भारत के संयुक्त सैन्य अभ्यास 2017-2020 | Joint Military Exercises of India Hindi

भारत और विश्व के अन्य देशों के बीच हुए प्रमुख संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास की सूची

भारत के महत्वपूर्ण संयुक्त सैन्य अभ्यास: (List of Important Joint Military Exercises of India in Hindi)

सैन्य अभ्यास या परीक्षण किसे कहते है?

सैन्य परीक्षण का अर्थ: जब सेना वास्तविक युद्ध के हिसाब से युद्ध या परीक्षण रणनीतियों के प्रशिक्षण और खोज में अपने संसाधनों का उपयोग करती है, तो उसे सैन्य परीक्षण कहा जाता है। अन्य शब्दों में कहे तो किसी भी युद्ध में जाने से पहले अपनी-अपनी सेनाओं की ताकत और कमजोरियों पर काम करते उन्हें प्रशिक्षण और चुनौतियों के लिए तैयार करना।

सेना की ताकत के मामले में भारत विश्व के शीर्ष सबसे शक्तिशाली देशों की सूची में 5वे स्थान पर है। हमारे देश के लिए अपनी स्थिति को मजबूत रखना, सभी तीन सैन्य बलों (थल सेना, जल सेना, वायु सेना) में समन्वय बनाए रखना और किसी भी स्थिति के लिए उन्हें प्रशिक्षित करना महत्वपूर्ण है। किसी भी देश के लिए रक्षा अभ्यास बहुत महत्वपूर्ण हैं और यह आतंकवाद से सामना, देश में चल रहे विद्रोह से सामना आदि पर हो रहे संघर्ष के संचालन जैसी कई समस्याओं से निपटने के लिए कारगार साबित होता है। भारत के रिश्ते विदेशी देशों के साथ दिन-प्रतिदिन अच्छे होते जा रहे है और पिछले कुछ वर्षों में भारत ने दुनिया के विभिन्न देशों के साथ कई संयुक्त व बहुपक्षीय सैन्य अभ्यासों में भाग लिया है। यह अध्याय आपको विगत तीन वर्षों में हुए भारत के संयुक्त सैन्य अभ्यास से संबन्धित महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान जानकारी देगा जो कि विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे एसएससी, भारतीय रेलवे, यूपीएससी, पुलिस, यूजीसी और बैंकिंग परीक्षाओं के दृष्टिकोण से भी बहुत महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें: भारतीय इतिहास के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच हुए

भारत के संयुक्त सैन्य अभ्यासों की सूची:

संयुक्त युद्धाभ्यास का नाम महत्वपूर्ण तथ्य
वर्ष 2020
तटीय सुरक्षा अभ्यास “सागर कवच” भारतीय नौसेना द्वारा इंडियन कोस्टगार्ड और केरल की तटीय सुरक्षा में लगे सभी हितधारकों के साथ “सागर कवच” नामक दो दिवसीय तटीय सुरक्षा अभ्यास का किया गया। यह संयुक्त अभ्यास कोच्चि केंद्र की निगरानी में किया गया। सागर कवच तटीय सुरक्षा तंत्र की क्षमता परखने और मानक संचालन प्रक्रियाओं का जायजा लेने के उद्देश्य से किया जाना वाला एक अर्ध-वार्षिक अभ्यास है। केरल, कर्नाटक और लक्षद्वीप के तटीय क्षेत्रों में आयोजित किया जाने वाला यह अभ्यास देश में मौजूदा सुरक्षा स्थिति की पृष्ठभूमि में अहम माना जाता है। इसमें भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक के अलावा, कोस्टल पुलिस, कोस्टल जिला प्रशासन, कोचीन बंदरगाह, मत्स्य विभाग, सीमा शुल्क, समुद्री प्रवर्तन विंग (MEW), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF), इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB), लाइटहाउस विभाग और मछुआरा समुदाय ने भी अभ्यास में भाग लिया।
4th JIMEX 2020JIMEX 4th JIMEX 2020JIMEX भारत और जापान के बीच आयोजित द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास है। यह समुद्री द्विपक्षीय अभ्यास का प्रतीक है। JIMEX 2020 उत्तरी अरब सागर में शुरू हुआ। इस वर्ष के JIMEX ने COVID-19 के कारण नॉन-कॉन्टैक्ट ऑन-सी-ओनली फॉर्मेट के मानदंडों का पालन किया। भारतीय नौसेना द्वारा प्रतिनिधित्व किया गया था: (1) स्वदेश निर्मित चुपके विध्वंसक चेन्नई (2) तेग वर्ग चुपके फ्रिगेट तारकेश (3) फ्लीट टैंकर। जापान नौसेना का प्रतिनिधित्व किया गया था: (1) जेएमएसडीएफ जहाज कागा (2) गाइडेड मिसाइल विध्वंसक, इकाज़ूची (3) कमांडर एस्कॉर्ट फ्लोटिला -2 (4) पी 81 लंबी दूरी के समुद्री गश्ती विमान, अभिन्न हेलीकॉप्टर और लड़ाकू विमान। दोनों देशों की नौसेनाओं ने उच्च स्तर की अंतर-संचालन क्षमता प्रदर्शित की और संयुक्त रूप से परिचालन कौशल का प्रदर्शन किया। उन्होंने समुद्री संचालन के क्षेत्र में विभिन्न उन्नत नौसैनिक अभ्यास किए।
EX इन्द्रधनुष – V 2020 भारतीय वायु सेना (आईएएफ) और रॉयल एयर फोर्स (आरएएफ) ने 24 फरवरी 2020 को वायु सेना स्टेशन हिंडन पर इंद्रधनुष युद्धाभ्यास के पांचवें संस्करण की संयुक्त रूप से शुरुआत की। युद्ध अभ्यास के इस संस्करण में ‘बेस डिफेंस एंड फोर्स प्रोटेक्शन’ पर जोर दिया गया है। आतंकी तत्वों से सैन्य प्रतिष्ठानों को अभी हाल के खतरों को देखते हुए युद्ध अभ्यास का यह विषय बहुत महत्वपूर्ण है। इन्द्रधनुष युद्धाभ्यास भारतीय वायुसेना और रॉयल एयर फोर्स को अपने प्रतिष्ठानों को आतंकी खतरों से निपटने के लिए मान्य रणनीतियों और युक्तियों को साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करता है।
अजेय वारियर-2020 13-26 फरवरी, 2020 के मध्य भारत एवं यू.के. की सेनाओं के मध्य संयुक्त युद्धाभ्यास ‘अजेय वारियर’ (Ajeya Warrior), 2020 आयोजित किया जा रहा है। यह दोनों देशों के बीच 5वां सैन्य युद्धाभ्यास है। इस संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास का आयोजन सालिसबरी प्लेन्स (Salisbury Plains) यू.के.में आयोजित किया जा रहा है। इसमें दोनों देशों की सेनाओं के 120-120 सैनिक भाग ले रहे हैं। इस अभ्यास में भारतीय सेना की डोगरा रेजीमेंट की 14 वीं बटालियन भाल ले रही है। इससे पूर्व यह अभ्यास महाजन फील्ड फायरिंग रेंज, बीकानेर, राजस्थान में हुआ था।
डेफएक्सपो 2020 रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (Defence Research and Development Organisation- DRDO) द्वारा विकसित सामरिक एवं टैक्टिकल हथियार प्रणाली, रक्षा उपकरण और प्रौद्योगिकी की एक विस्तृत शृंखला का डेफएक्सपो 2020 (DefExpo 2020) में प्रदर्शन होगा। इसका 11वाँ द्विवार्षिक संस्करण उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आयोजित किया जा रहा है। यह कार्यक्रम 5 से 8 फरवरी, 2020 तक चलेगा। यह भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) का एक प्रमुख द्विवार्षिक कार्यक्रम है। इस वर्ष इसकी थीम ‘इंडिया: द इमर्जिंग डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब’ (India: The Emerging Defence Manufacturing Hub) है। इस एक्सपो में मुख्य फोकस ‘रक्षा क्षेत्र में डिजिटल परिवर्तन’ (Digital Transformation of Defence) पर किया जाएगा। इसके पिछले दो संस्करण चेन्नई और गोवा में आयोजित किये गए थे। इसका प्रमुख महत्व ‘मूल उपकरण निर्माताओं’ (Original Equipment Manufacturers) को भारतीय रक्षा उद्योग के साथ सहयोग करने और मेक इन इंडिया पहल को बढ़ावा देने का अवसर प्रदान करेगा।
सहयोग काजिन-2020 16 से 20 जनवरी, 2020 के मध्य भारत और जापान की तटरक्षक बलों के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘सहयोग-काजिन’ (Sahyog-Kaijin) चेन्नई तट पर आयोजित हुआ। इस सैन्य अभ्यास का उद्देश्य दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत बनाना है। इस संयुक्त अभ्यास में जापानी तटरक्षक बल का एक जहाज इहिगो (Ehigo) भारतीय तटरक्षक बल का 4 जहाज और एक डोर्नियर एयरक्राप्ट ने भाग लिया। इस दौरान दोनों देशों के तटरक्षक बलों ने एक संयुक्त अभियान में अपहत जहाज को पकड़ने और चालक दल को बचाने के परिदृश्य का संचालन किया। उन्होंने खोज और बचाव कार्यों का भी प्रदर्शन किया और अपने अग्निशमन कौशल का प्रदर्शन किया। यह अभ्यास वर्ष 2006 में दोनों देशों के तटरक्षक बलों द्वारा हस्ताक्षरित समझौते के आधार पर आयोजित किया गया था।
मिलन अभ्यास भारतीय नौसेना ने कोरोनावायरस के लगातार प्रसार के कारण अपने बहु-राष्ट्र मेगा नौसैनिक अभ्यास “MILAN” को स्थगित कर दिया है। मिलन (11 वें संस्करण) 18 से 28 मार्च 2020 तक विशाखापत्तनम में आयोजित होने वाला था। यह एक द्विवार्षिक, बहुपक्षीय नौसेना अभ्यास है जो 1995 में शुरू हुआ था। 1995 के बाद से नौसेना ने मिलन अभ्यास के 10 संस्करण आयोजित किए हैं, जिसमें “विदेशी समुद्रों के बीच तालमेल” का विषय है और एक-दूसरे से सर्वोत्तम प्रथाओं को सीखने के लिए पेशेवर बातचीत को बढ़ाया गया है। यह 2018 तक अंडमान और निकोबार कमान में आयोजित किया गया था। यह पूर्वी नौसेना कमान के तत्वावधान में आयोजित किया जाता है। 2020 में अभ्यास में 40 से अधिक देशों के भाग लेने की उम्मीद थी।
बिम्सटेक आपदा प्रबंधन -2020 भारत ने नवम्बर 2016 में नई दिल्ली में पहले एशियन कॉंफ्रेंस फोर डिजास्टर रिस्क रिडक्शन (एएमसीडीआरआर) की मेजबानी की. भारत 10 अक्टूबर से 13 अक्टूबर 2017 तक पहले बिम्सटेक आपदा प्रबंधन 2017 का आयोजन करेगा. भूकंप और भूस्खलन के प्रभाव को कम करने के लिए एक व्यापक योजना भी बनाई जा रही है.
SAMPRITI-IX भारत और बांग्लादेश के बीच एक संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण अभ्यास military SAMPRITI-IX ’का आयोजन उमरोई, मेघालय में तीसरी -16 वीं शताब्दी, 2020 से किया जाएगा। इसका उद्देश्य भारत और बांग्लादेश की सेनाओं के बीच सकारात्मक संबंधों का निर्माण करना, उन्हें मजबूत करना और बढ़ावा देना है। भारत और बांग्लादेश देशों द्वारा वैकल्पिक रूप से होस्ट किया गया है। इसका आठवां संस्करण बांग्लादेश के तंगेल में आयोजित किया गया था।
वर्ष 2019
मित्र शक्तिVI भारत और श्रीलंका के बीच 26 मार्च से 8 अप्रैल के बीच मित्र शक्ति नामक युद्ध अभ्यास का आयोजन किया गया। इसका आरम्भ 26 मार्च को श्रीलंका के दियातलावा में हुआ था
मैनमति मैत्री अभ्यास 2019 सीमा सुरक्षा बल (BSF) और बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (BGB) ने  भारत और बांग्लादेश के बीच त्रिपुरा के अगरतला में ‘कॉन्फिडेंस बिल्डिंग मीजर्स’ के एक भाग के रूप में आयोजित 3 दिवसीय ‘मैनमति मैत्री अभ्यास 2019’ में  लिया। इस अभ्यास का मुख्य उद्देश्य क्षेत्र में बेहतर संयुक्त परिचालन दक्षता और सीमा प्रबंधन को प्राप्त करने के उद्देश्य से तस्करी विरोधी और आपराधिक-विरोधी गतिविधि से संबंधित योजनाओं की योजना और संचालन करना था।
आपदा नियंत्रण, खोज व बचाव अभ्यास भारत और जापान के तटरक्षक बालों ने जापान में 26 जून को योकोहामा के तट के निकट आपदा नियंत्रण, खोज व बचाव अभ्यास किया। पिछले वर्ष इस अभ्यास का आयोजन भारत में किया गया था। इस अभ्यास में भारत की ओर से ICGS शौनक नामक पोत से अभ्यास में हिस्सा लिया।
IMBEX 2018-19 भारत-म्यांमार द्विपक्षीय सेना अभ्यास का दूसरा संस्करण, IMBEX 2018-19, चंडीमंदिर सैन्य स्टेशन में शुरू हुआ, यह पश्चिमी कमान, चंडीगढ़ का मुख्यालय है. इस छह दिवसीय संयुक्त प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र के ध्वज के तहत संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों में भागीदारी के लिए म्यांमार प्रतिनिधिमंडल को प्रशिक्षित करना है। अभ्यास में म्यांमार सेना के 15 अधिकारियों और भारतीय सेना के 15 अधिकारियों की भागीदारी शामिल है।
AUSINDEX 2019 पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के तट पर भारतीय युद्धपोतों ने एक सप्ताह का नौसैनिक अभ्यास शुरू किया है. द्वितीय AUSINDEX अभ्यास का उद्देश्य ऑस्ट्रेलियाई और भारतीय नौसेना बलों के बीच अंतर-क्षमता बढ़ाना, जटिल नौसेना युद्धाभ्यास को निष्पादित करना है। प्रथम AUSINDEX अभ्यास 2015 में बंगाल की खाड़ी में आयोजित किया गया था. हिन्द महासागर में सबसे बड़ी समुद्र तटसीमा के साथ , ऑस्ट्रेलिया और भारत समुद्री सुरक्षा में स्वाभाविक साझेदार में हैं, खासकर उस क्षेत्र में जहां भारत का सबसे बड़ा रणनीतिक हित है।
वरुण 2019 भारत और फ्रांस के बीच “वरुण नौसैनिक अभ्यास” गोवा के निकट शुरू हो गया। इस द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास की शुरुआत सर्वप्रथम 1983 में हुई थी, इसका नाम वर्ष 2001 में “वरुण” रखा गया है। इस अभ्यास का आयोजन 1 मई से 10 मई के बीच किया जा रहा है। इस अभ्यास में भारत मिग-29K लड़ाकू विमानों के साथ अपने एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रमादित्य का उपयोग कर रहा है। फ्रांस की ओर से इस अभ्यास में एयरक्राफ्ट कैरियर FNS चार्ल्स डी गॉल तथा राफेल-एम नैवेल जेट्स हिस्सा ले रहे हैं।
SIMBEX 2019 नौसेना अभ्यास भारत और सिंगापुर के बीच SIMBEX-2019 युद्ध अभ्यास की शुरुआत दक्षिणी चीन सागर में हो चुकी है। गौरतलब है कि SIMBEX-2019 इस वार्षिक अभ्यास का 26वाँ संस्करण है। इस अभ्यास का आयोजन 16-22 मई,  2019 के बीच किया जा रहा है। भारतीय नौसेना के जहाज़ कोलकाता और शक्ति के अतिरिक्‍त लंबी दूरी के सामुद्रिक निगरानी विमान भी सिम्‍बेक्‍स-19 में हिस्‍सा ले रहे हैं। इस द्विपक्षीय अभ्‍यास की शुरुआत पारंपरिक पनडुब्‍बी-रोधी अभ्‍यासों से हुई जो एडवांस्‍ड ए‍यर डिफेंस ऑपरेशन्‍स (Advanced Air Defense Operations), एंटी एयर/सरफेस टारगेट्स पर अभ्‍यास गोलीबारी (Exercise Firing on Anti Air/Surface Targets), सामरिक अभ्‍यास आदि तक पहुँच चुकी है। वर्ष 2018 में इस अभ्यास का आयोजन अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह के बाहर हिंद महासागर में किया गया था।
AL NAGAH III 2019 यह अभ्यास 12 मार्च, 2019 को शुरू हुआ, भारतीय सेना और ओमान की शाही सेना के बीच तीसरा संयुक्त सैन्याभ्यास अल-नगाह-III 2019 हुआ जिसमें दोनों देशों की सेनाओं के 60-60 सैन्यकर्मियों ने हिस्सा लिया।
गरुड़- VI 2019 ह अभ्यास जुलाई के पहले हफ्ते में शुरू हुआ जो दो हफ्ते तक चला। जिसमे फ्रांस का राफेल फाइटर जेट के साथ भारत का सुखोई-30 फाइटर आकर्षण का केंद्र था। इसके साथ IL-78 मिड एयर रिफ्यूलिंग टैंकर भी था। युद्ध-नीति साझेदारी पर भारत और फ्रांस के बीच जनवरी 1998 में हस्ताक्षर किए गए थे। सन् 2003 से गरुड़ युद्ध अभ्यास कभी भारत में तो कभी फ्रांस में आयोजित हो रहा है। पहला गरुड़ फरवरी 2003 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर में आयोजित किया गया था. तब से विभिन्न गरुड़ युद्ध अभ्यास फ्रांस और भारत में आयोजित किए गए हैं। पांचवां इंडो-फ्रांस एयर अभ्यास गरुड़ 2004 में वायुसेना के जोधपुर स्थित स्टेशन पर आयोजित किया गया था. भारतीय वायु सेना की भागीदारी में सुखोई -30 एमकेआई, आईएल-78 टैंकर एयरक्राफ्ट और इलयुशिन आईएल-76 अवाक्स एयरबोन शामिल थे।
युद्ध अभ्यास “IndSpaceEx” यह अभ्यास मूल रूप से एक ‘टेबल-टॉप वॉर-गेम’ (‘Table-Top War-Game’) होगा, जिसमें सैन्य और वैज्ञानिक समुदाय के लोग हिस्सा लेंगे। किंतु टेबल-टॉप वॉर-गेम होने के बावजूद यह अभ्यास उस गंभीरता को रेखांकित करता है जिसके तहत चीन जैसे देशो से भारत अपनी अंतरिक्ष परिसंपत्तियों की रक्षा और संभावित खतरों से मुकाबला करने की आवश्यकता पर विचार कर रहा है।
TSENTR 2019 TSENTR 2019 नामक बहुराष्ट्रीय युद्ध अभ्यास का आयोजन रूस द्वारा ओरेनबर्ग में किया जा रहा है। इस अभ्यास का आयोजन 9 सितम्बर से 23 सितम्बर के बीच किया जा रहा है। इस अभ्यास में चीन, कजाखस्तान, भारत, किर्गिजस्तान, ताजीकिस्तान, पाकिस्तान तथा उज्बेकिस्तान की सेनाएं हिस्सा ले रही हैं।
काजिंद-2019 भारत और कजाखिस्तान के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास काजिंद-2019 हाल ही में उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में आयोजित किया जायेगा. यह युद्धाभ्यास 02 अक्टूबर से 15 अक्टूबर 2019 तक चलेगा। यह युद्धाभ्यास पहले 26 अगस्त से प्रस्तावित था। इस युद्धाभ्यास में भारत और कजाखिस्तान सेना के करीब 100 सैन्यकर्मी भाग लेंगे।
इंडो-थाई कॉर्पेट 2019 भारत-थाईलैंड समन्वित गश्ती दल (इंडो-थाई कॉर्पेट) का 28 वां संस्करण 5 सितंबर से 15 सितंबर 2019 तक आयोजित किया गया है। यह अभ्यास भारतीय नौसेना (IN) और रॉयल थाई नेवी (RTN) के बीच होता है। महामहिम थाईलैंड के जहाज (HTMS) क्राबुरी, भारतीय नौसेना (IN) जहाज केसरी और दोनों नौसेनाओं से समुद्री पैट्रोल एयरक्राफ्ट, कॉर्पोरेट में भाग ले रहे हैं। 2003 से, रॉयल थाई नेवी (RTN) और अंडमान और निकोबार कमांड अभ्यास में भाग ले रहे हैं।
मालाबार (MALABAR) अभ्यास 2019 भारत, जापान और अमरीका की नौसेनाओं के बीच त्रिपक्षीय समुद्रीय अभ्यास मालाबार के 23वें संस्करण का आयोजन 26 सितंबर से 4 अक्टूबर, 2019 तक जापान के तट के समीप होने जा रहा है। इस अभ्यास में भाग लेने के लिए स्वदेशी तकनीक से डिजाइन और निर्मित किये गए भारतीय नौसेना के 2 फ्रंटलाइन पोत, बहु-उद्देश्यीय निर्देशित मिसाइल युद्धपोत सहयाद्री तथा एएसडब्ल्यू कॉर्वेट किलतान पर सवार होकर रियर एडमिरल सूरज बैरी, फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग पूर्वी बेड़ा, आज सुबह सासेबो पहुंचे। युद्धपोतों के अलावा लंबी दूरी का सामुद्रिक गश्ती लड़ाकू विमान ‘पी81’ भी इस अभ्यास के लिए जापान पहुंचा है। अमरीकी नौसेना का प्रतिनिधित्व लॉस एंजेलिस-क्लास अटैक सब्मरीन यूएसएस मैक्कैम्बेल और लंबी दूरी के सामुद्रिक गश्ती लड़ाकू विमान ‘पी8ए’ कर रहे हैं। जेएमएसडीएफ अपने इजुमो क्लास हेलिकॉप्टर डेस्ट्रॉयर जेएस कागा, निर्देशित मिसाइल विध्वंसक जेएस सामीदारे और छोकाई तथा लंबी दूरी का सामुद्रिक गश्ती लड़ाकू विमान ‘पी1’ के साथ भाग ले रही है।
मैत्री-2019 भारतीय सेना व रॉयल थाईलैंड आर्मी के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘मैत्री-2019’ का आयोजन 16 सितम्बर से 29 सितम्बर, 2019 के दौरान किया जायेगा। इस अभ्यास का आयोजन मेघालय में किया जाएगा। इस अभ्यास में दोनों देशों के 50-50 सैनिक हिस्सा लेंगे। इस युद्ध अभ्यास का उद्देश्य आंतकवाद विरोधी ऑपरेशन में रणनीतिक व तकनीकी कुशलता में वृद्धि करना है।
इंडो-यूएस युद्ध अभास 2019 भारत-अमेरिका युध अभियान 2019, भारत और अमेरिकी रक्षा बलों के बीच संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण अभ्यास 5 से 18 सितंबर 2019 तक वाशिंगटन, अमेरिका में किया जा रहा है। यह युद्ध अभ्यास संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत के आतंकवादियों के बीच रक्षा सहयोग के लिए सबसे बड़ा संयुक्त अभ्यास है और यह आतंकवाद विरोधी अभियानों, आतंकवाद रोधी आदि पर ध्यान केंद्रित करने के लिए के लिए महत्वपूर्ण है। अभ्यास को दोनों देशों के बीच वैकल्पिक रूप से होस्ट किया गया है और 5 सितंबर 2019 से होने वाले अभ्यास का 15 वां संस्करण होगा।
एक्युवेरिन 2019 भारतीय सेना तथा मालदीव नेशनल डिफेन्स फ़ोर्स के बीच महाराष्ट्र के पुणे में 7 से 20 अक्टूबर, 2019 के दौरान संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘एकुवेरिन 2019’ का आयोजन किया गया। इस वर्ष एकुवेरिन संयुक्त अभ्यास के 10वें अभ्यास का आयोजन किया गया। इसका उद्देश्य आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन में दोनों सेनाओं के बीच आपसी सहयोग तथा इंटर-ओपेराबिलिटी को बढ़ावा देना एवं दोनों सेनाएं एक-दूसरे के साथ अपने अनुभव को साझा करेंगी।
SITMEX 2019 भारतीय सेना और रॉयल थाईलैंड आर्मी (आरटीए) संयुक्त सैन्य अभ्यास MAITREE-2019, मेघालय में 16-29 जनवरी, 2019 से आयोजित किया जा रहा है। SIMBEX भारत और सिंगापुर के बीच वार्षिक समुद्री द्विपक्षीय अभ्यास है।
‘चांग थांग ‘2019 भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में चीन की सीमा पर एक बड़ा दुर्लभ अभ्यास ‘चांग थांग’ आयोजित किया। इस अभ्यास में इन्फैंट्री, मैकेनाइज्ड फोर्स, टी -72 टैंक का उपयोग किया गया, जिसमें बल मल्टीप्लायरों जैसे आर्टिलरी गन और मानव रहित हवाई वाहन शामिल थे। भारतीय वायु सेना को भी अभ्यास में शामिल किया गया था। इस क्षेत्र में इस तरह का अभ्यास पहली बार हुआ है।
टाइगर ट्रायंफ 2019 भारत-अमेरिका की संयुक्त द्विपक्षीय त्रि सेवाएं मानवीय सहायता और आपदा राहत (एचएडीआर) व्यायाम ‘बाघ ट्राइंपएचएच’ 13 नवंबर 2019 से शुरू होगा। भारतीय वायु सेना के एमआई -17 हेलीकॉप्टर, भारतीय नौसेना के जहाज ओशवा, ऐरावत और संध्याक, और रैपिड एक्शन मेडिकल टीम ( RAMT) भारत से भाग लेगा।
नोमेडिक एलीफैंट-XIV नोमेडिक एलीफैंट-XIV संयुक्‍त राष्‍ट्र के अधिदेश के तहत सैनिकों को विद्रोह और आतंकवाद से निपटने की कार्रवाइयों का प्रशिक्षण प्रदान करने के उद्देश्‍य से दोनों देशों के बीच आयोजित होने वाले सैन्‍य अभ्‍यास का 14वां संस्‍करण है। संयुक्त अभ्यास से दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग और सैन्य संबंधों में वृद्धि होगी।
हिम विजय 2019 भारतीय सेना ने 07 अक्टूबर 2019 को अरुणाचल प्रदेश में अपना सबसे बड़ा पहाड़ी युद्धाभ्यास ‘हिम विजय’ आयोजित किया है. पूर्वोत्तर राज्य में इस तरह की यह पहली अभ्यास है. इस तरह का अभ्यास कठिन इलाके में सैनिकों की गतिशीलता तथा संचार का परीक्षण करने हेतु किया जाता है। यह युद्ध अभ्यास तीन युद्ध समूह में आयोजित किया जा रहा है. प्रत्येक समूह में चार हजार सैनिक शामिल हो रहे है. यह युद्धाभ्यास चौदह हजार फुट की ऊंचाई पर हो रहा हैं. यह युद्धाभ्यास 25 अक्टूबर को समाप्त होगा.
समुंद्र शक्ति का दूसरा संस्करण भारत-इंडोनेशिया की नौसेनाओं ने 6-7 नवंबर 2019 को बंगाल की खाड़ी में समुद्र शक्ति ’नामक एक द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास किया है, यह भारत-इंडोनेशिया द्विपक्षीय नौसेना अभ्यास का दूसरा संस्करण है। इसका पहला संस्करण सुरबाया – इंडोनेशिया के बंदरगाह पर आयोजित किया गया था। इससे पूर्व 4 नवंबर को KRI उस्मान हारुन को  “समुद्र शक्ति” के दूसरे संस्करण में भाग लेने के लिए विशाखापत्तनम पहुँचाया गया।
‘SHAKTI-2019 शक्ति-2019: भारत और फ्रांस के मध्य 31 अक्टूबर 2019 से राजस्थान में संयुक्त सैन्य अभ्यास आरंभ हो रहा है। ‘शक्ति -2019’ का आयोजन राजस्थान के महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में विदेशी प्रशिक्षण नोड में किया जाएगा। यह अभ्यास 31 अक्टूबर से 13 नवंबर, 2019 तक आयोजित किया जाएगा।
धर्म अभिभावक धर्म अभिभावक एक भारत-जापान संयुक्त सैन्य अभ्यास है जो 2018 में शुरू हुआ था। यह अभ्यास दोनों देशों की सेनाओं के बीच होता है। इस द्विपक्षीय अभ्यास का नवीनतम संस्करण धर्म गार्डियन 2019 था जो मिजोरम के वैरेंगटे में अक्टूबर 2019 में भारतीय और जापानी सेनाओं के बीच हुआ था।
KAZIND-2019 भारत और कजाखिस्तान के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास काजिंद-2019 हाल ही में उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में आयोजित किया जायेगा। यह युद्धाभ्यास 02 अक्टूबर से 15 अक्टूबर 2019 तक चलेगा. यह युद्धाभ्यास पहले 26 अगस्त से प्रस्तावित था। इस युद्धाभ्यास में भारत और कजाखिस्तान सेना के करीब 100 सैन्यकर्मी भाग लेंगे।
समन्वित गश्ती (कॉर्पैट) भारतीय नौसेना के दूसरे संस्करण (IN) -बंगलादेश नेवी (बीएन) समन्वित गश्ती (कॉर्पैट) ने बंगाल की उत्तरी खाड़ी में शुरू किया है। कॉर्पैट एक बहुराष्ट्रीय संधि के बजाय भारतीय “वन्नाबे” राजनयिक महत्वाकांक्षाओं की ओर से एक भारतीय नौसेना की सामरिक प्रक्रिया है। कॉर्पैट को बांग्लादेश, इंडोनेशिया और थाईलैंड के साथ किया गया है। यह एक नौसैनिक प्रक्रिया है जिसे भारत किसी अन्य देश के साथ करता है जो ध्वज को एक राजनयिक युद्धाभ्यास के रूप में दिखाने की कोशिश में तैयार है।
सिंधु सुदर्शन-VII यह युद्धाभ्यास राजस्थान के बाड़मेड़ और जैसलमेर में 13 से 18 नवंबर के बीच होगा। सेना इस दौरान अपने सैन्य युद्धाभ्यास का परीक्षण करेगी। इसमें टैंक, पैदल सेना के वाहनों और तोपखाने की तोपों की शक्ति को परखा जाएगा। ताकि, यह देखा जा सके कि युद्ध की स्थिति में उन्हें प्रभावी कैसे बनाया जा सकता है। इस युद्धाभ्यास का पहला चरण अक्तूबर में पोखरण में आयोजित किया गया था, जहां भारतीय सेना के टैंक और तोपों ने अपनी फायरपावर का जबरदस्त प्रदर्शन किया था। इस अभ्यास में टी-72 टैंक, बीएमपी वाहन (हमलावर वाहन), एम 777 आर्टिलरी गन, आर्मी एयर डिफेंस, अपाचे, चिनूक लड़ाकू हेलीकॉप्टरों के साथ एचएएल का एएलएच रुद्र हेलीकॉप्टर भी हिस्सा लेगा।
ज़ाएर-अल-बहार अभ्यास द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास ज़ाएर-अल-बहार, सागर का रोरा, 17-21 नवंबर 2019 से दोहा, कतर में आयोजित किया जा रहा है। यह अभ्यास भारतीय नौसेना और कतरी इमरी नौसेना बलों के बीच आयोजित किया जाता है। इसका उद्देश्य पांच दिवसीय द्विपक्षीय अभ्यास का उद्देश्य भारतीय नौसेना और कतरी इमरी नौसेना बलों के बीच सहयोग को मजबूत करना और अंतर-क्षमता को बढ़ाना है। इस समुद्री अभ्यास में तीन दिन का हार्बर चरण/बंदरगाह चरण और दो दिन का सागर चरण शामिल होगा।
डस्टलिक -2019 पहली बार भारत-उज्बेकिस्तान संयुक्त सैन्य अभ्यास डस्टलिक -2019 ताशकंद, उज्बेकिस्तान के पास चिरचीक प्रशिक्षण क्षेत्र में शुरू हुआ। आतंकवाद-निरोध पर केंद्रित अभ्यास 13 नवंबर तक जारी रहेगा। अभ्यास के दौरान, भारतीय सेना का एक दल उज्बेकिस्तान सेना के साथ प्रशिक्षण लेगा। अभ्यास का ध्यान आतंकवाद पर केंद्रित है और ताशकंद के पास चिरचिउक प्रशिक्षण क्षेत्र में 13 नवंबर 2019 तक जारी रहेगा।
SCOJtEx-2019 शहरी भूकंप खोज और बचाव पर शंघाई सहयोग संगठन संयुक्त अभ्यास (SCOJtEx-2019) का उद्घाटन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 4 नवंबर 2019 द्वारा किया गया है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF), भारत सरकार (SCOJTEX) -2019 की मेजबानी कर रहा है।
मित्र शक्ति VII साल 2019 में हो रहे ‘मित्र शक्ति VII’ युद्धाभ्यास के सातवें संस्करण का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन के हिस्से के तौर पर तैनाती के दौरान भारत और श्रीलंका की सेनाओं के बीच अंतर सक्रियता एवं परिचालन क्षमता को बढ़ाना है। यह युद्धाभ्यास 01 दिसंबर से पुणे के औंध सैन्य स्टेशन में शुरू हो चुका है।
INDRA 2019 इंद्र 2019 भारत और रूस के सशस्त्र बलों के बीच संयुक्त अभ्यास का दूसरा संस्करण है। यह पुणे, बबीना और गोवा में एक साथ आयोजित किया जाएगा। गोवा 19 दिसंबर तक अभ्यास के नौसैनिक चरण की मेजबानी करेगा। रूसी नौसेना का प्रतिनिधित्व विक्टर कोनत्स्की, यारोस्लाव मुद्री और एलिना जहाजों द्वारा किया जाता है।
हैंड-इन-हैंड-2019 VIII भारत और चीन के बीच संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण अभ्यास ‘हैंड-इन-हैंड-2019’ का 8वां संस्करण मेघालय के उमरोई स्थित संयुक्त प्रशिक्षण नोड में शुरू हुआ. यह संयुक्त राष्ट्र के जनादेश के तहत आयोजित एक वार्षिक सैन्य अभ्यास है. यह 07 दिसंबर से 20 दिसंबर 2019 के बीच आतंकवाद के खिलाफ एक थीम के साथ आयोजित किया जा रहा है.
वर्ष 2018
जिमेक्स 2018 भारत और जापान के बीच तीसरा संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास JIMAX 2018 आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में हुआ था।
युद्ध अभ्यास 2018 रक्षा सहयोग और सामरिक संबंधों को और अधिक प्रगाढ़ बनाने के लिए भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका की सेनाओं के मध्य संयुक्त सैन्य अभ्यास का 14वां संस्करण उत्तराखंड  के चौबटिया में 16 सितम्बर से 29 सितम्बर के मध्य आयोजित किया गया था।
काजिंद 2018 भारत और कजाख्स्तान के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास जिसे कजाख्स्तान में 10 से 23 सितम्बर के मध्य आयोजित किया गया था।
सागरमाथा फ्रेंडशिप II, 2018 चीन एवं पड़ोसी देश नेपाल के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास का दूसरा संस्करण चीन के दक्षिण पश्चिम सिचुआन प्रांत की राजधानी चेंगदू में 17 सितम्बर से 27 सितम्बर 2018 के मध्य आयोजित किया गया था।
वोस्तोक, 2018 रूस द्वारा वृहद स्तर पर 11 सितम्बर से 17 सितम्बर 2018 के मध्य संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास का आयोजन किया गया था।
वरुण, 2018 भारत एवं फ्रांस की नौसेनाओं के मध्य संयुक्त द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास वरुण 2018 तीन समुद्री क्षेत्रों अरब सागर, बंगाल की खाड़ी और दक्षिण पश्चिम हिंद महासागर में आयोजित हुआ था।
स्लिनेक्स, 2018 भारत एवं श्रीलंका की नौसेनाओं के संयुक्त अभ्यास का छठा संस्करण श्रीलंका में 07 से 13 सितंबर 2018 के मध्य आयोजित किया गया था।
ककाडू रॉयल ऑस्ट्रेलिया नौसेना द्वारा आयोजित और रॉयल ऑस्ट्रेलिया वायु सेना द्वारा समर्थित महत्वपूर्ण बहुपक्षीय समुद्री अभ्यास का आयोजन 29 अगस्त से 15 सितंबर 2018 के मध्य किया गया था। इस युद्ध अभ्यास में 27 देशों ने भाग लिया था। भारतीय नौसेना के पोत सहयाद्री ने इस अभ्यास में हिस्सा लिया।
पिच ब्लैक 2018 भारत और ऑस्ट्रेलिया की वायु सेनाओं के बीच तीन साप्ताहिक पिच ब्लैक 2018′ (पीबी -18) नामक संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन 24 जुलाई से 18 अगस्त 2018 के मध्य किया गया था। पिच ब्लैक एक्सरसाइज रॉयल ऑस्ट्रेलियाई वायु सेना (आरएएएफ) द्वारा आयोजित एक द्विवार्षिक रोजगार युद्ध अभ्यास है। आइएएफ के दल में 145 एयर-योद्धा होंगे, जिनमें गरुड कमांडो टीम, चार सुखोई -30 एमकेआइ लड़ाकू विमान, एक सी-130 और सी-17 परिवहन विमान शामिल हुए थे।
अभ्यास मैत्री, 2018 भारतीय सेना और रॉयल थाई सेना के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास थाईलैंड में 06 से 09 अगस्त 2018 के मध्य आयोजित किया गया था।
नौसेना अभ्यास मालाबार, 2018 भारत, जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच त्रिपक्षीय नौसेना अभ्यास का 22वां संस्करण फिलिपीन सागर में 07 से 16 जून 2018 के मध्य आयोजित किया गया।
सूर्य किरण, 2018 भारत और नेपाल के मध्य संयुक्त सैन्य अभ्यास सूर्य किरण 30 मई से 12 जून 2018 के मध्य पिथौरागढ़, उत्तराखंड में संपन्न हुआ।
हरीमऊ शक्ति 2018 भारत और मलेशिया रक्षा सहयोग के एक हिस्से के रूप में मलेशिया के घने जंगलों में 30 अप्रैल से 13 मई 2018 के मध्य संयुक्त प्रशिक्षण अभ्यास का आयोजन किया गया।
विन्बैक्स, 2018 भारत और वियतनाम के मध्य पहला द्विपक्षीय सैन्य अभ्यास, जबलपुर मध्य प्रदेश में 29 जनवरी से 03 फरवरी 2018 के मध्य संपन्न हुआ।
वज्र प्रहार, 2018 भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के मध्य संयुक्त सैन्य अभ्यास जनवरी 2018 में अमेरिका में आयोजित किया गया।
गरुड़ शक्ति VI भारत और इंडोनेशिया की सेना के मध्य फरवरी 2018 में इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में आयोजित किया गया।
इन-बीएन कॉर्पैट भारत और बांग्लादेश की नौसेना सेना के मध्य 2018 में इस संयुक्त सैन्य अभ्यास आयोजित किया गया था।
वर्ष 2017
अजय वारियर 2017 भारत एवं ब्रिटेन की सेनाओं के मध्य संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास राजस्थान के महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में 01 से 14 दिसंबर 2017 के मध्य आयोजित किया गया। इस सैन्य अभ्यास का उद्देश्य दोनों देशों की सेनाओं के मध्य द्विपक्षीय सम्बन्धों को बढ़ाना तथा उग्रवाद विरोधी अभियानों में एक-दूसरे के अनुभवों से लाभ उठाना था।
