प्रसिद्ध व्यक्तित्व

दुनिया में सबसे प्रसिद्ध और प्रभावशाली लोगों की सूची जिन्होंने समाज, संस्कृति और विज्ञान को हमेशा के लिए बदल दिया है।

📁 प्रसिद्ध व्यक्तित्व (37 विषय मिले)

1969 - संतोष यादव भारत की एक पर्वतारोही हैं। वह माउंट एवरेस्ट पर दो बार चढ़ने वाली विश्व की प्रथम महिला हैं। उन्होंने पहले मई 1992 में और उसके बाद मई 1993 में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का कारनामा किया है।

1898-1952 - दुर्गा बनर्जी इंडियन एयरलाइंस की पहली महिला (1956 में) पायलेट और भारत की पहली व्यापारिक (कमरशियल) पायलेट रही हैं। एक बच्चे के रूप में बनर्जी जहाज़ों और उड़ने में रुचि रखती थी और भविष्य में स्वयं जहाज़ चलाना चाहती थी। वह अपने समय की पहली महिला थी, जिसने आम परम्परा के विपरीत इस क्षेत्र में प्रवेश किया।

सिकंदर - अलेक्जेंडर द ग्रेट बायोग्राफी - आइए सिकंदर के बारे में अधिक जानें जैसे जन्म विवरण, उपलब्धियां, करियर, परिवार, पुरस्कार, सम्मान और बहुत कुछ।

लक्ष्मी सहगल जीवनी - आइए लक्ष्मी सहगल के बारे में अधिक जानें जैसे जन्म विवरण, उपलब्धियां, करियर, परिवार, पुरस्कार, सम्मान और बहुत कुछ।

शरण रानी जीवनी - शरण रानी के बारे में अधिक जानें जैसे जन्म विवरण, उपलब्धियां, करियर, परिवार, पुरस्कार, सम्मान और बहुत कुछ।

आइये जाने महर्षि वाल्मीकि का इतिहास के बारे में महर्षि वाल्मीकि कौन थे? महर्षि वाल्मीकि का वाल्मीकि नाम कैसे पड़ा, महर्षि वाल्मीकि के माता पिता का नाम क्या था? और महर्षि वाल्मीकि का वाल्मीकि नाम कैसे पड़ा आदि के बारे में। और इस बार वाल्‍मीकि जयंती कब है? History of Maharishi Valmiki in Hindi

31-Mar-1865 - 26-Feb-1887 - आनंदीबाई जोशी पहली भारतीय महिला थीं, जिन्‍होंने डॉक्‍टरी की डिग्री प्राप्त की थी। जिस दौर में महिलाओं की शिक्षा भी दूभर थी, उस समय विदेश जाकर डॉक्‍टरी की डिग्री हासिल करना उनके लिए एक मिसाल थी। आनंदी गोपाल जोशी का व्‍यक्तित्‍व महिलाओं के लिए प्रेरणास्‍त्रोत था।

05-Apr-1974 - डिक्की डोल्मा एक भारतीय महिला है जो सबसे कम उम्र की बालिका थी जो भारत-नेपाल महिला एवेरेस्ट के अंतर्गत माउंट एवेरेस्ट पर फतह हासिल कर पाई थी, भारत-नेपाल महिला एवरेस्ट अभियान का नेतृत्व बाछेंद्री पाल ने किया था, जो 1984 में माउंट एवरेस्ट का शिखर सम्मेलन करने वाली पहली भारतीय महिला थी।

30-Apr-1927 - फ़ातिमा बीबी सर्वोच्च न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश हैं। इनकी विद्यालयी शिक्षा कैथीलोकेट हाई स्कूल, पथानामथिट्टा से हुई। उन्होने यूनिवर्सिटी कॉलेज, त्रिवेंद्रम से स्नातक और लॉ कॉलेज, त्रिवेंद्रम से एल एल बी किया। 14 नवम्बर 1950 को वे अधिवक्ता के रूप में पंजीकृत हुयी, मई, 1958 में केरल अधीनस्थ न्यायिक सेवा में मुंसिफ़ के रूप में नियुक्त हुई।

06-May-1856 - 20-Feb-1920 - रॉबर्ट पियरी उत्तरी ध्रुव की खोज करने वाले अमरीकी खोजकर्ता थे। 1877 ई० में इन्होने ब्रन्ज़विक के बोडोइन कॉलेज से स्नातक परीक्षा पास की थी। ध्रुवों की खोज के लिए इन्होंने 1886 ई० में ग्रीनलैंड के पश्चिमी तट का अध्ययन किया था। 1881 में पीरी सिविल इंजीनियर के रूप में नौसेना में शामिल हो गए थे| इन्हें इनुइट उत्तरजीविता तकनीकों का अध्ययन करने वाले पहले आर्कटिक खोजकर्ताओं भी माना जाता थे।

14-May-1997 - मानुषी छिल्लर एक प्रसिद्ध भारतीय मॉडल है। मानुषी छिल्लर ने चीन में आयोजित सौन्दर्य प्रतियोगिता में मिस वर्ल्ड (विश्व सुन्दरी) 2017 का ख़िताब जीता हैं। मानुषी छिल्लर ने विश्व की 118 सुंदरियों को पछाड़कर ‘मिस वर्ल्ड 2017' का खिताब अपने नाम किया है। उनसे पहले वर्ष 2000 में प्रियंका चोपड़ा ने इस खिताब को जीता था। मिस वर्ल्ड 2017 प्रतियोगिता का आयोजन चीन के सान्या शहर में हुआ था। इस प्रतियोगिता में इंगलैंड की मिस स्टेफनी हिल फर्स्ट रनरअप रहीं, जबकि मैसिको की मिस एंड्रिया मेजा सेकेंड रनर अप रहीं।

24-May-1956 - 05-May-2017 - बछेंद्री पाल दुनिया की सबसे ऊंची चोटी ‘माउंट एवरेस्ट' पर चढ़ने वाली प्रथम भारतीय महिला हैं। बछेंद्री पाल विश्व के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर ‘माउंट एवरेस्ट' को छूने वाली पांचवीं महिला पर्वतारोही हैं। इन्होंने यह कारनामा 23 मई, 1984 के दिन 1 बजकर 7 मिनट पर किया था। बछेंद्री पाल का जन्म उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले में सन् 1954 को हुआ था।

03-Apr-1914 - 27-Jun-2008 - एस.एच.एफ.जे. मानेकशॉ का जन्म 03 अप्रैल 1914 को अमृतसर, पंजाब (ब्रिटिश भारत) में एक पारसी परिवार में हुआ था। जनरल एस.एच.एफ.जे. मानेकशॉ देश के पहले फील्ड मार्शल थे। उनके नेतृत्व में भारत ने सन् 1971 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध में विजय प्राप्त की थी, जिसके परिणामस्वरूप बंगलादेश का जन्म हुआ था। उनका पूरा नाम सैम होर्मूसजी फ्रेमजी जमशेदजी मानेकशॉ था।

29-Jun-1864 - 25-May-1924 - सर आशुतोष मुखर्जी एक बंगाल के ख्यातिलब्ध बैरिस्टर तथा शिक्षाविद थे। उनकी वेशभूषा और आचार व्यवहार में भारतीयता झलकती थी। कदाचित वह प्रथम भारतीय थे, जिन्होंने रॉयल कमीशन (सैडलर समिति) के सदस्य की हैसियत से सम्पूर्ण भारत में धोती और कोट पहनकर भ्रमण किया। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अपना समस्त जीवन अर्पित कर दिया था। उन्होंने बंगला तथा भारतीय भाषाओं को एम.ए. की उच्चतम डिग्री के लिए अध्ययन का विषय बनाया।

04-May-1905 - 20-Jul-1966 - जस्टिस अन्ना चांडी भारत की प्रथम महिला न्यायाधीश थीं और भारत के उच्च न्यायालय की पहली महिला न्यायाधीश भी थी। एलिजाबेथ लेन के दशकों से पहले वह पूरे एंग्लो-सैक्सन दुनिया में पहली महिला न्यायाधीश थी। वे साल 1928 में न्यायालयी सेवा में आयीं और उन्हें सर सी.पी.रामास्वामी द्वारा जिला न्यायाधीश (मुंसिफ) के रूप में नियुक्त किया गया।

08-Aug-1948 - श्वेतलाना सेवित्स्काया यह एक सेवानिवृत्त (Retired) सोवियत विमानन और अंतरिक्ष यात्री है जो 1982 में सोयुज टी -7 (Soyuz T-7) पर चढ़ी थी तथा अन्तरिक्ष में जाने वाली दूसरी महिला बनी थी। वर्ष 1984 में वह अंतरिक्ष में दो बार उड़ान भरने वाली विश्व की पहली महिला बनी।

08-Aug-1940 - डेनिस टीटो संयुक्त राज्य अमेरिका के निवासी हैं जो सर्वप्रथम अंतरिक्ष पर्यटक बने थे। उन्होंने 28 अप्रैल 2006 से 06 मई 2006 को बीच में अंतरिक्ष में रहकर यह कीर्तिमान स्थापित किया था। उन्होंने आईएसएस ईपी -1 के चालक दल के सदस्य के रूप में कक्षा में लगभग आठ दिनो तक रहे थे|

05-Aug-1930 - 25-Aug-2012 - नील आर्मस्ट्रॉंग एक अमेरिकी खगोलयात्री और चंद्रमा पर कदम रखने वाले पहले व्यक्ति थे। चांद पर सबसे पहले क़दम रखने वाले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री नील आर्मस्ट्रांग में हवाई यात्राओं के प्रति रुचि बचपन से ही शायद तभी जाग गई थी जब उनके पिता उन्हें हवाई उड़ानों को दिखलाने ले जाया करते थे।

25-Jun-1900 - 27-Aug-1979 - लॉर्ड लुई माउंटबेटन एक ब्रिटिश राजनीतिज्ञ और नौसैनिक अधिकारी थे। लॉर्ड माउंटबेटन का जन्म 25 जून, 1900 ई. में फ़्रॉगमोर हाउस, विंडसर इंग्लैण्ड में हिज सीरीन हाइनेस बैटनबर्ग के राजकुमार लुइस के रूप में हुआ था। लॉर्ड माउंटबेटन भारत के आखिरी वायसराय (1947) थे और स्वतंत्र भारतीय संघ के पहले गवर्नर-जनरल (1947-48) थे।

02-Sep-1985 - सुरेखा यादव भारत में भारतीय रेलवे की एक महिला लोकोपोलॉट (ट्रेन चालक) हैं। वह 1988 में भारत की पहली महिला ट्रेन चालक बनी थी। उन्होंने मध्य रेलवे के लिए पहली “देवियो स्पेशल” स्थानीय ट्रेन को चलाया था।

19-Sep-1965 - सुनीता विलियम्स का जन्म 19 सितम्बर 1965 में हुआ था। सुनीता लिन पांड्या विलियम का जन्म अमेरिका के ओहियो राज्य में युक्लिड (स्थित क्लीवलैंड) नगर में हुआ था। वह अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के माध्यम से अंतरिक्ष जाने वाली भारतीय मूल की दूसरी महिला है। यह भारत के गुजरात के अहमदाबाद से ताल्लुक रखती है। इन्होंने एक महिला अंतरिक्ष यात्री के रूप में 195 दिनों तक अंतरिक्ष में रहने का विश्व किर्तिमान स्थापित किया है। उनके पिता दीपक पाण्डया अमेरिका में एक डॉक्टर हैं।

24-Sep-1940 - 23-Aug-1994 - इंग्लिश चैनल पार करने वाली प्रथम भारतीय महिला आरती साहा है, जोकि एक भारतीय तैराक थी।आरती साहा का प्रमुख खेल तैराकी ही था। सचिन नाग ने उनकी इस प्रतिभा को पहचाना और उसे तराशने का कार्य शुरु किया। 1949 में आरती ने अखिल भारतीय रिकार्ड सहित राज्यस्तरीय तैराकी प्रतियोगिताओं को जीता। उन्होंने 1952 में हेलसिंकी ओलंपिक में भी भाग लिया था।

18-Jul-1861 - 03-Oct-1923 - कदंबिनी ने अपनी शिक्षा बंगा महिला विद्यालय में शुरू की और 1878 में बेथुइन स्कूल (बेथ्यून द्वारा स्थापित) में कलकत्ता प्रवेश परीक्षा में प्रवेश करने वाली पहली महिला बनी थी। यही नहीं भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में सबसे पहले भाषण देने वाली महिला का गौरव भी कादम्बिनी गांगुली को ही प्राप्त है।

20-Oct-1930 - 06-May-2017 - यह भारत की पहली ऐसी महिला है, जो उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायधीश बनी थी। इन्होने लंदन परीक्षा में शीर्ष स्थान प्राप्त किया था, तथा यह कारनामा करने वाली पहली भारतीय महिला थी। लीला सेठ राजन पिल्लै केस के जांच आयोग की सदस्य भी रह चुकी थीं। वे 2000 तक विधि आयोग में रहीं और ‘हिंदू सक्सेशन एक्ट' में संशोधन का श्रेय भी उन्हीं को जाता है।

16-Nov-1930 - 11-Jun-1997 - मिहिर सेन भारत के प्रसिद्ध लम्बी दूरी के तैराक थे। मिहिर सेन का जन्म 16 नवम्बर 1930 को पश्चिम बंगाल के पु़रुलिया नामक स्थान पर हुआ था। इनके पिता का नाम डॉ. रमेश सेन गुप्ता तथा माता का नाम लीलावती था। मिहिर सेन अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद इंग्लैंड अपनी वकालत की तैयारी के लिए गए। मिहिर सेन कलकत्ता हाईकोर्ट में बैरिस्टर थे, लेकिन उन्हें इंग्लिश चैनल को पार करने वाले पहले भारतीय के रूप में जाना जाता है।

29-Jul-1904 - 29-Nov-1993 - जे.आर.डी. टाटा भारत के अग्रणी उद्योगपति थे। इनका पूरा नाम जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा था। वे दशको तक टाटा ग्रुप के निर्देशक रहे और इस्पात, इंजीनीयरींग, होट्ल, वायुयान और अन्य उद्योगो का भारत मे विकास किया। 10 फरवरी 1929 को उन्हें भारत में जारी किया गया पहला पायलट लाइसेंस प्राप्त हुआ था। वे भारत के पहले लाइसेंसधारी पायलट थे और उन्होंने उन्होंने साल 1948 में एयर इंडिया की स्थापना की थी।

14-Dec-1946 - 23-Jun-1980 - संजय गांधी भारत के एक राजनेता थे। वे भारत की सबसे प्रभावी व्यक्तित्व वाली प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी और फ़िरोज़ गाँधी के पुत्र थे। भारतीय राजनीति में संजय गाँधी का नाम एक ऐसे युवा नेता के रूप में दर्ज है जिसकी वजह से देश की राजनीति में कई बड़े परिवर्तन हुए थे। भारत में आपातकाल के समय उनकी भूमिका बहुत विवादास्पद रही थी।

25-Dec-1972 - 25-Dec-1996 - फ्लाइट लेफ्टिनेंट हरिता कौर देओल एक भारतीय महिला पायलट थी। हरिता देओल भारतीय वायु सेना में कार्यरत थीं। वह भारतीय वायु सेना में अकेले उड़ान भरने वाली देश की पहली महिला विमानचालक (पायलट) थीं।

31-Dec-1926 - 20-Oct-2015 - प्रसिद्ध सागर वैज्ञानिक डॉ. सैयद जहूर कासिम ‘प्रथम गंगोत्री अभियान' के नाम से प्रसिद्ध अन्टार्कटिक अभियान दल के नेता थे। इस अभियान दल के सदस्यों की संख्या 21 थी। ये भारत की सात भिन्न-भिन्न वैज्ञानिक संस्थाओं से थे। भारत के पास अपना बर्फ-भंजक जलयान ना होने के कारण इस दल को अपनी यात्रा के लिए नोर्वे के एक विशेष जलयान ‘एम.वी. पोलर सर्किल' का उपयोग करना पड़ा था। ये दल 11,000 कि. मी. की दूरी तय करके 09 जनवरी 1982 को मध्य रात्रि के 30 मिनट बाद अन्टार्कटिक जा पहुँचा था।

01-Jun-1842 - 09-Jan-1923 - सत्येन्द्र नाथ टैगोर इंडियन सिविल सर्विस (आईसीएस) की परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले प्रथम भारतीय थे। वह एक लेखक भी थे। सत्येन्द्र नाथ टैगोर का जन्म 01 जून 1842 को कलकत्ता में हुआ था। उनके पिता देवेन्द्रनाथ टैगोर और माता शारदा देवी थीं। उन्होंने घर पर ही संस्कृत और अंग्रेजी सीखी। वह 1857 में कलकत्ता विश्वविद्यालय के प्रवेश परीक्षाओं में उपस्थित होने वाले छात्रों के पहले बैच का हिस्सा थे।

13-Jan-1949 - राकेश शर्मा भारत के प्रथम अंतरिक्ष यात्री हैं। 02 अप्रैल, 1984 में उन्हें अंतरिक्ष यान में उड़ने और पृथ्वी का चक्कर लगाने का अवसर मिला था। वर्ष 1984 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन और सोवियत संघ के इंटरकॉसमॉस कार्यक्रम के एक संयुक्त अंतरिक्ष अभियान के अंतर्गत स्क्वाड्रन लीडर राकेश शर्मा आठ दिन तक अंतरिक्ष में रहे। वह 03 अप्रैल से 11 अप्रैल 1984 तक अंतरिक्ष में रहे थे।

28-Jan-1899 - 15-May-1993 - फील्ड मार्शल के. एम. करिअप्पा भारत के प्रथम सेनाध्यक्ष थे। उनका पूरा नाम कोडंडेरा मडप्पा करिअप्पा था। करिअप्पा का जन्म 28 जनवरी, 1899 में कर्नाटक के कोडागु (कुर्ग) में शनिवर्सांथि नामक स्थान पर हुआ था। उन्होंने साल 1947 में हुए भारत-पाक युद्ध में पश्चिमी सीमा पर भारतीय सेना का नेतृत्व किया। वे भारतीय सेना के उन दो अधिकारियों में शामिल हैं जिन्हें फील्ड मार्शल की पदवी दी गयी थी। इसके बाद से ही 15 जनवरी ‘सेना दिवस' के रूप में मनाया जाता है। सन 1953 में फील्ड मार्शल करिअप्पा भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हो गए। 15 मई 1993 में 94 वर्ष की आयु में के. एम. करियप्पा का निधन हो गया।

09-Mar-1934 - 27-Mar-1968 - यूरी गागरीन भूतपूर्व सोवियत संघ के विमान चालक और अंतरिक्षयात्री थे। अंतरिक्ष में जाने वाले यह प्रथम मानव थे। यह अन्तरिक्ष की यात्रा करने के बाद गगारिन अंतर्राष्ट्रीय सेलेब्रिटी बन चुके थे और उन्हें कई तरह के पदक और खिताबों से सम्मानित किया गया था। इन्होने Vostok 1 नामक अन्तरिक्ष यान में अपनी यात्रा की थी।

03-Jan-1831 - 10-Mar-1897 - सावित्रीबाई फुले भारत की प्रथम महिला शिक्षिका, समाज सुधारिका एवं मराठी कवयित्री थीं। उन्होंने अपने पति ज्योतिराव गोविंदराव फुले के साथ मिलकर स्त्रियों के अधिकारों के लिए बहुत से कार्य किए। सावित्रीबाई भारत के प्रथम कन्या विद्यालय में प्रथम महिला शिक्षिका थीं।

--1914 - 15-Mar-2008 - सरला ठकराल विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला थी। सरला ठकराल ने वर्ष 1936 में 21 वर्ष की आयु में एक विमानन लाइसेंस अर्जित करके एक जिप्सी मोठ को अकेले उड़ाया था। प्रारंभिक लाइसेंस प्राप्त करने के बाद, उन्होंने लाहौर फ्लाइंग क्लब के स्वामित्व वाले विमान में एक हज़ार घंटे की उड़ान भर कर रखी और पूरा किया।

17-Mar-1962 - 01-Feb-2003 - कल्पना चावला भारतीय-अमेरिकी अन्तरिक्ष यात्री और अंतरिक्ष शटल मिशन की विशेषज्ञ थी। इनका जन्म भारतीय राज्य हरियाणा के करनाल में हुआ था। यह भारत की पहली ऐसी महिला थी, जिन्होंनें अन्तरिक्ष में उड़ान भरी थी। यह भारत की ऐसी महिला थी, जिनके हौसलें बुलंद और इरादे नेक थे। इन्होनें अपने बचपन से ही अन्तरिक्ष में उड़ान भरने के सपने देखे थे, जिसे इन्होनें बाद में पूरा कर एक इतिहास रच दिया और भारत की पहली ऐसी महिला बन गई जिसने अन्तरिक्ष में उड़ान भरी थी।

18-Mar-1914 - 11-Dec-1988 - महाराज श्री नागेंद्र सिंह एक भारतीय वकील और प्रशासक थे। वे भारत के उन तीन न्यायाधीशों में से एक थे, जो हेग में स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के अध्यक्ष पद पर रह चुके है। भारत के 18वें मुख्य न्यायाधीश आर. एस. पाठक और सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश दलवीर भंडारी अन्य दो व्यक्ति है जो इस पद पर रह चुके है।

OTHER SUB-CATEGORIES

📁   शासक