प्रमुख औषधियों के नाम, प्रकार एवं उनके स्त्रोतों की सूची

प्रमुख औषधियों के नाम एवं उनके स्त्रोतों की सूची: (List of major drugs, types and their sources in Hindi)

औषधि किसे कहते है?

औषधि वह पदार्थ है जिन का निश्चित मात्रा शरीर मैं निश्चित प्रकार का असर दिखाता है। इनका प्रयोजन चिकित्सा में होता है। किसी भी पदार्थ को औषधि के रूप मैं प्रयोजन करके के लिए उस पदार्थ का गुण, मात्रा अनुसार का व्यवहार, शरीर पर विभिन्न मात्राऔं में होने वाला प्रभाव आदि का जानकारी अपरिहार्य है।

औषधियाँ रोगों के इलाज में काम आती हैं। प्रारंभ में औषधियाँ पेड़-पौधों, जीव जंतुओं से प्राप्त की जाती थीं, लेकिन जैसे-जैसे रसायन विज्ञान का विस्तार होता गया, नए-नए तत्वों की खोज हुई तथा उनसे नई-नई औषधियाँ कृत्रिम विधि से तैयार की गईं।

औषधियों के प्रकार (Kinds of drugs)

  1. अंत:स्रावी औषधियाँ: ये औषधियाँ मानव शरीर मे प्राकृतिक हारमोनों के कम या ज्यादा उत्पादन को संतुलित करती हैं। उदाहरण- इंसुलिन का प्रयोग डायबिटीज़ के इलाज के लिए किया जाता है।
  2. एंटीइंफेक्टिव औषधियाँ: एंटी-इंफेक्टिव औषधियों को एंटी-बैक्टीरियल, एंटी वायरल अथवा एंटीफंगल के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। इनका वर्गीकरण रोगजनक सूक्ष्मजीवियों के प्रकार पर निर्भर करता है। ये औषधियाँ सूक्ष्मजीवियों की कार्यप्रणाली में हस्तक्षेप करके उन्हें समाप्त कर देती हैं जबकि मानव शरीर इनसे अप्रभावित रहता है।
  3. एंटीबायोटिक्स औषधियाँ: एंटीबायोटिक्स औषधियाँ अत्यन्त छोटे सूक्ष्मजीवियों, मोल्ड्स, फन्जाई (fungi) आदि से बनाई जाती हैं। पेनिसिलीन, ट्रेटासाइक्लिन, सेफोलोस्प्रिन्स, स्ट्रेप्टोमाइसिन, जेन्टामाइसिन आदि प्रमुख एंटीबायोटिक औषधियाँ हैं।
  4. एंटी-वायरल औषधियाँ: ये औषधियाँ मेहमान कोशिकाओं में वायरस के प्रवेश को रोककर उसके जीवन चक्र को प्रभावित करती हैं। ये औषधियाँ अधिकांशता रोगों को दबाती ही हैं। एड्स संक्रमण के मामलों में अभी तक किसी भी प्रभावी औषधि का निर्माण संभव नहीं हो सका है।
  5. वैक्सीन: वैक्सीन का प्रयोग कनफेड़ा, छोटी माता, पोलियो और इंफ्लूएंजा जैसे रोगों में,  एंटी-वायरल औषधि के रूप में किया जाता है। वैक्सीनों का निर्माण जीवित अथवा मृत वायरसों से किया जाता है। प्रयोग के पूर्व इनका तनुकरण किया जाता है। वैक्सीन के शरीर में प्रवेश से मानव इम्यून प्रणाली का उद्दीपन होता है जिससे एंडीबॉडीज़ का निर्माण होता है। ये एंटीबॉडीज़ शरीर को समान प्रकार के वायरस के संक्रमण से बचाती हैं।
  6. एंटी-फंगल औषधियाँ: एंटी फंगल औषधियाँ कोशिका भित्ति में फेरबदल करके फंगल कोशिकाओं को चुनकर नष्ट कर देती हैं। कोशिका के जीव पदार्थ का स्राव हो जाता है और वह मृत हो जाती है।
  7. कार्डियोवैस्कुलर औषधियाँ: ये औषधियाँ हृदय और रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करती हैं। इनका वर्गीकरण उनकी क्रिया के आधार पर किया जाता है। एंटीहाइपरटेन्सिव औषधियाँ रक्त वाहिकाओं को फैलाकर रक्तचाप पैदा कर देती हैं। इस तरह से संवहन प्रणाली में हृदय से पंप करके भेजे गए रक्त की मात्रा कम हो जाती है। एंटीआरिदमिक औषधियाँ हृदय स्पंदनों को नियमित करके हृदयाघात से मानव शरीर को बचाती हैं।

रक्त को प्रभावित करने वाली औषधियाँ:

  1. एंटी-एनीमिक औषधियाँ: जिनमें कुछ विटामिन अथवा आइरन शामिल हैं, लाल रक्त कणिकाओं के निर्माण को बढ़ावा देती हैं।
  2. एंटीकोएगुलेंट औषधियाँ: हेपारिन जैसी औषधियाँ रक्त जमने की प्रक्रिया को घटाकर रक्त संचरण को सुचारू करती हैं।
  3. थ्रॉम्बोलिटिक औषधियाँ: ये औषधियाँ रक्त के थक्कों को घोल देती हैं, जिनसे रक्त वाहिकाओं को जाम होने का खतरा होता है। रक्त वाहिकाओं में ब्लॉकेड की वजह से हृदय व मस्तिष्क को रक्त व ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं हो पाती है।
  4. केंद्रीय स्नायु तंत्र की औषधियाँ: ये वे औषधियाँ हैं जो मेरूदण्ड और मस्तिष्क को प्रभावित करती हैं। इनका प्रयोग तंत्रिकीय और मानसिक रोगों के इलाज में किया जाता है। उदाहरण के लिए एंटी-एपीलेप्टिक औषधियाँ मष्तिष्क के अतिउत्तेजित क्षेत्रों की गतिविधियों को कम करके मिर्गी के दौरों को समाप्त कर देती हैं। एंटी-साइकोटिक औषधियाँ सीजोफ्रेनिया जैसे मानसिक रोगों के इलाज में काम आती हैं। एंटी-डिप्रेसेंट मानसिक अवसाद की स्थिति को समाप्त करती हैं।
  5. एंटीकैंसर औषधियाँ: ये औषधियाँ कुछ कैंसरों को अथवा उनकी तीव्र वृद्धि और फैलाव को रोकती हैं। ये औषधियाँ सभी कैंसरों के लिए कारगर नहीं होती हैं। पित्त की थैली, मस्तिष्क, लिवर अथवा हड्डी इत्यादि के कैंसरों के लिए अलग-अलग औषधियाँ होती हैं। ये औषधियाँ कुछ विशेष तंतुओं अथवा अंगों के लिए विशिष्ट  होती हैं। एंटी कैंसर औषधियाँ विशेष कैंसर कोशिकाओं में हस्तक्षेप करके अपना कार्य अंजाम देती हैं।

प्रमुख औषधियों के नाम एवं उनके स्त्रोतों की सूची:

औषधि का नाम स्त्रोत
कुनैन सिनकोना की छाल
निकोटिन तम्बाकू
कैफीन ( एलकेलॉइड ) चाय, कॉफी
हेरोइन / मॉर्फिन / कोडीन अफीम
एस्पिरिन विलो
कोकीन इरिथ्रोजायलोन कोक ( अकवन )

इन्हें भी पढ़े: भारत के प्रमुख शोध संस्थानों के नाम और उनके स्थान की सूची

(Visited 209 times, 1 visits today)

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):

  • प्रश्न: ‘पैरासेटामोल’ मुख्यत: किसके लिए सहायक औषधि है?
    उत्तर: ज्वर नियन्त्रण (Exam - SSC CML May, 2000)
  • प्रश्न: ऐस्कोहॉली द्रवों, स्वापक औषधियों तथा अफीम पर लगाए गए शुल्क किस विभाग के अधीन आते है?
    उत्तर: राज्य उत्पादन शुल्क (Exam - SSC CML May, 2002)
  • प्रश्न: यक्ष्मा में कौन-सी औषधि असरदार होती है?
    उत्तर: स्ट्रेप्टोमाइसिन (Exam - SSC TA Dec, 2005)
  • प्रश्न: मूत्र के स्त्रवणा को बढाने वाली औषधि को क्या कहते है?
    उत्तर: डाइयूरेटिक (Exam - SSC TA Mar, 2009)
  • प्रश्न: ’कुनैन’ (औषधि) पादप के किस अंग से प्राप्त होती है?
    उत्तर: तने या शाखाओं की छाल (Exam - SSC CAPF May, 2012)
  • प्रश्न: वह औषधि कौन-सी है, जो दुश्चिंता को कम करती है और शांति प्रदान करती है?
    उत्तर: प्रशांतक (Exam - SSC CGL Jul, 2012)
  • प्रश्न: कोर्टिसोन एक औषधि है जो बनाई जाती है-
    उत्तर: हार्मोन से (Exam - SSC CHSL Nov, 2012)
  • प्रश्न: बहुऔषधि चिकित्सा किसके संक्रमण के लिए है?
    उत्तर: एड्स (Exam - SSC CAPF Jun, 2013)
  • प्रश्न: प्रत्यम्ल (एंटासिड) किससे राहत दिलाने वाली औषधियों में पाया जाता है?
    उत्तर: पेट दर्द (Exam - SSC MTS Feb, 2014)
  • प्रश्न: औषधियों से सम्बन्धित विज्ञान को क्या कहते हैं?
    उत्तर: फार्माकोलॉजी (Exam - SSC MTS Feb, 2014)
You just read: List Of Major Drugs Types And Their Sources In Hindi - PCS GK Topic

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top