भारतीय वायुसेना के प्रशिक्षण संस्थानों के नाम

✅ Published on April 4th, 2017 in भारत, भारतीय रेलवे, भारतीय सेना, सामान्य ज्ञान अध्ययन

भारतीय वायुसेना के प्रशिक्षण संस्थान: (Indian Air Force Training Institutes and their Venues in Hindi)

भारतीय वायुसेना का इतिहास:

भारतीय वायुसेना (इंडियन एयरफोर्स) भारतीय सशस्त्र सेना का एक अंग है जो वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, एवं वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है। भारतीय वायुसेना का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसकी स्थापना 08 अक्टूबर 1932 को की गयी थी। आजादी (1950 में पूर्ण गणतंत्र घोषित होने) से पूर्व इसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स के नाम से जाना जाता था और 1945 के द्वितीय विश्वयुद्ध में इसने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। आजादी (1950 में पूर्ण गणतंत्र घोषित होने) के पश्च्यात इसमें से “रॉयल” शब्द हटाकर सिर्फ “इंडियन एयरफोर्स” कर दिया गया।

भारत के राष्ट्रपति भारतीय वायु सेना के कमांडर इन चीफ के रूप में कार्य करते है। वायु सेनाध्यक्ष, एयर चीफ मार्शल, एक चार सितारा कमांडर है और वायु सेना का नेतृत्व करते है। भारतीय वायु सेना में किसी भी समय एक से अधिक एयर चीफ मार्शल सेवा में कभी नहीं होते। वर्तमान में लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत भारतीय वायुसेना के अध्यक्ष है।

भारतीय वायुसेना के प्रशिक्षण संस्थानों की सूची:

प्रशिक्षण संस्थान का नाम स्थान
वायुसेना का प्रशासनिक कॉलेज कोयम्बटूर
वायुसेना अकादमी हैदराबाद
वायुसेना का तकनीकी कॉलेज जलाहली
वायुसेना स्कूल साम्ब्रा (बेलगाँव)
विमान अनुदेशक स्कूल ताबरम
वायुसेना स्टेशन बीदर
वायुसेना स्टेशन हकीमपेट
वायुसेना स्टेशन येलहनका
हैलीकॉप्टर प्रशिक्षण स्कूल आवडी
भूतल प्रशिक्षण स्कूल आवडी
भूतल प्रशिक्षण संस्थान वड़ोदरा और बैरकपुर
विमान चलन चिकित्सा संस्थान बंगलुरु
छतरी सैनिक प्रशिक्षण स्कूल आगरा
नौचालन और संकेत स्कूल हैदराबाद
वायु युद्धकला कॉलेज सिकंदराबाद

इन्हें भी पढ़े: भारतीय वायुसेना के अध्‍यक्षों की सूची


You just read: Bhartiya Vaayusena Ke Prashikshan Sansthaanon Ke Naam Aur Unke Sthaan Ki Suchi
Previous « Next »

❇ भारत से संबंधित विषय

विश्व की प्रमुख नदियों के उद्गम एवं संगम स्थल विश्व के प्रमुख देशों के सरकारी दस्तावेज विश्व की प्रमुख नहरें विश्व के प्रमुख देशों के राष्ट्रीय चिन्ह एवं प्रतीक विश्व के प्रमुख देशों की समाचार एजेंसी दूध का सबसे अधिक उत्पादन करने वाले देश विश्व के प्रमुख देश और उनके पुराने नाम नदियों के किनारे बसे प्रमुख शहर द्वितीय विश्‍व युद्ध के कारण, परिणाम प्रथम विश्‍व युद्ध होने के कारण, परिणाम