भारत के पहले सिख मुख्य न्यायाधीश: जगदीश सिंह खेहर का जीवन परिचय


Famous People: Jagdish Singh Khehar Biography


जगदीश सिंह खेहर का जीवन परिचय: (Biography of Jagdish Singh Khehar in Hindi)

जस्ट‍िस जेएस खेहर भारत के 44वें मुख्य न्यायाधीश हैं। उन्होंने 04 जनवरी 2017 को प्रधान न्यायाधीश के पद की शपथ ग्रहण की और 27 अगस्त 2017 तक वे इस पद पर रहे। जस्टिस खेहर देश के पहले सिख चीफ जस्ट‍िस हैं। 64 साल के जस्टिस जे एस खेहर का पूरा नाम जगदीश सिंह खेहर है और लोग इन्हें इनके सख्त मिजाज की वजह से भी जानते हैं।

Quick Info About First Sikh Chief Justice of India:

नाम जगदीश सिंह खेहर
जन्म तिथि 28 अगस्त 1952 पंजाब (भारत)
उपलब्धि भारत के पहले सिख मुख्य न्यायाधीश
उपलब्धि वर्ष 2017

जगदीश सिंह खेहर से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Jagdish Singh Khehar)

  • जगदीश सिंह खेहर का जन्म 28 अगस्त 1952 को पंजाब में हुआ था।
  • जगदीश सिंह खेहर ने वर्ष 1974 में चंडीगढ़ के राजकीय कॉलेज से विज्ञान विषय के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की। इसके बाद 1977 में पंजाब विश्वविद्यालय से विधि में स्नातक और 1979 में एल.एल.एम. की उपाधि प्राप्त की।
  • 1979 में उन्होंने पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में और हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय में एक वकील के रूप में अभ्यास शुरू किया।
  • जगदीश सिंह खेहर ने 04 जनवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली थी। वे सिक्ख समुदाय से नियुक्त होने वाले देश के पहले मुख्य न्यायाधीश हैं। भारत के 44वें चीफ जस्ट‍िस के रूप में इनका कार्यकाल से 27 अगस्त 2017 तक रहा था।
  • वर्ष 1979 में जगदीश सिंह खेहर ने अपनी वकालत शुरू की। इस अवधि में उन्होंने पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय तथा उच्चतम न्यायालय में वकालत की।
  • वर्ष 1992 में उन्हें पंजाब में अतिरिक्त महाधिवक्ता नियुक्त किया गया।
  • जगदीश सिंह खेहर साल 1995 में वरिष्ठ अधिवक्ता बने।
  • न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहर और न्यायाधीश के. एस. राधाकृष्णन की बेंच ने सहारा के चेयरमैन सुब्रत रॉय सहारा को निवेशकों के पैसे नहीं लौटाने के कारण तिहाड़ जेल भेज दिया था।
  • क्या आप जानते है कि वह प्रत्येक तीन महीनों में रक्त दान करते है वह पिछले 40 वर्षों से ऐसा कर रहे है।
  • जस्टिस खेहर की अध्यक्षता वाली संविधानिक पीठ ने सरकार की महत्वकांक्षी राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति‍ आयोग (NJAC) कानून को खारिज कर दिया था।
Spread the love, Like and Share!

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.