वीर सावरकर का जीवन परिचय | Biography of Veer Savarkar in Hindi

वीर सावरकर का जीवन परिचय-Vinayak Damodar Savarkar Biography

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे वीर सावरकर (Veer Savarkar) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए वीर सावरकर से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Veer Savarkar Biography and Interesting Facts in Hindi.

वीर सावरकर के बारे में संक्षिप्त जानकारी

नामवीर सावरकर (Veer Savarkar)
वास्तविक नाम / उपनामविनायक दामोदर सावरकर / स्वातंत्र्यवीर
जन्म की तारीख28 मई 1883
जन्म स्थाननासिक बंबई प्रेसीडेंसी ब्रिटिश भारत
मृत्यु तिथि26 फ़रवरी 1966
माता व पिता का नामराधाबाई / दामोदर पन्त सावरकर
उपलब्धि1904 नासिक बंबई प्रेसीडेंसी ब्रिटिश भारत
लिंग / पेशा / देशपुरुष / स्वतंत्रता सेनानी / भारत

वीर सावरकर (Veer Savarkar)

विनायक दामोदर सावरकर भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन के सेनानी और प्रखर राष्ट्रवादी नेता थे। उन्हें प्रायः वीर सावरकर के नाम से सम्बोधित किया जाता है। यह न सिर्फ क्रन्तिकारी थे बल्कि यह भाषाविद, बुद्धिवादी, कवि, अप्रतिम क्रांतिकारी, दृढ राजनेता, समर्पित समाज सुधारक आदि भी थे। उनके इन्हीं गुणों ने महानतम लोगों की श्रेणी में उच्च पायदान पर लाकर खड़ा कर दिया था।

वीर सावरकर का जन्म

वीर सावरकर का जन्म 28 मई 1883 को ग्राम भागुर, जिला नासिक बंबई में हुआ था| इनका पूरा नाम विनायक दामोदर सावरकर था। इनकी माता जी का नाम राधाबाई तथा पिता जी का नाम दामोदर पन्त सावरकर था। इनके माता पिता की चार संतान थी इनके दो भाई गणेश (बाबाराव) व नारायण दामोदर सावरकर तथा एक बहन नैनाबाई थीं।

वीर सावरकर की मृत्यु

वीर सावरकर की मृत्यु फ़रवरी 26, 1966 (उम्र 82) को बम्बई, भारत में हुई थी।

वीर सावरकर की शिक्षा

सावरकर ने एक हाई स्कूल के छात्र के रूप में अपनी राजनीतिक गतिविधियों की शुरुआत की और पुणे के फर्ग्यूसन कॉलेज में ऐसा करना जारी रखा। उन्होंने और उनके भाई ने अभिनव भारत सोसायटी नामक एक गुप्त समाज की स्थापना की। जब वे अपने कानून की पढ़ाई के लिए यूनाइटेड किंगडम गए, तो उन्होंने खुद को इंडिया हाउस और फ्री इंडिया सोसाइटी जैसे संगठनों से जोड़ा। उन्होंने क्रांतिकारी साधनों द्वारा संपूर्ण भारतीय स्वतंत्रता की वकालत करने वाली पुस्तकें भी प्रकाशित कीं। 1857 के भारतीय विद्रोह के बारे में उन्होंने द इंडियन वॉर ऑफ इंडिपेंडेंस नामक पुस्तक प्रकाशित की, जिसे ब्रिटिश अधिकारियों ने प्रतिबंधित कर दिया था। 1910 में, सावरकर को गिरफ्तार किया गया और क्रांतिकारी समूह इंडिया हाउस के साथ उनके संबंधों के लिए भारत को प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया गया।

