पुणे सार्वजनिक सभा के संस्थापक: महादेव गोविन्द रानाडे का जीवन परिचय

महादेव गोविन्द रानाडे का जीवन परिचय: (Biography Mahadev Govind Ranade in Hindi)

महादेव गोविन्द रानाडे एक ब्रिटिश काल के भारतीय न्यायाधीश, लेखक एवं समाज-सुधारक थे। उन्हें “महाराष्ट्र का सुकरात” कहा जाता है। रानाडे ने समाज सुधार के कार्यों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था। प्रार्थना समाज, आर्य समाज और ब्रह्म समाज का इनके जीवन पर बहुत प्रभाव था।

Quick Info About Mahadev Govind Ranade in Hindi:

नाम महादेव गोविन्द रानाडे
जन्म तिथि 18 जनवरी 1842
जन्म स्थान पुणे, महाराष्ट्र (भारत)
निधन तिथि 16 जनवरी 1901
उपलब्धि पुणे सार्वजनिक सभा के संस्थापक
उपलब्धि वर्ष  1870

महादेव गोविन्द रानाडे से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related To Mahadev Govind Ranade)

  1. गोविंद रानाडे का जन्म 18 जनवरी 1842 को पुणे में हुआ था।
  2. उनके पिता का नाम ‘गोविंद अमृत रानाडे’ था।
  3. पुणे में आरंभिक शिक्षा पाने के बाद रानाडे ने ग्यारह वर्ष की उम्र में अंग्रेज़ी शिक्षा आरंभ की थी।
  4. 1859 ई. में उन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय से प्रवेश परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की और 21 मेधावी विद्यार्थियों में उनका अध्ययन मूल्यांकन शामिल था।
  5. महादेव गोविंद रानाडे ने ‘भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस’ की स्थापना का समर्थन किया था।
  6. 1943 में, बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर ने, रानाडे की प्रशंसा की, एवं उन्हें गाँधी और जिनाह के विरोधी का दर्जा दिया था।
  7. गोविंद रानाडे बी.ए. और एल.एल.बी. की कक्षा में प्रथम स्थान पर रहे थे।
  8. महादेव गोविन्द रानाडे का चयन प्रेसीडेंसी मजिस्ट्रेट के तौर पर हुआ था।
  9. वे बाल विवाह के कट्टर विरोधी और विधवा विवाह के समर्थक थे।
  10. 16 जनवरी, 1901 को इनका दुखद: निधन हो गया था।
(Visited 6 times, 1 visits today)

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.