कालीज़ीयम रोम संक्षिप्त जानकारी

स्थानरोम, इटली
निर्माण (किसने बनवाया)सम्राट वेस्पियन, टाइटस
निर्माणकाल 70 ई॰ से 80 ई मध्य
प्रकारएम्फीथिएटर रंगभूमि/अखाड़ा)
वस्तुशैलीरोमन स्थापत्य शैली एवं अभियांत्रिकी शैली

कालीज़ीयम रोम का संक्षिप्त विवरण

कोलोसियम इटली देश के प्राचीन नगर रोम के मध्य में स्थित है। यह अब तक बने सभी सबसे बड़े अखाड़े या रंगभूमि में से एक माना जाता है इसका उपयोग मनोरंजन, प्रदर्शन, और खेल के लिए किया जाता था। साथ ही यह ओपन एयर स्टेडियम की तरह केंद्रीय प्रदर्शन क्षेत्र के रूप में उपयोग किया जाता था। इटली में बने इस कोलोसियम का निर्माण 70 ई॰ से 72 ई मध्य सम्राट वेस्पियन द्वारा शुरू हुआ था। वर्तमान कोलोसियम रोम में एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है जिसमें हर साल हजारों पर्यटक आंतरिक क्षेत्र को देखने के लिए प्रवेश करते हैं।

कालीज़ीयम रोम का इतिहास

कोलोसियम का निर्माण 70 ईसा पूर्व सम्राट वेस्पियन द्वारा प्रारम्भ हुआ था परंतु इसका सम्पूर्ण निर्माण 80 ई० वेस्पियन के पुत्र टाइटस द्वारा पूरा हुआ था। जिसके बाद इसका उद्घाटन कर इसमें एक खेल का आयोजन किया गया जिसमें 9000 से अधिक जंगली जानवरों को मार दिया गया था। इस खेल के बाद कोलोसियम में कई परिवर्तन किए गए जिसमें उन्होने लोगों की बैठने की क्षमता को बढ़ाने के लिए इसके शीर्ष पर एक गैलरी का निर्माण किया गया। 217 ई॰ के मध्य एक बड़ी आग लगने के कारण यह बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया जिसके बाद इसकी दौबरा मरम्मत की गई।

16 वीं और 17 वीं शताब्दी के दौरान चर्च के अधिकारियों ने कोलोसियम की इमारत को ऊन के कारखाने में परिवर्तन करने के लिए सरकार से मांग की परंतु अकाल पड़ने के कारण यह कार्य सम्पूर्ण न हो पाया। जिसके बाद कोलोसियम का पुनः निर्माण 1830 ई॰, 1831 ई॰, 1930 ई॰ में होता रहा।

कालीज़ीयम रोम के रोचक तथ्य

  1. इटली में बना यह अब तक सबसे बड़ा एलिप्टिकल एंफ़ीथियेटर (रंगभूमि) है, जिसका निर्माण 70 ईसा पूर्व हुआ था।
  2. कोलोसियम अंडाकार सरंचना में बना हुआ है जिसमें 50,000 से 80,000 दर्शक खेल देखने आते थे।
  3. कोलोसियम का  क्षेत्र 24,000 वर्ग मीटर जमीन पर फैला हुआ है जिसके साथ ही यह 189 मीटर लंबा, 156 मीटर चौड़ा है एवं इसकी बाहरी दीवारों की ऊंचाई 157 फीट है और कोलोसियम की परिधि मूल रूप से 545 मीटर मापी गई है।
  4. कोलोसियम के प्रत्येक अंतिम हिस्से पर विशिष्ट प्रकार की त्रिकोणीय ईंट के वेज आधुनिक जोड़ हैं, जो 19 वीं शताब्दी की शुरुआत में दीवार को किनारे करने के लिए बनाए गए थे। कोलोसियम के वर्तमान के शेष भाग वास्तव में मूल आंतरिक दीवार ही शेष बची है।
  5. कोलोसियम के इतिहासकारों के अनुसार यह 87,000 लोगों को समायोजित कर सकता है, जो रोमन समाज के कठोर स्तरीकृत स्वरूप को दर्शाती थी परंतु आधुनिक अनुमानों ने यह आंकड़ा लगभग 50,000 रखा है।
  6. अखाड़े की इमारत के अंदर रेत से ढका एक लकड़ी का फर्श शामिल है जो विस्तृत भूमिगत संरचना को कवर करता है, इसे हाइपोगियम कहा जाता है।
  7. कोलोसियम की इमारत के अंदर दो-स्तरीय भूमिगत सुरंग बनी हुई है। जिसमें जानवरों को रखने के लिए पिंजरे इत्यादि शामिल हैं इसमें प्रतियोगिता शुरू होने से पहले ग्लेडियेटर्स और जानवरों को रखा जाता था।
  8. कोलोसियम और इसकी गतिविधियों ने क्षेत्र में एक पर्याप्त उद्योग का समर्थन किया था एवं खुद एम्फीथिएटर के अलावा आसपास की कई अन्य इमारतों को खेलों से जोड़ा गया था। जिसमें एक प्रशिक्षण स्कूल लुडस मैग्नस शामिल था और यह एक भूमिगत मार्ग से कोलोसियम से जुड़ा था।
  9. कोलोसियम के खेलों में गैंडा, हिप्पोपोटेमस, हाथी, जिराफ, औरोक्स, अमेरिकी बायसन, बार्बरी शेर, पैंथर्स, तेंदुए, भालू, कैस्पियन बाघ, मगरमच्छ और शुतुरमुर्ग इत्यादि जंगली जानवरों के साथ मैदान में मंचन किया जाता था।
  10. वर्तमान समय में इमारत के बाहरी दीवार की ऊपरी मंजिल में स्थित इरोस को समर्पित एक संग्रहालय है। अखाड़े के फर्श का एक हिस्सा फिर से फ़्लो किया गया है।
  11. कोलोसियम के नीचे, भूमिगत मार्गों का एक नेटवर्क एक बार जंगली जानवरों और ग्लेडियेटर्स को गर्मियों में 2010 में जनता के लिए खोला जाता था परंतु वर्तमान समय में इसे बंद कर दिया गया है।
  12. 20 वीं और 21 वीं सदी में कोलोसियम रोमन कैथोलिक समारोहों का स्थल भी रहा है। उदाहरण के लिए, पोप बेनेडिक्ट सोलहवें  गुड फ्राइडे पर कोलोसियम पर क्रॉस के स्क्रिप्टिकल  नामक क्रॉस के स्टेशनों का नेतृत्व किया था।
  13. कोलोसियम के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए इटली के संस्कृति मंत्री, डारियो फ्रांसेचिनी ने यह घोषणा की कि 2018 के अंत तक इसके फर्श को बदला जाएगा। और एक मंच का निर्माण करके इसका उपयोग "उच्चतम स्तर की सांस्कृतिक घटनाओं" के लिए किया जाएगा।

  Last update :  Wed 3 Aug 2022
  Post Views :  12757
आगरा उत्तर प्रदेश के एतमादुद्दौला का मकबरा का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
लखनऊ उत्तर प्रदेश के बड़ा इमामबाड़ा का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
फतेहपुर सीकरी उत्तर प्रदेश के बुलंद दरवाजा का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
आगरा उत्तर प्रदेश के अकबर का मकबरा का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
मुंबई महाराष्ट्र के गेटवे ऑफ इंडिया का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
बागलकोट कर्नाटक के पट्टडकल स्मारक समूह का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
आगरा उत्तर प्रदेश के ताजमहल का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
औरंगाबाद महाराष्ट्र के बीबी का मकबरा का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
साउथ डेकोटा संयुक्त राज्य अमेरिका के माउंट रशमोर का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
मध्य प्रदेश के साँची के स्तूप का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
पोर्ट ब्लेयर अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह के सेल्यूलर जेल का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी