आंग सान सून की का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

✅ Published on September 26th, 2017 in पुरस्कारों के प्रथम प्राप्तकर्ता, प्रसिद्ध व्यक्ति

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे आंग सान सून की (Aung San Suu Kyi) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए आंग सान सून की से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Aung San Suu Kyi Biography and Interesting Facts in Hindi.

आंग सान सून की के बारे में संक्षिप्त जानकारी

नामआंग सान सून की (Aung San Suu Kyi)
जन्म की तारीख19 जून 1945
जन्म स्थानम्यांमार (बर्मा)
माता व पिता का नामखिन कई / आंग सान
उपलब्धि1992 - साइमन बोलिवर पुरस्कार से सम्मानित प्रथम महिला
पेशा / देशपुरुष / राजनीतिज्ञ / म्यांमार

आंग सान सून की (Aung San Suu Kyi)

आंग सान सून की एक राजनेता, राजनीतिक और लेखक हैं। वे बर्मा के राष्ट्रपिता आंग सान की पुत्री हैं, जिनकी 1947 में राजनीतिक हत्या हुई थी। सू ची ने बर्मा में लोकतन्त्र की स्थापना के लिए लंबा संघर्ष किया था। वह अब बर्मा के स्टेट काउंसलर हैं और इसकी 20 वीं (और पहली महिला) विन माइंट मंत्रिमंडल में विदेश मंत्री हैं ।

आंग सान सून की का जन्म

आंग सान सून की का जन्म 19 जून 1945 को रंगून, म्यांमार में हुआ था। इनके पिता का नाम आंग सान तथा इनकी माँ का नाम खिन कई है। इनके पिता ने आधुनिक बर्मी सेना की स्थापना की थी इनकी माता ने राजनीती में महान शख्सियत के रूप में प्रसिद्ध हासिल की थी| इनके दो भाई थे जिनका नाम आंग सान लिन और आंग सान ऊ था

आंग सान सून की की शिक्षा

वह बर्मा में अपने बचपन के बहुत से मेथोडिस्ट इंग्लिश हाई स्कूल (अब बेसिक एजुकेशन हाई स्कूल नंबर 1 डगन) में पढ़ी थीं, जहाँ उन्हें भाषा सीखने के लिए एक प्रतिभा के रूप में जाना जाता था। वह चार भाषाएं बोलती है: बर्मी, अंग्रेजी, फ्रेंच और जापानी। वह थेरवाद बौद्ध है।

आंग सान सून की का करियर

स्नातक करने के बाद वह न्यूयॉर्क शहर में परिवार के एक दोस्त के साथ रहते हुए संयुक्त राष्ट्र में तीन साल के लिए काम किया। आंग सान सू की के साथ की। 1960 में इन्हें भारत और नेपाल में बर्मा का राजदूत नियुक्त किया गया था। 1972 में आंग सान सू की ने तिब्बती संस्कृति के एक विद्वान और भूटान में रह रहे डॉ॰ माइकल ऐरिस से शादी की। उन्हें 1990 में सेंट ह्यूज की मानद फैलो के रूप में चुना गया था। दो साल के लिए, वह शिमला, भारत में भारतीय उन्नत अध्ययन संस्थान (IIAS) में फेलो थीं। उन्होंने बर्मा की सरकार के लिए भी काम किया। 1988 में, आंग सान सू की अपनी बीमार मां के लिए सबसे पहले बर्मा लौटीं, लेकिन बाद में लोकतंत्र समर्थक आंदोलन का नेतृत्व किया। क्रिसमस 1995 में अरिस की यात्रा आखिरी बार हुई जब वह और आंग सान सू की मुलाकात हुई, क्योंकि आंग सान सू की बर्मा में रहीं और बर्मी तानाशाही ने उन्हें आगे प्रवेश वीजा से वंचित कर दिया। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने जंटा और आंग सान सू की के बीच बातचीत को आसान बनाने का प्रयास किया है। 6 मई 2002 को, संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व में गुप्त विश्वास-निर्माण वार्ता के बाद, सरकार ने उसे रिहा कर दिया; एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि वह स्थानांतरित करने के लिए स्वतंत्र थी "क्योंकि हमें विश्वास है कि हम एक दूसरे पर भरोसा कर सकते हैं"। आंग सान सू की ने "देश के लिए एक नई सुबह" घोषित किया। कई साल बाद 2006 में, राजनीतिक मामलों के विभाग के संयुक्त राष्ट्र के अंडरसट्रेटरी-जनरल (यूएसजी) इब्राहिम गंबरी ने 2004 के बाद से एक विदेशी अधिकारी की पहली यात्रा थी। आंग सान सू की को यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और उत्तर और दक्षिण अमेरिका के साथ-साथ भारत, इज़राइल, जापान फिलीपींस और दक्षिण कोरिया के पश्चिमी देशों से मुखर समर्थन मिला है। आंग सान सू की अपने निरोध के बाद से अंतर्राष्ट्रीय IDEA और ARTICLE 19 की मानद बोर्ड की सदस्य रही हैं और उन्हें इन संगठनों का समर्थन प्राप्त है।

