मुग़लशासन काल के दौरान स्थापत्य कला एवं वास्तुकला के महत्वपूर्ण निर्माण कार्य

मुग़ल कालीन स्थापत्य कला एवं वास्तुकला के महत्वपूर्ण निर्माण कार्य बारे में महत्वपूर्ण जानकारी: (Mughal Period History in Hindi)

मुग़ल स्थापत्य कला: जिस कला को मुगल स्थापत्य कला पुकारा गया है वह मध्य-एशिया की इस्लामी कला और भारतीय हिन्दू-कला का मिश्रित रूप है। मुगलकालीन स्थापत्य की मुख्यतम विशेषता संगमरमर के पत्थरों पर अधारित बहुमूल्य पत्थरों से की गयी जड़ावट ‘पित्रदुरा’ एवं मकबरों तथा विलास भवनों में बहते पानी का उपयोग है।

अकबर के समय से इस्लामी और हिन्दू-कला के मिश्रण से एक नवीन स्थापत्य-कला शैली का विकास हुआ । इस कला में इस्लामी-कला से गोल गुम्बद, ऊँची-ऊँची मीनारें और मेहराब, छतें, खम्भे और नुकीली मेहराबें ली गयी थीं। आरम्भ में लाल पत्थर का प्रयोग किया गया तथा इमारतों को विशाल एवं मजबूत बनाने पर बल दिया गया लेकिन बाद में इन इमारतों में सफेद संगमरमर के प्रयोग को सम्मिलित किया गया तथा उन्हें नक्काशी, सोने-चाँदी के पानी के प्रयोग और रंगीन बेल-बूटों आदि के द्वारा अत्यधिक सुन्दर बनाने का प्रयत्न किया गया।

मुग़ल वास्तुकला: मुगल वास्तुकला,जो कि भारतीय, इस्लामी एवं फारसी वास्तुकला का मिश्रण है, एक विशेष शैली, जो कि मुगल साम्राज्य ने भारत में 16वीं 17वीं एवं 18वीं सदी में जन्म लिया।

आरंभिक मुग़ल वास्तुकला:

मुगल वंश आरंभ हुआ बादशाह बाबर से 1526 में। बाबर ने पानीपत में एक मस्जिद बनवाई, इब्राहिम लोधी पर अपनी विजय के स्मारक रूप में। एक दूसरी मस्जिद, जिसे बाबरी मस्जिद कहते हैं।

कुछ प्राथमिक एवं अति विशिष्ट लक्षणिक उदाहरण, जो कि आरम्भिक मुगल वास्तु कला के शेष हैं, (1540–1545) के सम्राट शेरशाह सूरी के छोटे शासन काल के हैं; जो कि मुगल नहीं था। इनमें एक मस्जिद, किला ए कुन्हा (1541) दिल्ली के पास, लाल किला का सामरिक वास्तु दिल्ली में, एवं रोहतास किला, झेलम के किनारे, आज के पाकिस्तान में। उसका मकबरा, जो कि अष्टकोणीय है, एक सरोवर के बीच आधार पर बना है, सासाराम में है, जिसे उसके पुत्र एवं उत्तराधिकारी इस्लाम शाह सूरी (1545-1553). द्वारा बनवाया गया था।

आइये जाने मुगलकालीन निर्माण कार्यों के बारे में :-

निर्माण स्थान निर्माणकर्त्ता
काबुली बाग पानीपत बाबर
दीनपनाह नगर आगरा हुमायूँ
पुराना किला दिल्ली शेरशाह
रोहतास गढ़ दुर्ग रोहतास शेरशाह
शेरशाह का मकबरा सासाराम शेरशाह
हुमायूँ का मकबरा दिल्ली हाजी बेगम
आगरे का किला आगरा अकबर
फतेहपुर सीकरी महल फतेहपुर सीकरी अकबर
जोधाबाई महल फतेहपुर सीकरी अकबर
जामा मस्जिद फतेहपुर सीकरी अकबर
बुलंद दरवाजा फतेहपुर सीकरी अकबर
सलीम चिश्ती का मकबरा फतेहपुर सीकरी अकबर
अकबर का मकबरा सिकंदरा जहाँगीर
एतमादुद्दौला का मकबरा आगरा नूरजहाँ
जहाँगीर का मकबरा शाहदरा (लाहौर) नूरजहाँ
जामा मस्जिद आगरा शाहजहाँ
ताजमहल आगरा शाहजहाँ
लाल किला दिल्ली शाहजहाँ
रबिया उददौरानी का मकबरा औरंगाबाद औरंगजेब
बादशाही मस्जिद लाहौर औरंगजेब
(Visited 184 times, 2 visits today)
You just read: Important Works Of Architecture During Mughal Period In Hindi - HISTORY GK Topic

Like this Article? Subscribe to feed now!

Mugalashaasan Kaal Ke Dauraan Sthaapaty Kala Aur Vaastukala Ke Mahatvapoorn Nirmaan Kaary

Leave a Reply

Scroll to top