विश्व पर्यावास दिवस (अक्टूबर माह का प्रथम सोमवार) – World Habitat Day (First Monday of October)

विश्व पर्यावास दिवस (अक्टूबर माह का प्रथम सोमवार) | World Habitat Day in Hindi
विश्व पर्यावास दिवस: अक्टूबर माह का प्रथम सोमवार

विश्व पर्यावास दिवस कब मनाया जाता है?

प्रत्येक वर्ष अक्टूबर महीने के पहले सोमवार को विश्व पर्यावास दिवस मनाया जाता है। वर्ष 1985 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अक्टूबर में प्रथम सोमवार को हर साल विश्व पर्यावास दिवस को मनाने की घोषणा की थी।

विश्व पर्यावास दिवस 2020:

इस साल 05 अक्टूबर, सोमवार को विश्व पर्यावास दिवस मनाया जायेगा। इस वर्ष की थीम “सभी के लिए आवास: एक बेहतर शहरी भविष्य (Housing For All: A Better Urban Future )” है।

विश्व पर्यावास दिवस का इतिहास:

वर्ष 1986 में पहली बार  विश्व पर्यावास दिवस का आयोजन किया गया था, जबकि इस दिवस का मूल उद्देश्य “आवास मेरा अधिकार है” था। इस आयोजन का स्थल नैरोबी शहर था। इसके अलावा इस आयोजन के निम्नलिखित उद्देश्य भी रहे-

  • बेघर के लिए आश्रय (1987)
  • हमारा पड़ोस (1995)
  • भविष्य के शहर (1997)
  • सुरक्षित शहर (1998)
  • शहरी शासन में महिला (2000)
  • शहरों के लिए पानी और स्वच्छता (2001)
  • शहरों के बिना मलिन बस्तियों (2003)

विश्व पर्यावास दिवस का उद्देश्य:

इस वर्ष विश्व पर्यावास दिवस का मूल उद्देश्य सतत विकास लक्ष्य समावेशी, सुरक्षित, लचीला और स्थायी शहरों को प्राप्त करने के लिए स्थायी अपशिष्ट प्रबंधन के लिए नवीन सीमांत प्रौद्योगिकियों के योगदान को बढ़ावा दे रहा है। वर्ल्ड इकोनॉमिक एंड सोशल सर्वे 2018 के अनुसार, सीमांत प्रौद्योगिकियां लोगों के काम करने और रहने के साथ-साथ सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने और जलवायु परिवर्तन के समाधान के प्रयासों में तेजी लाने के लिए काफी संभावनाएं रखती हैं।इसके अलावा गरीबी को समाप्त करने और उसमें सुधर करने के लिए जमीनी स्तर पर कार्रवाई के लिए प्रोत्साहित करना है। वर्ष 2016 में इस दिवस का मुख्य विषय-“केंद्र में आवास” था।

विश्व पर्यावास दिवस के बारे में कुछ तथ्य:

  • विश्व पर्यावास दिवस एक वैश्विक अनुपालन है ना कि एक सार्वजनिक अवकाश है।
  • हर साल यूएन हैबिटेट प्रतिवर्ष के लिए निर्धारित थीम को प्रचार-प्रसार करने और पर्यावास को बढ़ावा देने के सन्दर्भ में जागरूकता को बढ़ाने के लिए गतिविधियों का आयोजन करता है, जिसमें हिस्सा लेने के लिए केंद्र सरकार, स्थानीय सरकार, नागरिक समाज, निजी क्षेत्र और मीडिया उसके सहयोगियों के रूप में कार्य करते हैं।
  • ‘पर्यावास स्क्रॉल ऑफ ऑनर’ पुरस्कार, संयुक्त राष्ट्र के मानव बस्ती कार्यक्रम (यूएनएचएसपी) द्वारा वर्ष 1989 से शुरू किया गया था। इस पुरस्कार को दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित मानव बस्ती पुरस्कार के तौर पर माना जाता है। इस पुरस्कार का मूल उद्देश्य ऐसे कार्यों को प्रारंभ करना है जो संघर्षरत और बेघर लोगों की पीड़ा को न केवल समझ सके बल्कि उन्हें दूर भी कर सके। इसके अलावा मानव बस्तियों के पुनर्निर्माण में सहयोग कर सके और शहरी जीवन की गुणवत्ता के विकास में सहयोग दे सके।

विविध तथ्य:

संयुक्त राष्ट्र पर्यावास मिशन के अंतर्गत विविध तथ्य समाहित होते हैं, जैसे-

  • सभी के लिए सुरक्षित और स्वस्थ रहने वाले पर्यावरण का विकास विशेष रूप से बच्चों के लिए।
  • पर्याप्त और टिकाऊ परिवहन और ऊर्जा।
  • शहरी क्षेत्रों में हरियाली की स्थापना और पौधरोपण की व्यवस्था।
  • शुद्ध और सुरक्षित पीने के पानी के साथ ही स्वच्छता।
  • सांस लेने के लिए ताजा और प्रदूषण से रहित हवा।
  • लोगों के लिए पर्याप्त रोजगार के अवसर।
  • झुग्गी में रहने वाले लोगो में सुधार और शहरी योजना में वृद्धि।
  • अपशिष्ट पदार्थ की पुनरावृत्ति सहित बेहतर कचरा प्रबंधन।

विश्व हृदय दिवस के विषय (थीम):

विश्व पर्यावास दिवस 2020 का विषय (थीम)- “सभी के लिए आवास: एक बेहतर शहरी भविष्य (Housing For All: A Better Urban Future )” है।
विश्व पर्यावास दिवस 2019 का विषय (थीम)- “फ्रंटियर टेक्नॉलॉजीज़ एक इनोवेटिव टूल के रूप में ट्रांसफॉर्म वेस्ट टू वेल्थ (Frontier Technologies as an Innovative Tool to Transform Waste to Wealth)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2018 का विषय (थीम)- “नगरपालिका ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (Municipal Solid Waste Management)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2017 का विषय (थीम)- “हाउसिंग नीतियां: किफायती आवास (Housing Policies: Affordable Housing)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2016 का विषय (थीम)- “केंद्र में आवास (Housing at the Centre)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2015 का विषय (थीम)- “सभी के लिए सार्वजनिक स्थान (Public Spaces for All)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2014 का विषय (थीम)- “मलिन बस्तियों से आवाजें (Voices from Slums)”
विश्व पर्यावास दिवस 2013 का विषय (थीम)- “शहरी गतिशीलता (Urban Mobility)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2012 का विषय (थीम)- “बदलते शहर, इमारत के अवसर (Changing Cities, Building Opportunities )” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2011 का विषय (थीम)- “शहर और जलवायु परिवर्तन (Cities and Climate Change)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2010 का विषय (थीम)- “बेहतर शहर, बेहतर जीवन (Better City, Better Life)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2009 का विषय (थीम)- “हमारे शहरी भविष्य की योजना बनाना (Planning our urban future)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2008 का विषय (थीम)- “सुरीले शहर (Harmonious Cities)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2007 का विषय (थीम)- “एक सुरक्षित शहर एक न्यायपूर्ण शहर है (A safe city is a just city)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2006 का विषय (थीम)- “शहर, आशा के परिमाण (Cities, magnets of hope)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2005 का विषय (थीम)- “मिलेनियम डेवलपमेंट गोल्स एंड द सिटी (The Millennium Development Goals and the City)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2004 का विषय (थीम)- “शहर – ग्रामीण विकास के इंजन (Cities – Engines of Rural Development)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2003 का विषय (थीम)- “शहरों के लिए पानी और स्वच्छता (Water and Sanitation for Cities)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2002 का विषय (थीम)- “शहर-से-शहर सहयोग (City-to-City Cooperation)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2001 का विषय (थीम)- “स्लम विहीन शहर (Cities without Slums)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 2000 का विषय (थीम)- “शहरी शासन में महिलाएं (Women in Urban Governance)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1999 का विषय (थीम)- “सभी के लिए शहर (Cities for All)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1998 का विषय (थीम)- “सुरक्षित शहर (Safer Cities)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1997 का विषय (थीम)- “भविष्य के शहर (Future Cities)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1996 का विषय (थीम)- “शहरीकरण, नागरिकता और मानव एकता (Urbanization, Citizenship and Human Solidarity)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1995 का विषय (थीम)- “हमारे पड़ोसी (Our Neighbourhood)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1994 का विषय (थीम)- “घर और परिवार (Home and the Family)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1993 का विषय (थीम)- “महिला और आश्रय विकास (Women and Shelter Development)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1992 का विषय (थीम)- “आश्रय और सतत विकास (Shelter and Sustainable Development)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1991 का विषय (थीम)- “आश्रय और रहने का वातावरण (Shelter and the Living Environment)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1990 का विषय (थीम)- “आश्रय और शहरीकरण (Shelter and Urbanization)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1989 का विषय (थीम)- “आश्रय, स्वास्थ्य और परिवार (Shelter, Health and the Family)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1988 का विषय (थीम)- “आश्रय और समुदाय (Shelter and Community)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1987 का विषय (थीम)- “बेघर के लिए आश्रय (Shelter for the Homeless)” था।
विश्व पर्यावास दिवस 1986 का विषय (थीम)- “आश्रय मेरा अधिकार है (Shelter is my Right)” था।

अक्टूबर माह के महत्वपूर्ण दिवस की सूची - (राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस):

तिथि दिवस का नाम - उत्सव का स्तर
02 अक्टूबरअन्तरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
03 अक्टूबरविश्व पर्यावास दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
04 अक्टूबरविश्व पशु कल्याण दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
05 अक्टूबरविश्व शिक्षक (अध्‍यापक) दिवस (यूनेस्‍को) - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
09 अक्टूबरविश्व डाक दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
10 अक्टूबरविश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
12 अक्टूबरविश्‍व दृष्टि दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
14 अक्टूबरविश्व मानक दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
16 अक्टूबरविश्व खाद्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
17 अक्टूबरअन्तरराष्ट्रीय ग़रीबी उन्‍मूलन दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
20 अक्टूबरअंतरराष्ट्रीय ऑस्टियोपोरोसिस दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 अक्टूबरविश्व आयोडीन कमी दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
24 अक्टूबरविश्व पोलियो दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
24 अक्टूबरविश्‍व विकास सूचना दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
30 अक्टूबरविश्‍व मितव्‍ययता (बचत) दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
31 अक्टूबरराष्ट्रीय एकता दिवस - राष्ट्रीय दिवस
आपने अभी पढ़ा : Vishv Paryaavaas Divas

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *