भारत के प्रथम लाइसेंसधारी पायलट: भारत रत्न जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा का जीवन परिचय


Famous People: Jehangir Ratanji Dadabhoy Tata Biography



जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा का जीवन परिचय: (Biography of Jehangir Ratanji Dadabhoy Tata in Hindi)

जे.आर.डी. टाटा भारत के अग्रणी उद्योगपति थे। इनका पूरा नाम जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा था। वे दशको तक टाटा ग्रुप के निर्देशक रहे और इस्पात, इंजीनीयरींग, होट्ल, वायुयान और अन्य उद्योगो का भारत मे विकास किया। 10 फरवरी 1929 को उन्हें भारत में जारी किया गया पहला पायलट लाइसेंस प्राप्त हुआ था। वे भारत के पहले लाइसेंसधारी पायलट थे और उन्होंने उन्होंने साल 1948 में एयर इंडिया की स्थापना की थी।

Quick Info About First licensed Pilot of India:

नाम जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा
जन्म तिथि 29 जुलाई 1904
जन्म स्थान पेरिस, फ़्राँस
निधन तिथि 29 नवम्बर, 1993
उपलब्धि भारत के प्रथम लाइसेंसधारी पायलट
उपलब्धि वर्ष 1929

जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Jehangir Ratanji Dadabhoy Tata)

  • जे. आर. डी. टाटा का जन्म 29 जुलाई, 1904 को पेरिस, फ़्राँस में हुआ था। इनके पिता का नाम रतनजी दादाभाई टाटा व माता का नाम सुजैन ब्रियरे था।
  • उन्होंने कैथेडरल और जॉन कोनोन स्कूल मुंबई से अपनी प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की और उसके बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए ‘कैंब्रिज विश्वविद्यालय’ चले गए।
  • वर्ष 1932 में इन्होंने देश की पहली वाणिज्यिक विमान सेवा ‘टाटा एयरलाइंस’ शुरू की थी, जो आगे चलकर सन 1946 में भारत की राष्ट्रीय विमान सेवा ‘एयर इंडिया’ बन गई।
  • वर्ष 1953 में भारत सरकार ने उन्हें ‘एयर इंडिया’ का अध्यक्ष और ‘इंडियन एयरलाइंस’ के बोर्ड का निर्देशक नियुक्त किया था।
  • साल 1954 में फ़्राँस ने उन्हें अपने सर्वोच्‍च नागरिकता पुरस्कार ‘लीजन ऑफ द ऑनर’ से भी नवाजा था।
  • देश के विकास में उनके अतुलनीय योगदान को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने उन्हें सन 1955 मे ‘पद्म विभूषण’ सम्मान से सम्मानित किया था।
  • उन्होंने 1968 में ‘टाटा कम्प्यूटर सेंटर’ (अब टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज) और 1979 में ‘टाटा स्टील’ की स्थापना की।
  • जे. आर. डी. टाटा को भारत सरकार द्वारा साल 1992 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से भी नवाजा गया था।
  • साल 1992 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने भारत में जनसंख्या नियंत्रण में अहम योगदान देने के लिए उन्हें ‘यूनाइटेड नेशन पापुलेशन आवार्ड’ से सम्‍मानित किया था।
  • गुर्दे में संक्रमण के कारण 29 नवम्बर, 1993 को जे. आर. डी. टाटा का जिनेवा (स्विट्ज़रलैण्ड) में निधन हो गया।
  • जे आर डी टाटा के 114वीं जयंती पर जमशेदपुर के सोनारी एयरपोर्ट पर हवाई जहाजों की एक प्रदर्शनी लगाई गई। प्रदर्शनी का उद्घाटन टाटा स्टील के वीपी सुनील भाष्करण ने किया। प्रदर्शनी में टाटा स्टील के सभी हवाई जहाजों के साथ छोटे-छोटे एयर क्राफ्ट भी हैं। टाटा के 10 जहाजों और हेलीकॉप्टर के अलावा छोटे एयर क्राफ्ट के 30 से ज्यादा मॉडलों को दिखाया गया। इसमे आकर्षण का केंद्र रहा ड्रोन जिसे देखने के लिए काफी लोग आए।
Spread the love, Like and Share!

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Comments are closed