द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेताओं की सूची (वर्ष 1985 से 2022 तक)

द्रोणाचार्य पुरस्कार के बारे में जानकारी: (1985-2022)

द्रोणाचार्य पुरस्कार युवा मामलों और खेल मंत्रालय द्वारा प्रतिवर्ष दिया जाने वाला एक खेल कोचिंग पुरस्कार है। यह सम्मान हर साल ऐसे जानेमाने कोचों (प्रशिक्षकों) को दिया जाता है, जिन्होंने सफलतापूर्वक खिलाडिय़ों या टीमों को प्रशिक्षित किया, जिसकी वजह से उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाओं में बेहतरीन सफलता हासिल की है।

द्रोणाचार्य पुरस्कारों के बारे में संक्षिप्त जानकारी:

पुरस्कार का वर्ग खेल
स्थापना वर्ष 1985
पुरस्कार राशि 15 लाख (यूएस $ 21900)
कुल विजेता 153 (2022 तक)
प्रथम विजेता भलाचंद्र भास्कर भागवत, ओम प्रकाश भारद्वाज, ओ. एम. नाम्बियार (1985)
आखिरी विजेता (2022) राज सिंह, जीवनजोत सिंह तेजा, मोहम्मद अली कमर, सुमा सिद्धार्थ शिरूर, सुजीत मान, दिनेश जवाहर लाड, बिमल प्रफुल्ल घोष

द्रोणाचार्य पुरस्कार का इतिहास:

द्रोणाचार्य पुरस्कार की स्थापना वर्ष 1985 में की गई थी। यह पुरस्कार गुरु द्रोण के नाम पर रखा गया है, जिसे अक्सर "द्रोणाचार्य" या "गुरु द्रोण" कहा जाता है, जो कि प्राचीन भारत के संस्कृत महाकाव्य महाभारत का एक पात्र है। वह उन्नत सैन्य युद्ध के स्वामी थे और कौरव और पांडव राजकुमारों को सैन्य कला और एस्ट्रस (दिव्य शस्त्र) में उनके प्रशिक्षण के लिए शाही राजनेता के रूप में नियुक्त किया गया था। इस पुरस्कार के पहले प्राप्तकर्ता भालचंद्र भास्कर भागवत (कुश्ती), ओम प्रकाश भारद्वाज (मुक्केबाजी), और ओ एम. नांबियार (एथलेटिक्स) थे, जिन्हें 1985 में सम्मानित किया गया था। आमतौर पर हर साल अधिकतम 5 प्रशिक्षकों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है।

द्रोणाचार्य पुरस्कार में मिलने वाली राशि:

भारत सरकार के द्वारा पहले राजीव गाँधी खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड सहित देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कारों में दी जाने वाली पुरस्कार राशि 5 लाख रुपए थी। लेकिन भारत सरकार द्वारा 2017 में यह राशि 5 लाख रुपए से बढ़ाकर 7 लाख 50 हजार रुपए कर दी गई है। द्रोणाचार्य पुरस्कार के तहत अब 07 लाख 50 हजार रुपए नकद, एक कांस्य की प्रतिमा, प्रमाण पत्र और औपचारिक पोशाक प्रदान की जाती है। 

द्रोणाचार्य पुरस्कार 2022 विजेता:

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नेशनल स्पोर्ट्स अवॉर्ड 2022 के दौरान कोच राज सिंह, जीवनजोत सिंह तेजा, मोहम्मद अली कमर, सुमा सिद्धार्थ शिरूर, सुजीत मान, दिनेश जवाहर लाड, बिमल प्रफुल्ल घोष को अपने खेलों में खिलाडिय़ों को तैयार करने और उनके अभूतपूर्ण योगदान के लिए द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए चुना गया है।

वर्ष 1985 से 2022 तक द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेताओं की सूची:

वर्ष सम्मानित प्रशिक्षकों के नाम सम्बंधित खेल
1985 भलाचंद्र भास्कर भागवत रेसलिंग
1985 ओम प्रकाश भारद्वाज मुक्केबाज
1985 ओ. एम. नाम्बियार एथलेटिक्स
1986 देश प्रेम आज़ाद क्रिकेट
1986 रघुनंदन वसन्त गोखले चेस
1987 गुरू हनुमान रेसलिंग
1987 गुरचरण सिंह क्रिकेट
1988 कोई पुरस्कार नहीं
1989
1990 रमाकान्त अचरेकर क्रिकेट
1990 सय्यद नईमुद्दीन फुटबॉल
1990 ए. रमाणा राव वॉलीबॉल
1991 कोई पुरस्कार नहीं
1992 कोई पुरस्कार नहीं
1993 कोई पुरस्कार नहीं
1994 इलियास बाबर एथलीट
1995 श्याम सुंदर राव वॉलीबॉल
1995 करण सिंह एथलीट
1996 विल्सन जोन्स बिलियर्ड और स्नूकर
1996 पाल सिंह संधू वेट लिफ्टिंग
1997 जोगिंदर सिंह सैनी एथलीट
1998 जी. एस. संधू मुक्केबाजी
1998 हरगोबिन्द सिंह संधू एथलीट
1998 बहादुर सिंह चौहान एथलीट
1999 केनेथ ओवन बोसेन एथलीट
1999 हवा सिंह मुक्केबाजी
1999 अजय कुमार सिरोही वेटलिफ्टिंग
2000 एस एम आरिफ बैडमिंटन
2000 गुड़ियाल सिंह भंगू हॉकी
2000 भूपेंद्र धवन पॉवरलिफ्टिंग
2000 गोपाल पुरुषोत्तम फड़के खो खो
2000 हंसा शर्मा वेटलिफ्टिंग
2001 माइकल फेरेरिया बिलियर्ड और स्नूकर
2001 सनी थॉमस निशानेबाज
2002 महाराज कृष्ण कौशिक हॉकी
2002 रेणू कोहली एथलीट
2002 होमी मोतीवाला याचिंग
2002 ई. प्रसाद राव कबड्डी
2002 जसवंत सिंह एथलीट
2003 सुखचैन चीमा रेसलिंग
2003 रॉबर्ट बॉबी जॉर्ज एथलीट
2003 अनूल कुमार बॉक्सिंग
2003 राजिंदर सिंह जूनियर हॉकी
2004 सीरस पोंछा स्कॉश
2004 अरविन्द सवुर बिलियर्ड और स्नूकर
2004 सुनीता शर्मा क्रिकेट
2005 इस्माइल बैग रोइंग
2005 महा सिंह राव रेसलिंग
2005 बलवान सिंह कबड्डी
2005 एम. वेणु मुक्केबाज
2006 कोनेरू अशोक चेस
2006 दामोदरन चंद्रलाल मुक्केबाजी
2006 आर. डी. सिंह एथलेटिक्स
2007 जगदीश सिंह मुक्केबाजी
2007 जगमिंदर सिंह रेसलिंग
2007 संजीव कुमार सिंह आर्चरी
2007 जी. ई. श्रीधरन वॉलीबॉल
2008 कोई पुरस्कार नहीं
2009 जयदेव बिष्ट मुक्केबाजी
2009 पुलेला गोपीचंद बैडमिन्टन
2009 एस. बलदेव सिंह हॉकी
2009 सतपाल सिंह रेसलिंग
2010 सुभाष अग्रवाल बिलियार्ड्स और स्नूकर
2010 अजय कुमार बंसल हॉकी
2010 कप्तान चांदरूप रेसलिंग
2010 एके कुट्टी एथलेटिक्स
2010 ल. इबोमचा सिंह मुक्केबाजी
2011 देवेंदर कुमार राठौड़ जिम्नास्टिक
2011 कुंतल कुमार रॉय एथलेटिक्स
2011 रामफल रेसलिंग
2011 इनुकरथु वेंकटेश्वर रॉय मुक्केबाजी
2011 राजिंदर सिंह जूनियर हॉकी
2012 जसविंदर सिंह भाटिया एथलेटिक्स
2012 सुनील दबास कबड्डी
2012 बीआई फर्नांडेज मुक्केबाजी
2012 भवानी मुख़र्जी टेबल टेनिस
2012 वीरेंदर पूनिया एथलेटिक्स
2012 सत्यपाल सिंह एथलेटिक्सखंड-चिह्न
2012 हरेंद्र सिंह हॉकी
2012 यशवीर सिंह रेसलिंग
2013 पूर्णिमा महतो आर्चरी
2013 नरेंदर सिंह सैनी हॉकी
2013 महावीर सिंह मुक्केबाजी
2013 राज सिंह रेसलिंग
2013 केपी थॉमस एथलेटिक्स
2014 गुरचरण गोगी जुडो
2014 जोस जैकब रोइंग
2014 एन. लिंगप्पा एथलेटिक्स
2014 गणपति मनोहरण मुक्केबाजी
2014 महाबीर प्रसाद रेसलिंग
2015 निहार अमीन तैराकी
2015 अनूप सिंह रेसलिंग
2015 हरबंस सिंह एथलेटिक्स
2015 नवल सिंह एथलेटिक्सखंड-चिह्न
2015 स्वतंत्र राज सिंह मुक्केबाजी
2016 सागर मल धायल मुक्केबाजी
2016 एस. प्रदीप कुमार तैराकी
2016 बिश्वेश्वर नंदी जिम्नास्टिक
2016 महावीर सिंह फोगाट रेसलिंग
2016 नागपुरी रमेश एथलेटिक्स
2016 राजकुमार शर्मा क्रिकेट
2017 आर. गाँधी एथलेटिक्स
2017 हीरा नन्द कटारिया कबड्डी
2017 जी. एस. एस. वी. प्रसाद बैडमिंटन
2017 ब्रिज भूषण मुक्केबाजी
2017 पी. ए. राफेल हॉकी
2017 संजोय चक्रवर्ती शूटिंग
2017 रोशन लाल रेसलिंग
2018 सुबेदार चेनंदा अचैया कुट्टप्पा मुक्केबाज़ी
2018 विजय शर्मा भारोत्तोलन
2018 ए. श्रीनिवास राव टेबल टेनिस
2018 सुखदेव सिंह पन्नू एथलेटिक्स
2018 क्लैरेंस लोबो हॉकी (लाइफ टाइम)
2018 तारक सिन्हा क्रिकेट (लाईफटाइम)
2018 जीवन कुमार शर्मा जुडो (लाईफटाइम)
2018 वी.आर. बीडु एथलेटिक्स (लाईफटाइम)
2019 मर्जबान पटेल हॉकी (लाइफ टाइम)
2019 रामवीर सिंह खोखर कबड्डी (लाइफ टाइम)
2019 संजय भारद्वाज क्रिकेट (लाईफटाइम)
2019 विमल कुमार बैडमिंटन
2019 संदीप गुप्ता टेबल टेनिस
2019 मोहिंदर सिंह ढिल्लन एथलेटिक्स
2020 धर्मेंद्र तिवारी तीरंदाजी (लाईफटाइम)
2020 पुरुषोत्तम राय एथलेटिक्स (लाईफटाइम)
2020 शिव सिंह मुक्केबाजी (लाईफटाइम)
2020 रोमेश पठानिया हॉकी (लाईफटाइम)
2020 कृष्ण कुमार हुड्डा कबड्डी (लाईफटाइम)
2020 विजय भालचंद्र मुनीश्वर पैरा पावरलिफ्टिंग (लाईफटाइम)
2020 नरेश कुमार टेनिस (लाईफटाइम)
2020 ओम प्रकाश दहिया कुश्ती (लाईफटाइम)
2020 जूड फेलिक्स सेबेस्टियन हॉकी
2020 योगेश मालवीय मल्लखंब
2020 जसपाल राणा निशानेबाजी
2020 कुलदीप कुमार हांडू वुशु
2020 जूड फेलिक्स सेबेस्टियन हॉकी
2020 योगेश मालवीय मल्लखंब
2020 जसपाल राणा निशानेबाजी
2020 कुलदीप कुमार हांडू वुशु
2020 गौरव खन्ना बैडमिंटन
2021 टी. पी. औसेफ एथलेटिक्स
2021 सरकार तलवार क्रिकेट
2021 सरपाल सिंह हॉकी
2021 आशान कुमार कबड्डी
2021 तपन कुमार पाणिग्रही तैराकी
2022 राज सिंह रेसलिंग
2022 जीवनजोत सिंह तेजा तीरंदाजी
2022 सुमा सिद्धार्थ शिरूर पैरा शूटिंग
2022 मुहम्मद अली कमर मुक्केबाजी
2022 सुजीत मान कुश्ती
2022 दिनेश जवाहर लाड क्रिकेट
2022 बिमल प्रफुल्ल घोष फुटबॉल

इन्हें भी पढ़ें: राष्‍ट्रीय खेल पुरस्‍कार 2022 के विजेताओं की सूची

प्रश्नोत्तर (FAQs):

𝒜. वर्ष 1985 में भलाचंद्र भास्कर भागवत जी को रेसलिंग खेल में प्रशिक्षक के लिए द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

𝒜. द्रोणाचार्य पुरस्कार खेल के मैदान में उत्कृष्ट शिक्षकों को दिया जाता है। प्राप्तकर्ताओं का चयन मंत्रालय द्वारा गठित एक समिति द्वारा किया जाता है और चार साल की अवधि में "एक सुसंगत आधार पर उत्कृष्ट और मेहनती काम और सक्षम खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय घटनाओं में उत्कृष्टता" करने के लिए सम्मानित किया गया है। दो पुरस्कार को कोचिंग में जीवन भर के योगदान के लिए नामित किया गया है।

𝒜. द्रोणाचार्य पुरस्कार की स्थापना वर्ष 1985 में की गई थी, और जब से यह पुरस्कार केवल ओलम्पिक खेल, पैरालिंपिक खेलों, एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेलों, विश्व चैम्पियनशिप और विश्व कप और क्रिकेट, स्वदेशी खेलों और पारसपोर्ट जैसी घटनाओं में शामिल विषयों को दिया जाता है।

𝒜. भारत सरकार द्वारा 2017 में द्रोणाचार्य पुरस्कार की राशि 5 लाख रुपए से बढ़ाकर 7 लाख 50 हजार रुपए कर दी गई है। द्रोणाचार्य पुरस्कार के तहत अब 07 लाख 50 हजार रुपए नकद, एक कांस्य की प्रतिमा, प्रमाण पत्र और औपचारिक पोशाक प्रदान की जाती है।

𝒜. आमतौर पर प्रतिवर्ष 5 प्रशिक्षकों को द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। कुछ अपवाद (2012,2016,2017,2019) किए गए हैं जब एक वर्ष में अधिक प्राप्तकर्ताओं को सम्मानित किया गया था।

𝒜. भलाचंद्र भास्कर भागवत जी

𝒜. वर्ष 1985 में ओम प्रकाश भारद्वाज ने मुक्केबाजी के खेल में द्रोणाचार्य पुरस्कार जीता था। ओम प्रकाश भारद्वाज चेन्नई, भारत के एक बॉक्सिंग कोच थे। 1985 में, उन्हें खेल और एथलेटिक्स की कोचिंग के क्षेत्र में भारत के सर्वोच्च पुरस्कार द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया। ह मुक्केबाजी के लिए भारत के पहले द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता कोच हैं।

𝒜. विल्सन जोन्स को द्रोणाचार्य पुरस्कार से वर्ष 1996 मे सम्मानित किया गया। विल्सन जोन्स भारत के पेशेवर बिलियर्ड्स खिलाड़ी थे। आजादी के 11वें साल भारत को पहली बार विश्व चैंपियन बनाने का कारनामा विल्सन जोन्स ने किया था। दो बार विश्व चैंपियन रहे जोन्स 12 बार बिलियर्डस और पांच बार स्नूकर के नेशनल चैंपियन रहे।

𝒜. द्रोणाचार्य पुरस्कार की स्थापना वर्ष 1985 में की गई थी, और जब से यह पुरस्कार केवल ओलम्पिक खेल, पैरालिंपिक खेलों, एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेलों, विश्व चैम्पियनशिप और विश्व कप और क्रिकेट, स्वदेशी खेलों और पारसपोर्ट जैसी घटनाओं में शामिल विषयों को दिया जाता है।

𝒜. खेल के क्षेत्र में जैसे ओलम्पिक खेल, पैरालिंपिक खेलों, एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेलों, विश्व चैम्पियनशिप और विश्व कप और क्रिकेट, स्वदेशी खेलों उत्क्रष्ट खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने वाले प्रशिक्षकों को द्रोणाचार्य पुरस्कार दिया जाता है।

𝒜. खेल के क्षेत्र में जैसे ओलम्पिक खेल, पैरालिंपिक खेलों, एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेलों, विश्व चैम्पियनशिप और विश्व कप और क्रिकेट, स्वदेशी खेलों उत्क्रष्ट खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने वाले प्रशिक्षकों को द्रोणाचार्य पुरस्कार दिया जाता है।

𝒜. भारत सरकार द्वारा 2017 में द्रोणाचार्य पुरस्कार की राशि 5 लाख रुपए से बढ़ाकर 7 लाख 50 हजार रुपए कर दी गई है। द्रोणाचार्य पुरस्कार के तहत अब 07 लाख 50 हजार रुपए नकद, एक कांस्य की प्रतिमा, प्रमाण पत्र और औपचारिक पोशाक प्रदान की जाती है।

𝒜. आमतौर पर प्रतिवर्ष 5 प्रशिक्षकों को द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। कुछ अपवाद (2012,2016,2017,2019) किए गए हैं जब एक वर्ष में अधिक प्राप्तकर्ताओं को सम्मानित किया गया था।

𝒜. भलाचंद्र भास्कर भागवत जी

  Last update :  2022-12-02 10:28:28
  Download :  PDF
  Post Views :  19129