भारतीय मुद्रा, इतिहास, प्रयुक्त भाषाएँ एवं सभी नोट के महत्वपूर्ण तथ्य

✅ Published on September 11th, 2019 in बैंकिंग, सामान्य ज्ञान अध्ययन

भारतीय रुपया के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी: (Important information about Indian Rupee)

भारतीय रुपया जिसका प्रतीक-चिह्न ₹ और कोड INR है यह भारत की राष्ट्रीय मुद्रा है। और वर्तमान में इसका बाज़ार नियामक और जारीकर्ता भारतीय रिज़र्व बैंक है। भारतीय रुपया का प्रतीक चिन्न 15 जुलाई 2010 चुना गया था, जिसे आईआईटी, गुवाहाटी के प्रोफेसर डी. उदय कुमार ने डिज़ाइन किया है। भारत विश्व का ऐसा पंचवा देश है, जिसे उसके प्रतीक-चिह्न से पहचाना जाता है। भारत के रुपया शब्द का उद्गम संस्कृत के शब्द रुप् या रुप्याह् में निहित है, जिसका अर्थ चाँदी होता है और रूप्यकम् का अर्थ चाँदी का सिक्का है। इस शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग शेर शाह सूरी ने भारत मे अपने शासन वर्ष 1540 से वर्ष 1545 के दौरान किया था। और यह शब्द भारत में ब्रिटिश राज के दौरान भी यह प्रचलन में रहा था।

भारतीय मुद्रा में प्रयुक्त भाषाएँ: (Languages ​​used in Indian currency)

भारतीय रुपया के सभी नोटो में कुल17 भाषाएँ लिखी गई हैं जो यह प्रदर्शित करती हैं की, इसकी मात्रा 17 भाषाओं में लिखी गई है। अग्रभाग पर, संप्रदाय अंग्रेजी और हिंदी में लिखा गया है । रिवर्स पर एक भाषा पैनल है जो भारत की 22 आधिकारिक भाषाओं में से 15 में नोट के मूल्य को प्रदर्शित करता है । भाषाओं को वर्णमाला क्रम में प्रदर्शित किया जाता है। पैनल में शामिल भाषाएँ असमिया , बंगाली , गुजराती , कन्नड़ , कश्मीरी , कोंकणी , मलयालम , मराठी , नेपाली , ओडिया हैं, पंजाबी , संस्कृत , तमिल , तेलुगु और उर्दू है।

भारतीय रुपया का इतिहास: (History of Indian Rupee)

वर्ष 1862 में महारानी विक्टोरिया के सम्मान में, विक्टोरिया के चित्र वाले बैंक नोटों और सिक्कों की श्रृंखला जारी की गई थी। जिसके बाद सर्वप्रथम वर्ष 1935 में भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना की गई थी भारतीय रिजर्व बैंक भारत सरकार के नोटों को जारी करने का अधिकार दिया गया था। रिजर्व बैंक ने 10,000 रुपयों का भी नोट छापा और परंतु स्वतंत्रता के बाद इसे बंद कर दिया। आरबीआई द्वारा जारी की गई पहली करेंसी नोट 5 रुपये की नोट था जिस पर किंग जॉर्ज VI की तस्वीर थी। यह नोट 1938 में छापा गया था। वर्ष 1947 में स्वतंत्रता के बाद और 1950 में जब भारत गणराज्य बन गया, भारत के आधुनिक रुपये ने अपना डिजाइन फिर से प्राप्त किया। कागज के नोट के लिए सारनाथ के चतुर्मुख सिंह वाले अशोक के शीर्षस्तंभ को चुना गया था। इसने बैंक के नोटों पर छापे जा रहे जॉर्ज VI का स्थान लिया। इस प्रकार स्वतंत्र भारत में मुद्रित पहला बैंक नोट 1 रुपये का नोट था।

भारतीय मुद्रा के सभी नोटों की महत्वपूर्ण जानकारी: (Important information of all Indian currency notes)

भारतीय ₹1 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • वर्तमान में, यह प्रचलन में सबसे छोटा भारतीय बैंकनोट है।
  • भारत सरकार द्वारा जारी किया जाने वाला एकमात्र नोट है।
  • इस नोट पर वित्त सचिव के हस्ताक्षर होते हैं।
  • वर्तमान में प्राचीलित भारत सरकार द्वारा जारी इस नोट की चौड़ाई 97 मिमी और ऊंचाई 63 मिमी होती है।
  • इस पर सागर सम्राट तेल रिग का चित्र प्रदर्शित होता है।

भारतीय ₹2 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • यह नोट दूसरा सबसे छोटा भारतीय नोट था।
  • इसे 1943 में पेश किया गया और 1995 में इसे प्रचलन से हटा दिया गया।

भारतीय ₹5 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा वर्तमान में प्रचलित यह दूसरा सबसे छोटा भारतीय नोट है।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक ने वर्ष1996 से महात्मा गांधी श्रृंखला में 5 रुपये के बैंकनोट की शुरुआत की थी।
  • परंतु भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा इन मूल्यवर्गों में नोटों की छपाई बंद कर दी गई है।

भारतीय ₹10 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी ₹10 नोट की चौड़ाई 123 मिमी और ऊंचाई 63 मिमी है।
  • नोट का आधार रंग चॉकलेट ब्राउन है।
  • नोट पर प्रदर्शित देवनागरी में ऐतिहासिक अंक १०
  • नोट के केंद्र में महात्मा गांधी का चित्र है।
  • नोट पर माइक्रो लेटर्स में ‘RBI’, ‘भारत’, ‘INDIA’ और ’10’ लिखा हुआ है।
  • नोट पर अंकित शिलालेखों के साथ विमुद्रीकृत सुरक्षा धागा ‘भारत’ और RBI है।
  • नोट पर अशोक स्तंभ दाहिनी ओर प्रदर्शित है।
  • नोट पर महात्मा गांधी चित्र और ₹10 इलेक्ट्रोटाइप द्वारा लिखा गया दोनों वॉटरमार्क द्वारा प्रदर्शित किए गए हैं।
  • नोट पर संख्या पैनल के साथ संख्याएँ ऊपर से बायीं ओर और बायीं ओर दायीं ओर नीचे की ओर बढ़ती हुई हैं।
  • नोट के बाईं ओर नोट की छपाई का वर्ष लिखा होता है।
  • अन्य भारतीय रुपये के बैंक नोटों की तरह, ₹10 बैंकनोट में इसकी राशि 17 भाषाओं में लिखी गई है।

भारतीय ₹20 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • भारतीय रिजर्व बैंक ने 26 अप्रैल 2019 को घोषणा की है कि वह जल्द ही एक नया। 20 का नोट जारी करेगा।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी ₹20 नोट की चौड़ाई 129 मिमी और ऊंचाई 63 मिमी है।
  • नोट का आधार रंग हरे-पीले रंग का है।
  • इस नोट पर दृष्टिहीनों की सहायता के लिए ब्रेल सुविधा है।
  • नोट पर रिवर्स साइड में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में प्रसिद्ध माउंट हैरियट है।
  • इस नोट पर महात्मा गांधी के चित्र के दाहिने हाथ के बगल में ऊर्ध्वाधर बैंड पर बैंकनोट के मूल्य की अव्यक्त छवि है।
  • नोट पर महात्मा गांधी का वॉटरमार्क जो मुख्य चित्र की दर्पण छवि है।
  • अन्य भारतीय रुपये के बैंक नोटों की तरह, ₹20 बैंकनोट में इसकी राशि 17 भाषाओं में लिखी गई है।
  • इस बैंकनोट का नंबर पैनल एम्बेडेड फ्लोरोसेंट फाइबर और वैकल्पिक रूप से चर स्याही में मुद्रित होता है।

भारतीय ₹50 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • इस नोट को आधिकारिक तौर पर 18 अगस्त 2017 को घोषित किया गया था और वर्तमान में यह प्रचलन में है।
  • नोट के नए संस्करण में रिवर्स पर रथ के साथ हम्पी का चित्रण है।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी ₹50 नोट की चौड़ाई 135 मिमी और ऊंचाई 66 मिमी है।
  • नोट का आधार रंग फ्लोरेसेंट ब्लू है।
  • नोट में अन्य डिजाइन, ज्यामितीय पैटर्न हैं, जो समग्र रंग योजना के साथ संरेखित करते हैं
  • इस नोट पर महात्मा गांधी के चित्र के दाहिने हाथ के बगल में ऊर्ध्वाधर बैंड पर बैंकनोट के मूल्य की अव्यक्त छवि है।
  • नोट पर गांधी का वॉटरमार्क जो मुख्य चित्र की दर्पण छवि है।
  • इस बैंकनोट का नंबर पैनल एम्बेडेड फ्लोरोसेंट फाइबर और वैकल्पिक रूप से चर स्याही में मुद्रित होता है।
  • अन्य भारतीय रुपये के बैंक नोटों की तरह, ₹50 बैंकनोट में इसकी राशि 17 भाषाओं में लिखी गई है।

भारतीय ₹100 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • 10 नवंबर 2016 को, भारतीय रिज़र्व बैंक ने महात्मा गांधी नई श्रृंखला के एक भाग के रूप में एक नया पुनर्निर्धारित ₹100 बैंकनोट उपलब्ध कराने की घोषणा की।
  • 19 जुलाई 2018 को, भारतीय रिजर्व बैंक ने ₹100 बैंकनोट के संशोधित डिजाइन का अनावरण किया।
  • नए बैंक नोट में रिवर्स की तरफ रानी की वाव का चित्र है।
  • नोट का आधार रंग लैवेंडर है।
  • रानी की वाव, पाटन, पाटन जिले, गुजरात, भारत में स्थित है। यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी ₹100 नोट की चौड़ाई 142 मिमी और ऊंचाई 66 मिमी है।
  • इसमें मुद्रा की पहचान करने में दृष्टिहीनों की सहायता के लिए ब्रेल लिपि की सुविधा है।
  • नोट पर रिवर्स साइड से गोइचा ला का एक दृश्य दिखाई देता है, जो सिक्किम, भारत में एक उच्च पर्वत दर्रा है और हिमालय श्रृंखला में स्थित है।
  • नोट पर महात्मा गांधी के चित्र के दाहिने हाथ के बगल में ऊर्ध्वाधर बैंड पर बैंकनोट के मूल्य की अव्यक्त छवि है।
  • नोट पर महात्मा गांधी का वॉटरमार्क जो मुख्य चित्र की दर्पण छवि है।
  • इस बैंकनोट का नंबर पैनल एम्बेडेड फ्लोरोसेंट फाइबर और वैकल्पिक रूप से चर स्याही में मुद्रित होता है।
  • अन्य भारतीय रुपये के बैंक नोटों की तरह, ₹100 बैंकनोट में इसकी राशि 17 भाषाओं में लिखी गई है।

भारतीय ₹200 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी ₹200 नोट की चौड़ाई 142 मिमी और ऊंचाई 66 मिमी है।
  • 25 अगस्त 2017 को, भारतीय रिजर्व बैंक ने महात्मा गांधी की श्रृंखला में एक नया नोट ₹200 बैंकनोट पेश किया था।
  • इस नोट के नए संस्करण में देश की सांस्कृतिक विरासत का चित्रण करते हुए रिवर्स पर सांची स्तूप का चित्रण है।
  • इस नोट का बेस कलर ब्राइट येलो (पीला) है।
  • भारतीय रिजर्व बैंक ने घोषणा अनुसार नए ₹200 रुपये के बैंकनोट गणेश चतुर्थी के अवसर पर 25 अगस्त 2017 से प्रचलन जारी किए गए थे।
  • अन्य भारतीय रुपये के बैंक नोटों की तरह, ₹200 बैंकनोट में इसकी राशि 17 भाषाओं में लिखी गई है।

भारतीय ₹500 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

  • 2016 के बीच महात्मा गांधी श्रृंखला के पिछले बैंक नोटों का 8 नवंबर, 2016 को विमुद्रीकरण कर दिया गया था।
  • भारतीय ₹500 रुपये का बैंकनोट भारतीय रुपये का एक मूल्यवर्ग है।
  • वर्तमान ₹500 बैंकनोट, 10 नवंबर 2016 से प्रचलन में है, जो महात्मा गांधी न्यू सीरीज़ का एक हिस्सा है।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी ₹500 नोट की चौड़ाई 150 मिमी और ऊंचाई 66 मिमी है।
  • इसमें मुद्रा की पहचान करने में दृष्टिहीनों की सहायता के लिए ब्रेल सुविधा है।
  • इस नोट पर अव्यक्त अंक 500 के साथ उसकी एक अव्यक्त छवि है।
  • इस बैंकनोट के बाईं ओर माइक्रो अक्षर में’ ‘RBI’ और ‘500’ लिखा है।
  • इस नोट के झुक जाने पर धागे का रंग हरे से नीले में बदल जाता है
  • इस नोट पर 500 रुपये के सिंबल के साथ डिनोमिनेशन अंक, नीचे दाईं ओर रंग बदलने वाली स्याही (हरे से नीले) में प्रदर्शित होती है।
  • इस नोट का आधार रंग स्टोन ग्रे है।
  • इस नोट पर दायीं ओर महात्मा गांधी के चित्र के साथ-साथ इलेक्ट्रोटाइप 500 वाटरमार्क पर अशोक स्तंभ प्रतीक का चित्रण है।
  • नोट के रिवर्स साइड में लाल किले की भारतीय विरासत स्थल और स्वच्छ भारत अभियान की एक टैग लाइन है।
  • इस बैंकनोट का नंबर पैनल एम्बेडेड फ्लोरोसेंट फाइबर और वैकल्पिक रूप से चर स्याही में मुद्रित होता है।
  • अन्य भारतीय रुपये के बैंक नोटों की तरह, ₹500 बैंकनोट में इसकी राशि 17 भाषाओं में लिखी गई है।

भारतीय ₹1000 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा द्वारा नवंबर वर्ष 2016 से सभी ₹1000 के नोट महात्मा गांधी सीरीज वैध मुद्रा के रूप में स्वीकार नहीं किया जाएगा।
  • अन्य भारतीय रुपये के बैंक नोटों की तरह, ₹1000 बैंकनोट में इसकी राशि 17 भाषाओं में लिखी गई थी।
  • इस नोट की चौड़ाई 177 मिमी और ऊंचाई 73 मिमी थी।

भारतीय ₹2000 रुपये के नोट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

  • भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा इसे 8 नवंबर 2016 को ₹1000 के नोट बंद हो जाने के बाद प्रचलित किया गया था।
  • यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा सक्रिय मुद्रा में छपा भारत का उच्चतम नोट है।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी ₹2000 नोट की चौड़ाई 166 मिमी और ऊंचाई 66 मिमी है।
  • इस नोट का आधार रंग मैजेंटा है।
  • इस नोट पर ब्रेल प्रिंट है, जिससे मुद्रा की पहचान करने में नेत्रहीनों को सहायता मिल सके।
  • इस नोट के रिवर्स साइड में मंगलयान का एक रूप है , जो भारत के पहले इंटरप्लेनेटरी स्पेस मिशन का प्रतिनिधित्व करता है।
  • इस नोट पर स्वच्छ भारत अभियान के लिए लोगो और टैग लाइन है।
  • इस नोट पर देवनागरी में २००० लिखा है।
  • इस बैंकनोट के बाईं ओर सूक्ष्म अक्षर ‘RBI’ और ‘2000’ लिखा है।
  • यह नोट झुक जाने पर इसके धागे का रंग हरे से नीले में बदल जाता है।
  • येन नोट गारंटी क्लॉज, प्रॉमिस क्लॉज के साथ गवर्नर के हस्ताक्षर, और दाईं ओर RBI का प्रतीक चिह्न प्रदर्शित है।
  • इस नोट पर बना अशोक स्तंभ, महात्मा गांधी चित्र और इलेक्ट्रोटाइप (2000) वॉटरमार्क पर प्रतीक है।
  • इस नोट पर महात्मा गांधी चित्र, अशोक स्तंभ प्रतीक, ब्लीड लाइन और पहचान चिह्न के नेत्रहीनों के लिए इन्टैग्लियो (उठाई गई छपाई) का उपयोग किया गया है।
  • नोट के बाईं ओर नोट की छपाई का वर्ष लिखा हुआ है।

📊 This topic has been read 6615 times.

भारतीय मुद्रा की भाषाएँ - अक्सर पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर:

प्रश्न: भारत की मुद्रा प्रणाली का दशमीकरण कब हुआ था?
उत्तर: भारत की मुद्रा प्रणाली का दशमीकरण सन 1957ई० में हुआ। इसके अतिरिक्त 'विक्टोरिया पोर्ट्रेट श्रृंखला' के नोट पहली कागजी मुद्रा थी, जिसे सरकार ने आधिकारिक तौर पर लॉन्च किया था।
📝 This question was asked in exam:- SSC SOC Nov, 1997
प्रश्न: भारत में मुद्रास्फीति का मुख्य कारण क्या है?
उत्तर: भारत में मुद्रास्फीति का मुख्य घाटे का बजट होना है। क्रयशक्ति में वृद्धि होने से मांग में वृद्धि होगी तथा मांग में वृद्धि होने से कीमत स्तर में वृद्धि होगी। इस प्रकार सार्वजनिक व्यय में कमी करके हम मुद्रास्फीति को नियंत्रित कर सकते है। कीमतों में वृद्धि मांग में वृद्धि होने के कारण होती है जिससे सार्वजनिक ऋणों में वृद्धि हो जाती है।
📝 This question was asked in exam:- SSC BSF Dec, 1997
प्रश्न: मुद्रा का मुख्य कार्य किस रूप में कार्य करना है?
उत्तर: विनिमय का माध्यमः मुद्रा का प्राथमिक कार्य यह है कि यह विनिमय के माध्यम का कार्य करती है। इसका तात्पर्य यह है कि लोग मुद्रा की सहायता से वस्तुएं और सेवाओं का क्रय-विक्रय कर सकते हैं। वस्तु के विक्रेता द्वारा मुद्रा प्राप्त की जाती है तथा वस्तु के क्रेता द्वारा मुद्रा का भुगतान किया जाता है।
📝 This question was asked in exam:- SSC STENO G-D Dec, 1998
प्रश्न: मुद्रा स्फीति एवं मूल्य वृद्धि के काल में मुद्रा की पूर्ति में क्या बदलाव होता है?
उत्तर: मुद्रा प्रसार से आशय मुख्य रूप से कीमतों में वृद्धि होने के कारण मुद्रा के मूल्य में होने वाली कमी से है । ऐसी स्थिति में पूर्ति पर माँग के आधिक्य के कारण कीमतें बढती हैं । सैद्धान्तिक रूप से कीमतों में होने वाली वृद्धि ऊँचे कीमत स्तर पर मांग को पूर्ति के बराबर कर देगी जिससे मुद्रा प्रसार की प्रवृति संचयी होती है ।
📝 This question was asked in exam:- SSC CML Oct, 1999
प्रश्न: भारतीय मुद्रा प्रणाली में दशमलव का प्रयोग कब शुरू हुआ?
उत्तर: भारत में दशमलव मुद्रा प्रणाली 1957 ई में लागु की गई. दशमलव पद्धति या दाशमिक संख्या पद्धति या दशाधारी संख्या पद्धति (decimal system, "base ten" or "denary") वह संख्या पद्धति है जिसमें गिनती/गणना के लिये कुल दस संख्याओं (0, 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9) का सहारा लिया जाता है।
📝 This question was asked in exam:- SSC SOC Dec, 2000
प्रश्न: मुद्रा-स्फीति को कैसे रोका जा सकता है?
उत्तर: मुद्रा की मात्रा पर नियंत्रण मुद्रा की मात्रा को नियंत्रित करके मुद्रास्फीति पर काबू पाया जा सकता है और मुद्रा की मात्रा को केन्द्रीय बैक द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। इसके साथ-साथ साख नियंत्रण बढ़ती हुई कीमतों पर काबू पाने के लिए केन्द्रीय बैंक साख को नियंत्रित कर सकती है।
📝 This question was asked in exam:- SSC CML Jun, 2002
प्रश्न: जनता में प्रचलित मुद्रा और बैंकों में रखा नकदी रिजर्व का योग क्या कहलाता है?
उत्तर: जनता में प्रचलित मुद्रा और बैंकों में रखा नकदी रिजर्व का योग संकुचित मुद्रा कहलाता है
📝 This question was asked in exam:- SSC SOC Nov, 2003
प्रश्न: मुद्रा के अवमूल्यन से क्या अभिप्राय है?
उत्तर: अवमूल्यन से आंतरिक दाम प्राय गिरते है। अवमूल्यन आर्थिक शब्दावली का एक हिस्सा है; जब किसी देश द्वारा मुद्रा की विनिमय दर अन्य देशों की मुद्राओं से कम कर दिया जाये ताकि निवेश को बढ़ावा मिल सके तो उसे अवमूल्यन कहते हैं।
📝 This question was asked in exam:- SSC SOA Dec, 2003
प्रश्न: भारत में कागजी नोट मुद्रा को जारी करने का पूर्ण अधिकार किसके पास है?
उत्तर: अधिनियम की धारा 22 के अनुसार, भारत में नोट निर्गमित करने का एकमात्र अधिकार रिज़र्व बैंक के पास है ।
📝 This question was asked in exam:- SSC DEO Aug, 2008
प्रश्न: भारत की वर्तमान मुद्रा प्रणाली किस पर आधारित है?
उत्तर: भारत की वर्तमान मुद्रा प्रणाली न्यूनतम रिजर्व प्रणाली पर आधारित है। न्यूनतम रिजर्व प्रणाली के तहत वर्ष 1957 से के RBI को 200 करोड़ रुपये के स्वर्ण और विदेशी मुद्रा का भंडार हमेशा बनाए रखना होता है जिसमें से कम-से-कम करीब 115 करोड़ रुपये का स्वर्ण भंडार होना चाहिए।
📝 This question was asked in exam:- SSC TA Mar, 2009

