नोबेल पुरस्कार 2019 के विजेताओं की सूची | 2019 Nobel Prize Winners in Hindi

वर्ष 2019 के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित व्यक्तियों की सूची

नोबेल पुरस्कार का संक्षिप्त इतिहास:

नोबेल फाउंडेशन द्वारा स्वीडिश वैज्ञानिक अल्फ्रेड बर्नाड नोबेल की याद में हर साल नोबेल पुरस्कार प्रदान किया जाता है। स्वीडिश वैज्ञानिक एल्फ्रेड नोबेल द्वारा इस पुरस्कार की शुरुआत 27 नवंबर 1895 में की गई थी। एल्फ्रेड नोबेल ने डायनामाइट का आविष्‍कार किया था। उन्‍होंने अपनी वसीयत में अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा नोबेल फाउंडेशन ट्रस्ट के लिए सुरक्षित रख दिया था, उनकी यह इच्छा थी कि इस पैसे के ब्याज से प्रतिवर्ष उन लोगों को सम्मानित किया जाए, जिनका काम मानव जाति के लिए सबसे कल्याणकारी पाया जाए। तब से हर वर्ष स्वीडिश बैंक में जमा इसी राशि के ब्याज से नोबेल फाउँडेशन द्वारा फिजियोलॉजी या चिकित्सा, भौतिकी, रसायन, साहित्य और शांति के साथ-साथ अर्थशास्त्र के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए यह पुरस्कार दिया जाता है। केवल जीवित लोगों को ही नोबेल पुरस्कार दिया जा सकता है।

नोबल पुरस्कार विजेता को मिलने वाली राशि:

नोबल पुरस्कार विजेताओं एक गोल्ड मेडल, डिप्लोमा और करीब 90 लाख स्वीडिश क्रोनर (करीब 7.25 करोड़ रुपए) की नकद राशि प्रदान की जाती है। पहले ये पुरस्कार राशि तक 80 लाख स्वीडिश क्रोनर (लगभग 6.25 करोड़ रुपये) होती थी, परंतु पिछले वर्ष इस राशि को बढ़ा दिया गया था। सभी विजेताओं को 10 दिसम्बर को अल्फ्रेड नोबेल की पुण्यतिथि पर स्वीडन में इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

वर्ष 2019 के विभिन्न क्षेत्रों में दिए गए नोबेल पुरस्कार श्रेणियां:

भौतिकी नोबल पुरस्कार 2019:

भौतिकी नोबेल के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा 08 अक्टूबर 2019 को की गई थी। भौतिकी नोबेल पुरस्कार 2019 को एक आधा (1/2) जेम्स पीबल्स के साथ, दूसरा आधा (1/4) मिशेल मेयर और संयुक्त रूप से डिडिएर क्वेलोज़ को विभाजित किया जाएगा:-

  • जेम्स पीबल्स: फिलिप जेम्स एडविन पीबल्स एक कनाडाई-अमेरिकी खगोल भौतिकीविद्, खगोलविद और सैद्धांतिक ब्रह्मांड विज्ञानी हैं, जो वर्तमान में प्रिंसटन विश्वविद्यालय में विज्ञान के अल्बर्ट आइंस्टीन प्रोफेसर एमेरिटस हैं। उन्हें 1970 के बाद से इस अवधि में दुनिया के प्रमुख सैद्धांतिक ब्रह्मांड विज्ञानियों में से एक माना जाता है, जिसमें प्राइमर्डियल न्यूक्लियोसिंथेसिस, डार्क मैटर, कॉस्मिक माइक्रोवेव बैकग्राउंड, और स्ट्रक्चर फॉर्मेशन में उनका प्रमुख सैद्धांतिक योगदान है। वर्ष 1935 में विन्निपेग, कनाडा में जन्में जेम्स पीबल्स को वर्ष 2019 का भौतिकी नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है, यह पुरस्कार उनके द्वारा “भौतिक ब्रह्मांड विज्ञान में सैद्धांतिक खोजों के लिए” दिया गया है।
  • मिशेल मेयर: इनका पूरा नाम मिशेल गुस्ताव अर्ड्डौयार्ड मेयर है। और इनका जन्म वर्ष 1942 में लॉज़ेन, स्विट्जरलैंड में हुआ, जिसके बाद वर्ष 1995 जिनेवा विश्वविद्यालय, स्विट्जरलैंड से पीएच.डी. डिग्री प्राप्त की। और इसके बाद यूनिवर्सिटी ऑफ जिनेवा, स्विट्जरलैंड में प्रोफेसर के रूप कार्य किया और आज वर्तमान में ब्रिटेन के कैंब्रिज विश्वविद्यालय में प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं। मिशेल मेयर को वर्ष 2019 में “सौर-प्रकार के तारे की परिक्रमा करने वाले एक एक्सोप्लैनेट की खोज के लिए” भौतिकी नोबल पुरस्कार 2019 से साम्मानित किया गया है।
  • डिडिएर क्वेलोज़: 23 फरवरी 1966 को स्विट्जरलैंड में जन्मे डिडिएर क्वेलोज़ एक स्विस खगोलशास्त्री हैं। वह कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में एक प्रोफेसर हैं, जहां वे ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज के एक साथी के साथ-साथ जिनेवा विश्वविद्यालय में प्रोफेसर भी हैं। वर्ष 1995 में मिशेल मेयर के साथ, उन्होंने 51 पेगासी बी की खोज की, जो पहला एक्स्ट्रासोलर ग्रह है, जो सूर्य जैसे तारे, 51 पेगासी की परिक्रमा करता है। इस खोज के लिए उन्होंने जेम्स पीबल्स और मिशेल मेयर के साथ भौतिकी में 2019 का नोबेल पुरस्कार साझा किया गया है।