वीर सावरकर का करियर

वर्ष 1904 में वीर सावरकर ने‘अभिनव भारत" नामक एक क्रान्तिकारी संगठन की स्थापना की थी। वर्ष 1910 में एक हत्याकांड में सहयोग देने के रूप में वीर सावरकर एक जहाज़ द्वारा भारत रवाना कर दिये गये थे। सावरकर प्रथम क्रान्तिकारी थे, जिन पर स्वतंत्र भारत की सरकार ने झूठा मुकदमा चलाया और बाद में निर्दोष साबित होने पर माफी मांगी थी। सावरकर भारत के पहले व्यक्ति थे जिन्होंने सन् 1857 की लड़ाई को भारत का ‘स्वाधीनता संग्राम" बताते हुए लगभग एक हज़ार पृष्ठों का इतिहास 1907 में लिखा था। सावरकर ने ही वह पहला भारतीय झंडा बनाया था, जिसे जर्मनी में 1907 की अंतर्राष्ट्रीय सोशलिस्ट कांग्रेस में मैडम कामा ने फहराया था। सावरकर भारत के पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने सन् 1905 के बंग-भंग के बाद सन् 1906 में ‘स्वदेशी" का नारा दे, विदेशी कपड़ों की होली जलाई थी। सावरकर दुनिया के पहले राजनीतिक कैदी थे, जिनका मामला हेग के अंतराष्ट्रीय न्यायालय में चला था।

वीर सावरकर के पुरस्कार

पोर्ट ब्लेयर, अंडमान और निकोबार की राजधानी के हवाई अड्डे का नाम बदलकर 2002 में वीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा रखा गया था। इंग्लैंड के ऐतिहासिक भवन और स्मारक आयोग द्वारा तय किए गए इंडिया हाउस पर स्मारक नीले पट्टिका में से एक है, जिसमें लिखा है "विनायक दामोदर सावरकर, 1883-1919, भारतीय देशभक्त और दार्शनिक यहाँ रहते थे ”। 1970 में भारत सरकार द्वारा उनके सम्मान में एक स्मारक डाक टिकट जारी किया गया था। मराठी और हिंदी संगीत निर्देशक और सावरकर के अनुयायी, सुधीर फड़के और वेद राही ने बायोपिक फिल्म वीर सावरकर बनाई, जो कई वर्षों के बाद 2001 में रिलीज़ हुई। सावरकर को शैलेंद्र गौड़ द्वारा चित्रित किया गया है। 2003 में भारतीय संसद में सावरकर के एक चित्र का अनावरण किया गया था। शिवसेना पार्टी ने मांग की है कि भारत सरकार उन्हें मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, भारत रत्न से सम्मानित करेगी। उद्धव ठाकरे, शिवसेना प्रमुख, ने 2017 में भारत रत्न की इस मांग को दोहराते हुए यह भी सुझाव दिया कि जेल की कोठरी की एक प्रतिकृति जहाँ सावरकर को कैद किया गया था, मुंबई में बनाया जाना चाहिए और युवाओं को "हिंदू राष्ट्र" के प्रति सावरकर के योगदान के बारे में शिक्षित किया जाना चाहिए।


नीचे दिए गए प्रश्न और उत्तर प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रख कर बनाए गए हैं। यह भाग हमें सुझाव देता है कि सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं। यह प्रश्नोत्तरी एसएससी (SSC), यूपीएससी (UPSC), रेलवे (Railway), बैंकिंग (Banking) तथा अन्य परीक्षाओं में भी लाभदायक है।

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):


  • प्रश्न: विनायक सावरकर ने 'अभिनव भारत' नामक एक क्रान्तिकारी संगठन की स्थापना कब की थी?
    उत्तर: वर्ष 1904
  • प्रश्न: वर्ष 1910 में एक हत्याकांड में सहयोग देने के रूप में किसे एक जहाज़ द्वारा भारत रवाना कर दिया गया था?
    उत्तर: विनायक सावरकर
  • प्रश्न: विनायक सावरकर ने किस सन् की लड़ाई को स्वाधीनता संग्राम बताते हुए लगभग एक हज़ार पृष्ठों का इतिहास 1907 में लिखा था?
    उत्तर: सन् 1857
  • प्रश्न: वह पहला भारतीय झंडा किसने बनाया था जिसे जर्मनी में 1907 की अंतर्राष्ट्रीय सोशलिस्ट कांग्रेस में मैडम कामा ने फहराया था?
    उत्तर: विनायक सावरकर
  • प्रश्न: सावरकर ने कब स्वदेशी का नारा दे, विदेशी कपड़ों की होली जलाई थी?
    उत्तर: सन् 1906

You just read: Veer Savarkar Biography - FAMOUS PEOPLE Topic
Aapane abhi padha: Vinayak Damodar Savarkar Jeevan Parichay.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *