इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी (M S Subbulakshmi) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। M S Subbulakshmi Biography and Interesting Facts in Hindi.

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नामएम. एस. सुब्बुलक्ष्मी (M S Subbulakshmi)
वास्तविक नाममदुरै षण्मुखवडिवु सुब्बुलक्ष्मी
जन्म की तारीख16 सितम्बर
जन्म स्थानमदुरई, मद्रास प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत
निधन तिथि11 दिसम्बर
माता व पिता का नामशनमुक्वादिवर अम्मल / सुब्रमनिया अय्यर
उपलब्धि1966 - भारत रत्न प्राप्त करने वाली प्रथम भारतीय महिला संगीतकार
पेशा / देशमहिला / गायिका / भारत

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी - भारत रत्न प्राप्त करने वाली प्रथम भारतीय महिला संगीतकार (1966)

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी कर्णाटक की मशहूर संगीतकार थीं। इनका पूरा नाम मदुरै षण्मुखवडिवु सुब्बुलक्ष्मी है। वह देश की प्रथम गायिका थीं, जिन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक अलंकरण ‘भारत रत्न" से सम्मानित किया गया। उनके गाये हुए गाने, ख़ासकर भजन आज भी लोगों के बीच काफ़ी लोकप्रिय हैं। वह पहली भारतीय थीं जिन्होंने 1966 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रदर्शन किया। उनकी पहली रिकॉर्डिंग तब जारी की गई थी जब वह मात्र 10 साल की थीं। एमएस ने अपनी युवावस्था में कुछ तमिल फिल्मों में भी काम किया । उनकी पहली फिल्म का नाम सेवासदनम था जो 2, मई 1938 को रिलीज़ हुई थी

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी का जन्म 16 सितम्बर 1916 को तमिलनाडु के मदुरै शहर में हुआ था। इनका पूरा नाम मदुरै षण्मुखवडिवु सुब्बुलक्ष्मी था| इनका जन्म शनमुक्वादिवर अम्मल और सुब्रमण्य अय्यर के घर हुआ था।
11 दिसम्बर , 2004 को (उम्र 88) चेन्नई, तमिल नाडु, भारत में इनका निधन हो गया था।
सुब्बुलक्ष्मी ने अपना पहला सार्वजनिक प्रदर्शन ग्यारह साल की उम्र में, 1927 में, रॉकफोर्ट मंदिर के अंदर 100 स्तंभ हॉल में, वायलिन पर मैसूर चौदहिया के साथ तिरुचिरापल्ली में और मृदंगम पर दक्षिणामुरि पिल्लई में किया था। यह तिरुचिरापल्ली स्थित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता एफ जी नतासा अय्यर द्वारा आयोजित किया गया था इन्होने केवल सत्रह साल की आयु में ही चेन्नई की प्रसिद्ध ‘म्यूज़िक अकाडमी" में संगीत कार्यक्रम पेश किया था। श्रीमती सुब्बुलक्ष्मी ने कई फ़िल्मों में भी अभिनय किया। इनमें सबसे यादगार है 1945 के मीरा फ़िल्म में मुख्य भूमिका निभाई। वर्ष 1966 में उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ के संगीत समारोह में हिस्सा लिया था, वे यह उपलब्धि पाने वाली पहली भारतीय महिला है।
श्रीमती सुब्बुलक्ष्मी पहली भारतीय हैं जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations) की सभा में संगीत कार्यक्रम प्रस्तुत किया, तथा आप पहली स्त्री हैं जिनको कर्णाटक संगीत का सर्वोत्तम पुरस्कार, संगीत कलानिधि प्राप्त हुआ। भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न" से सम्मानित किए जाने के अतिरिक्त उन्हें मद्रास संगीत अकादमी ने संगीत कलानिधि की उपाधि से अंलकृत किया था। यह सम्मान प्राप्त करने वाली वह प्रथम महिला थीं। 1974 में उन्हें ‘रेमन मेगसेसे" पुरस्कार प्राप्त हुआ और 1990 में राष्ट्रीय एकता के लिए उन्हें इंदिरा गांधी अवार्ड दिया गया। वर्ष 1954 में पद्म भूषण, वर्ष 1956 में संगीत नाटक अकादमी सम्मान, वर्ष 1975 में पद्म विभूषण, वर्ष 1988 में कैलाश सम्मान से सम्मानित किया गया इसके अतिरिक्त कई विश्वविद्यालयों ने उन्हें मानद उपाधि से सम्मानित किया।

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी प्रश्नोत्तर (FAQs):

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी का जन्म 16 सितम्बर 1916 को मदुरई, मद्रास प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत में हुआ था।

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी को 1966 में भारत रत्न प्राप्त करने वाली प्रथम भारतीय महिला संगीतकार के रूप में जाना जाता है।

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी का पूरा नाम मदुरै षण्मुखवडिवु सुब्बुलक्ष्मी था।

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी की मृत्यु 11 दिसम्बर 2004 को हुई थी।

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी के पिता का नाम सुब्रमनिया अय्यर था।

एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी की माता का नाम शनमुक्वादिवर अम्मल था।

  Last update :  Tue 28 Jun 2022
  Post Views :  13256