आजाद भारत के पहले कानून मंत्री: भारत रत्न भीमराव अम्बेडकर का जीवन परिचय

भीमराव आम्बेडकर का जीवन परिचय:

भीमराव आम्बेडकर जी एक बहुजन राजनीतिक नेता और एक बौद्ध पुनरुत्थानवादी भी थे। उन्हें बाबासाहेब के नाम से भी जाना जाता है। आम्बेडकर ने अपना सारा जीवन हिन्दू धर्म की चतुवर्ण प्रणाली और भारतीय समाज में सर्वत्र व्याप्त जाति व्यवस्था के विरुद्ध संघर्ष में बिता दिया था। उन्होंने दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया और दलितों के खिलाफ सामाजिक भेद भाव के विरुद्ध अभियान चलाया। वे स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री एवं भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार थे।

भीमराव आम्बेडकर के बारे संक्षिप्त विवरण:

नाम भीमराव रामजी अम्बेडकर
जन्म तिथि 14 अप्रैल, 1891
जन्म स्थान इंदौर जिला, मध्य प्रदेश (भारत)
निधन तिथि 06 दिसम्बर, 1956
पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल
माता का नाम भीमाबाई सकपाल
समाधि स्थल चैत्य भूमि, मुंबई, महाराष्ट्र
उपलब्धि आजाद भारत के पहले कानून मंत्री एवं न्याय मंत्री
उपलब्धि वर्ष 1947

भीमराव अम्बेडकर का प्रारम्भिक जीवन एवं शिक्षा:

अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रांत (वर्तमान मध्य प्रदेश) में महू (वर्तमान डॉ. अंबेडकर नगर) के नगर में हुआ था। वह सेना के अधिकारी रामजी मालोजी सकपाल और भीमाबाई सकपाल की 14 वीं एवं अंतिम संतान थे। उनका परिवार वर्तमान महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले के अंबाडावे (मांडंगड तालुका) गाँव से मराठी पृष्ठभूमि का था। अंबेडकर एक गरीब निम्न महार (दलित) जाति में पैदा हुए थे, जिन्हें अछूत माना जाता था और सामाजिक-आर्थिक भेदभाव के अधीन किया जाता था। अंबेडकर के पूर्वजों ने लंबे समय तक ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना के लिए काम किया था, और उनके पिता ने महू छावनी में ब्रिटिश भारतीय सेना में काम किया था। वर्ष 1894 में अंबेडकर के पिता सेवानिवृत्त हुए और परिवार दो साल बाद सतारा चला गया। उनका मूल उपनाम सकपाल था, लेकिन उनके पिता ने उनका नाम स्कूल में अंबादावेकर के रूप में दर्ज किया था, जिसका अर्थ है कि वह रत्नागिरी जिले के अंबडावे के अपने पैतृक गांव से आते हैं। उनके देवरूखे ब्राह्मण शिक्षक, कृष्ण केशव अम्बेडकर ने अपना उपनाम “अंबादावेकर” से बदलकर अपने स्वयं के उपनाम “अम्बेडकर” को स्कूल रिकॉर्ड में दर्ज किया। 1897 में, अंबेडकर का परिवार मुंबई आ गया जहाँ अंबेडकर एल्फिंस्टन हाई स्कूल में नामांकित करवाया, वर्ष 1906 में, जब वह लगभग 15 साल के थे, तो उसकी शादी नौ साल की लड़की, रमाबाई से हुई थी।

भीमराव अम्बेडकर से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू, इंदौर जिला मध्य-प्रदेश में हुआ था।
  • भीमराव अम्बेडकर रामजी मालोजी सकपाल और भीमाबाई मुरबादकर की 14वीं व अंतिम संतान थे।
  • भीमराव अम्बेडकर करीब 09 भाषाएँ जानते थे। उन्होनें 21 साल तक लगभग सभी धर्मों की पढ़ाई भी कर ली थी।
  • अंबेडकर के पास कुल 32 डिग्री थी। वो विदेश जाकर अर्थशास्त्र में पीचडी (P.H.D) करने वाले पहले भारतीय थे।
  • अंबेडकर का पहला संगठित प्रयास केंद्रीय संस्था बहिश्तक हितकारिणी सभा की स्थापना थी।
  • उन्हें सयाजीराव गायकवाड़ III (बड़ौदा के गायकवाड़) द्वारा स्थापित एक योजना के तहत तीन साल के लिए प्रति माह £ 11.50 (स्टर्लिंग) की बड़ौदा राज्य छात्रवृत्ति से सम्मानित किया गया था।
  • वर्ष 1925 में ऑल-यूरोपियन साइमन कमीशन के साथ काम करने के लिए भीमराव अम्बेडकर को बॉम्बे प्रेसीडेंसी कमेटी में नियुक्त किया गया था।
  • सन् 1956 में बाबासाहेब नागपुर में एक समारोह में अपने दो लाख अछूत साथियों के साथ हिन्दू धर्म त्यागकर बौद्ध बन गए थे।
  • 1916 में उन्होंने अपना दूसरा शोध पूरा किया, नेशनल डिविडेंड ऑफ इंडिया – ए हिस्टोरिक एंड एनालिटिकल स्टडी, एक और एम.ए. के लिए और आखिरकार उन्होंने अपने तीसरे शोध के लिए 1927 में अर्थशास्त्र में पीएचडी प्राप्त की, उसके बाद वे लंदन चले गए थे।
  • 1918 में, वे मुंबई में सिडेनहैम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स में राजनीतिक अर्थव्यवस्था के प्रोफेसर बने।
  • 25 दिसंबर 1927 को, उन्होंने मनुस्मृति की प्रतियां जलाने के लिए हजारों अनुयायियों का नेतृत्व किया। इस प्रकार प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को अम्बेडकरवादी और दलितों द्वारा मनुस्मृति दहन दिवस (मनुस्मृति दहन दिवस) के रूप में मनाया जाता है।
  • भीमराव अंबेडकर संविधान निर्माण करने वाली समिति के अध्यक्ष थे, इसलिए इनको भारतीय संविधान का निर्माता भी कहा जाता है।
  • डॉ. भीम राव अंबेडकर जी को मरणोपरांत वर्ष 1990 में भारत के सर्वोच्‍च सम्‍मान ‘भारत रत्‍न‘ से सम्‍मानित किया गया था।
  • बाबासाहेब अम्बेडकर एक प्रखर और प्रख्यात लेखक थे। उन्होंने अपने समकालीन राजनेताओं में सबसे अधिक लिखा था। उन्होंने कुल 32 पुस्तकें (10 अपूर्ण हैं), 10 ज्ञापन, साक्ष्य और कथन, 10 शोध दस्तावेज, लेखों और पुस्तकों की समीक्षा और 10 प्रस्तावना और भविष्यवाणियाँ लिखी थीं। बुद्ध और उनका धम्म अंबेडकर की अंतिम पुस्तक है।
  • आखिरी दिनों में बी. आर. अंबेडकर डायबिटिज़ से बुरी तरह बीमार हो गए थे। 06 दिसंबर 1956 को दिल्ली में उनका निधन हो गया था, तथा मरने के 34 साल बाद इन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

This post was last modified on November 29, 2019 12:30 pm

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):

  • प्रश्न: भीमराव अम्बेडकर कितनी भाषाएँ जानते थे?
    उत्तर: 9
  • प्रश्न: विदेश जाकर अर्थशास्त्र में पीचडी (P.H.D) करने वाले पहले भारतीय कौन थे जिनके पास कुल 32 डिग्री थी?
    उत्तर: भीमराव अम्बेडकर
  • प्रश्न: आजकल फैक्ट्रियों में 08 घंटे काम होता है ये सब किसकी देन है?
    उत्तर: भीमराव अम्बेडकर
  • प्रश्न: डॉ. भीम राव अंबेडकर को भारत रतन से कब सम्मानित किया गया था?
    उत्तर: 1990
  • प्रश्न: भीमराव अम्बेडकर को मरने के कितने साल बाद इन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था?
    उत्तर: 34 साल बाद
You just read: Bhimrao Ambedkar Biography - FAMOUS PEOPLE Topic

Recent Posts

26 सितम्बर का इतिहास भारत और विश्व में – 26 September in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 26 सितम्बर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

September 26, 2020

सितंबर 2020 समसामयिकी घटना चक्र – Current Affairs September 2020

सितंबर 2020 समसामयिकी घटना चक्र हिंदी में: (September 2020 Current Affairs in Hindi) इस अध्याय में आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं के…

September 25, 2020

भारत की पहली महिला डॉक्टर: रखमाबाई राऊत का जीवन परिचय

रखमाबाई राऊत का जीवन परिचय: (Biography of Rukhmabai Raut in Hindi) रखमाबाई राऊत भारत की प्रथम महिला चिकित्सक थीं। रखमाबाई का जन्म…

September 25, 2020

25 सितम्बर का इतिहास भारत और विश्व में – 25 September in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 25 सितम्बर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

September 25, 2020

भारत के संविधान में अब तक किए गए प्रमुख संविधान संशोधनों की सूची

भारतीय संविधान के संशोधन:  (Amendment of Indian Constitution in Hindi) भारतीय संविधान में अब तक कुल 126 संविधान संशोधन विधेयकों…

September 24, 2020

भारत की प्रथम क्रान्तिकारी महिला: मैडम भीकाजी कामा का जीवन परिचय

भीकाजी कामा का जीवन परिचय: (Biography of Bhikaiji Cama in Hindi) भीकाजी कामा एक महान महिला स्वतंत्रता सेनानी थी। जिन्होंने…

September 24, 2020

This website uses cookies.