स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय | Biography of Swami Vivekananda in Hindi

विश्व धर्म परिषद् के भारतीय प्रतिनिधि: स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय

स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय: (Biography of Swami Vivekananda in Hindi)

स्वामी विवेकानंद वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो में सन् 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। भारत का आध्यात्मिकता से परिपूर्ण वेदान्त दर्शन अमेरिका और यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानन्द की वक्तृता के कारण ही पहुँचा था।

स्वामी विवेकानंद के जीवन परिचय कक संक्षिप्त विवरण:

नाम स्वामी विवेकानंद
जन्म तिथि 12 जनवरी, 1863
जन्म स्थान कलकत्ता, पश्चिम बंगाल (भारत)
निधन तिथि 04 जुलाई, 1902
उपलब्धि विश्व धर्म परिषद् के भारतीय प्रतिनिधि
उपलब्धि वर्ष 1893

स्वामी विवेकानंद से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Swami Vivekananda)

  • स्वामी विवेकानन्द जी का मूल नाम ‘नरेंद्रनाथ दत्त’ था।
  • इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त और माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था।
  • भारत में स्वामी विवेकानन्द के जन्म दिवस को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  • स्वामी विवेकानन्द की वेद, उपनिषद, भगवद् गीता, रामायण, महाभारत और पुराणों के अतिरिक्त अनेक हिन्दू शास्त्रों में गहन रूचि थी।
  • विवेकानंद ने 01 मई 1897 में कलकत्ता में रामकृष्ण मिशन और 09 दिसंबर 1898 को कलकत्ता के निकट गंगा नदी के किनारे बेलूर में रामकृष्ण मठ की स्थापना की थी।
  • सन्‌ 1893 में शिकागो (अमेरिका) में विश्व धर्म परिषद् हो रही थी। स्वामी विवेकानंदजी उसमें भारत के प्रतिनिधि के रूप से पहुंचे थे।
  • उनके शिष्यों और अनुयायियों ने पूरे विश्व में विवेकानंद तथा उनके गुरु रामकृष्ण के संदेशों के प्रचार के लिए 130 से अधिक केंद्रों की स्थापना की है।
  • स्वामी विवेकानन्द ने कहा था “उठो, जागो और तब तक रुको नहीं जब तक मंज़िल प्राप्त न हो जाये”।
  • स्वामी विवेकानन्द के गुरु का नाम रामकृष्ण परमहंस था, जिन्होंने उन्हें सबसे पहले विश्वास दिलाया कि ईश्वर वास्तव में है और मनुष्य ईश्वर को पा सकता है।
  • पाँच वर्षों से अधिक समय तक उन्होंने अमेरिका के विभिन्न नगरों, लंदन और पेरिस में व्यापक व्याख्यान दिए। उन्होंने जर्मनी, रूस और पूर्वी यूरोप की भी यात्राएं कीं।
(Visited 125 times, 2 visits today)

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top