विजेन्द्र सिंह का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे विजेन्द्र सिंह (Vijender Singh) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए विजेन्द्र सिंह से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Vijender Singh Biography and Interesting Facts in Hindi.

विजेन्द्र सिंह का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नामविजेन्द्र सिंह (Vijender Singh)
वास्तविक नामविजेंद्र सिंह बेनीवाल
जन्म की तारीख29 अक्टूबर 1985
जन्म स्थानभिवानी, हरियाणा (भारत)
माता व पिता का नामकृष्णा / महिपाल सिंह बेनीवाल
उपलब्धि2008 - ओलम्पिक खेलों में पदक जीतने वाले प्रथम भारतीय मुक्केबाज
पेशा / देशपुरुष / खिलाड़ी / भारत

विजेन्द्र सिंह (Vijender Singh)

विजेन्दर सिंह भारत के एक प्रोफेशनल मुक्केबाज है। इन्होंने साल 2008 में बीजिंग में आयोजित ओलिंपिक खेलों में भारत को 75 किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक दिलाया था। वह बाक्सिंग में ओलंपिक पदक जीतने वाले प्रथम भारतीय बाक्सर है।

विजेंदर सिंह का जन्म 29 अक्टूबर 1985 को हरियाणा के भिवानी से 5 किलोमीटर (3.1 मील) कालूवास गाँव में एक जाट परिवार में हुआ था। वह एक निम्न मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रकते हैं, उनके पिता, महिपाल सिंह बेनीवाल, हरियाणा रोडवेज के साथ एक बस चालक हैं, जबकि उनकी माँ एक गृहिणी हैं। उनके पिता ने विजेंद्र और उनके बड़े भाई मनोज की शिक्षा के लिए, कड़ी महनत करके उन्हें पढ़ाया है।
विजेंद्र ने अपने कुश्ती करियर में कई बार देश का नाम रोशन किया है। उन्होंने साल 2000 में कार्लोस गोंगुरा को 9-4 से हराकर पहला नेशनल गोल्ड मेडल जीता था। वर्ष 2003 में विजेंद्र सिंह ऑल इंडिया यूथ चैंपियन बने थे। विजेंद्र सिंह ने साल 2006 में दोहा एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था। उन्होंने साल 2008 के बीजिंग ओलंपिक में भाग लेने के पूर्व रेलवे की नौकरी छोड़कर हरियाणा पुलिस में इंस्पेक्टर के पद पर जॉइन किया था। 20 अगस्त 2008 को बीजिंग में बॉक्सिंग के सेमीफाइनल में पहुँचने की खुशी में हरियाणा सरकार ने उन्हें डी.एस.पी. बना दिया और उनके लिए 50 लाख रुपये के इनाम की घोषणा की गई थी। जिसके बाद विजेंद्र ने वर्ष 2014 में अक्षय कुमार द्वारा निर्मित फिल्म फग्ली से हिंदी सिनेमा में अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की थी। इस फिल्म की पृष्ठकथा चार दोस्तों के ऊपर आधारित थी। वर्ष 2009 में, "इंटरनेशनल बॉक्सिंग एसोसिएशन" ने उन्हें विजेंद्र मध्यभार (75 किलोग्राम) की श्रेणी में दुनिया में नंबर 1 स्थान दिया था। उन्हें विश्व-स्तरीय मुक्केबाजों को परीक्षण देने के कारण उनके गृहनगर, भिवानी में उन्हें ‘लिटिल क्यूबा" नाम से जाना जाता है।
जुलाई 2009 में, सुशील और मुक्केबाज मैरी कॉम के साथ विजेंदर को राजीव गांधी खेल रत्न अवार्ड से सम्मानित किया गया, जो भारत का सर्वोच्च खेल सम्मान था। यह पहली बार था कि पुरस्कार के लिए तीन खिलाड़ियों को चुना गया था; पुरस्कार चयन समिति ने 2008–09 के चक्र के लिए उनके प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए, उन सभी को पुरस्कार देने का फैसला किया। कोम और विजेंदर पुरस्कार पाने वाले पहले मुक्केबाज थे जिन्होंने 750,000 रुपये की पुरस्कार राशि और प्रशस्ति पत्र दिया। सुशील और विजेन्द्र दोनों को भारतीय खेल और गृह मंत्रालयों द्वारा पद्म श्री पुरस्कार समिति के लिए सिफारिश की गई थी; हालांकि, 2009 के विजेताओं के लिए पद्म पुरस्कार समिति द्वारा सिफारिशें नहीं दिए जाने के बाद उन्हें पुरस्कार से वंचित कर दिया गया। उनके लिए पद्म श्री से इनकार ने केवल कुछ खेलों को बढ़ावा देने के आरोपों के साथ जनता के बीच एक हंगामा खड़ा कर दिया। विजेंद्र ने बाद में हरियाणा पुलिस विभाग में नौकरी कर ली, जिसने उन्हें 14,000 रुपये प्रति माह का भुगतान किया।

📅 Last update : 2021-10-29 00:31:18

🙏 If you liked it, share with friends.