ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय महिला: आशापूर्णा देवी का जीवन परिचय

Famous People: Ashapoorna Devi Biography

आशापूर्णा देवी का जीवन परिचय: (Biography 0f Ashapoorna Devi in Hindi)

आशापूर्णा देवी एक प्रसिद्ध बंगाली कवयित्री और उपन्यासकार थीं। इनका परिवार एक मध्यमवर्गीय परिवार था। इनके पिता एक अच्छे चित्रकार थे और इनकी माता की बांग्ला साहित्य में गहरी रुचि थी। पिता की चित्रकारी में रुचि और माँ के साहित्य प्रेम की वजह से आशापूर्णा देवी को उस समय के जाने-माने साहित्यकारों और कला शिल्पियों से निकट परिचय का अवसर मिला।

Quick Info about first Jnanpith Awardee:

नाम आशापूर्णा देवी
जन्म तिथि 08 जनवरी 1909
जन्म स्थान कोलकाता, पश्चिम बंगाल
निधन तिथि 13 जुलाई 1995
उपलब्धि ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय महिला
उपलब्धि वर्ष 1976

आशापूर्ण देवी से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य (Important Facts Related to Ashapoorna Devi)

  1. आशापूर्णा जी का जन्म 08 जनवरी, 1909 को कोलकाता, पश्चिमी बंगाल के हुआ था।
  2. आशापूर्णा जी का परिवार कट्टरपंथी था, इसलिए उन्हें स्कूल और कॉलेज जाने का सुअवसर नहीं मिला।
  3. आशापूर्णा के लेखन की विशिष्‍टता उनकी एक अपनी ही शैली थी।
  4. साल 1940 में उनका पहला कहानी-संकलन “जल और जामुन” पश्चिम बंगाल से प्रकाशित हुआ था।
  5. आशापूर्णा देवी के विपुल कृतित्‍व का उदाहरण उनकी लगभग 225 कृतियां हैं।
  6. मात्र 13 वर्ष की आयु में ही आशापूर्णा देवी की लेखन यात्रा शुरू हो गयी और आजीवन वे साहित्य से जुड़ी रही।
  7. अपनी धारदार लेखनी की मदद से उन्होंने नारी जीवन के विभिन्न पक्षों, उनकी पारिवारिक समस्याओं और समाज के विभिन्न पक्षों को उजागर किया है।
  8. उन्हें वर्ष 1976 में प्रथम प्रतिश्रुति के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। यह पुरस्कार प्राप्त करने वाली वे पहली भारतीय महिला हैं।
  9. आशापूर्णा देवी को अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था। जैसे: लीला पुरस्कार 1954 में, पद्मश्री पुरस्कार 1976 में तथा 1964 में टैगोर पुरस्‍कार से भी नवाजा गया था।
  10. आशापूर्णा देवी की मृत्यु 13 जुलाई, 1995 को 87 वर्ष की उम्र में हुई थी।

सामान्य ज्ञान अपनी ईमेल पर पाएं!

Comments are closed