यूपीएससी पद - सिविल सेवा के प्रकार (UPSC Posts - Types of Civil Services)

यूपीएससी पद – सिविल सेवा के प्रकार (UPSC Posts – Types of Civil Services)

सिविल सेवा:

संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा (CSE) के माध्यम से 24 विभिन्न सिविल सेवा के लिए UPSC के पद भरे जाते हैं। लाखों उम्मीदवारों में से केवल कुछ हजार छात्र ही इस परीक्षा को सफलतापूर्वक उत्तीर्ण कर पाते हैं। हालांकि 23 विभिन्न सिविल सेवा हैं, सबसे लोकप्रिय सेवाएं भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS), भारतीय राजस्व सेवाएँ (IRS) और भारतीय विदेश सेवा (IFS) हैं। सफल उम्मीदवारों को सेवाओं का आवंटन परीक्षा में प्राप्त रैंकिंग पर निर्भर करता है। किसी सेवा में चयनित होने के बाद एक उम्मीदवार को उस सेवा के भीतर विभिन्न पदों (अपने करियर के एक दौर में) के लिए नियुक्त किया जाता है, सिवाय कुछ मामलों में जहां वह दूसरी सेवा में किसी अन्य विभाग में प्रतिनियुक्ति पर जा सकता है।

यूपीएससी पद –  मुख्यत: 3 प्रकार की सिविल सेवा

( 1 ) अखिल भारतीय सिविल सेवा – All India Civil Services

( 2 ) समूह ‘ए’ सिविल सेवा – Group ‘A’ Civil Services

  • भारतीय विदेश सेवा – Indian Foreign Service (IFS)
  • भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा – Indian Audit and Accounts Service (IAAS)
  • भारतीय सिविल लेखा सेवा – Indian Civil Accounts Service (ICAS)
  • भारतीय कॉर्पोरेट विधि सेवा – Indian Corporate Law Service (ICLS)
  • भारतीय रक्षा लेखा सेवा – Indian Defence Accounts Service (IDAS)
  • भारतीय रक्षा संपदा सेवा – Indian Defence Estates Service (IDES)
  • भारतीय सूचना सेवा – Indian Information Service (IIS)
  • भारतीय आयुध कारखानों सेवा – Indian Ordnance Factories Service (IOFS)
  • भारतीय संचार वित्त सेवाएँ – Indian Communication Finance Services (ICFS)
  • भारतीय डाक सेवा – Indian Postal Service (IPoS)
  • भारतीय रेलवे लेखा सेवा – Indian Railway Accounts Service (IRAS)
  • भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा – Indian Railway Personnel Service (IRPS)
  • भारतीय रेल यातायात सेवा – Indian Railway Traffic Service (IRTS)
  • भारतीय राजस्व सेवा – Indian Revenue Service (IRS)
  • भारतीय व्यापार सेवा – Indian Trade Service (ITS)
  • रेलवे सुरक्षा बल – Railway Protection Force (RPF)

( 3 ) समूह ‘बी’ सिविल सेवा – Group ‘B’ Civil Services

  • सशस्त्र बल मुख्यालय सिविल सेवा – Armed Forces Headquarters Civil Service
  • दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह सिविल सेवा – Delhi, Andaman and Nicobar Islands Civil Service (DANICS)
  • दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पुलिस सेवा – Delhi, Andaman and Nicobar Islands Police Service (DANIPS)
  • पांडिचेरी सिविल सर्विस – Pondicherry Civil Service
  • पांडिचेरी पुलिस सेवा – Pondicherry Police Service

( 1 ) अखिल भारतीय सिविल सेवा – All India Civil Services

संविधान संघ एवं राज्‍यों के लिए समान अखिल भारतीय सेवाओं के सृजन की व्‍यवस्‍था करता है। अखिल भारतीय सेवाएं अधिनियम, 1951 में यह प्रावधान किया गया है कि केंद्रीय सरकार, अखिल भारतीय सेवाओं पर नियुक्‍त व्‍यक्‍तियों की भर्ती और सेवा की शर्तों को विनियमित करने के लिए नियमावली बना सकती है। वर्तमान में केवल भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय पुलिस सेवा और भारतीय वन सेवा को अखिल भारतीय सेवाओं के रूप में गठित किया गया है। इन सेवाओं पर भर्ती तदनुरूप अ.भा.से. भर्ती नियमावली के तहत की जाती है और सीधी भर्ती (प्रतियोगिता परीक्षा के माध्‍यम से) तथा राज्‍य संवा (सं.लो.से.आ. द्वारा संयोजित समिति के माध्‍यम से) से पदोन्‍नति के द्वारा भर्ती की जाती है। अ.भा.से. शाखा राज्‍य सरकार सेवा से पदोन्‍नति के माध्‍यम से भर्ती से संबंधित है जो कि क्रमश: भा.प्र.से./भा.पु.से./भा.व.से. पदोन्‍नति विनियम द्वारा शासित की जाती है।

अखिल भारतीय की तीनों सेवाओं की संक्षिप्त जानकारी नीचे दी गई है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा – Indian Administrative Service (IAS)

  • भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Administrative Service) अखिल भारतीय सेवाओं में से एक है।
  • इसके अधिकारी अखिल भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी है।
  • भारतीय प्रशासनिक सेवा (तथा भारतीय पुलिस सेवा) में सीधी भर्ती संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से की जाती है
  • उनका आवंटन भारत सरकार द्वारा राज्यों को कर दिया जाता है।
  • उत्तराखंड के मसूरी में लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी, IAS का कर्मचारी प्रशिक्षण महाविद्यालय है

भारतीय पुलिस सेवा – Indian Police Service (IPS)

  • भारतीय पुलिस सेवा, जिसे आम बोलचाल में भारतीय पुलिस या आईपीएस, के नाम से भी जाना जाता है।
  • भारत सरकार के अखिल भारतीय सेवा के एक अंग के रूप में कार्य करता है।
  • आई.पी.एस में चुने हुए अभ्यर्थी का प्रशिक्षण सरदार बल्लभभाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी, हैदराबाद में होती है।
  •  प्रशिक्षण पूरा होने के बाद अभ्यर्थी को जो राज्य कैडर दिया जाता है
  • उस राज्य के किसी जिले के पुलिस अधीक्षक के कार्यालय में एक साल की कार्य प्रशिक्षण लेनी होती है।
  • इसके बाद सहायक पुलिस अधीक्षक के रूप में दो वर्ष तक कार्य करने होते है।
  • IPS अधिकारी पुलिस सेवा में वरिष्ठ पदों पर रहते हैं।
  • IPS अधिकारी RAW, IB, CBI आदि में वरिष्ठ पदों पर रहते हैं।
  • ब्रिटिश प्रशासन के अंतर्गत इंपीरियल पुलिस के नाम से जाना जाता था।

भारतीय वन सेवा – Indian Forest Service (IFoS)

  • भारतीय वन सेवा (IFoS) तीन अखिल भारतीय सेवाओं में से एक है।
  • भारतीय वन सेवा (IFoS) को वर्ष 1966 में अखिल भारतीय सेवा अधिनियम 1951 के तहत बनाया गया था।
  • भारतीय वन सेवा में चुने हुए अभ्यर्थी का प्रशिक्षण केंद्र देहरादून में है।
  • केंद्र सरकार के साथ सेवारत IFoS अधिकारियों का सर्वोच्च पदनाम महानिदेशक (DG) है।
  • राज्य सरकार के लिए सेवारत IFoS अधिकारियों का सर्वोच्च पदनाम प्रधान मुख्य वन संरक्षक है।
  • भारतीय वन सेवा संवर्ग पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के अंतर्गत आता है।
  • IFoS अधिकारियों को खाद्य और कृषि संगठन (FAO) जैसे कई संगठनों में काम करने का अवसर मिलता है।

( 2 ) समूह ‘ए’ सिविल सेवा – Group ‘A’ Civil Services

सभी समूह ’ए’ सिविल सेवाओं का विवरण नीचे दिया गया है।

भारतीय विदेश सेवा – Indian Foreign Service (IFS)

  • IFS अधिकारी LBSNAA में अपना प्रशिक्षण शुरू करते हैं और फिर नई दिल्ली स्थित विदेशी सेवा संस्थान में चले जाते हैं।
  • यह सबसे लोकप्रिय ग्रुप ’ए’ सिविल सेवाओं में से एक है।
  • IFS अधिकारी भारत के विदेशी मामलों को संभालते हैं।
  • IFS अधिकारी उच्चायुक्त, राजदूत, संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि और विदेश सचिव बन सकते हैं।
  • IFS में चयनित एक उम्मीदवार सिविल सेवा परीक्षा के लिए फिर से प्रकट नहीं हो सकता है।

भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा – Indian Audit and Accounts Service (IAAS)

  • IAAS सबसे लोकप्रिय ग्रुप civil A ’सिविल सेवाओं में से एक है।
  • वे NAAA, शिमला में अपना प्रशिक्षण शुरू करते हैं।
  • यह कैडर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) के अंतर्गत आता है।
  • यह कैडर केंद्र सरकार, राज्य सरकारों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (PSU) की वित्तीय ऑडिटिंग करता है।

भारतीय सिविल लेखा सेवा – Indian Civil Accounts Service (ICAS)

  • यह कैडर समूह ’ए’ सिविल सेवा के तहत आता है।
  • वे वित्त मंत्रालय के अधीन कार्य करते हैं।
  • इस कैडर का प्रमुख लेखा महानियंत्रक होता है।
  • उन्हें राष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन संस्थान (NIFM), फरीदाबाद और सरकारी लेखा और वित्त संस्थान (INGAF) में प्रशिक्षित किया जाता है।

भारतीय कॉर्पोरेट विधि सेवा – Indian Corporate Law Service (ICLS)

  • यह समूह ए सेवा कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के तहत कार्य करती है।
  • इस सेवा का प्राथमिक उद्देश्य भारत में कॉर्पोरेट क्षेत्र को नियंत्रित करना है।
  • प्रोबेशनरीज़ के लिए प्रशिक्षण भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान भारतीय कॉर्पोरेट विधि सेवा के मानेसर परिसर में स्थित ICLS अकादमी में होता है।
  • भारतीय कॉर्पोरेट विधि सेवा अधिकारियों को कानून, अर्थशास्त्र, वित्त और लेखा पर व्यापक प्रशिक्षण दिया जाता है।

भारतीय रक्षा लेखा सेवा – Indian Defence Accounts Service (IDAS)

  • यह कैडर रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आता है।
  • इस कैडर के अधिकारियों को पहले CENTRAD, नई दिल्ली में प्रशिक्षित किया जाता है। फिर, एनआईएफएम; नेशनल एकेडमी ऑफ डिफेंस फाइनेंशियल मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट, पुणे।
  • आईडीएएस कैडर के अधिकारी मुख्य रूप से सीमा सड़क संगठन (बीआरओ), रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) और आयुध कारखानों की सेवा लेते हैं।
  • इस कैडर का मुख्य उद्देश्य रक्षा खातों का ऑडिट करना है।
  • यह सेवा नियंत्रक लेखा महानिदेशक (CGDA) के नेतृत्व में है और यह DRDO, BRO और आयुध कारखानों के प्रमुखों के लिए मुख्य लेखा अधिकारी के रूप में भी कार्य करता है।

भारतीय रक्षा संपदा सेवा – Indian Defence Estates Service (IDES)

  • इस कैडर के अधिकारियों का प्रशिक्षण राष्ट्रीय रक्षा संपदा संस्थान में होता है जो नई दिल्ली में स्थित है।
  • इस सेवा का प्राथमिक उद्देश्य छावनी और रक्षा प्रतिष्ठान से संबंधित भूमि का प्रबंधन करना है।

भारतीय सूचना सेवा – Indian Information Service (IIS)

  • यह समूह ए सेवा भारत सरकार के मीडिया विंग के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है।
  • इस सेवा की प्राथमिक जिम्मेदारी सरकार और जनता के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करना है।
  • IIS सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत आता है।
  • इस कैडर की भर्ती के लिए प्रारंभिक प्रशिक्षण भारतीय जन संचार संस्थान (IIMC) में होता है।
  • इस कैडर के अधिकारी डीडी, पीआईबी, एआईआर आदि जैसे विभिन्न मीडिया विभागों में काम करते हैं।

भारतीय आयुध कारखानों सेवा – Indian Ordnance Factories Service (IOFS)

  • यह सेवा रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आती है।
  • यह समूह ‘ए’ सिविल सेवा है जो बड़ी संख्या में भारतीय आयुध कारखानों (Ordnance Factories ) का प्रबंधन करने की जिम्मेदारी लेती है जो रक्षा उपकरण, हथियार और गोला-बारूद का उत्पादन करते हैं।
  • इस कैडर के तहत भर्ती किए गए अभ्यर्थी 1 वर्ष 3 महीने की अवधि के लिए नागपुर में स्थित राष्ट्रीय रक्षा उत्पादन अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं।

भारतीय संचार वित्त सेवाएँ – Indian Communication Finance Services (ICFS)

  • यह ग्रुप ’ए’ सिविल सेवा के अंतर्गत आता है, इसे पहले भारतीय डाक और दूरसंचार लेखा और वित्त सेवा (आईपी एंड टीएएफएस) के रूप में जाना जाता था।
  • इस कैडर के लिए भर्ती किए गए उम्मीदवारों ने फरीदाबाद स्थित राष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन संस्थान में प्रशिक्षण प्राप्त किया।
  • इस संवर्ग का प्राथमिक उद्देश्य भारतीय डाक और दूरसंचार विभागों को लेखांकन और वित्तीय सेवाएं प्रदान करना है।

भारतीय डाक सेवा – Indian Postal Service (IPoS)

  • यह सेवा समूह ’ए’ सिविल सेवाओं के अंतर्गत आती है।
  • इस कैडर के लिए भर्ती किए गए उम्मीदवारों ने गाजियाबाद में स्थित रफी अहमद किदवई नेशनल पोस्टल एकेडमी (RAKNPA) में प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • IPoS अधिकारियों को इंडिया पोस्ट में उच्च ग्रेड अधिकारी के रूप में भर्ती किया जाता है। यह सेवा इंडिया पोस्ट को चलाने के लिए जिम्मेदार है।
    यह सेवा इंडिया पोस्ट द्वारा दी जाने वाली विविध सेवाओं के लिए जिम्मेदार है; पारंपरिक डाक सेवाओं, बैंकिंग, ई-कॉमर्स सेवाओं से, वृद्धावस्था पेंशन की हानि, मनरेगा मजदूरी

भारतीय रेलवे लेखा सेवा – Indian Railway Accounts Service (IRAS)

  • IRAS अधिकारी भारतीय रेलवे के वित्त और खातों के रखरखाव और प्रबंधन के लिए जिम्मेदार हैं।
  • भर्ती के बाद, IRAS के परिवीक्षक नागपु में राष्ट्रीय प्रत्यक्ष कर अकादमी में दो साल के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम से गुजरते हैं।
  • वडोदरा में रेलवे स्टाफ कॉलेज और भारतीय रेलवे के निर्माण संगठनों, डिवीजन, विनिर्माण प्रतिष्ठानों और क्षेत्रीय रेलवे के साथ विशेष प्रशिक्षण संस्थान हैं।

भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा – Indian Railway Personnel Service (IRPS)

  • प्रारंभिक प्रशिक्षण एलबीएसएनएए में शुरू किया गया है और वे विभिन्न संस्थानों जैसे राष्ट्रीय प्रत्यक्ष कर अकादमी, आरसीवीपी नोरोन्हा प्रशासन अकादमी, डॉ. मेरी चन्ना रेड्डी मानव संसाधन विकास संस्थान में और प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं।
  • जिसके बाद अगली ट्रेनिंग वडोदरा स्थित भारतीय रेलवे की राष्ट्रीय अकादमी में  होती है।
  • इस संवर्ग के अधिकारियों की प्राथमिक जिम्मेदारी भारतीय रेलवे के बीहेम मानव संसाधन का प्रबंधन है

भारतीय रेल यातायात सेवा – Indian Railway Traffic Service (IRTS)

  • आईआरटीएस समूह ‘ए’ सिविल सेवा के तहत आता है।
  • आईआरटीएस कैडर के अधिकारी वडोदरा में स्थित रेलवे स्टाफ कॉलेज और लखनऊ में भारतीय रेलवे परिवहन प्रबंधन संस्थान में प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं।
  • भारतीय रेलवे के लिए राजस्व सृजन की उनकी प्राथमिक जिम्मेदारी है।
  • यह सेवा रेलवे और जनता के बीच सेतु का काम करती है; रेलवे और कॉर्पोरेट क्षेत्र।

भारतीय राजस्व सेवा – Indian Revenue Service (IRS)

  • IRS कैडर वित्त मंत्रालय के तहत कार्य करता है।
  • इस कैडर का प्राथमिक उद्देश्य प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष करों को इकट्ठा करना है
  • IRS अधिकारी एलबीएसएनएए में प्रारंभिक प्रशिक्षण से गुजरते हैं, आगे की ट्रेनिंग एनएडीटी में होती है जो नागपुर और नेशनल एकेडमी ऑफ कस्टम्स, एक्साइज और नारकोटिक्स में स्थित है।

भारतीय व्यापार सेवा – Indian Trade Service (ITS)

  • यह समूह ’ए’ सिविल सेवा में से एक है।
  • भर्ती किए गए उम्मीदवारों को नई दिल्ली में स्थित भारतीय विदेश व्यापार संस्थान में प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • प्राथमिक लक्ष्य यदि यह संवर्ग देश के लिए अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और वाणिज्य का प्रबंधन करता है।
  • यह कैडर वाणिज्य मंत्रालय के अंतर्गत आता है और इसका नेतृत्व विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) करता है।

रेलवे सुरक्षा बल – Railway Protection Force (RPF)

  • आरपीएफ एक अर्धसैनिक बल है।
  • इस कैडर का मुख्य उद्देश्य भारतीय रेल यात्रियों को पूर्ण सुरक्षा प्रदान करना और भारतीय रेलवे की संपत्ति और संपत्ति की सुरक्षा करना है।
  • भर्ती किए गए उम्मीदवारों ने लखनऊ स्थित जगजीवन राम रेलवे सुरक्षा बल अकादमी में प्रशिक्षण दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: भारत में सिविल सेवाओं का इतिहास- History of Civil Services In India

( 3 ) समूह ‘बी’ सिविल सेवा – Group ‘B’ Civil Services

सभी समूह ’बी’ सिविल सेवाओं का विवरण नीचे दिया गया है:

सशस्त्र बल मुख्यालय सिविल सेवा – Armed Forces Headquarters Civil Service

  • यह सेवा समूह ’बी’ सिविल सेवा के अंतर्गत आती है। उनका उद्देश्य भारतीय सशस्त्र बलों और अंतर-सेवा संगठनों को बुनियादी सहायता सेवाएं प्रदान करना है।
  • यह सेवा रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आती है।
  • रक्षा सचिव इस संवर्ग का प्रमुख होता है।

दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह सिविल सेवा – Delhi, Andaman and Nicobar Islands Civil Service (DANICS)

  • यह सेवा भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए एक फीडर सेवा के रूप में कार्य करती है।
  • पूर्ण रूप दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह सिविल सेवा है जो भारत सरकार के अधीन कार्य करती है।
  • कैडर से अधिकारियों की प्रारंभिक पदस्थापना सहायक कलेक्टर (जिला प्रशासन, दिल्ली) की भूमिका है।

इस कैडर के अधिकारी दिल्ली और अन्य केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासनिक कार्यों के लिए जिम्मेदार हैं।

दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पुलिस सेवा – Delhi, Andaman and Nicobar Islands Police Service (DANIPS)

  • DANIPS “दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, दमन और दीव और दादरा और नगर हवेली पुलिस सेवा” के लिए एक परिचित है।
  • यह भारत में एक संघीय पुलिस सेवा है, जो दिल्ली और भारत के केंद्र शासित प्रदेशों का प्रशासन करती है।

पांडिचेरी सिविल सर्विस – Pondicherry Civil Service

  • इस कैडर के लिए भर्ती यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से होती है।

पांडिचेरी पुलिस सेवा – Pondicherry Police Service

  • पांडिचेरी पुलिस सेवा के लिए भर्ती यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से होती है।
  • यह एक समूह ‘बी’ सिविल सेवा है।

उपर्युक्त विवरण यूपीएससी 2020 की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों को अपने लक्ष्य निर्धारित करने में मदद करेंगे।

यह भी पढ़ें: भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) – Indian Administrative Service (IAS)


You just read: Upsc Posts Types Of Civil Services In Hindi - BANKING GK Topic

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *