लालबाग बॉटनिकल गार्डन संक्षिप्त जानकारी

स्थानबैंगलोर शहर, कर्नाटक राज्य (भारत)
निर्माण (किसने बनवाया)हैरद अली
निर्माणकाल1760 ई॰
प्रकारवनस्पति उद्यान
कुल क्षेत्रफल98 एकड़ (0.971246 वर्ग किमी)
खुलने का समयसुबह 6 बजे से शाम 7 बजे तक

लालबाग बॉटनिकल गार्डन का संक्षिप्त विवरण

भारत की सिलिकन वैली कहे जाने वाले बैंगलोर शहर में स्थित लालबाग बोटैनिकल गार्डन भारत के सबसे प्रसिद्ध उद्यानो में से एक है, जिसे सामान्यत: लाल बाग कहा जाता है। यह बाग कर्नाटक के सबसे बड़े बागों में भी सम्मिलित है। हैदर अली द्वारा इस उद्यान का निर्माण कार्य 1760 ई॰ में प्रारम्भ हुआ था। परंतु हैदर अली के पुत्र टीपू सुल्तान के शासनकाल में उद्यान का निर्माण सम्पन्न हुआ था।

लालबाग बॉटनिकल गार्डन का इतिहास

हैदर अली ने 1760 में इस उद्यान के निर्माण कार्य शुरू किया था लेकिन उनके बेटे टीपू सुल्तान ने इसे पूरा करवाया था। हैदर अली इस बाग को मुगल गार्डन का रूप देना चाहता था क्योंकि उस समय मुगल गार्डन बेहद लोकप्रियता हासिल कर रहा था।

इस उद्यान के लिए टीपू सुल्तान ने कई देशों से पेड़-पौधों का आयात करके अपने पिता लिए बागवानी संपदा को जोड़ा था जिसमें उद्यान का प्रबंधन मोहम्मद अली और उनके बेटे अब्दुल खदर ने किया था। 1799 ई॰ में मैसूर पर ब्रिटिश शासकों ने इसे मेजर गिल्बर्ट वॉ ब्रिटिश कंपनी को दे दिया जिसके बाद 1814 ई॰ में इसका नियंत्रण ब्रिटिश सरकार द्वारा हेस्टिंग्स के मार्किस को अपील के साथ मैसूर सरकार को हस्तांतरित कर दिया गया गया। जिसके बाद लालबाग में कई परिवर्तन किए गाए थे।

लालबाग बॉटनिकल गार्डन के रोचक तथ्य

  1. लालबाग लगभग 240 एकड़ जमीन पर फैला हुआ है जिसमें कई हजार पेड़ शामिल हैं।
  2. इस बाग में लगभग 1,000 से अधिक प्रजातियां मौजूद हैं, जिसमें से कई पेड़ सौ साल से अधिक पुराने हैं।
  3. उद्यान हैरद अली द्वारा बनवाए गए टावरों के साथ संलग्न है और पार्क में फारस, अफगानिस्तान और फ्रांस से लाए गए पौधों की कुछ दुर्लभ प्रजातियां हैं जो गार्डन की खूबसूरती को दर्शातीं हैं।
  4. इस पार्क की सिंचाई के लिए एक जटिल जल प्रणाली के साथ यह उद्यान डिजाइन किया गया है, जिसमें लॉन, फूल, कमल के पूल और फव्वारे हैं। अधिकांश सदियों पुराने पेड़ों को आसान पहचान के लिए लेबल किया जाता है।
  5. लालबाग बोटैनिकल गार्डन के चार द्वार हैं जिसमें पश्चिमी द्वार सिदपुरा सर्कल के पास स्थित है, जो पर्यटकों के लिए खुला रहता है और उत्तरी पश्चिमी दीवार क्रुबिएगल रोड से मिलती है जिसका नाम जीएच क्रुम्बेगल के नाम पर रखा गया है, जो अंतिम स्वतंत्रता-पूर्व उद्यान का प्रधान अधिकारी था।
  6. गार्डन में हर साल गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के सप्ताह के दौरान फूलों के शो आयोजित किए जाते हैं, और यह आयोजन लोगों को वनस्पतियों की विविधता के बारे में शिक्षित करने और पौधों के संरक्षण और खेती में सार्वजनिक रुचि विकसित करने के लिए करते हैं।
  7. कर्नाटक सरकार द्वारा हर महीने के दूसरे और चौथे सप्ताह के अंत में लालबाग में "जनपद जैतरे" का आयोजन करती है। जनपद जैतरे एक मेले का रूप होता है। जिसमें कर्नाटक के सभी हिस्सों के लोक नृत्य, संगीत और नाटकों का प्रदर्शन किया जाता है। इस शो में मुख्य रूप से कर्नाटक के सांस्कृतिक लोकगीत, पारंपरिक वेशभूषा और संगीत वाद्ययंत्र को भी दर्शाया जाता है।
  8. लालबाग उद्यान के अंदर एक भूवैज्ञानिक स्मारक भी बगीचों में पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। इस स्मारक को लालबाग पहाड़ी पर भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण द्वारा नामित किया गया था जो 3,000 मिलियन वर्ष पुरानी प्रायद्वीपीय ग्निसिक चट्टानों से बना हुआ है।
  9. लालबाग गार्डन में मैसूर के पूर्व शासक श्री चमराजेंद्र वोडेयार की प्रतिमा और उनके द्वारा 1893 में स्वामी विवेकानंद की शिकागो की प्रसिद्ध यात्रा को भी दर्शाया गया है।
  10. उद्यान के अंदर एक जापानी सजावटी स्मारक भी है, जो जापानी वस्तुशैली को प्रदर्शित करता है।
  11. 1874 ई॰ में, लालबाग का क्षेत्रफल 45 एकड़ (180,000 मी 2) था। परंतु 1889 में, 30 एकड़ जमीन को उद्यान के पूर्वी भाग में जोड़ा गया था। और इसके बाद 1891 ई॰ में 13 एकड़ में रॉक के साथ केम्पेगौडा टॉवर के लिए जोड़ा गया था।
  12. लालबाग में बने ग्लास हाउस की आधारशिला प्रिंस अल्बर्ट विक्टर द्वारा 1889 ई॰ में लंदन के क्रिस्टल पैलेस पर रखी गई थी परंतु इसे जॉन कैमरन के समय में बनाया गया था। और इस ग्लास हाउस यह संरचना 1935 में विस्तारित की गई थी।

  Last update :  Wed 3 Aug 2022
  Post Views :  6840
उत्तराखंड के गंगोत्री मंदिर धाम का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
औरंगाबाद महाराष्ट्र के एलोरा की गुफाएं का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
औरंगाबाद महाराष्ट्र के अजंता की गुफाएं का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
रायसेन मध्य प्रदेश के भीमबेटका गुफ़ाएँ का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
राजपथ नई दिल्ली के मुगल गार्डन का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
हिमाचल प्रदेश के की गोम्पा की मोनेस्ट्री का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
छतरपुर मध्य प्रदेश के खजुराहो स्मारक समूह का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
कैलिफ़ोर्निया संयुक्त राज्य अमेरिका के गोल्डन गेट ब्रिज का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
बीजिंग चीन के चीन की विशाल दीवार का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
लंदन यूनाइटेड किंगडम के टॉवर ब्रिज का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
माआन गोवेर्नोराते जॉर्डन के पेट्रा का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी