हिल पैलेस संग्रहालय संक्षिप्त जानकारी

स्थानत्रिपुनिथुरा, केरल (भारत)
निर्माणकाल1865
प्रकारसंग्रहालय

हिल पैलेस संग्रहालय का संक्षिप्त विवरण

हिल पैलेस संग्रहालय केरल का सबसे बड़ा पुरातात्विक संग्रहालय है, जोकि कोच्चि शहर के पास त्रिपुनीथुरा नामक स्थान पर स्थित है। केरल को उसकी खूबसूरती के कारण गॉड्स ओन कंट्री के नाम से जाना जाता है। प्राचीनकाल में यह शाही पैलेस प्रशासनिक कार्यालय और कोचीन महाराजा का आधिकारिक निवास स्थान था। यह म्यूजियम अपनी सुंदरता और अद्भुत संरचना के कारण दुनियाभर में प्रसिद्ध है।

हिल पैलेस संग्रहालय का इतिहास

कोच्चि साम्राज्य की आधिकारिक राजधानी पहले त्रिशूर में स्थित थी और महाराजा के शाही कार्यालय के साथ अदालत भी शहर में ही स्थित थी। हालांकि, अनुष्ठानवादी रीति-रिवाजों के अनुसार, कोच्चि की रानी (पेनवाज़ीथपुरन) की सीट रॉयल राजधानी के रूप में देखी गई थी क्योंकि कोच्चि शाही परिवार में मैट्रिलिनल परंपराएं थीं और रानी को राज्य के संप्रभु के रूप में माना जाता था जिसके तहत राजा शासन करता था।

साल 1755 के बाद से, रानी और उसके नौकर-चाकर भी त्रिपुनीथुरा में निवास करने लगे, जिससे इस शहर को वहां की आधिकारिक राजधानी बना दिया गया। बाद में राजकुमार राम वर्मा त्रिपुनीथुरा के राजा बन गए।

साल 1865 में राजा के रहने के लिए एक शाही कार्यालय का निर्माण किया गया था। प्रारंभ में यह शाही कार्यालय, अदालत की इमारत और शाही सचिवों के महलों के कार्यालयों के रूप में शुरू हुआ, लेकिन जल्द ही बहुत सी संरचनाओं को भी मुख्य संरचना में विभिन्न उद्देश्यों में जोड़ा गया था।

हिल पैलेस संग्रहालय के रोचक तथ्य

  1. साल 1865 में निर्मित इस संग्रहालय परिसर में कुल 49 इमारतें है।
  2. कोच्चि शहर से लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित ये महल 54 एकड़ (220,000 वर्ग मीटर) में फैला हुआ है।
  3. इस अद्भुत महल में बनी सभी इमारतें समकालीन शैली को ध्यान में रखकर बनाई गई हैं, जोकि पारंपरिक वास्तुकला शैली का एक उत्कृष्ट उदाहरण हैं।
  4. महल परिसर के अन्दर हिरन पार्क, पुरातात्विक संग्रहालय, बच्चों का पार्क, एक प्रागैतिहासिक पार्क और एक ऐतिहासिक संग्रहालय भी मौजूद है।
  5. इनके अलावा पैलेस के आँगन में कुछ दुर्लभ मसाले और जड़ी बूटियाँ भी देखी जा सकती हैं।
  6. इस महल के रखरखाव की जिम्मेदारी केरल राज्य पुरातत्व विभाग संग्रहालय को सौंपी गई है तथा उन्होंने महल की मूल स्थापत्य शैली को संरक्षित रखने का एक शानदार काम किया है।
  7. कोचिन रॉयल परिवार द्वारा इस महल को केरल सरकार को सौंप दिया गया था और साल 1980 में, महल पुरातत्व विभाग द्वारा ले लिया गया था और बाद में यह एक संग्रहालय में परिवर्तित हो गया।
  8. साल 1986 में इस पैलेस को आम जनता के लिए खोल दिया गया था।
  9. इस संग्रहालय का परिसर मलयालम फिल्म उद्योग की सबसे पसंदीदा जगहों में से एक है। इसी पैलेस में चर्चित मलयालम फिल्म मणिचित्राअजहु के कुछ दृश्यों की शूटिंग भी की गई है।
  10. यहां पर 200 से ज्यादा बर्तनों और सिरामिक पात्रों के दुर्लभ नमूने भी प्रदर्शित किए गए हैं जो जापान और चीन से लाए गए हैं।
  11. हिल पैलेस म्यूजियम पर्यटकों के लिए सोमवार को छोड़कर सप्ताह के बाकी सभी 6 दिन 9:00 से 12:30 बजे और 02:00 से 04:30 बजे तक खुला रहता है।
  12. इस महल में भारतीयों के लिए प्रवेश का शुल्क 30 रुपये और 5 से 12 के बच्चों के लिए 10 रुपये है। यहाँ पर फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करना निषेध है।

  Last update :  Wed 3 Aug 2022
  Post Views :  9420
  Post Category :  प्रसिद्ध महल
पटियाला पंजाब के शीश महल का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
गुजरात के चंपानेर-पावागढ़ पुरातत्व उद्यान का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
जयपुर राजस्थान के सिटी पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
कर्नाटक के मैसूर पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
जयपुर राजस्थान के हवा महल का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
हैदराबाद तेलंगाना के फलकनुमा पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
उदयपुर राजस्थान के सिटी पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
जोधपुर राजस्थान के उम्मैद भवन पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
हैदराबाद तेलंगाना के चौमहल्ला पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
बीकानेर राजस्थान के लालगढ़ पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी
पुणे महाराष्ट्र के आगा खान पैलेस का इतिहास तथा महत्वपूर्ण जानकारी