अरुंधती राय का जीवन परिचय | Biography of Arundhati Roy in Hindi

बुकर पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय महिला: अरुंधती राय का जीवन परिचय

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे अरुंधती राय (Arundhati Roy) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए अरुंधती राय से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Arundhati Roy Biography and Interesting Facts in Hindi.

अरुंधती राय के बारे में संक्षिप्त जानकारी

नामअरुंधती राय (Arundhati Roy)
वास्तविक नामसुज़ेना अरुंधति राय
जन्म की तारीख24 नवंबर 1961
जन्म स्थानशिलांग, असम, भारत
माता व पिता का नाममेरी रॉय / राजीब रॉय
उपलब्धि1997 शिलांग, असम, भारत
लिंग / पेशा / देशमहिला / लेखक / भारत

अरुंधती राय (Arundhati Roy)

अरुंधति राय अंग्रेजी की सुप्रसिद्ध भारतीय लेखिका और समाजसेवी हैं। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत अभिनय से की थी। उन्होंने मैसी साहब फिल्म में प्रमुख भूमिका निभाई हैं। अरुंधति राय ने लेखन के अलावा नर्मदा बचाओ आंदोलन समेत भारत के दूसरे जनांदोलनों में भी हिस्सा लिया है। हाल ही में उनकी पुस्तक ""The Doctor and the saint:the ambedkar-Gandhi Debate"" पुस्तक बहुत चर्चा में है जिसका हिन्दी अनुवाद ""एक था डॉक्टर एक था सन्त"" है|

अरुंधती राय का जन्म

अरुंधती राय का जन्म 24 नवम्बर 1961 को शिलोंग, असम (वर्तमान मेघालय) में हुआ था। इनका पूरा नाम सुजाना अरुंधती राय है। इनके पिता का नाम रंजीत राय तथा इनकी माता का नाम मैरी राय था। इनके पिता राजीव रॉय शिलांग में चाय बागान के प्रबंधक थे और इनकी मां ईसाई थीं जो केरल की महिला अधिकार कार्यकर्ता थीं।

अरुंधती राय की शिक्षा

अरुंधती राय ने कॉरपस क्रिस्टी, कोट्टायम में स्कूल में भाग लिया, उसके बाद लॉरेंस स्कूल, लॉड्रेल, तमिलनाडु के नीलगिरी में। उसके बाद उन्होंने स्कूल ऑफ़ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर, दिल्ली में वास्तुकला का अध्ययन किया, जहाँ उनकी मुलाकात वास्तुकार जेरार्ड दा कुन्हा से हुई। दोनों अलग होने से पहले दिल्ली और फिर गोवा में एक साथ रहते थे।

अरुंधती राय का करियर

अपने करियर की शुरुआत में, रॉय ने टेलीविजन और फिल्मों में काम किया। उसने पटकथा लिखी जिसके लिए इन एनी गिव्स इट द वेस (1989), वास्तुकला के एक छात्र के रूप में उसके अनुभवों पर आधारित फिल्म, जिसमें वह एक कलाकार और इलेक्ट्रिक मून (1992) के रूप में भी दिखाई दी। दोनों को उनके पति प्रदीप कृष्णन ने उनकी शादी के दौरान निर्देशित किया था। उन्होंने 1994 में ध्यान आकर्षित किया जब उन्होंने शेखर कपूर की फिल्म बैंडिट क्वीन की आलोचना की, जो फूलन देवी के जीवन पर आधारित थी। ""द ग्रेट इंडियन रेप ट्रिक"" नामक उनकी फिल्म की समीक्षा में, उन्होंने ""बिना उनकी अनुमति के एक जीवित महिला के बलात्कार को रोकने का अधिकार"" पर सवाल उठाया और कपूर पर देवी का शोषण करने और उसके जीवन और उसके अर्थ दोनों को गलत तरीके से पेश करने का आरोप लगाया। रॉय ने 1992 में अपना पहला उपन्यास द गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स लिखना शुरू किया, 1996 में इसे पूरा किया। यह पुस्तक अर्ध-आत्मकथात्मक है और एक प्रमुख हिस्सा अयमानम में उनके बचपन के अनुभवों को दर्शाता है। द गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स के प्रकाशन ने रॉय को अंतरराष्ट्रीय ख्याति दिलाई।

इसे 1997 में फ़िक्शन फ़िक्शन के लिए बुकर पुरस्कार मिला और इसे द न्यू यॉर्क टाइम्स के उल्लेखनीय पुस्तकों में से एक के रूप में सूचीबद्ध किया गया। यह इंडिपेंडेंट फिक्शन के लिए द न्यू यॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर की सूची में चौथे स्थान पर पहुंच गया। शुरुआत से, पुस्तक भी एक व्यावसायिक सफलता थी: रॉय ने अग्रिम के रूप में आधा मिलियन पाउंड प्राप्त किए। यह मई में प्रकाशित हुआ था, और पुस्तक जून के अंत तक 18 देशों में बेची गई थी। अपने उपन्यास की सफलता के बाद से, रॉय ने एक टेलीविजन धारावाहिक, द बरन ट्री, और डॉक्यूमेंट्री DAM / AGE: A Film with Arundhati Roy (2002) लिखा है। उन्होंने वी आर वन: ए सेलिब्रेशन ऑफ ट्राइबल पीपल्स, 2009 में जारी एक पुस्तक में योगदान दिया, जो दुनिया भर के लोगों की संस्कृति की खोज करती है, उनकी विविधता और उनके अस्तित्व के लिए खतरों को चित्रित करती है। इस पुस्तक की बिक्री से मिलने वाली रॉयल्टी स्वदेशी अधिकार संगठन सर्वाइवल इंटरनेशनल को जाती है। अक्टूबर 2016 में, पेंगुइन इंडिया और हैमिश हैमिल्टन यूके ने घोषणा की कि वे जून 2017 में अपना दूसरा उपन्यास, द मिनिस्ट्री ऑफ यूटेस्ट हैप्पीनेस प्रकाशित करेंगे। इस उपन्यास को मैन बुकर पुरस्कार 2017 लॉन्ग लिस्ट के लिए चुना गया था। जनवरी 2018 में कथा के लिए नेशनल बुक क्रिटिक्स सर्कल अवार्ड के लिए अंतिम खुशी के मंत्रालय को एक फाइनलिस्ट के रूप में नामित किया गया था।


नीचे दिए गए प्रश्न और उत्तर प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रख कर बनाए गए हैं। यह भाग हमें सुझाव देता है कि सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं। यह प्रश्नोत्तरी एसएससी (SSC), यूपीएससी (UPSC), रेलवे (Railway), बैंकिंग (Banking) तथा अन्य परीक्षाओं में भी लाभदायक है।

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):


  • प्रश्न: द गॉड ऑफ स्मॉल थिंग उपन्यास के लेखक कौन है?
    उत्तर: अरुंधती राय
  • प्रश्न: अरुंधती रॉय ने सर्वश्रेष्ठ पटकथा का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार कब जीता था?
    उत्तर: 1989
  • प्रश्न: वर्ष 2002 में अरुंधति ने कौन सा पुरस्कार जीता था?
    उत्तर: लान्नान सांस्कृतिक स्वतंत्रता पुरस्का
  • प्रश्न: साल 2006 में साहित्य अकादमी अवार्ड से किसे सम्मानित किया गया था?
    उत्तर: अरुंधती राय
  • प्रश्न: द मिनिस्ट्री ऑफ अटमोस्ट हैप्पीनेस के लेखक कौन है?
    उत्तर: अरुंधती राय

You just read: Arundhati Roy Biography - FIRST AWARDEE Topic

1 thought on “बुकर पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय महिला: अरुंधती राय का जीवन परिचय”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *