जामा मस्जिद, चांदनी चौक (दिल्ली)

जामा मस्जिद, दिल्ली के बारे जानकारी: (Jama Masjid Delhi GK in Hindi)

देश की राजधानी नई दिल्ली के चांदनी चौक पर स्थित जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है। पुरानी दिल्ली में बनी यह भव्‍य मस्जिद मुग़ल शासक शाहजहां की इस्लामिक वास्‍तुकला का एक शानदार नमूना है। चावरी बाज़ार रोड पर बनी कई एकड़ में फैली यह मस्जिद राजधानी दिल्ली के मुख्य आकर्षणों में से एक है।

जामा मस्जिद का संक्षिप्त विवरण: (Quick Info about Jama Masjid)

स्थान चांदनी चौक, दिल्ली (भारत)
स्थापना (निर्माण) 1950-1956
निर्माता (किसने बनबाया) शाहजहां
वास्तुशैली इस्लामिक

जामा मस्जिद का इतिहास: (Jama Masjid Delhi History in Hindi)

जामा मस्जिद को शुरुआत में मस्जिद-ए-जहांनुमा कहा जाता था, जिसे पारसी भाषा में “दुनिया की छवि वाली मस्जिद” कहा जाता है। चांदनी चौक में बनी इस भव्‍य मस्जिद का निर्माण मुगल सम्राट शाहजहां द्वारा 1650 में शुरू किया गया था जो सन 1656 में जाकर संपन्न हुआ था। इस मस्जिद का उद्घाटन शाहजहाँ के निमंत्रण भेजने पर उज़बेकिस्तान के बुखारा मुल्ला इमाम बुखारी द्वारा 23 जुलाई 1656 को किया गया था। यह मस्जिद मुगल शासक शाहजहाँ की आखिरी बेहद खर्चीली वास्‍तुकलाओं में से एक थी। शाहजहां ने दुनिया के सात अजूबों में शामिल आगरा का ताजमहल और दिल्ली के लालकिला का भी निर्माण करवाया था।

जामा मस्जिद के बारे में रोचक तथ्य: (Interesting Facts about Jama Masjid in Hindi)

  • इस मस्जिद को बनने में लगभग 6 वर्ष (1950-1956) का समय लगा था, उस समय इसे बनाने में करीब 10 लाख रूपए का खर्चा आया था।
  • इस मस्जिद का निर्माण बलुआ पत्थर और सफेद संगमरमर से किया गया था।
  • इसमें तीन राजसी गेट हैं, 40 मीटर ऊंची चार मीनारें हैं, जो लाल बलुआ पत्थरों एवं सफ़ेद संगमरमर से बनी हुई हैं।
  • पुरानी दिल्ली में मौजूद इस मस्जिद को 5000 शिल्‍पकारों ने मिलकर बनाया गया था।
  • इस मस्जिद का माप 65 मीटर लम्‍बा और 35 मीटर चौड़ा है, इसके आंगन में 100 वर्ग मीटर का स्‍थान है।
  • इस मस्जिद में उत्तर और दक्षिण द्वारों से प्रवेश किया जा सकता है।
  • इस मस्जिद में हिन्दू एवं जैन वास्तुकला से समाहित सुंदर नक्काशी किये गए लगभग 260 स्तंभ भी मौजूद है।
  • इसके फर्श पर सफ़ेद एवं काले संगमरमर के पत्थर लगे हुए है, जो एक अलंकृत मुस्लिम प्रार्थना चटाई की तरह लगते है।
  • इसके ऊपर बने गुंबदों को सफेद और काले संगमरमर से सजाया गया है, जो निजामुद्दीन दरगाह की याद दिलाते हैं।
  • इस भव्य मस्जिद में लगभग 25,000 लोग एक साथ बैठकर नमाज पढ़ सकते हैं।
  • मस्जिद का प्रार्थना गृह बहुत ही दर्शनीय है। इसमें ग्यारह मेहराब हैं, जिसमें मध्य वाला महराब अन्य से कुछ बड़ा है।
  • यह मस्जिद 5 फुट ऊंचे मंच पर स्थित है और भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है।
  • इस मस्जिद में कई प्राचीन अवशेष हैं, जिस पर कुरान की एक प्रति है, जो हिरण की खाल पर लिखी गई है।
  • यहाँ आने वाले पर्यटक उत्‍तरी गेट से पोशाक (रॉब्‍स) किराए पर ले सकते है।
  • यह मस्जिद दिल्ली में लाल किले के सामने है और लाल किले से इसकी दूरी मात्र 500 मीटर है।
  • अगर आप फोटोग्राफी के शौकिन है, तो आपको यहाँ फोटोग्राफी के लिए प्राधिकरण (अथॉरिटी) को 200 रुपए तक चुकाने पड़ सकते है।

This post was last modified on June 27, 2019 9:21 am

You just read: Jama Masjid Delhi Gk In Hindi - FAMOUS THINGS Topic

Recent Posts

विश्व के प्रमुख मरुस्थल (रेगिस्तानी) के नाम और उनके स्थान की सूची

विश्व के प्रमुख मरुस्थलो के नाम और उनके स्थान की सूची: (List of World's Desert Names and their places in Hindi)…

September 29, 2020

अफ़्रीका महाद्वीप के सभी देशों के नाम, राजधानी और उनकी मुद्राओं की सूची

अफ़्रीका महाद्वीप के प्रमुख देश, राजधानी एवं उनकी मुद्राएं: (Name of African Countries, Capitals and Currencies List in Hindi) अफ़्रीका…

September 29, 2020

विश्व हृदय दिवस (29 सितम्बर)

विश्व हृदय दिवस कब मनाया जाता है? विश्व के विभिन्न देशों में हर साल 29 सितंबर को 'विश्व हृदय दिवस' या…

September 29, 2020

29 सितम्बर का इतिहास भारत और विश्व में – 29 September in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 29 सितम्बर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

September 29, 2020

विंबलडन जीतने वाली प्रथम अश्वेत महिला: एल्थिया गिब्सन का जीवन परिचय

एल्थिया गिब्सन का जीवन परिचय: (Biography of Althea Gibson in Hindi) एलथिया गिब्सन एक अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी और पेशेवर गोल्फ…

September 28, 2020

राष्ट्रीय युवा संगठन के संस्थापक: शहीद भगत सिंह का जीवन परिचय

भगत सिंह का जीवन परिचय: (Biography of Bhagat Singh in Hindi) भगत सिंह भारत के एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे।…

September 28, 2020

This website uses cookies.