आंग सान सून की के पुरस्कार और सम्मान

आंग सान सून की को वर्ष 1991 में ‘नोबेल शांति पुरस्कार" प्रदान किया गया था। 1992 में इन्हें अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए भारत सरकार ने ‘जवाहर लाल नेहरू पुरस्कार" से सम्मानित किया है।आंग सान को 1990 में राफोत पुरस्कार और विचारों की स्वतंत्रता के लिए ‘सखारोव पुरस्कार" दिया गया था। दिसंबर 2007 में, अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने आंग सान सू की को कांग्रेस के स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया था 6 मई 2008 को, राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने आंग सान सू की को कांग्रेस के स्वर्ण पदक से सम्मानित करने वाले कानून पर हस्ताक्षर किए। वह अमेरिकी इतिहास में पहली बार प्राप्तकर्ता है जिसे कैद करते हुए पुरस्कार प्राप्त किया गया। बेल्जियम में स्थित व्रीजे यूनिवर्सिटिट ब्रसेल और यूनिवर्सिटी ऑफ़ लौवेन (UCLouvain) ने उन्हें डॉक्टर ऑनोरिस कोसा की उपाधि दी। आंग सान सू की नॉर्वे के बर्गन में द रफोटो ह्यूमन राइट्स हाउस की आधिकारिक संरक्षक हैं। उन्हें 1990 में थोरोल्फ रफतो मेमोरियल पुरस्कार मिला। 2010 में, आंग सान सू की को जोहान्सबर्ग विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की मानद उपाधि दी गई। 2011 में, आंग सान सू की को 45 वें ब्राइटन फेस्टिवल का अतिथि निदेशक नामित किया गया था। 2012 में उन्होंने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से डॉक्टर ऑफ सिविल लॉ की मानद उपाधि प्राप्त की। मई 2012 में, आंग सान सू की को ह्यूमन राइट्स फाउंडेशन के क्रिएटिव डिसेंट के लिए उद्घाटन वैक्लेव हवेल पुरस्कार मिला। मोनाश विश्वविद्यालय, द ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी, सिडनी विश्वविद्यालय और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, सिडनी ने नवंबर 2013 में आंग सान सू की को मानद उपाधि प्रदान की।

नीचे दिए गए प्रश्न और उत्तर प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रख कर बनाए गए हैं। यह भाग हमें सुझाव देता है कि सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं। यह प्रश्नोत्तरी एसएससी (SSC), यूपीएससी (UPSC), रेलवे (Railway), बैंकिंग (Banking) तथा अन्य परीक्षाओं में भी लाभदायक है।

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):

प्रश्न: आंग सान सून के पिता की हत्या कब हुई थी?
उत्तर: 1947
प्रश्न: 1960 में भारत और नेपाल में बर्मा का राजदूत किसे नियुक्त किया गया था?
उत्तर: आंग सान सून
प्रश्न: आंग सान सू की ने 1964 में लेडी श्रीराम कॉलेज से किस विषय में स्नातक किया था?
उत्तर: राजनितिक विज्ञान
प्रश्न: वर्ष 1991 में आंग सान सून की को किस पुरस्कार से नवाज़ा गया था?
उत्तर: नोबेल शांति पुरस्कार
प्रश्न: 1992 में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए भारत सरकार ने जवाहर लाल नेहरू पुरस्कार से किसे सम्मानित किया था?
उत्तर: आंग सान सून की

Previous « Next »

❇ प्रसिद्ध व्यक्ति से संबंधित विषय

अर्जन सिंह का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी भीमराव अम्बेडकर का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी नजमा हेपतुल्ला का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी मंगल पांडे का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी मार्गरेट थैचर का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी जयंती पटनायक का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी पण्डित रवि शंकर का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी डिक्की डोल्मा का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी सागरमल गोपा का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी