इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे महादेव गोविन्द रानाडे (Mahadev Govind Ranade) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए महादेव गोविन्द रानाडे से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Mahadev Govind Ranade Biography and Interesting Facts in Hindi.

महादेव गोविन्द रानाडे का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नाममहादेव गोविन्द रानाडे (Mahadev Govind Ranade)
उपनाममहाराष्ट्र का सुकरात
जन्म की तारीख18 जनवरी
जन्म स्थानपुणे, महाराष्ट्र (भारत)
निधन तिथि16 जनवरी
पिता का नाम गोविंद अमृत रानाडे
उपलब्धि1870 - पुणे सार्वजनिक सभा के संस्थापक
पेशा / देशपुरुष / समाज सुधारक, न्यायाधीश, लेखक / भारत

महादेव गोविन्द रानाडे - पुणे सार्वजनिक सभा के संस्थापक (1870)

महादेव गोविन्द रानाडे एक ब्रिटिश काल के भारतीय न्यायाधीश, लेखक एवं समाज-सुधारक थे। उन्हें “महाराष्ट्र का सुकरात” कहा जाता है। रानाडे ने समाज सुधार के कार्यों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था। प्रार्थना समाज, आर्य समाज और ब्रह्म समाज का इनके जीवन पर बहुत प्रभाव था।

गोविंद रानाडे का जन्म 18 जनवरी 1842 को पुणे, महाराष्ट्र (भारत) में हुआ था। इनके पिता का नाम गोविंद अमृत रानाडे था। इनके पिता मंत्री थे।
महादेव गोविन्द रानाडे की मृत्यु 16 जनवरी 1901 (आयु 58 वर्ष) को मुंबई हुई थी।
उन्होंने कोल्हापुर के एक मराठी स्कूल में पढ़ाई की और बाद में एक अंग्रेजी माध्यम के स्कूल में स्थानांतरित हो गए। 14 साल की उम्र में, वह एलफिंस्टन कॉलेज, बॉम्बे में अध्ययन करने गए। वह बंबई विश्वविद्यालय में छात्रों के पहले बैच से संबंधित थे। उन्होंने 1862 में बीए की डिग्री प्राप्त की और चार साल बाद एलएलबी प्राप्त की। एल.एल.बी. की कक्षा में प्रथम स्थान पर रहे थे। उन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय से प्रवेश परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की और 21 मेधावी विद्यार्थियों में उनका अध्ययन मूल्यांकन शामिल था।
1866 में अपनी कानून की डिग्री (एलएलबी) प्राप्त करने के बाद, रानाडे 1871 में पुणे में एक अधीनस्थ न्यायाधीश बन गए। उनकी राजनीतिक गतिविधियों को देखते हुए, ब्रिटिश औपनिवेशिक अधिकारियों ने 1895 तक बॉम्बे उच्च न्यायालय में उनके पदोन्नति में देरी की थी। महादेव गोविंद रानाडे ने ‘भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस" की स्थापना का समर्थन किया था। 1943 में, बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर ने, रानाडे की प्रशंसा की, एवं उन्हें गाँधी और जिनाह के विरोधी का दर्जा दिया था। महादेव गोविन्द रानाडे का चयन प्रेसीडेंसी मजिस्ट्रेट के तौर पर हुआ था। वे बाल विवाह के कट्टर विरोधी और विधवा विवाह के समर्थक थे। 1885 में रानाडे, वामन अबाजी मोदक और इतिहासकार डॉ. आर जी भंडारकर ने महाराष्ट्र गर्ल्स एजुकेशन सोसाइटी की स्थापना की और महाराष्ट्र के सबसे पुराने गर्ल्स हाई स्कूल हुजुरपगा की स्थापना की थी। रानाडे ने 1861 में अपनी "विधवा मैरिज एसोसिएशन" की स्थापना की थी।
रमाबाई और महादेवराव के जीवन और उनके विकास के आधार पर ज़ी मराठी पर एक टेलीविज़न श्रृंखला अनच माज़ा ज़ोका (जिसका नाम "आई लीप हाई इन लाइफ" है) को मार्च 2012 में प्रसारित किया गया था। रमाबाई रानाडे की किताब जिसका नाम अमच्य आयुषतिल कहि अथावनी है। पुस्तक में, महादेव के बजाय जस्टिस रानाडे को "माधव" कहा गया है।

महादेव गोविन्द रानाडे प्रश्नोत्तर (FAQs):

महादेव गोविन्द रानाडे का जन्म 18 जनवरी 1842 को पुणे, महाराष्ट्र (भारत) में हुआ था।

महादेव गोविन्द रानाडे को 1870 में पुणे सार्वजनिक सभा के संस्थापक के रूप में जाना जाता है।

महादेव गोविन्द रानाडे की मृत्यु 16 जनवरी 1901 को हुई थी।

महादेव गोविन्द रानाडे के पिता का नाम गोविंद अमृत रानाडे था।

महादेव गोविन्द रानाडे को महाराष्ट्र का सुकरात के उपनाम से जाना जाता है।

  Last update :  Tue 28 Jun 2022
  Post Views :  17565
डॉ॰ नगेन्द्र सिंह का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
हरिलाल जेकिसुनदास कनिया का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
रंगनाथ मिश्र का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
सुमित्रानंदन पंत का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
अन्ना चांडी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
लीला सेठ का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
फ़ातिमा बीबी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
वनिता गुप्ता का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
शिरीन एबादी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
जगदीश सिंह खेहर का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी