अरुणाचल प्रदेश


अरुणाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान (Arunachal Pradesh General Knowledge):

Table of Content:

अरुणाचल प्रदेश:

अरुणाचल प्रदेश भारत के उत्तर पूर्वी भाग में स्थित एक पहाड़ी राज्य है। अरुणाचल का हिन्दी मे अर्थ “उगते सूर्य का पर्वत” (अरूण+अंचल) है। अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर है। इसकी सीमाएँ दक्षिण में असम, दक्षिणपूर्व में नागालैंड, पूर्व मे बर्मा/म्यांमार, पश्चिम में भूटान और उत्तर में तिब्बत से जुडी हुई हैं। इसकी सीमा नागालैंड और असम से भी मिलती है। अरुणाचल प्रदेश की मुख्य भाषा हिन्दी और असमिया है। यह राज्य भौगोलिक दृष्टि से पूर्वोत्तर के राज्यों में सबसे बड़ा है। इस राज्य का कुल क्षेत्र 83,743 वर्ग किमी है।

अरुणाचल प्रदेश का इतिहास (Arunachal Pradesh History):

24 फ़रवरी 1826 को ‘यंडाबू संधि’ हुई, इसके बाद असम में ब्रिटिश शासन लागू हुआ था। उसके बाद से ही अरुणाचल प्रदेश का आधुनिक इतिहास प्राप्त होता हैं। सन 1962 से पहले इस राज्य को पूर्वात्तर सीमांत एजेंसी (नार्थ ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी- नेफा) के नाम से जाना जाता था। संवैधानिक रूप से यह असम का ही एक भाग था, लेकिन सामरिक महत्त्व के कारण वर्ष 1965 तक यहाँ के प्रशासन की देखभाल विदेश मंत्रालय करता था। साल 1965 के बाद असम के राज्पाल द्वारा यहाँ का प्रशासन गृह मंत्रालय के अन्तर्गत आ गया था। सन 1972 में इसका नाम ‘अरुणाचल प्रदेश’ रखकर केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था। इसके बाद 20 फ़रवरी 1987 को अरुणाचल प्रदेश को पूर्ण राज्य का दर्जा मिला और यह देश का 24वां राज्य बनाया गया।

अरुणाचल प्रदेश का भूगोल (Arunachal Pradesh Geography):

इस राज्य का अधिकांश भाग हिमालय से ढका हुआ है। यह पर्वत श्रृंखला अरुणाचल प्रदेश को पूर्व में तिब्बत से अलग करती है। काँग्तो, न्येगी कांगसांग, मुख्य गोरीचन चोटी और पूर्वी गोरीचन चोटी इस क्षेत्र में हिमालय की सबसे ऊँची चोटियाँ हैं। इस राज्य में पहाड़ी और अर्द्ध-पहाड़ी क्षेत्र है। इसके पहाड़ों की ढलान असम राज्य के मैदानी भाग की ओर है। अरुणाचल प्रदेश की प्रमुख नदियाँ कामेंग, सुबनसिरी, सिआंग,लोहित और तिरप हैं। विभिन्न प्रकार की हरी भरी घाटियाँ, वनस्पति और जीव-जंतु अरुणाचल प्रदेश की मुख्य विशेषता है। यहाँ आर्किड के फूल भी पाए जाते हैं। यहाँ के पहाड़ और उनकी ढलानें समशीतोष्ण और उपविषुवतीय जंगलों से भरी हैं, इसी कारण से यहाँ बौना रॉडॉडेन्ड्रोन, ओक, चीड़, मैप्ले, फर और जुनिपर के वृक्ष मिलते हैं साथ ही साल और सागौन प्रजाति के वृक्ष पाए जाते हैं। अरुणाचल प्रदेश का राजकीय पक्षी ‘ग्रेट इंडियन हॉर्नबिल’ है। अरुणाचल प्रदेश का राजकीय पेड ‘होलोंग’ है। अरुणाचल प्रदेश का राजकीय फूल ‘रेटुसा’ है। अरुणाचल प्रदेश का राजकीय पशु ‘मिथुन’ है।

अरुणाचल प्रदेश की जलवायु (Arunachal Pradesh Climate):

अरुणाचल प्रदेश की जलवायु में भू-आकृति एवं ऊँचाई के साथ परिवर्तन होता है। राज्य का मौसम बदलता रहता है। ज्यादा ऊँचाई वाले स्थान जैसे ऊपरी हिमालय स्थित तिब्बत के निकटवर्ती क्षेत्रों में मौसम अल्पाइन या टुन्ड्रा प्रकार का होता है। मध्य हिमालयी भागों में मौसम समशीतोष्ण होता है। यहाँ पर औसत वार्षिक वर्षा 2000 से 4000 मि.मी. तक  होती है।

अरुणाचल प्रदेश की सरकार और राजनीति (Arunachal Pradesh Government and Politics):

अरुणाचल प्रदेश के वर्तमान मुख्‍यमंत्री पेमा खांडू है। उन्होंने 17 जुलाई 2016 को राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। 16 सितम्बर 2016 को पेमा खांडू 43 सत्तापक्ष विधायकों के साथ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस छोड़कर पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल में शामिल हो गये और भारतीय जनता पार्टी के साथ सरकार बनाई। अरुणाचल प्रदेश के मुख्‍यमंत्री बनने वाले प्रथम व्यक्ति प्रेम खांडू थुंगन थे। उन्होंने 13 अगस्त 1975 में राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

अरुणाचल प्रदेश के वर्तमान राज्यपाल बी.डी (बाल दत्त) मिश्रा है। सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर बी. डी. मिश्रा ने 03 अक्टूबर 2017 को अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल के रूप में शपथ ग्रहण की है।

अरुणाचल प्रदेश में मुख्यत: पाँच राजनैतिक दल हैं- भारतीय जनता पार्टी, अरुणाचल कांग्रेस, अरुणाचल कांग्रेस (मेइते), कांग्रेस (दोलो), पिपुल्स पार्टी आफ़ अरुणाचल।

अरुणाचल प्रदेश की अर्थव्यवस्था (Arunachal Pradesh Economy):

कृषि (Agriculture):

राज्य के लोगो के जीवन यापन का मुख्य साधन कृषि है। अरुणाचल प्रदेश की अर्थव्यवस्था मुख्यत: ‘झूम’ खेती पर ही आधरित है। वर्तमान में नकदी फ़सले जैसे-आलू और बागबानी की फसलें जैसे सेब, संतरे और अनन्नास आदि को भी प्रोत्साहन दिया जा रहा है। अरुणाचल प्रदेश के पहाड़ी लोगों में खेती की पारंपरिक विधि शिइंग (झूम) का प्रयोग होता है। इस कृषि विधि की मुख्य पैदावार चावल, मक्का, जौ एवं मोथी (कूटू) हैं। अरुणाचल प्रदेश की मुख्य फ़सले: चावल, मक्का, बाजरा, गेहूँ, जौ, दलहन, गन्ना, अदरक और तिलहन हैं।

अरुणाचल प्रदेश की जनसंख्या (Arunachal Pradesh Population):

अरुणाचल प्रदेश की जनजातियाँ (Arunachal Pradesh Tribes):

अरुणाचल प्रदेश में 26 से भी ज्यादा जनजातियाँ निवास करती है। ज्यादातर आबादी तिब्बती-बर्मी या ताई-बर्मी मूल की हैं। यहां की प्रमुख जनजातियों में अपातानी, अका, बोरी, अदि, ताजिन और नईशी प्रमुख हैं। अरुणाचल प्रदेश में कई तरह की भाषाएं बोली जाती हैं।

इसकी साक्षरता दर 1991 में 41,59 % से बढ़कर 54.74 % हो गयी है। इस प्रदेश के 487796 व्यक्ति पढ़े लिखे है। भारत सरकार की 2001 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार अरुणाचल के 20% निवासी प्रकृतिधर्मी हैं, जो जीववादी धर्म- डो न्यी-पोलो और रन्गफ्राह का निर्वाह करते हैं। मिरि और नोक्ते जाति के लगभग 35% निवासी हिन्दू हैं। राज्य के 13% निवासी बौद्ध धर्म का पालन करते हैं तथा लगभग 19% आबादी ईसाई धर्म की अनुयायी है।

अरुणाचल प्रदेश की संस्कृति और वेशभूषा (Arunachal Pradesh Culture and Costumes):

अरुणाचल प्रदेश की संस्कृति, वेशभूषा धर्म, सामाजिक दशाए तथा भाषाएँ तिब्बत, बर्मी व पूर्वी क्षेत्र में रहने वाली खामित जैसी जनजातियों से प्रभावित है। राज्य के लोक नृत्यों में वान्को नृत्य, मिश्मी (शास्त्रीय) नृत्य, डीगारू मिश्मी (बगैया) नृत्य, खाम्प्टी नृत्य, का फिफाई नृत्य (ड्रामा) तथा पोनुन्ग नृत्य (अदिस) बहुत प्रसिद्ध है।

अरुणाचल प्रदेश के मुख्य त्योहार (Arunachal Pradesh Famous Festivals):

इस प्रदेश के कुछ मुख्य त्योहारों में ‘अदीस’ समुदाय का ‘मापिन और सोलंगु’, ‘मोनपा’ समुदाय का त्योहार ‘लोस्सार’, ‘अपतानी’ समुदाय का ‘द्री’, ‘तगिनों’ समुदाय का ‘सी-दोन्याई’, ‘इदु-मिशमी’ समुदाय का ‘रेह’, ‘निशिंग समुदाय का ‘न्योकुम’ आदि त्योहार शामिल हैं। अधिकतर त्योहारों पर पशुओं को बलि चढ़ाने की पुरातन प्रथा प्रचलित है।

अरुणाचल प्रदेश का खानपान (Arunachal Pradesh Food):

अरुणाचल प्रदेश राज्य में प्रत्येक जाति का अपना अलग-2 खानपान है। इस राज्य में मसालों का प्रयोग बहुत कम मात्र में किया जाता है  होता है। इस प्रदेश का मनपसंद भोजन पत्तों में लिपटे उबले हुए चावल (भात) नाश्ते के रूप खाया जाता है, यहाँ की मोनपा जनजाति द्वारा थुपका नूडल सूप भी पसंद किया जाता है। यहाँ के प्रमुख व्यंजनो में थुपका, पंच फौरन तरकारी, मीसा माच पुरा , दल और अंडे, कोट पीथा आदि भी शामिल है।

अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल (Arunachal Pradesh Tourist Places):

इस राज्य में कई प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैैं। अरुणाचल प्रदेश के मुख्य पर्यटन स्थलों में अलोंग, आकाशगंगा, ईटानगर, खोंसा, टीपी, तवांग, तेजू, दापोरिजो, दिरांग, नामदफा, परशुराम कुंड, पासीघाट, बोमडिला, भीष्मकनगर, मालिनीथान, मियाओ, रोइंग और लीकाबाली शामिल हैं। तवांग मठ भारत का सबसे बड़ा बौद्ध मठ है और ल्हासा के पोताला महल के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा मठ है। राज्य में चार राष्ट्रीय उद्यान और सात वन्यजीव अभ्यारण्य हैं जो कि पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र हैं।

अरुणाचल प्रदेश के जिले (Arunachal Pradesh Districts):

अरुणाचल प्रदेश में निम्नलिखित 20 जिले हैं:- अंजाव, चांगलांग, दिगांग घाटी, पूर्व कामेंग, पूर्वी सियांग, कर दादी, कुरुंग कुमेय, लोहित, लोंगडिंग, लोअर दिबांग घाटी, लोअर सुबानसिरी, नमसई, पापम पेरे, सियांग, तवांग, तिरप, ऊपरी सियांग, ऊपरी सुबानसिरी, पश्चिम कामेंग और पश्चिम सियांग।

Comments are closed