वी. के. कृष्ण मेनन का जीवन परिचय-V. K. Krishna Menon Biography

ब्रिटेन में उच्चायुक्त बनने वाले प्रथम भारतीय व्यक्ति: वी. के. कृष्ण मेनन का जीवन परिचय: (Biography of V. K. Krishna Menon in Hindi)

वी. के. कृष्ण मेनन एक भारतीय कूटनीतिज्ञ, राजनीतिज्ञ तथा सन् 1957 से 1962 तक भारत के रक्षा मंत्री थे। भारत सरकार के रक्षा मंत्री के तौर पर मेनन रक्षा सौदे सम्बंधित विवादों में भी घिरे और भारत-चीन युद्ध के बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। टाइम मैगज़ीन के अनुसार, जवाहरलाल नेहरु के बाद वे भारत में सबसे प्रभावशाली व्यक्ति थे। वे भारत के दूसरे सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान ‘पद्म विभूषण’ पुरस्कार पाने वाले पहले मलयाली व्यक्ति थे।

वी. के. कृष्ण मेनन के जीवन परिचय का संक्षिप्त विवरण:

नाम वेङ्ङालिल कृष्णन कृष्ण मेनन
जन्म तिथि 03 मई, 1896
जन्म स्थान कालीकट, मद्रास (अब चेन्नई, भारत)
निधन तिथि  06 अक्टूबर‎, ‎1974
उपलब्धि ब्रिटेन में उच्चायुक्त बनने वाले प्रथम भारतीय व्यक्ति
उपलब्धि वर्ष 1947

वी. के. कृष्ण मेनन से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to V. K. Krishna Menon)

  • वी. के. कृष्ण मेनन का जन्म 03 मई, 1896 ई. को कालीकट, मद्रास (अब चेन्नई) के एक सम्पन्न नायर परिवार में हुआ था।
  • उनके पिता का नाम कोमाथु कृष्ण कुरुप धनी तथा वे एक वकील थे।
  • उनकी प्रारंभिक शिक्षा थालास्सेरी में हुई तथा बी.ए. की उपाधि उन्होंने चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज से प्राप्त की थी।
  • वर्ष 1934 में उन्हें अंग्रेजी बार में शामिल कर लिया गया और लेबर पार्टी में शामिल होने के बाद वे सेंट पैंक्रास, लंदन के नगर पार्षद चुने गए। जिसके बाद उन्हें सेंट पैंक्रास द्वारा उन्हें फ्रीडम ऑफ बरो से सम्मानित किया गया था
  • उन्होंने सन 1929 से लेकर सन 1947 तक ‘इंडिया लीग’ के सचिव के तौर पर भी कार्य किया था।
  • साल 1953 में कृष्ण मेनन को राज्य सभा का सदस्य बनाया गया और सन 1956 में उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में बिना विभाग के मंत्री के रूप में शामिल कर लिया गया।
  • वी. के. कृष्ण मेनन को वर्ष 1954 में भारत के दूसरे सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान ‘पद्म विभूषण’ से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार पाने वाले वे पहले व्यक्ति थे।
  • कृष्णा मेनन ने 23 जनवरी 1957 को उन्होंने कश्मीर पर भारत के रुख का बचाव करते हुए 8 घंटे तक अप्रत्याशित भाषण दिया था। यह भाषण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में दिया गया आज तक का सबसे लंबा भाषण है।
  • वर्ष 1957 में वे मुंबई से लोक सभा के लिए चुने गए थे और उसी वर्ष अप्रैल में उन्हें प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के अधीन रक्षामंत्री नामित किया गया था।
  • वी. के. कृष्ण मेनन का 6 अक्टूबर 1974 को दिल्ली में निधन हो गया।
(Visited 1 times, 1 visits today)

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.