नसीम अल बहर भारतीय नौसेना और ओमान की शाही नौसेना के बीच दिसंबर 2017 में ओमान में इस अभ्यास को आयोजित किया गया।
प्रबल दोस्तकी, 2017 भारत और कजाखस्तान की थल सेनाओं के मध्य 02 से 15 नवंबर 2017 के मध्य हिमाचल प्रदेश के बफेलो में यह संयुक्त सैन्य अभ्यास संपन्न हुआ था।
फ्लैग 4 अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस और संयुक्त अरब अमीरात की सेनाओं के मध्य इस संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन किया गया था।
संप्रति, 2017 भारत और बांग्लादेश की सेनाओं के मध्य 13 दिवसीय संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन 06 नवम्बर से 18 नवम्बर 2017 के मध्य मिजोरम में सीआईजेडब्ल्यू स्कूल, वायरगते में हुआ था। इस अभ्यास का उद्देश्य जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर की परिस्थितियों के अनुरूप उग्रवादियों और आतंकवादियों के खिलाफ अभियान का प्रशिक्षण देना था।
इम्बैक्स, 2017 भारत और म्यांमार के मध्य मेघालय में 20 से 25 नवंबर 2017 के मध्य आयोजित किया गया।
अभ्यास ईकुवेरिन, 2017 भारत और मालदीव के मध्य आठवां संयुक्त सैन्य अभ्यास 15 से 28 दिसंबर 2017 के मध्य कर्नाटक में आयोजित किया गया।
मित्र शक्ति – 2017 भारत और श्रीलंका के मध्य संयुक्त सैन्य अभ्यास मित्र शक्ति के पांचवें संस्करण का आयोजन महाराष्ट्र के पुणे में किया गया, जिसमें भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व राजपूताना राइफल्स रेजीमेंट ने किया जबकि श्रीलंका की सेना का प्रतिनिधित्व सिंहा रेजीमेंट द्वारा किया गया था। इसके तहत अर्द्धशहरी क्षेत्र में आतंकवाद विरोधी अभियान का अभ्यास किया गया।
इन्द्र भारत और रूस की वायुसेना के मध्य इस संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन 2017 के मध्य किया गया था।
अल-निगाह भारतीय और ओमान के बीच दूसरा ‘अल-निगाह’ संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन 6 से 19 मार्च, 2017 तक हिमाचल प्रदेश के बकलोह में हुआ था।
वरुण-17 अप्रैल 2017 में भारतीय पश्चिमी जहाजी बेड़े ने फ्रांस की नौसेना के साथ तौलोन, फ्रांस के निकट वरुण-17 द्विपक्षीय अभ्यास में भाग लिया था। इस अभ्यास में भारत ने आईएनएस त्रिशूल, मुम्बई तथा आदित्य ने एकीकृत हेलिकॉप्टरों के साथ भाग लिया था।
सूर्य किरण – XI सूर्य किरण – XI संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन 07 मार्च से 20 मार्च, 2017 तक उत्तराखण्ड राज्य के पिथौरागढ़ शहर में आयोजित किया गया था। इस संयुक्त सैन्य अभ्यास भारतीय सेना की इन्फेंट्री बटालियन और नेपाल की दुर्ग बक्श बटालियन शामिल हुई। अभ्यास के दौरान मानवीय सहायता और आपदा राहत का अभ्यास भी किया गया।
नोमैडिक एलीफेंट (प्रलय सहायम) दोनों देशों के बीच यह अभ्यास का 22वां संस्करण था, जिसका आयोजन 05 से 18 अप्रैल तक वायरंगते में आयोजित किया गया था। इसमें मंगोलिया की तरफ से स्पेशल फोर्स टास्क बटालियन ने और भारत की तरफ से जम्मू-कश्मीर राइफल्स ने हिस्सा लिया। इस अभ्यास के अंतर्गत उग्रवाद और आतंकवाद के खिलाफ सेना को प्रशिक्षित किया गया।
प्रबल दोस्तिक भारत और कजाकिस्तान की सेनाओं के मध्य संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन 02 से 15 नवम्बर, 2017 तक हिमाचल प्रदेश के बकलोह में किया गया था।
ब्लू फ्लैग-17 वर्ष 2017 में 02 नवम्बर से 16 नवम्बर 2017 तक मध्य इजराइल के उवडा एयरफोर्स बेस पर इस संयुक्त युद्धाभ्यास का आजोजन किया गया था। वर्ष 2013 में प्रारम्भ ‘ब्लू फ्लैग’ इजराइल का द्वि-वार्षिक वायुसेना युद्धाभ्यास है। इस वर्ष युद्धाभ्यास में इजराइल सहित सात देश फ्रांस, जर्मनी, इटली, ग्रीस, पॉलैण्ड, अमरीका और भारत ने हिस्सा लिया।

You just read: Gk Joint Military Exercises Of India - INDIA Topic
Aapane abhi padha: Bhaarat Aur Vishv Ke Any Deshon Ke Beech Hue Pramukh Sanyukt Sainy Yuddhaabhyaason Kee Soochee.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *