भारत की सबसे कम उम्र में बनने वाली महिला कैबिनेट मंत्री: सुषमा स्वराज का जीवन परिचय

सुषमा स्वराज का जीवन परिचय -Biography of Sushma Swaraj in Hindi

भारत की सबसे कम उम्र में बनने वाली महिला कैबिनेट मंत्री: सुषमा स्वराज का जीवन परिचय: (Sushma swaraj ka jivan parichayin Hindi)

सुषमा स्वराज एक भारतीय राजनीतिज्ञ और सुप्रीम कोर्ट की वकील थीं। भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के रूप में सुषमा स्वराज ने पहली बार नरेंद्र मोदी की सरकार में भारत की विदेशी मंत्री के रूप में कार्य किया था और वह भारत की सबसे कम उम्र में बनने वाली महिला कैबिनेट मंत्री थी।

सुषमा स्वराज के जीवन के बारे में संक्षिप्त विवरण: (Quick info about the India’s youngest woman cabinet minister)

नाम सुषमा स्वराज
जन्म तिथि 14 फरवरी 1952
जन्म स्थान अंबाला छावनी , पंजाब , भारत (वर्तमान हरियाणा, भारत में )
निधन तिथि 6 अगस्त 2019
प्रथम उपलब्धि हरियाणा विधानसभा के सदस्य के रूप में
प्रथम उपलब्धि वर्ष वर्ष 1977

सुषमा स्वराज का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा: (Biography and education of Sushma Swaraj)

सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 को अंबाला कैंट , हरियाणा में हुआ था, उसके माता-पिता पाकिस्तान के लाहौर के धरमपुरा इलाके से थे और उनके पिता प्रमुख राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य थे। स्वराज ने अंबाला छावनी के सनातन धर्म कॉलेज में शिक्षा प्राप्त करके संस्कृत और राजनीति विज्ञान में बड़ी उपाधि प्राप्त की थी जिसके बाद उन्होंने पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ में कानून की पढ़ाई की थी और हरियाणा के भाषा विभाग द्वारा आयोजित एक राज्य-स्तरीय प्रतियोगिता में उन्हें लगातार तीन वर्षों तक सर्वश्रेष्ठ हिंदी अध्यक्ष का पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

सुषमा स्वराज का राजनीतिक करियर: (Sushma Swaraj’s political career)

  1. सुषमा स्वराज ने वर्ष 1970 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के साथ अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की थी। और उनके पति स्वराज कौशल के समाजवादी नेता जॉर्ज फर्नांडिस के साथ निकटता से जुड़े थे जिससे सुषमा स्वराज वर्ष 1975 में जॉर्ज फर्नांडीस की कानूनी रक्षा टीम की सदस्य बनी।
  2. सुषमा स्वराज ने वर्ष 1977 में अंबाला छावनी विधानसभा क्षेत्र से हरियाणा विधानसभा के लिए विधायक का चुनाव जीतकर वर्ष 1982 तक हरियाणा विधानसभा के सदस्य के रूप में कार्य किया था और वर्ष 1987 से 1990 तक वह दौबरा इसी पद पर नियुक्त हुईं थी।
    सुषमा स्वराज ने जुलाई 19877 में हरियाणा सरकार के तत्कालीन मुख्यमंत्री देवी लाल के नेतृत्व वाली जनता पार्टी सरकार में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की थी और मात्र 27 वर्ष की आयु में वर्ष 1979 में वे हरियाणा सरकार की जनता पार्टी की राज्य अध्यक्ष बनीं थी।
  3. सुषमा स्वराज वर्ष 1987 से 1990 तक भारतीय जनता पार्टी-लोकदल गठबंधन सरकार में हरियाणा राज्य की शिक्षा मंत्री थीं।
    सुषमा स्वराज ने अप्रैल वर्ष 1990 में राष्ट्रीय स्तर की राजनीति में आकार राज्य सभा के सदस्य के रूप में वर्ष 1996 तक कार्य किया था।
  4. स्वराज 1996 में दक्षिण दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र से 11 वीं लोकसभा के लिए चुनी गईं थीं और जिसके साथ ही वह वर्ष 1996 में पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की 13-दिवसीय सरकार के दौरान केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री के रूप में कार्यरत थी।
    सुषमा स्वराज मार्च 1998 में दक्षिण दिल्ली संसदीय क्षेत्र से 12 वीं लोकसभा के लिए दौबरा चुनी गईं थीं। और वे इस पद पर 19 मार्च 1998 से 12 अक्टूबर 1998 तक कार्यरत रहीं थी और इसी अवधि के दौरान उन्होंने विश्वविद्यालयों और अन्य संस्थानों में सामुदायिक रेडियो भी शुरू किया था।
  5. सुषमा स्वराज अप्रैल 2000 में उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सदस्य के रूप में संसद लौटीं और सितंबर 2000 से वह सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के पद पर जनवरी 2003 तक कार्यरत रहीं थीं।
  6. उन्होने जनवरी 2003 से मई 2004 तक स्वास्थ्य, परिवार कल्याण और संसदीय मामलों के मंत्री के रूप में कार्य किया था।
  7. उन्होंने मध्य प्रदेश में विदिशा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से 15 वीं लोकसभा के लिए 2009 का चुनाव जीता, जिसमें 400,000 से अधिक मतों का अंतर था। सुषमा स्वराज 21 दिसंबर 2009 को लाल कृष्ण आडवाणी के स्थान पर 15 वीं लोकसभा में विपक्ष की नेता बनीं और इस पद पर मई 2014 तक कार्य किया था।
  8. स्वराज ने मई 2014 से मई 2019 तक प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की सरकट के अंतर्गत भारतीय विदेश मंत्री के रूप में कार्य किया था और वह नरेंद्र मोदी की विदेश नीतियों को लागू करने के लिए जिम्मेदार थीं। साथ ही वह इंदिरा गांधी के बाद यह पद संभालने वाली केवल दूसरी महिला विदेशी मंत्री थीं।

सुषमा स्वराज से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Sushma Swaraj)

  1. सुषमा स्वराज ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के रूप में, भोपाल (एमपी), भुवनेश्वर (ओडिशा), जोधपुर (राजस्थान), पटना (बिहार), रायपुर (छत्तीसगढ़) और ऋषिकेश (उत्तराखंड) में छह अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान स्थापित किए थे।
  2. सुषमा स्वराज वर्ष 1977 में, वह 25 साल की उम्र में हरियाणा सरकार में सबसे कम उम्र की प्रथम महिला कैबिनेट मंत्री बनीं थी
    सुषमा स्वराज भारत में एक राष्ट्रीय राजनीतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता थीं।
  3. भाजपा की पहली महिला मुख्यमंत्री, केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, महासचिव, प्रवक्ता, विपक्ष के नेता और विदेश मंत्री के रूप में उनके श्रेय के लिए सबसे पहले उनके पास था।
  4. वह भारतीय संसद की पहली और एकमात्र महिला सांसद हैं जिन्हें उत्कृष्ट सांसद पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
    वह चार राज्यों से 11 प्रत्यक्ष चुनाव लड़े हैं। उन्होंने चार साल तक हरियाणा में हिंदी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष के रूप में काम किया था।
  5. सुषमा स्वराज को 19 फरवरी 2019 को स्वराज ने प्रतिष्ठित ग्रैंड क्रॉस ऑफ ऑर्डर ऑफ सिविल मेरिट द्वारा राष्ट्र की सेवा में नागरिक गुण, साथ ही भारतीय नागरिकों की असाधारण सेवा करने के रूप मान्यता दी गई थी।
  6. 6 अगस्त 2019 को, सुषमा स्वराज को कथित तौर पर शाम को दिल का दौरा पड़ा जिसके बाद उन्हें दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में ले जाया गया, परंतु बाद में उनका निधन हो गया।
(Visited 46 times, 1 visits today)

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top