अटल बिहारी वाजपेयी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

✅ Published on December 25th, 2021 in प्रसिद्ध व्यक्ति, राजनीति में प्रथम

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Atal Bihari Vajpayee Biography and Interesting Facts in Hindi.

अटल बिहारी वाजपेयी का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नामअटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee)
जन्म की तारीख25 दिसंबर 1924
जन्म स्थानग्वालियर, मध्य प्रदेश
निधन तिथि16 अगस्त 2018
माता व पिता का नामकृष्णा वाजपेयी / कृष्ण बिहारी वाजपेयी
उपलब्धि1996 - भारत के प्रथम विशुद्ध गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री
पेशा / देशपुरुष / राजनीतिज्ञ / भारत

अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee)

भारत रत्न""अटल बिहारी वाजपेयी एक प्रसिद्ध भारतीय राजनीतिज्ञ थे। वह देश के पहले विशुद्ध गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री भी हैं। वे तीन बार देश के प्रधानमंत्री पद आसीन हुए। वर्ष 1996 में अटल जी मात्र 13 दिन के लिए ही प्रधानमंत्री बने। इसके बाद 1998 में हुए चुनावों के माध्यम से वह दोबारा प्रधानमंत्री बने। तत्पश्चात् अटल बिहारी वाजपेयी अक्टूबर, 1999 में पुन: प्रधानमंत्री बने और उन्होंने 19 मार्च 1998 से 22 मई 2004 तक अपना तीसरा कार्यकाल सफलतापूर्वक पूर्ण किया। अटलजी हिन्दी कवि, पत्रकार व प्रखर वक्ता भी थे। उन्होंने अनेक पुस्तकों की रचना की। उनको कविताओं से भी खासा लगाव रहा। वह अपने विचारों को कई बार कविताओं के माध्यम से ही सामने रखते थे।

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसम्बर 1924 को लश्कर, ग्वालियर (मध्य प्रदेश) में हुआ था। इनके पिता का नाम पंडित कृष्ण बिहारी वाजपेयी और माता कृष्णा देवी था| इनके पिता मध्य प्रदेश की ग्वालियर रियासत में अध्यापक का काम किया करते थे इसके अतिरिक्त वे हिन्दी व ब्रज भाषा के सिद्धहस्त कवि भी थे|
अटल बिहारी वाजपेयी का निधन 11 जून 2018 (आयु 93 वर्ष) को नई दिल्ली ,दिल्ली भारत में किडनी में संक्रमण की समस्या के कारण इन्हें गंभीर हालत में एम्स में भर्ती कराया गया था।
वाजपेयी ने अपनी स्कूली शिक्षा ग्वालियर के सरस्वती शिशु मंदिर में की। 1934 में, वह अपने पिता के हेडमास्टर के रूप में शामिल होने के बाद, उज्जैन जिले के बारनगर में एंग्लो-वर्नाकुलर मिडिल (AVM) स्कूल में भर्ती हुए। बाद में उन्होंने ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज (अब महारानी लक्ष्मी बाई सरकार कॉलेज ऑफ एक्सीलेंस) में हिंदी, अंग्रेजी और संस्कृत में बीए की पढ़ाई की। उन्होंने डीएवी कॉलेज, कानपुर से राजनीति विज्ञान में एमए के साथ स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी की।

अटल बिहारी वाजपेयी की सक्रियता ग्वालियर में आर्य समाज आंदोलन के युवा विंग आर्य कुमार सभा से शुरू हुई, जिसमें वे 1944 में महासचिव बने। वह 1939 में एक स्वयंसेवक, या स्वयंसेवक के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) में शामिल हुए। बाबासाहेब आप्टे से प्रभावित होकर, उन्होंने 1940 से 1944 के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अधिकारी प्रशिक्षण शिविर में भाग लिया, 1947 में प्रचारक बन गए। 1942 तक, 16 वर्ष की आयु में, वाजपेयी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक सक्रिय सदस्य बन गए। यद्यपि आरएसएस ने भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेने के लिए नहीं चुना था, अगस्त 1942 में, वाजपेयी और उनके बड़े भाई प्रेम को भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान 24 दिनों के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था। एक लिखित बयान देने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया कि जब वह भीड़ का हिस्सा थे, तब उन्होंने 27 अगस्त 1942 को बटेश्वर में आतंकवादी घटनाओं में भाग नहीं लिया था।

1951 में, वाजपेयी को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से संबद्ध, दीनदयाल उपाध्याय के साथ, आरएसएस से जुड़ी हिंदू दक्षिणपंथी राजनीतिक पार्टी नवगठित भारतीय जनसंघ के लिए काम करने के लिए किया गया था। उन्हें दिल्ली में स्थित उत्तरी क्षेत्र के पार्टी प्रभारी के राष्ट्रीय सचिव के रूप में नियुक्त किया गया था। वह जल्द ही पार्टी नेता सियाम प्रसाद मुखर्जी के अनुयायी और सहयोगी बन गए। 1957 में भारतीय आम चुनाव में, वाजपेयी ने लोकसभा, भारतीय संसद के निचले सदन में चुनाव लड़ा। वह मथुरा में राजा महेंद्र प्रताप से हार गए, लेकिन बलरामपुर से चुने गए। लोकसभा में उनके वक्तृत्व कौशल ने प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को इतना प्रभावित किया कि उन्होंने भविष्यवाणी की कि वाजपेयी किसी दिन भारत के प्रधानमंत्री बनेंगे। वह नानाजी देशमुख, बलराज मधोक और लालकृष्ण आडवाणी के साथ पार्टी चलाने वाले 1968 में जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने।

1975 में प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आंतरिक आपातकाल के दौरान वाजपेयी को कई अन्य विपक्षी नेताओं के साथ गिरफ्तार किया गया था। गांधी ने 1977 में आपातकाल की स्थिति को समाप्त कर दिया। बीजेएस सहित कई दलों ने मिलकर जनता पार्टी बनाई, जिसने 1977 के आम चुनावों में जीत हासिल की। गठबंधन के चुने हुए नेता मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बने। वाजपेयी ने देसाई के मंत्रिमंडल में विदेश मंत्री या विदेश मंत्री के रूप में कार्य किया। विदेश मंत्री के रूप में, वाजपेयी 1977 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिंदी में भाषण देने वाले पहले व्यक्ति बने। 1979 में, देसाई और वाजपेयी ने जनता पार्टी के पतन के कारण इस्तीफा दे दिया। भारतीय जनसंघ के तत्कालीन सदस्य 1980 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के गठन के लिए आए, जिसमें वाजपेयी इसके पहले अध्यक्ष थे। 1984 के आम चुनाव प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा किए गए थे। जब उन्होंने 1977 और नई दिल्ली से 1980 का चुनाव जीता था, तो वाजपेयी चुनाव के लिए अपने गृह नगर ग्वालियर चले गए। उन्होंने 1957-1962 तक बलरामपुर से शुरू होने वाले विभिन्न पदों के लिए संसद सदस्य, लोकसभा के रूप में कार्य किया। उन्होंने 1967-1971 तक बलरामपुर से, फिर 1971-1977 तक ग्वालियर से और फिर 1977-1984 तक नई दिल्ली से सेवा की। अंत में, उन्होंने 1991-2009 में लखनऊ से सेवा की।


जीवन के कुछ प्रमुख तथ्य इस तरह से है, वाजपेयी आजीवन अविवाहित रहे। वे एक ओजस्वी एवं पटु वक्ता (ओरेटर) एवं सिद्ध हिन्दी कवि भी थे। परमाणु शक्ति सम्पन्न देशों की संभावित नाराजगी से विचलित हुए बिना उन्होंने अग्नि-दो और परमाणु परीक्षण कर देश की सुरक्षा के लिये साहसी कदम भी उठाये। सन् 1988 में राजस्थान के पोखरण में भारत का द्वितीय परमाणु परीक्षण किया जिसे अमेरिका की सी०आई०ए० को भनक तक नहीं लगने दी। अटल सबसे लम्बे समय तक सांसद रहे हैं और जवाहरलाल नेहरू व इंदिरा गांधी के बाद सबसे लम्बे समय तक गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री भी। वह पहले प्रधानमंत्री थे जिन्होंने गठबन्धन सरकार को न केवल स्थायित्व दिया अपितु सफलता पूर्वक संचालित भी किया। अटल ही पहले विदेश मंत्री थे जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में भाषण देकर भारत को गौरवान्वित किया था। 2012 में, वाजपेयी आउटलुक पत्रिका के द ग्रेटेस्ट इंडियन के पोल में 9 वें स्थान पर थे। अक्टूबर 2018 में, गंगोत्री ग्लेशियर के पास चार हिमालय की चोटियों का नाम उनके नाम पर रखा गया है
नरेंद्र मोदी के प्रशासन ने 2014 में घोषणा की कि वाजपेयी के जन्मदिन, 25 दिसंबर को सुशासन दिवस के रूप में चिह्नित किया जाएगा। दुनिया की सबसे लंबी सुरंग, रोहतांग में अटल सुरंग, लेह-मनाली राजमार्ग पर हिमाचल प्रदेश अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर थी। मंडोवी नदी पर भारत का तीसरा सबसे लंबा केबल-स्टे ब्रिज अटल सेतु को उनकी स्मृति में नामित किया गया था। छत्तीसगढ़ सरकार ने नया रायपुर का नाम बदलकर अटल नगर कर दिया।
वर्षपुरस्कार और सम्मानपुरस्कार देने वाला देश एवं संस्था
1992पद्म विभूषणभारत सरकार
1993डी लिट उपाधिकानपुर विश्वविद्यालय
1994लोकमान्य तिलक पुरस्कारभारत सरकार
1994फेम इंडिया श्रेष्ठ सांसद पुरस्कारभारत सरकार
1994भारत रत्न पंडित गोविंद वल्लभ पंत पुरस्कारभारत सरकार
1999ऑसीम अलौइट के ऑर्डर का ग्रैंड कॉर्डनमोरक्को
2015डी लिट उपाधिमध्य प्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय
2015फ्रेंड्स ऑफ बांग्लादेश लिबरेशन वार अवॉर्डबांग्लादेश सरकार
2015भारतरत्न से सम्मानितभारत सरकार
2016बांग्लादेश मुक्ति युद्ध सम्मान का प्राप्तकर्ताबांग्लादेश

व्यक्तिउपलब्धि
प्रणब मुखर्जी की जीवनीभारत के तेरहवें राष्ट्रपति
रामनाथ कोविंद की जीवनीभारत के 14वें और वर्तमान राष्ट्रपति
सुषमा स्वराज की जीवनीहरियाणा विधानसभा के सदस्य के रूप में
शीला दीक्षित की जीवनीदिल्ली की दूसरी महिला मुख्यमंत्री
सैफुद्दीन किचलू की जीवनीलेनिन शांति पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय पुरुष
लाल बहादुर शास्त्री की जीवनीमरणोपरांत 'भारत रत्न' से सम्मानित प्रथम साहित्यकार
इंदिरा गाँधी की जीवनीप्रथम भारतीय महिला प्रधानमंत्री
सरदार वल्लभभाई पटेल की जीवनीस्वतंत्र भारत के प्रथम गृहमंत्री और उप-प्रधानमंत्री
वी. के. कृष्ण मेनन की जीवनीब्रिटेन में उच्चायुक्त बनने वाले प्रथम भारतीय व्यक्ति
मेघनाद साहा की जीवनीलोकसभा हेतु निर्वाचित प्रथम भारतीय वैज्ञानिक
डॉ. मनमोहन सिंह की जीवनीभारत के प्रथम सिख प्रधानमंत्री
मुथुलक्ष्मी रेड्डी की जीवनीभारत की पहली महिला विधायक
पंडित जवाहरलाल नेहरू की जीवनीभारत के प्रथम प्रधानमंत्री
सुचेता कृपलानी की जीवनीभारत के किसी राज्य की प्रथम महिला मुख्यमंत्री
जानकी रामचंद्रन की जीवनीभारत के किसी राज्य की मुख्यमंत्री बनने वाली प्रथम महिला अभिनेत्री
ज्ञानी जैल सिंह की जीवनीभारत के प्रथम सिख राष्ट्रपति
डॉ. ज़ाकिर हुसैन की जीवनीभारत के प्रथम मुस्लिम राष्ट्रपति
राधाबाई सुबारायन की जीवनीभारत की प्रथम महिला सांसद
वी. एस. रमादेवी की जीवनीभारत की प्रथम महिला मुख्य चुनाव आयुक्त
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनीभारत के प्रथम उपराष्ट्रपति, भारत रत्न से सम्मानित प्रथम भारतीय
नजमा हेपतुल्ला की जीवनीइंटर पार्लियामेंट्री यूनियन की प्रथम आजीवन महिला अध्यक्ष
सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा की जीवनीवायसराय की कार्यकारिणी परिषद् के पहले भारतीय सदस्य
डॉ. सच्चिदानन्द सिन्हा की जीवनीभारतीय संविधान सभा के प्रथम अध्यक्ष
सरोजिनी नायडू की जीवनीप्रथम महिला राज्यपाल
डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जीवनीभारत के प्रथम राष्‍ट्रपति
गणेश वासुदेव मावलंकर की जीवनीस्वतंत्र भारत के प्रथम लोकसभा अध्यक्ष
अमृत कौर की जीवनीभारत की प्रथम महिला केंद्रीय मंत्री
व्योमेश चन्द्र बनर्जी की जीवनीभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रथम अध्यक्ष
प्रतिभा पाटिल की जीवनीभारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति
विजय लक्ष्मी पंडित की जीवनीसंयुक्त राष्ट्र संघ महासभा की प्रथम महिला अध्यक्ष
लाल मोहन घोष की जीवनीब्रिटिश संसद हेतु चुनाव लड़ने वाले प्रथम भारतीय पुरुष
दादा भाई नौरोजी की जीवनीब्रिटिश सांसद बनने वाले प्रथम भारतीय व्यक्ति
मायावती की जीवनीभारत के किसी राज्य की प्रथम दलित मुख्यमंत्री
शन्नो देवी की जीवनीविधानसभा की प्रथम महिला अध्यक्ष
चोकिला अय्यर की जीवनीप्रथम भारतीय महिला विदेश सचिव
रेहाना अमीर की जीवनीब्रिटेन में पार्षद बनने वाली प्रथम भारतीय महिला
रंगनाथ मिश्र की जीवनीराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के प्रथम अध्यक्ष
मीरा कुमार की जीवनीप्रथम महिला लोकसभा अध्यक्ष (स्पीकर)
डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की जीवनीभारत के 11वें राष्ट्रपति
फखरुद्दीन अली अहमद की जीवनीभारत के पांचवे राष्ट्रपति
गोपाल कृष्ण गोखले की जीवनीभारत सेवक समाज के संस्थापक
मदन मोहन मालवीय की जीवनीबनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्थापक
संजय गांधी की जीवनीमारुति 800 को देश में लाने का श्रेय

📊 This topic has been read 137 times.

« Previous
Next »