भारत के प्रथम प्रशासनिक सेवा अधिकारी: सत्येन्द्र नाथ टैगोर का जीवन परिचय

सत्येन्द्रनाथ टैगोर का जीवन परिचय | Biography of Satyendranath Tagore in Hindi

सत्येन्द्र नाथ टैगोर का जीवन परिचय (Satyendranath Tagore Biography in Hindi)

सत्येन्द्र नाथ टैगोर इंडियन सिविल सर्विस (आईसीएस) की परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले प्रथम भारतीय थे। वह एक लेखक भी थे। सत्येन्द्र नाथ टैगोर का जन्म 01 जून 1842 को कलकत्ता में हुआ था। उनके पिता देवेन्द्रनाथ टैगोर और माता शारदा देवी थीं। उन्होंने घर पर ही संस्कृत और अंग्रेजी सीखी। वह 1857 में कलकत्ता विश्वविद्यालय के प्रवेश परीक्षाओं में उपस्थित होने वाले छात्रों के पहले बैच का हिस्सा थे।

संक्षिप्त विवरण (Quick Info):

नाम सत्येन्द्र नाथ टैगोर
जन्म तिथि 01 जून, 1842
जन्म स्थान कोलकाता, पश्चिम बंगाल (भारत)
निधन तिथि 09 जनवरी, 1923
उपलब्धि भारत के प्रथम प्रशासनिक सेवा (आईसीएस) अधिकारी
उपलब्धि वर्ष 1864

सत्येन्द्रनाथ टैगोर से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Satyendranath Tagore)

  • वर्ष 1859 में उन्होंने शादी की थी, उनकी पत्नि का नाम ज्ञानदनंदिनी देवी था।
  • सत्येन्द्रनाथ टैगोर विश्वविख्यात कवि रवीन्द्रनाथ टैगोर के बड़े भाई थे।
  • सत्येन्द्रनाथ टैगोर और उनके एक मित्र 1862 में इस परीक्षा के लिए इंग्लैंड गए। जून 1863 में टैगोर जी ने भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा पास की। ट्रेनिंग के बाद वे नवंबर 1864 में भारत लौट आए।
  • इनकी पहली नियुक्ति बॉम्बे प्रेसीडेंसी (वर्तमान मुंबई) में हुई थी।
  • सत्येंद्रनाथ टैगोर वर्ष 1882 में कर्वार, कर्नाटक में एक जिला न्यायाधीश थे।
  • उन्होंने लगभग 30 वर्षों तक आईसीएस में सेवा की और सन् 1897 में महाराष्ट्र के सातारा के न्यायाधीश के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे।
  • सत्येंद्रनाथ ने 1865 में अहमदाबाद के सहायक मैजिस्ट्रेट और कलैक्टर के पद पर काम शुरु किया था।
  • वर्ष 1832 से पहले तक सारे प्रशासकीय पदों पर अंग्रेज अफसर ही नियुक्त किए जाते थे और भारतीयों को ऊँचे उठने का बहुत ही कम अवसर दिया जाता था। इस कारण अवकाश प्राप्ति के समय तक वे केवल ज़िला तथा सेशन जज के पद तक ही उन्नति कर सके।
  • वे कवि और साहित्यकार भी थे। बांग्ला भाषा में उन्होंने अनेक पुस्तकें लिखी हैं।
  • सत्येन्द्र नाथ टैगोर का निधन 09 जनवरी 1923 में कोलकाता, पश्चिम बंगाल में हुआ था।
(Visited 18 times, 1 visits today)

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply