राष्ट्रीय विज्ञान दिवस संक्षिप्त तथ्य

कार्यक्रम नामराष्ट्रीय विज्ञान दिवस (National Science Day)
कार्यक्रम दिनांक28 / फरवरी
कार्यक्रम की शुरुआत28 फरवरी 1987
कार्यक्रम का स्तरराष्ट्रीय दिवस
कार्यक्रम आयोजकभारत

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का संक्षिप्त विवरण

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस विज्ञान से होने वाले लाभों के प्रति समाज में जागरूकता लाने और वैज्ञानिक सोच पैदा करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तत्वावधान में हर साल 28 फरवरी को भारत में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का इतिहास

भारत में 28 फरवरी 1928 एक महान दिन था जब प्रसिद्ध भारतीय भौतिक शास्त्री चन्द्रशेखर वेंकट रमन के द्वारा भारतीय विज्ञान के क्षेत्र में आविष्कार पूरा हुआ था। वो एक तमिल ब्राह्मण थे और वो विज्ञान के क्षेत्र के पहले ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने भारत में ऐसे आविष्कार पर शोध किया था।

भविष्य में इस कार्यक्रम को हमेशा याद और सम्मान देने के लिये वर्ष 1986 में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकीय संचार के लिये राष्ट्रीय परिषद के द्वारा भारत में 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रुप में नामित करने के लिये भारतीय सरकार से कहा गया था।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का उद्देश्य

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का मूल उद्देश्य तरुण विद्यार्थियों को विज्ञान के प्रति आकर्षित व प्रेरित करना तथा जनसाधारण को विज्ञान एवं वैज्ञानिक उपलब्धियों के प्रति सजग बनाना है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस कैसे मनाया जाता है?

हर वर्ष भारत में मुख्य विज्ञान उत्सवों में से एक के रुप में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस को मनाया जाता है जिसके दौरान स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थी विभिन्न विज्ञान प्रोजेक्ट्स को प्रदर्शित करते हैं साथ ही राष्ट्रीय और राज्य विज्ञान संस्थान अपने नवीतम शोध प्रदर्शित करते हैं।

इस समारोह में सार्वजनिक भाषण, रेडियो-टीवी टॉक शो, विज्ञान फिल्मों की प्रदर्शनी, विषय और संकल्पना पर आधरित विज्ञान प्रदर्शनी, नाईट स्काई देखना, सजीव प्रोजेक्ट्स और शोध प्रदर्शनी, चर्चा, प्रश्न-उत्तर प्रतियोगिता, भाषण, विज्ञान मॉडल प्रदर्शनी आदि बहुत सारे क्रियाकलाप होते हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस विषय (Theme)

वर्षराष्ट्रीय विज्ञान दिवस की थीम
1999“हमारी बदलती धरती”।
2000“मूल विज्ञान में रुचि उत्पन्न करना”।
2001“विज्ञान शिक्षा के लिये सूचना तकनीक”।
2002“पश्चिम से धन”।
2003“जीवन की रुपरेखा- 50 साल का डीएनए और 25 वर्ष का आईवीएफ”।
2004“समुदाय में वैज्ञानिक जागरुकता को बढ़ावा देना”।
2005“राष्ट्र निर्माण के लिए विज्ञान”।
2006“हमारे भविष्य के लिये प्रकृति की परवरिश करें”।
2007“प्रति द्रव्य पर ज्यादा फसल”।
2008“पृथ्वी ग्रह को समझना”।
2009“विज्ञान की सीमा को बढ़ाना”।
2010“दीर्घकालिक विकास के लिये लैंगिक समानता, विज्ञान और तकनीक”।
2011“दैनिक जीवन में रसायन”।
2012“स्वच्छ ऊर्जा विकल्प और परमाणु सुरक्षा”।
2013“अनुवांशिक संशोधित फसल और खाद्य सुरक्षा”।
2014“वैज्ञानिक मनोवृत्ति को प्रोत्साहित करना”।
2015“राष्ट्र निर्माण के लिये विज्ञान”।
2016“देश के विकास के लिए वैज्ञानिक मुद्दों पर सार्वजनिक प्रशंसा बढ़ाने के लक्ष्य”।
2017“विशेष रूप से एबल्ड पर्सन के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी”।
2018 "एक सतत भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी”।
2019“विज्ञान के लिए जन और जन विज्ञान के लिए विज्ञान”।
2020“विज्ञान में महिलाएँ”।
2021“भविष्य का एसटीआई: शिक्षा कौशल और कार्य पर प्रभाव”।
2022“सतत भविष्य के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में एकीकृत दृष्टिकोण”।
2022“वैश्विक कल्‍याण के लिए वैश्विक विज्ञान”।

फरवरी माह के महत्वपूर्ण दिवस की सूची - (राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस):

तिथि दिवस का नाम - उत्सव का स्तर
02 फरवरीविश्व आर्द्रभूमि (वेटलैंड्स) दिवस - अंतरराष्ट्रीय दिवस
04 फरवरीविश्‍व कैंसर दिवस - अंतरराष्ट्रीय दिवस
14 फरवरीवेलेंटाइन दिवस - अंतरराष्ट्रीय दिवस
20 फरवरीविश्व सामाजिक न्याय दिवस - अंतरराष्ट्रीय दिवस
21 फरवरीअंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस - अंतरराष्ट्रीय दिवस
22 फरवरीविश्व विचार दिवस - अंतरराष्ट्रीय दिवस
24 फरवरीकेन्द्रीय उत्पाद शुल्क दिवस - राष्ट्रीय दिवस
28 फरवरीराष्ट्रीय विज्ञान दिवस - राष्ट्रीय दिवस

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस प्रश्नोत्तर (FAQs):

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस प्रत्येक वर्ष 28 फरवरी को मनाया जाता है।

हाँ, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस एक राष्ट्रीय दिवस है, जिसे पूरे भारत हम प्रत्येक वर्ष 28 फरवरी को मानते हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस की शुरुआत 28 फरवरी 1987 को की गई थी।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस प्रत्येक वर्ष भारत द्वारा मनाया जाता है।

  Last update :  Tue 28 Jun 2022
  Post Views :  9099