गोलकुंडा किला, हैदराबाद (तेलंगाना)

गोलकुंडा किला, हैदराबाद (तेलंगाना) के बारे जानकारी: (Golkonda Fort, Hyderabad, Telangana GK in Hindi)

गोलकुंडा या गोलकोण्डा किला दक्षिणी भारतीय राज्य तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के निकट स्थित एक दुर्ग तथा ध्वस्त नगर है। प्राचीनकालीन कुतबशाही राज्य हीरे-जवाहरातों के लिये दुनियाभर में प्रसिद्ध था। इस ऐतिहासिक किले का नाम तेलुगु शब्द ‘गोल्ला कोंडा’ पर रखा गया है। इस किले के दक्षिण भाग में मूसी नदी बहती है।

गोलकुंडा किले का संक्षिप्त विवरण: (Quick Info about Golkonda Fort)

स्थान हैदराबाद, तेलंगाना (भारत)
निर्माण समाप्त 1600
प्रकार किला
निर्माता काकातियास, इब्राहिम कुली कुतुब शाह वली

गोलकुंडा किले का इतिहास: (Golkonda Fort History in Hindi)

गोलकोंडा मूल रूप से मानक के रूप में जाना जाता था। इस किले को कोंडापल्ली किले की तर्ज पर अपने पश्चिमी रक्षा के हिस्से के रूप में काकातियास द्वारा पहली बार बनाया गया था। रानी रुद्रमा देवी और उनके उत्तराधिकारी प्रतापरुद्र द्वारा किले को पुनर्निर्मित और मजबूत किया गया था। बाद में, इस किले पर मुसुनीरी शासको का आधिपत्य रहा, जिन्होंने तुगलकी सेना को पराजित कर वारंगल पर कब्जा किया था। इसे 1364 में एक संधि के हिस्से के रूप में मुसुनुरी कपय भूपति ने बहमानी सल्तनत को सौंपा था। बहमानी सल्तनत के तहत, गोलकोंडा धीरे-धीरे बढ़ने लगा। तेलंगाना के गवर्नर के रूप में भेजे गए सुल्तान कुली कुतुब-उल-मुलक (1487-1543) ने इसे 1501 के आसपास अपनी सरकार की सीट के रूप में स्थापित किया। इस अवधि के दौरान बहमानी शासन धीरे-धीरे कमजोर हो गया और सुल्तान कुली औपचारिक रूप से 1538 में स्वतंत्र हो गए, जिन्होंने गुलकोंडा में कुतुब शाही राजवंश की स्थापना की थी। मिट्टी से बने इस किले को पहले तीन कुतुब शाही सुल्तानों द्वारा वर्तमान संरचना में ग्रेनाइट द्वारा पुनर्निर्मित करवाया गया। यह किला साल 1590 तक कुतुब शाही राजवंश की राजधानी बना रहा और वर्तमान हैदराबाद के निर्माण तक उनकी राजधानी रहा। बाद में वर्ष 1687 में मुगल सम्राट औरंगजेब ने इस पर विजय प्राप्‍त कर ली थी।

गोलकुंडा किले के बारे में रोचक तथ्य: (Interesting Facts about Golkonda Fort in Hindi)

  • शुरुआत में मिट्टी से बने इस किले को मुहम्मद शाह और कुतुब शाह के शासन काल के दौरान विशाल चट्टानों से बनवाया गया।
  • एक ग्रेनाइट पहाड़ी पर बना यह किला 120 मीटर (390 फीट) ऊंचा है।
  • इस किले को उत्तरी छोर से मुगलों के आक्रमण से बचने के लिए बनाया गया था। अकॉस्टिक इस किले की सबसे बड़ी खासियत है।
  • किले में कुल 8 दरवाजे हैं और इसे पत्थर की 3 मील लंबी मजबूत दीवार से घेरा गया था।
  • किले के अन्दर बहुत से राजशाही अपार्टमेंट और हॉल, मंदिर, मस्जिद, पत्रिका, अस्तबल इत्यादि है।
  • किले के सबसे निचले हिस्से में एक फ़तेह दरवाजा भी है, जिसे विजयी द्वार भी कहा जाता है। इस दरवाजे के दक्षिणी-पूर्वी किनारे पर अनमोल लोहे की किले जड़ी हुई है।
  • पूर्व दिशा में बना बाला हिस्सार गेट गोलकोंडा का मुख्य प्रवेश द्वार है, इसके दरवाजे की किनारों पर बारीकी से कलाकारी की गयी है।
  • किले में दीवारों की तीन लाइन बनी हुई है। ये एक दूसरे के भीतर है और 12 मीटर से भी अधिक ऊँची हैं।
  • किले में बनी अन्य इमारतों में मुख्य रूप से हथियार घर, हब्शी कमान्स (अबीस्सियन मेहराब), ऊंट अस्तबल, तारामती मस्जिद, निजी कक्ष (किलवत), नगीना बाग, रामसासा का कोठा, मुर्दा स्नानघर, अंबर खाना और दरबार कक्ष आदि शामिल है।
  • ऐसा कहा जाता है की यदि आप महल के आंगन में खड़े होकर ताली बजाएंगे तो इसे महल के सबसे ऊपरी जगह से भी सुना जा सकेगा, जो कि मुख्य द्वार से 91 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।
  • किले के अंदर 4 शताब्दी पूर्व बना शाही बाग़ आज भी मौजूद है।
  • किले के सबसे ऊपरी भाग में जगदम्बा महाकाली का मंदिर भी मौजूद है।
  • किले से लगभग आधा मील दूरी पर उत्तरी भाग में कुतबशाही शासकों के ग्रैनाइट पत्थर से निर्मित मकबरे हैं, जो टूटी फूटी अवस्था में आज भी देखे जा सकते हैं।
  • पूरी दुनिया में प्रसिद्ध इस किले से पुराने ज़माने में कई बेशकीमती चीजे जैसे: कोहिनूर हीरा, होप डायमंड, नसाक डायमंड और नूर-अल-एन आदि मिली थी।

This post was last modified on August 4, 2019 11:32 am

You just read: Golkonda Fort Hyderabad Telangana Gk In Hindi - FAMOUS FORTS Topic

Recent Posts

28 अक्टूबर का इतिहास भारत और विश्व में – 28 October in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 28 अक्टूबर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

October 28, 2020

27 अक्टूबर का इतिहास भारत और विश्व में – 27 October in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 27 अक्टूबर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

October 27, 2020

भारत के सभी विदेश सचिवों के नाम और उनके कार्यकाल की सूची (वर्ष 1948 से अब तक)

भारत के विदेश सचिवों की सूची (1948-2020): (List of Foreign Secretaries of India in Hindi) विदेश सचिव किस कहते है?…

October 26, 2020

26 अक्टूबर का इतिहास भारत और विश्व में – 26 October in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 26 अक्टूबर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

October 26, 2020

विजयदशमी (दशहरा) 2020

विजयदशमी (दशहरा) के बारे में जानकारी: विजयदशमी जिसे दशहरा, या दशैन के नाम से भी जाना जाता है, जो हर…

October 25, 2020

25 अक्टूबर का इतिहास भारत और विश्व में – 25 October in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 25 अक्टूबर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

October 25, 2020

This website uses cookies.