भारतीय मुद्रा की भाषाएँ - महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तरी:

प्रश्न: भारत की मुद्रा प्रणाली का दशमीकरण कब हुआ था?
Answer option:

      1959 ई० में

    ❌ Incorrect

      1957ई० में

    ✅ Correct

      1975 ई० में

    ❌ Incorrect

      1972 ई० में

    ❌ Incorrect

प्रश्न: भारत में मुद्रास्फीति का मुख्य कारण क्या है?
Answer option:

      उपयुर्क्त दोनों

    ❌ Incorrect

      लाभ का बजट

    ❌ Incorrect

      घाटे का बजट

    ✅ Correct

      इनमे से कोई नही

    ❌ Incorrect

प्रश्न: मुद्रा का मुख्य कार्य किस रूप में कार्य करना है?
Answer option:

      मुद्रा

    ❌ Incorrect

      इनमे से कोई नही

    ❌ Incorrect

      विनिमय का माध्यम

    ✅ Correct

      रुपया

    ❌ Incorrect

प्रश्न: मुद्रा स्फीति एवं मूल्य वृद्धि के काल में मुद्रा की पूर्ति में क्या बदलाव होता है?
Answer option:

      कोई परिवर्तन नही आता

    ❌ Incorrect

      बढ़ जाती है

    ✅ Correct

      घट जाती है

    ❌ Incorrect

      इनमे से कोई नही

    ❌ Incorrect

प्रश्न: भारतीय मुद्रा प्रणाली में दशमलव का प्रयोग कब शुरू हुआ?
Answer option:

      1957 ई० में

    ✅ Correct

      1966 ई० में

    ❌ Incorrect

      1987 ई० में

    ❌ Incorrect

      1997 ई० में

    ❌ Incorrect

प्रश्न: मुद्रा-स्फीति को कैसे रोका जा सकता है?
Answer option:

      इनमे से कोई नही

    ❌ Incorrect

      मूद्रापूर्ति बढ़ाकर

    ❌ Incorrect

      मूद्रापूर्ति घटाकर

    ✅ Correct

      मूद्रापूर्ति को सामान्य रखकर

    ❌ Incorrect

प्रश्न: जनता में प्रचलित मुद्रा और बैंकों में रखा नकदी रिजर्व का योग क्या कहलाता है?
Answer option:

      वैध मुद्रा

    ❌ Incorrect

      उच्च शक्तिशाली मुद्रा

    ❌ Incorrect

      संकुचित मुद्रा

    ✅ Correct

      आदेश मुद्रा

    ❌ Incorrect

प्रश्न: मुद्रा के अवमूल्यन से क्या अभिप्राय है?
Answer option:

      अर्थव्यवस्था का कमजोर होना

    ❌ Incorrect

      मुद्रा के बहारी मूल्य में कमी

    ✅ Correct

      मुद्रा का पुन: निर्माण

    ❌ Incorrect

      मुद्रा के बाहरी मुली मे वृद्धि

    ❌ Incorrect

प्रश्न: भारत में कागजी नोट मुद्रा को जारी करने का पूर्ण अधिकार किसके पास है?
Answer option:

      शेहरी सरकारी बैंक

    ❌ Incorrect

      पंजाब बैंक

    ❌ Incorrect

      बैंक ऑफ़ इंडिया

    ❌ Incorrect

      भारतीय रिजर्व बैंक

    ✅ Correct

प्रश्न: भारत की वर्तमान मुद्रा प्रणाली किस पर आधारित है?
Answer option:

      अनुपाती रिजर्व प्रणाली पर

    ❌ Incorrect

      न्यूनतम रिजर्व प्रणाली पर

    ✅ Correct

      समानुपाती रिज़र्व प्रणाली पर

    ❌ Incorrect

      मौद्रिक प्रणाली पर

    ❌ Incorrect


You just read: Bhartiy Mudra Ka Itihas, Prayukt Bhashayen Evm Mahatvpurn Tathy ( Important Information About Indian Rupee (In Hindi With PDF))

Related search terms: : भारतीय मुद्रा, Bhartiya Mudra Kya Hai, Bhartiya Mudra Rupya Hai, Bhartiya Mudra Ke Note Kahan Mudrit Kiye Jaate Hai, Bharat Ki Mudra Kya Hai, Bhartiya Mudra, Bharat Ki Mudra

« Previous
Next »