रसायन विज्ञान नोबेल पुरस्कार 2019:

रसायन विज्ञान नोबेल पुरस्कार का ऐलान 09 अक्टूबर 2019 को किया गया था। इस पुरस्कार को संयुक्त रूप से (1/3) भाग में विभाजित किया गया है, जिसमें जॉन बैनिस्टर गुडएनफ, एम. स्टेनली व्हिटिंगहैम और अकीरा योशिनो शामिल हैं:-

  • जॉन बैनिस्टर गुडएनफ: जॉन बैनिस्टर गुडेनफ एक अमेरिकी वैज्ञानिक और ठोस भौतिक विज्ञानी हैं। इनका जन्म वर्ष 1922 में जेना (जर्मन का विश्वविद्यालय शहर), जर्मनी में हुआ था इन्हें रसायन शास्त्र में “लिथियम आयन बैटरी का विकास करने के लिए” वर्ष 2019 के रसायन विज्ञान नोबेल पुरस्कार सम्मानित किया गया है, वह वर्तमान में ऑस्टिन में टेक्सास विश्वविद्यालय में मैकेनिकल इंजीनियरिंग और सामग्री विज्ञान के प्रोफेसर के रूप कार्यरत हैं। उन्हें लिथियम आयन बैटरी की पहचान और विकास के लिए व्यापक रूप से श्रेय दिया जाता है।
  • एम. स्टेनली व्हिटिंगहैम: माइकल स्टेनली व्हिटिंगहैम एक ब्रिटिश-अमेरिकी रसायन वैज्ञानिक हैं। इनका जन्म 22 दिसंबर 1941, को यूनाइटेड किंगडम में हुआ था। वह वर्तमान में स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यू यॉर्क के बिंघमटन विश्वविद्यालय में इंस्टीट्यूट फ़ॉर मैटेरियल्स रिसर्च एंड मैटेरियल्स साइंस एंड इंजीनियरिंग प्रोग्राम के दोनों में रसायन शास्त्र के प्रोफेसर हैं। उन्हें 2019 में रसायन विज्ञान में “लिथियम आयन बैटरी के विकास के लिए” नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
  • अकीरा योशिनो: अकीरा योशिनो एक जापानी रसायनज्ञ हैं। उनका जन्म 30 जनवरी 1948, को जापान के सुइता शहर में हुआ था। वर्तमान में वह असाही कसी निगम के साथी और नागोया में मीजो विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं। उन्होंने पहली सुरक्षित, उत्पादन-व्यवहार्य लिथियम-आयन बैटरी बनाई जो सेलुलर फोन और नोटबुक कंप्यूटर में व्यापक रूप से उपयोग की गई थी। योशिनो को वर्ष 2019 में “लिथियम-आयन के विकास के लिए” एम. स्टैनली व्हिंघम और जॉन बी. गुडएनफ के साथ रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया है।

चिकित्सा नोबेल पुरस्कार 2019:

चिकित्सा नोबेल पुरस्कार 2019 की घोषणा 07 अक्टूबर 2019 को हुई थी इस पुरस्कार को संयुक्त रूप से (1/3) भाग में विभाजित किया गया है, जिसमें विलियम जी. केलिन जूनियर, सर पीटर जे. रैटक्लिफ और ग्रेग एल. सेन्ज़ा शामिल हैं:-

  • विलियम जी. केलिन जूनियर: यह एक अमेरिकी हार्वर्ड विश्वविद्यालय और दाना-फारबर कैंसर संस्थान में चिकित्सा के प्रोफेसर हैं। उनकी प्रयोगशाला ट्यूमर दमन प्रोटीन का अध्ययन करती है। कालिन बेसिक मेडिकल रिसर्च के लिए लास्कर अवार्ड 2016 के प्राप्तकर्ता हैं। उन्होंने 2016 के एस्को विज्ञान ऑन्कोलॉजी पुरस्कार और 2016 के एएसीआर प्रिंसेस टकमात्सु पुरस्कार भी जीते हैं। विलियम को वर्ष 2019 में “उनकी खोजों के लिए की कैसे कोशिकाएं समझती हैं और ऑक्सीजन की उपलब्धता के अनुकूल होती हैं।” के लिए चिकित्सा नोबेल पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया है।
  • सर पीटर जे. रैटक्लिफ: यह एक ब्रिटिश चिकित्सक-वैज्ञानिक हैं, जिन्हें नेफ्रोलॉजिस्ट के रूप में जाना जाता है। वह 2004 से 2016 तक ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय में जॉन रेडक्लिफ अस्पताल, ऑक्सफ़ोर्ड और क्लिनिकल मेडिसिन के प्रोफेसर और क्लिनिकल मेडिसिन के न्यूफ़िल्ड विभाग के प्रमुख थे। 2016 में वह फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट में क्लिनिकल रिसर्च डायरेक्टर बने। पीटर को वर्ष 2019 में उनकी खोजों के लिए की “कैसे कोशिकाएं समझती हैं और ऑक्सीजन की उपलब्धता के कैसे अनुकूल होती हैं।” के लिए उन्हें चिकित्सा नोबेल पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया है।
  • ग्रेग एल. सेन्ज़ा: ग्रेग लियोनार्ड सेन्ज़ा एक अमेरिकी जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ़ मेडिसिन में बाल रोग, विकिरण ऑन्कोलॉजी, जैविक रसायन, चिकित्सा और ऑन्कोलॉजी के प्रोफेसर हैं। वे सेल इंजीनियरिंग संस्थान में संवहनी कार्यक्रम के निदेशक के रूप में कार्य करते हैं। वह बेसिक मेडिकल रिसर्च के लिए लास्कर अवार्ड 2016 के प्राप्तकर्ता हैं। उन्हें एचआईएफ -1 की खोज के लिए जाना जाता है, जो कैंसर कोशिकाओं को ऑक्सीजन-गरीब वातावरण के अनुकूल होने की अनुमति देता है। उन्होंने विलियम जी. केलिन जूनियर और पीटर जे. रैटक्लिफ के साथ 2019 के नोबेल पुरस्कार को चिकित्सा में “कोशिकाओं की खोज और ऑक्सीजन की उपलब्धता के अनुकूल होने” के लिए सम्मानित किया गया है।

साहित्‍य नोबेल पुरस्‍कार 2019:

इस वर्ष पीटर हैंडके को “एक प्रभावशाली कार्य के लिए जो भाषाई सरलता के साथ परिधि और मानव अनुभव की विशिष्टता का पता लगाया है” के लिए साहित्‍य नोबेल पुरस्‍कार 2019 से सम्मानित किया गया है। पीटर एक ऑस्ट्रियाई उपन्यासकार, नाटककार, अनुवादक, कवि, फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। 1960 के दशक के उत्तरार्ध में, उन्हें प्ले पब्लिकम्सम्सस्किम्पफुंग (ऑफेंडिंग द ऑडियंस) और उपन्यास डाई आंग्स्ट देस टोर्मान्स बीम एल्फमीटर (द गोअलीज एन्टीफुलेंस एट द पेनल्टी किक) जैसे कामों के लिए पहचाना गया। 1971 में अपनी मां की आत्महत्या से प्रेरित होकर, उन्होंने उपन्यास वुनस्क्लोसेस अनगलॉक (ए सोर्रो बियॉन्ड ड्रीम्स) में अपने जीवन को प्रतिबिंबित किया। हैंडके को कई पुरस्कार प्राप्त हुए, जिसमें 1973 के जॉर्ज बुचनर पुरस्कार और 2018 के ऑस्ट्रियन नेस्टरॉय थिएटर पुरस्कार के लिए लाइफटाइम अचीवमेंट शामिल हैं।

