अखनूर जम्मू कश्मीर के अखनूर का किला का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी

Interesting facts about Akhnoor Fort
अखनूर किले के बारे में रोचक तथ्य

अखनूर किला, जम्मू कश्मीर के बारे में जानकारी: (Information about Akhnoor Fort, Jammu and Kashmir)

अखनूर का किला दो मंजिला है, जो चेनाब नदी के दाहिने किनारे एक चट्टान पर बना हुआ है। इस किले का प्राचीन नाम असिक्नी है। जिसके कारण यह किला जम्मू कश्मीर के एक ऐतिहासिक काल को दर्शाता है। और यह किला 1982 ई॰ से भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अधीन है साथ ही इसे स्मारक अधिनियम, 1958 के तहत संरक्षित राष्ट्रीय स्मारक घोषित किया गया था।

अखनूर किले का संक्षिप्त विवरण:

स्थान जिला अखनूर, जम्मू कश्मीर, भारत
निर्मित 1657-1672
निर्माता  (किसने बनवाया) मियां तेज सिंह
वास्तुकला उस्ताद बेग कश्मीरी
वास्तुकला शैली प्राचीन मुगल वास्तु शैली
प्रकार सांस्कृतिक, किला

अखनूर किले का इतिहास: (History of Akhnoor Fort)

अखनूर किला चेनाब नदी के दाहिने किनारे पर स्थित है। जिसका प्राचीन नाम असिक्नी है। इस किले की निर्माण की शुरुआत 1762 ई॰ में मियां तेज सिंह ने कारवाई थी परंतु इसका निर्माण कार्य 1802 में राजा के उत्तराधिकारी आलम सिंह की देख रेख में सम्पूर्ण हुआ था तब अखनूर जिले का राजा आलम सिंह था। आलम सिंह राजा मियां तेज सिंह का पुत्र था। परंतु कई पुरातत्‍वविदों के अनुसार, यह किला कई काल पहले हडप्‍पा संस्‍कृति के काल में बना हुआ है जो बाद में नष्‍ट हो गया था। जिस तरह अखनूर किला अपनी प्राचीनता और ऐतिहासिक महत्व के लिए इतिहास में गर्व का स्थान पाता है, ठीक उसी तरह चंद्रभागा के दाहिने किनारे पर जिया पोता घाट यानी अखनूर जिले में आज की चिनाब नदी इस प्राचीन शहर की शान है।

अखनूर किले के बारे में रोचक तथ्य: (Interesting facts about Akhnoor Fort)

  1. अखनूर किले में बराबर अंतराल पर गढ़ों के साथ ऊंची एवं बड़ी किलेबंदी दीवारें हैं और जिस पर युद्धपोतों के साथ ताज पहनाया जाता है। कोनों पर दो-मंजिला वॉच-टॉवर हैं, जिन्हें युद्ध में विलय होने पर ताज पहनाया जाता है।
  2. किले के दो भाग हैं जो एक दीवार से टकराते हैं जिसके द्वार दक्षिणी ओर महल की ओर हैं। पूरा महल दो मंजिला है, और आंगन के सामने की दीवारों पर मेहराबें सजी हुई हैं, जिनमें से कुछ में भित्ति चित्र हैं।
  3. किले की दीवारों पर निर्मित भित्तिचित्र कला सबसे पुरानी चित्रकला है। प्रागैतिहासिक युग के ऐतिहासिक रिकॉर्ड में पहले मिट्टी के बर्तन बनाये जाते थे, लेकिन कुछ समय बाद लोगों ने मिट्टी का प्रयोग दीवरों पर चित्र बनाने के लिये करने लगे थे।
  4. अखनूर किले का प्रवेश नदी के किनारों और उत्तरी तरफ दोनों के माध्यम से प्राप्त होता है। पूर्व में, किले का एक बड़ा हिस्सा खंडहर में था, जिसका अब संरक्षण कार्य प्रगति पर है।
  5. अखनूर किले जैसे प्राचीन स्थल पर तीन काल के इतिहास को उजागर किया है। पहली अवधि में हड़प्पा लाल और ग्रे मिट्टी के बरतन द्वारा दर्शाया गया है जिसमें जार, बीकर और गोबल शामिल हैं। दूसरी अवधि में प्रारंभिक ऐतिहासिक मिट्टी के बर्तनों की उपस्थिति से चिह्नित किया गया है और तीसरी अवधि में कुषाण वस्तुओं द्वारा दर्शायी गई है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *