भारत पर ब्रिटिश शासन का आर्थिक प्रभाव से सम्बंधित प्रश्न और उत्तर

✅ Published on January 4th, 2017 in इतिहास, भारतीय रेलवे, सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

भारत पर ब्रिटिश शासन का आर्थिक प्रभाव से सम्बंधित प्रश्न और उत्तर: (Economic Impacts of British Rule over India Quiz in Hindi)

भारतीय अर्थव्यवस्था पर ब्रिटिश शासन का आर्थिक प्रभाव का वर्णन निम्नानुसार है:—

आधुनिक उद्योगों का विकास:

19 वीं शताब्दी में भारत में बड़े पैमाने पर आधुनिक उद्योगों की स्थापना की गई , जिसके फलस्वरूप देश में मशीनी युग प्रारम्भ हुआ ।भारत में पहली सूती वस्त्र मिल 1853 में कावसजी नानाभाई ने बम्बई में स्थापित की और पहली जूट मिल 1855 में रिशरा में स्थापित किया गया ।आधुनिक उद्योगों का विकास मुख्यतः विदेशियों के द्वारा किया गया ।

विदेशियों का भारत में निवेश करने के मुख्य कारण थे:

  • भारत में सस्ते श्रम की उपलब्धता।
  • कच्चे एवम तैयार माल की उपलब्धता।
  • भारत एवम उनके पडोसी देशों में बाजार की उपलब्धता।
  • पूंजी निवेश की अनुकूल दशाएं।
  • नौकरशाहियों के द्वारा उद्योगपतियों को समर्थन देने की दृढ इच्छाशक्ति।
  • कुछ वस्तुओं के आयत के लाभप्रद अवसर।

आर्थिक निकास:

भारतीय उत्पाद का वह हिस्सा , जो जनता के उपभोग के लिए उपलब्ध नहीं था तथा राजनितिक कारणों से जिसका प्रवाह इंग्लैंड की ओर हो रहा था ,जिसके बदले में भारत को कुछ भी प्राप्त नहीं होता था ,उसे ही आर्थिक निकास कहा गया ।दादा भाई नौरोजी ने सर्वप्रथम अपनी पुस्तक ‘पावर्टी एंड अनब्रिटिश रूल इन इंडिया’ में आर्थिक निकास की अवधारणा प्रस्तुत की ।

आर्थिक निकास के तत्व:

  • अंग्रेज प्रशासनिक एवं सैनिक अधिकारियों के वेतन ।
  • भारत के द्वारा विदेशों से लिए गए ऋण का ब्याज।
  • नागरिक एवं सैन्य विभाग के लिए विदेशों से खरीदी गई वस्तुएं।
  • नौवहन कंपनियों को की गई अदायगी तथा विदेशी बैंकों तथा बिमा कंपनियों को दिया गया धन।
  • गृह व्यय तथा ईस्ट इंडिया कंपनी के भागीदारों का लाभांश।


भारत पर ब्रिटिश शासन का आर्थिक प्रभाव से सम्बंधित प्रश्न और उत्तर:

प्रश्न: भारत में चाय को छोड़कर शेष सभी वस्तुओं के व्यापार के द्धार ब्रिटिश जनता के लिए कब खोल दिए?
उत्तर: 1813 ई०
प्रश्न: ब्रिटिश शासन में भारत की कुल कृषि भूमि के केवल 11 प्रतिशत में ही अच्छे बीज का प्रयोग कब तक किया जाता था?
उत्तर: 1938-39
प्रश्न: ब्रिटिश भारत में केवल 6 कृषि विद्यालय कब तक थे?
उत्तर: 1939
प्रश्न: सबसे पहले भारत में कारख़ाना मजदूरों की हालात सुधरने के लिए कब कानून बनाए गए?
उत्तर: 1881
प्रश्न: स्थायी बन्दोबस्त कब लागू किया गया?
उत्तर: 1793
प्रश्न: बंगाल की लगभग आधी भू-सम्पति पुराने ज़मीदारों के हाथ से निकलकर सौदागरों तथा अन्य धनी वर्ग के पास कब तक जा चुकी थी?
उत्तर: 1815
प्रश्न: पहली सूती कपडा मील की स्थापना कब हुई?
उत्तर: 1853
प्रश्न: पहली जूट (पटसन) मील की स्थापना कब हुई?
उत्तर: 1855
प्रश्न: देश में 40 जूट मिले कब तक लग चुकी थी?
उत्तर: 1901
प्रश्न: भारत में 206 सूती कपड़ा मिले कब तक स्थापित हो चुकी थी?
उत्तर: 1906
प्रश्न: भारत में कोयला खान उद्योग कब आरम्भ हुआ?
उत्तर: 18वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में
प्रश्न: लगभग एक लाख व्यक्ति कोयला उधोग में कब काम कर रहे थे?
उत्तर: 1906
प्रश्न: सबसे पहली आधुनिक कागज मिल भारत में कब स्थापित हुई?
उत्तर: 1870
प्रश्न: भारत में कब तक केवल 7 इंजीनियरिंग कालेज थे?
उत्तर: 1739
प्रश्न: आधुनिक ढंग का लौह-इस्पात सबसे पहले भारत में कब स्थापित हुआ?
उत्तर: 1873
प्रश्न: टाटा आयरन एण्ड स्टील कम्पनी कब बनी?
उत्तर: 1907
प्रश्न: टाटा आयरन एण्ड स्टील कम्पनी में कब इस्पात बनना शुरू हुआ?
उत्तर: 1913
प्रश्न: हीरापुर (बंगाल) में लौह-इस्पात कारखाना कब स्थापित हुआ?
उत्तर: 1918
प्रश्न: भद्रावती (कर्नाटक) में लौह-इस्पात कारखाना कब स्थापित हुआ?
उत्तर: 1923
प्रश्न: भारत (असम, हिमाचल और दक्षिण भारत) में चाय, काफी आदि बागान उधोग का`विकास कब हुआ?
उत्तर: 1850
प्रश्न: ब्रिटिश शासन काल में पश्चिमी उत्तर भारत में पहला भयंकर काल कब पड़ा?
उत्तर: 1860-61
प्रश्न: ब्रिटिश शासन काल में आकाल से 30 लाख व्यक्ति कब मरे?
उत्तर: 1943


You just read: Bharat Par British Shaasan Ka Aarthik Prabhaav Se Sambandhit Prashn Aur Uttar
Previous « Next »

❇ सामान्य ज्ञान अध्ययन से संबंधित विषय

दिल्ली पुलिस के आयुक्त एवं इतिहास यूनेस्को द्वारा घोषित भारत के विश्व धरोहर स्‍थल के नाम नाटो का इतिहास, उद्देश्य एवं अन्य सदस्य देश विश्व के प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं/संगठन और उनके मुख्यालय विश्व के प्रमुख देश और उनके पुराने नाम द्वितीय विश्‍व युद्ध के कारण, परिणाम प्रथम विश्‍व युद्ध होने के कारण, परिणाम मिस यूनिवर्स विजेता की सूची (वर्ष 1952 से 2021 तक) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का इतिहास, कार्यक्रम, उद्देश्य व प्रमुख केंद्र भारतीय ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष की सूची (वर्ष 1927 से 2021 तक)