पंजाब पाकिस्तान के रोहतास किला का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी

✅ Published on July 26th, 2019 in प्रसिद्ध आकर्षण, प्रसिद्ध किले

रोहतास किले की जानकारी (Information about Rohtas Fort):

रोहतास किला पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में झेलम शहर के पास स्थित है। यह किला 1541 ई॰ से 1548 ई॰ के मध्य शेरशाह सूरी के शासनकाल में बनाया गया था। वर्तमान में यह किला अपनी बड़ी रक्षात्मक दीवारों और कई स्मारकीय द्वारों के लिए जाना जाता है। रोहतास किले को 1997 में मध्य और दक्षिण एशिया के मुस्लिम सैन्य वास्तुकला के एक उत्तम उदाहरण के लिए यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल के रूप में सूचीबद्ध किया गया था।

रोहतास किले के संक्षिप्त विवरण (Quick Info About Rohtas Fort):

स्थान रोहतास सिटी, झेलम जिला, पंजाब, पाकिस्तान
निर्माण (किसने बनवाया) शेरशाह सूरी
निर्माणकाल 1541 ई॰ से 1548 ई॰ मध्य
प्रकार सांस्कृतिक किला
वस्तुशैली मुस्लिम सैन्य वास्तुकला
युनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल 1997 ई॰ में

रोहतास किले का इतिहास (History of Rohtas Fort):

रोहतास किले का निर्माण सुर साम्राज्य के संस्थापक शेरशाह सूरी ने किया था। किले के निर्माण का मुख्य कारण पंजाब के उत्तरी पोटोहर क्षेत्र के गक्खर जनजातियों को दबाने के लिए और मुगल सम्राट हुमायूँ के अग्रिम कार्यों पर नजर रखने के लिए किया गया था क्योंकि गक्खर जनजाति के लोग मुगल शासकों के सहयोगी थे। परंतु 1555 ई॰ में किले को मुगल बादशाह हुमायूं को सौंप दिया गया। जिसके बाद मुगल सम्राट अकबर द्वारा किले का पुनः निर्माण किया गया। लेकिन मुगल शासकों के लिए इसमें बड़े बगीचों और भव्य वास्तुकला का अभाव होने के कारण यह उनके लिए लोकप्रिय नहीं हुआ। 1825 ई॰ में सिक्खों के सरदार गुरुमुख सिंह लांबा ने किले पर आक्रमण कर, अपना अधिकार स्थापित कर लिया। उनके द्वारा इस किले पर कब्जा केवल प्रशासनिक उद्देश्यों के लिए किया गया था। जिसके बाद 1849 ई॰ में यह ब्रिटिश सरकार के अधीन आया।

रोहतास किले के रोचक तथ्य (Interesting facts about Rohtas Fort):

  1. रोहतास किला त्रिभुजाकर का है, जो 70 हेक्टेयर के एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है।
  2. रोहतास किले को 1997 ई॰ में युनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल के रूप में नामित किया गया था युनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल घोषित करने का मूल कारण 16 वीं शताब्दी के दौरान मध्य और दक्षिण एशिया की मुस्लिम सैन्य वास्तुकला का एक उत्कृष्ट रूप था।
  3. रोहतास किला 4 किलोमीटर की दीवारों से घिरा हुआ है, जिसमें 68 गढ़ वाले टॉवर, 12 विशाल गेट हैं और किले के उत्तर-पश्चिमी भाग में 533 मीटर लंबी एक विशाल दीवार बनी हुई हैं, इस भाग को किले के बाकी हिस्सों से अलग रखा गया है।
  4. किले के अंदर राजा मान सिंह हवेली को छोड़कर कोई ओर महल नहीं हैं, जो गढ़ के उच्चतम बिंदु पर बनाया गया है।
  5. किले के अंदर प्रवेश करने के लिए 12 स्मारकीय द्वार हैं और इन प्रवेश द्वारों पर प्राचीन पहाड़ी की आकृति का अनुसरण किया जा सकता है और ये सभी राखल पत्थर में निर्मित हैं।
  6. किले के प्रवेश द्वारों में सोहेल गेट औपचारिक रूप से मुख्य द्वार था और इसका नाम सोहेल बुखारी नाम के एक स्थानीय संत से लिया गया है, जिसके अवशेष किले के दक्षिण-पश्चिमी भाग में हैं। इस प्रवेश द्वार पर पुष्प आकृति के साथ बाहरी चेहरे पर समृद्ध आकृति बनी हुई है।
  7. किले का शाह चंदावली द्वार किले के मुख्य पथ को जोड़ता है इसका नाम शाह चंदावली के नाम पर रखा गया है जिन्होंने इस गेट पर काम करने के लिए अपनी मजदूरी लेने से इनकार कर दिया था। काम के दौरान संत की मृत्यु हो गई और उन्हें गेट के पास दफनाया गया। उनका धर्मस्थल वहाँ आज भी मौजूद है।
  8. किले का काबुली द्वार का नाम काबुल की सामान्य दिशा में उत्तर पश्चिम की ओर खुलने के कारण लिया गया था। इस गेट के दक्षिणी भाग में शाही मस्जिद है जिसके कारण कई लोग इसे शाही दरवाजा भी कहते हैं।
  9. किले का लंगर खानी द्वार एक फाटक है जिसमें एक केंद्रीय द्वार और बाहरी मेहराब में सोहेल गेट जैसी छोटी खिड़कीयाँ है। इस द्वार का मार्ग लंगर खान (मेस या कैंटिन) की ओर जाता है।
  10. किले में स्थित तालाकी द्वार एक अफवाह से जुड़ा है स्थानीय लोगो के अनुसार राजकुमार साबिर सूरी ने जब इसमें निर्माण के दौरान प्रवेश किया था, तब राजकुमार ज्वर से पीड़ित हो गए थे और यह उनके लिए घातक साबित हुआ था। तब से इसे एक बुरा शगुन माना जाता था और जिसके बाद इसका नाम “तालाकी” पड़ा था।
  11. किले में स्थित खवास खानी गेट का नाम शेर शाह सूरी के सबसे बड़े जनरल खवास खान मरवत के नाम पर रखा गया था। यह किले का मूल प्रवेश द्वार था क्योंकि गेट के बाहर ग्रांड ट्रंक रोड (जीटी रोड) स्थित है। इस गेट में एक कमरा है और दरवाज़े के ऊपर बने अर्धमंडलाकार भाग में सूरजमुखी का रूपांकन किया गया है।
  12. किले में स्थित शाही मस्जिद में एक प्रार्थना कक्ष और एक छोटा प्रांगण है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है की इसकी छत एक गुंबद के आकार की है जिसे अंदर से देखा जा सकता है लेकिन बाहर से देखने पर इसमें कोई गुंबद नहीं दिखाई देती।
  13. किले में स्थित तीन स्टेपवेल्स हैं जिन्हे चूने की चट्टान में गहरी कटाई करके बनाया गया था। इनका उपयोग घोड़ों को पानी पिलाने के लिए किया जाता था।
  14. किले में स्थित रानी महल जिसे क्वींस महल के नाम से भी जाना जाता है, एक मंज़िला संरचना है जिसमें मूल रूप से चार कमरे थे और सभी कमरों के आंतरिक भागों को खूबसूरती से सजाया गया है और कमरे की छतें एक गुंबद के आकार की हैं जिन्हे फूलों, ज्यामितीय पैटर्न और नकली खिड़कियों से सजाया गया है।
  15. किले के अंदर एक गुरुद्वारा भी है जो चाउ साहिब किले के ठीक बाहर, तालाकी गेट के पास स्थित है ।
  16. रोहतास किला दक्षिण एशिया में शुरुआती मुस्लिम सैन्य वास्तुकला का एक उत्कृष्ट उदाहरण है और इस शैली का गहरा प्रभाव मुगल साम्राज्य में वास्तुशिल्प शैलियों में दिखाई देता है साथ ही
  17. यह किला निम्न-राहत नक्काशियों से निर्मित है संगमरमर से निर्मित, बलुआ पत्थर में इसके सुलेख शिलालेख, प्लास्टर सजावट और इसकी चमकती हुई टाइलें किले की खूबसूरती को दर्शातीं हैं।

रोहतास किला कैसे पहुंचे (How to reach Rohtas Fort):

किले का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन दीना रेलवे स्टेशन है यह किले से 10 किमी की दूरी पर स्थित है यहाँ से “रोहतास किला रोड” के माध्यम से आया जा सकता है इसके अतिरिक्त किले से 23.7 किमी की दूरी पर झेलम रेलवे स्टेशन और 18.1 किमी की दूरी पर कला गुजरान रेलवे स्टेशन किले के सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है। और यह दोनों रेलवे स्टेशन ग्रांड ट्रंक रोड से जुड़े हुए हैं।

« Previous
Next »