सुमित्रानंदन पंत का जीवन परिचय-Sumitranandan Pant Biography

ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित प्रथम हिंदी साहित्यकार: सुमित्रानंदन पंत का जीवन परिचय (Sumitranandan Pant Biography in Hindi)

सुमित्रानंदन पंत हिंदी साहित्य के एक मशहूर कवि थे। इस युग को जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ और रामकुमार वर्मा जैसे कवियों का युग कहा जाता है। सुमित्रानंदन पंत को हिन्दी का ‘वर्डस्वर्थ’ कहा जाता है। सुमित्रानंदन पंत ऐसे साहित्यकारों में गिने जाते हैं, जिनका प्रकृति चित्रण समकालीन कवियों में सबसे बेहतरीन था। वर्ष 1968 में सुमित्रानंदन पंत को उनकी प्रसिद्ध कविता संग्रह “चिदम्बरा” के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

सुमित्रानंदन पंत के जीवन परिचय का संक्षिपित विवरण:

नाम सुमित्रानंदन पंत
जन्म तिथि 20 मई, 1900
जन्म स्थान अल्मोड़ा, उत्तराखण्ड (भारत)
निधन तिथि 28 दिसम्बर, 1977
उपलब्धि ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित प्रथम हिंदी साहित्यकार
उपलब्धि वर्ष 1968

सुमित्रानंदन पंत से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Sumitranandan Pant)

  • सुमित्रानंदन पंत का जन्म 20 मई 1900 को उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा जिले के कैसोनी गाँव में हुआ था।
  • सुमित्रानंदन पंत का वास्तविक नाम गुसाईं दत्त था।
  • उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अल्मोड़ा से ही प्राप्त की थी। सन 1918 में वे अपने भाई के साथ काशी आ गए और वहां क्वींस कॉलेज में पढने लगे। मेट्रिक उतीर्ण करने के बाद वे इलाहबाद आ गए। वहां इंटर तक अध्ययन किया।
  •  वर्ष 1919 में महात्मा गाँधी के सत्याग्रह से प्रभावित होकर उन्होंने अपनी शिक्षा अधूरी छोड़ दी और स्वाधीनता आन्दोलन में सक्रिय हो गए।
  • सुमित्रानंदन सात वर्ष की उम्र में ही जब वे चौथी कक्षा में पढ़ रहे थे, कविता लिखने लग गए थे।
  • वर्ष 1960 में उन्हें कविता संग्रह “काला और बुढा चाँद” के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाज़ा गया था।
  • वर्ष 1961 में उन्हें ‘पद्म भूषण’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
  • “लोकायतन” कृति के लिए उन्हें सोवियत संघ सरकार की ओर से ‘नेहरु शांति पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया था।
  • उन्होंने आजीविका के लिए वर्ष 1955 से 1962 तक आकाशवाणी में बतौर मुख्य प्रोड्यूसर के पद पर कार्य किया था।
  • सुमित्रानंदन पंत का निधन 28 दिसम्बर 1977 को इलाहबाद हुआ था।
(Visited 14 times, 1 visits today)

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.