ग़दर पार्टी के संस्थापक: लाला हरदयाल का जीवन परिचय


Famous People: Lala Har Dayal Biography [Post ID: 13223]



लाला हरदयाल का जीवन परिचय: (Biography of Lala Har Dayal in Hindi)

लाला हरदयाल जी एक प्रसिद्द भारतीय क्रांतिकारी थे। विदेशों में भटकते हुए अनेक कष्ट सहकर लाला हरदयाल जी ने देशभक्तों को भारत की आज़ादी के लिए प्रेरित व प्रोत्साहित किया था।

Quick Info About Lala Har Dayal in Hindi:

नाम लाला हरदयाल
जन्म तिथि 14 अक्टूबर 1884
जन्म स्थान दिल्ली (भारत)
निधन तिथि 04 मार्च 1939
उपलब्धि ग़दर पार्टी के संस्थापक
उपलब्धि वर्ष 1913

लाला हरदयाल से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Lala Har Dayal)

  1. लाला जी का जन्म दिल्ली में गुरुद्वारा शीशगंज के पास स्थित चीराखाना मुहल्ले में एक कायस्थ परिवार में हुआ था।
  2. उनके पिता का नाम गौरीदयाल माथुर तथा माता का नाम भोली रानी था।
  3. लाला हरदयाल की आरम्भिक शिक्षा कैम्ब्रिज मिशन स्कूल में हुई थी। इसके बाद सेंट स्टीफेंस कालेज, दिल्ली से संस्कृत में स्नातक किया। तत्पश्चात् पंजाब विश्वविद्यालय, लाहौर से संस्कृत में ही एम०ए० किया था।
  4. लाला हरदयाल जी ‘पंजाब’ नामक अंग्रेज़ी पत्र के सम्पादक भी रहे थे।
  5. हरदयाल जी ने ग़दर पार्टी की स्थापना 25 जून, 1913 ई. में की गई थी। पार्टी का जन्म अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को के ‘एस्टोरिया’ में अंग्रेजी साम्राज्य को जड़ से उखाड़ फेंकने के उद्देश्य से हुआ था।
  6. हरदयाल जी ने पेरिस ने जाकर “वन्दे मातरम्” और “तलवार” नामक पत्रिका का संपादन किया था।
  7. लाला जी लाहौर में एम.ए. करने के दौरान ‘वाई एम् सी ए’ के समानान्तर यंग मैन इण्डिया एसोसियेशन की स्थापना की थी।
  8. लाला जी को विश्व की तेरह भाषाओ का ज्ञान था।
  9. लाला जी हिन्दू तथा बौद्ध धर्म के प्रकाण्ड पण्डित थे।
  10. 04 मार्च 1939 को इनका फिलाडेल्फिया में निधन हो गया था।
जांचें कि आपने ऊपर क्या पढ़ा? प्रश्नोत्तरी:

एस्टोरिया की ‘हिन्दुस्तानी एसोसिएशन’ का गठन कब हुआ था?

Correct
Incorrect

14 मई 1914 को ग़दर में प्रकाशित एक लेख में यह किसने लिखा की “प्रार्थनाओं का समय गया; अब तलवार उठाने का समय आ गया है । हमें पंडितों और काजियों की कोई जरुरत नहीं हैं।”?

Correct
Incorrect

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

2 Comments:

  1. Lala Hardyal ji ka DOB 1884 me hua tha but note me 1984 likha hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published.