शांति नोबेल पुरस्कार 2019:

शांति नोबेल पुरस्कार घोषणा 11 अक्टूबर 2019 को की गई थी जिसमें इस वर्ष अबी अहमद अली ओरोमो को “शांति और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग प्राप्त करने के उनके प्रयासों के लिए, और विशेष रूप से पड़ोसी देश इरिट्रिया के बीच 20 साल के युद्ध के बाद के क्षेत्रीय गतिरोध को समाप्त करने के लिए” शांति नोबेल पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया है। अबी अहमद एक इथियोपियाई राजनीतिज्ञ है जो 2 अप्रैल 2018 से इथियोपिया के संघीय लोकतांत्रिक गणराज्य के चौथे प्रधान मंत्री के रूप में सेवा कर रहे हैं। वह दोनों सत्तारूढ़ इथियोपियाई पीपुल्स रिवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट (EPRDF)और ओरोमो डेमोक्रेटिक पार्टी (ODP), के अध्यक्ष हैं अबी इथियोपियाई संसद का एक निर्वाचित सदस्य और ओडीपी और ईपीआरडीएफ कार्यकारी समितियों का सदस्य भी है। सेना के एक पूर्व खुफिया अधिकारी, प्रधान मंत्री बनने के बाद से अबी ने राजनीतिक और आर्थिक सुधारों का एक विस्तृत कार्यक्रम शुरू किया है और इरीट्रिया, दक्षिण सूडान में शांति सौदों और सूडान गणराज्य में एक संक्रमण समझौते पर काम किया है।

अर्थशास्त्र नोबल पुरस्कार 2019:

अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार का ऐलान 14 अक्टूबर 2019 को किया गया था। इस पुरस्कार को संयुक्त रूप से (1/3) भाग में विभाजित किया गया है, जिसमें अभिजीत बनर्जी, एस्तेर डुफ्लो और माइकल क्रेमर शामिल हैं:-

  • अभिजीत बनर्जी: अभिजीत विनायक बनर्जी एक भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री हैं, जो वर्तमान में मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में फोर्ड फाउंडेशन इंटरनेशनल इकोनॉमिक्स के प्रोफेसर हैं। बनर्जी को इस वर्ष “वैश्विक गरीबी को कम करने के लिए उनके प्रयोगात्मक दृष्टिकोण के लिए।”अर्थशास्त्र नोबल पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया है बनर्जी अब्दुल लतीफ़ जमील पॉवर्टी एक्शन लैब के सह-संस्थापक (अर्थशास्त्रियों एस्तेर डफ़्लो और सेंथिल मुलैनाथन के साथ)। वह इनोवेशन फॉर पावर्टी एक्शन, और कंसोर्टियम ऑन फाइनेंशियल सिस्टम्स एंड पॉवर्टी के सदस्य हैं।
  • एस्तेर डुफ्लो: एस्तेर डुफ्लो एक फ्रांसीसी-अमेरिकी अर्थशास्त्री है, जो मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) में गरीबी उन्मूलन और विकास अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं। वह अब्दुल लतीफ़ जमील पॉवर्टी एक्शन लैब के सह-संस्थापक और सह-निदेशक हैं जो 2003 में स्थापित किया गया था। जिसके साथ ही उन्हें वर्ष 2019 में “वैश्विक गरीबी को कम करने के लिए उनके प्रयोगात्मक दृष्टिकोण के लिए।” अर्थशास्त्र नोबल पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया है।
  • माइकल क्रेमर: माइकल रॉबर्ट क्रेमर एक अमेरिकी विकास अर्थशास्त्री हैं जो हार्वर्ड विश्वविद्यालय में गेट्स प्रोफेसर ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज के प्रोफेसर हैं। 2019 में उन्हें संयुक्त रूप से अर्थशास्त्र में “वैश्विक गरीबी को कम करने के लिए उनके प्रयोगात्मक दृष्टिकोण के लिए।” नोबेल मेमोरियल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अभिजीत बनर्जी अपनी पत्नी एस्तेर डुफ्लो के साथ संयुक्त रूप से अर्थशास्त्र नोबल पुरस्कार जीतने के लिए छठे विवाहित जोड़े हैं।

यह भी पढे: वर्ष 2018 के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित व्यक्तियों की सूची

(Visited 471 times, 1 visits today)
You just read: 2019 Nobel Prize Winners List In Hindi - AWARDS GK Topic

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top