चौमहल्ला पैलेस, हैदराबाद (तेलंगाना)

चौमहल्ला पैलेस, हैदराबाद (तेलंगाना) के बारे में जानकारी: (Information about Chowmahalla Palace, Hyderabad (Telangana) GK in Hindi)

भारत का सबसे नवीनतम राज्य तेलंगाना अपनी भौगोलिक स्थित, सांस्कृतिक वातावरण और अद्भुत ऐतिहासिक स्थलों के लिए पूरे विश्वभर में प्रसिद्ध है। इसकी राजधानी हैदराबाद भारत के सबसे सुंदर शहरों में से एक है। हैदराबाद में स्थित चौमहल्ला पैलेस भारत के सबसे प्राचीनतम महलो में से एक है। इस महल का निर्माण लगभग 2 शताब्दियों तक चलता रहा था।

चौमहल्ला पैलेस का संक्षिप्त विवरण: (Quick info about Chowmahalla Palace)

स्थान हैदराबाद, तेलंगाना (भारत)
निर्माणकाल 1750 ई.-1869 ई.
निर्माता सलाबत जंग, अफज़ल अद-दव्लाह और आसफ जाह
वर्तमान स्वामी मुकरम जहां
प्रकार महल

चौमहल्ला पैलेस का इतिहास: (Chowmahalla Palace history in Hindi)

इस लोकप्रिय महल का निर्माण वर्ष 1750 ई. सलाबत जंग द्वारा शुरू किया गया जिसे वर्ष 1857 से वर्ष 1869 के बीच अफजल विज्ञापन-दावला और असफ जहां V ने पूरा कराया था। यह महल अपनी शैली और रम्यता के लिए अद्वितीय है। 18वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में महल का निर्माण शुरू हुआ था जिसे कई दशकों तक कई वास्तुशिल्प शैलियों में बनाया गया था। इस महल में दो आंगनों के साथ-साथ एक भव्य खिलवत (दरबार हॉल), फव्वारे और बगीचे भी शामिल हैं।

चौमहल्ला पैलेस के बारे में रोचक तथ्य: (Interesting facts about Chowmahalla Palace in Hindi)

  • इस अद्भुत महल का निर्माण कार्य वर्ष 1750 ई. में सलाबत जंग द्वारा किया गया था, जिसे लगभग 1 शताब्दी बाद वर्ष 1857 से वर्ष 1869 के बीच पूर्णरूप से बनाकर तैयार कर दिया गया था।
  • इस महल के पुन: निर्माण का कार्य वर्ष 2005-2010 ई. के मध्य राजकुमारी एइसरा द्वारा किया गया था।
  • यह महल भारत के सबसे विशालकाय महलो में से एक था, जोकि लगभग 45 एकड़ के क्षेत्रफल को घेरता था, परंतु वर्तमान में यह केवल 12 एकड़ के क्षेत्रफल में ही फैला हुआ है।
  • दक्षिणी आंगन महल का सबसे पुराना हिस्सा है, जिसमें 4 महलो का समूह मौजूद है जिसमे अफजल महल, महाताब महल, तहनीत महल और अफताब महल प्रमुख हैं। यह नव-शास्त्रीय शैली में बनाये गये है।
  • इस महल के उत्तरी आंगन में 1 बारा इमाम स्थित है, जिसके पूर्वी तरफ के कमरों का एक लंबा गलियार व केंद्र में एक केंद्रीय फव्वारा और पूल बनाए गये है।
  • इस महल का हृदय खिलवत मुबारक को कहा जाता है, यह हैदराबाद के लोगों द्वारा उच्च सम्मान में आयोजित किया जाता है, जैसे यह असफ़ जाही राजवंश की सीट थी।
  • चौमाहल्ला पैलेस के मुख्य द्वार के ऊपर स्थित घड़ी को प्यार से “खिलवत घड़ी” कहा जाता है। यह लगभग 251 वर्षों से लगातार चलती आ रही है।
  • इस महल में स्थित परिषद् सभा-भवन में एक दुर्लभ संग्रह मौजूद जिसमे पांडुलिपियों और अनमोल किताबों को काफी संजोकर रखा गया है।
  • इस महल की सबसे सुंदर संरचना इसके भीतर स्थित रोशन बंगला है, ऐसा माना जाता है कि छठे निजाम यहां रहते थे और उन्होंने ही इस इमारत का नाम अपनी मां रोशन बेगम के नाम पर रखा गया था। इस महल का भी पुन:निर्माण वर्ष 2005 में शुरू करवाया गया जिसमे 5 वर्ष का समय लगा था।
  • 15 मार्च 2010 में “यूनेस्को एशिया पेसिफिक मेरिट” द्वारा आयोजित सांस्कृतिक विरासत संरक्षण पुरस्कार के लिए चौमहल्ला पैलेस को प्रस्तुत किया गया था।

This post was last modified on August 4, 2019 12:32 pm

You just read: Chowmahalla Palace Hyderabad Telangana Gk In Hindi - FAMOUS THINGS Topic

Recent Posts

24 सितम्बर का इतिहास भारत और विश्व में – 24 September in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 24 सितम्बर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

September 24, 2020

विद्युत – Electricity

विद्युत क्या है? What is electricity? विद्युत आवेशों के मौजूदगी और बहाव से जुड़े भौतिक परिघटनाओं के समुच्चय को विद्युत…

September 23, 2020

23 सितम्बर का इतिहास भारत और विश्व में – 23 September in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 23 सितम्बर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

September 23, 2020

22 सितम्बर का इतिहास भारत और विश्व में – 22 September in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 22 सितम्बर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

September 22, 2020

अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस अथवा विश्व शांति दिवस (21 सितम्बर)

अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस अथवा विश्व शांति दिवस (21 सितम्बर): (21 September: International Day of Peace in Hindi) अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस कब मनाया जाता…

September 21, 2020

बादलों (मेघों) के बारे में रोचक जानकारी – Interesting facts about Clouds in Hindi

बादलों या मेघों के बारे में रोचक जानकारी (Interesting facts about Clouds in Hindi): "क्लाउड" शब्द की उत्पत्ति पुरानी अंग्रेजी…

September 21, 2020

This website uses cookies.