुनाव से पहले की अवधि के दौरान भाजपा के प्रवक्ता बन गए थे।
  • वर्ष 1977 में, जब कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा, तब लोकतांत्रिक युवा मोर्चा के संयोजक होने के नाते, जेटली को दिल्ली अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का अध्यक्ष और सचिव नियुक्त किया गया था।
  • वर्ष 1999 में, भाजपा की वाजपेयी सरकार के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सत्ता में आने के बाद, उन्हें 13 अक्टूबर 1999 को सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री नियुक्त किया गया था और जिसके साथ ही उन्हें विनिवेश राज्य मंत्री भी नियुक्त किया गया था।
  • 23 जुलाई 2000 को जेटली ने कानून, न्याय और कंपनी मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार संभाला था और जिसके बाद उन्हें वर्ष 2000 में ही एक कैबिनेट मंत्री के रूप में पदोन्नत किया गया था।
  • अरुण जेटली ने 1 सितंबर, 2001 शिपिंग के लिए मंत्री के कार्यालय संभाला और 1 जुलाई 2002 को केंद्रीय कानून, न्याय और कंपनी मामलों के मंत्री के रूप में कार्य किया था।
  • जेटली के मेहनत और लगन से कार्य करते रहने से उन्हें 29 जनवरी 2003 को केंद्रीय मंत्रिमंडल को वाणिज्य और उद्योग और कानून और न्याय मंत्री के रूप में फिर से नियुक्त किया था।
  • जेटली ने 26 अगस्त, 2012 को संसद के बाहर एक कथन कहा था “ऐसे अवसर होते हैं जब संसद में बाधा देश को अधिक लाभ पहुंचाती है।” इस कथन को भारत में समकालीन राजनीति में संसद की बाधा को वैधता प्रदान करने वाला माना जाता गया था।
  • 26 मई 2014 को अरुण जेटली को मोदी सरकार में वित्त मंत्री, रक्षा मंत्री और कॉर्पोरेट मामलों के मंत्री के रूप में चुना गया था।
(Visited 207 times, 1 visits today)
You just read: Arun Jaitley Biography - FAMOUS PEOPLE Topic

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top