कादम्बिनी गांगुली का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

✅ Published on July 18th, 2021 in प्रसिद्ध व्यक्ति

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे कादम्बिनी गांगुली (Kadambini Ganguly) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए कादम्बिनी गांगुली से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Kadambini Ganguly Biography and Interesting Facts in Hindi.

कादम्बिनी गांगुली के बारे में संक्षिप्त जानकारी

नामकादम्बिनी गांगुली (Kadambini Ganguly)
जन्म की तारीख18 जुलाई 1861
जन्म स्थानभागलपुर, बिहार (भारत)
निधन तिथि03 अक्टूबर 1923
पिता का नाम बृजकिशोर बासु
उपलब्धि1882 - स्नातक उपाधि प्राप्त करने वाली प्रथम भारतीय महिला
पेशा / देशमहिला / चिकित्सक / भारत

कादम्बिनी गांगुली (Kadambini Ganguly)

कदंबिनी ने अपनी शिक्षा बंगा महिला विद्यालय में शुरू की और 1878 में बेथुइन स्कूल (बेथ्यून द्वारा स्थापित) में कलकत्ता प्रवेश परीक्षा में प्रवेश करने वाली पहली महिला बनी थी। यही नहीं भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में सबसे पहले भाषण देने वाली महिला का गौरव भी कादम्बिनी गांगुली को ही प्राप्त है।

कादम्बिनी गांगुली का जन्म

कादम्बिनी गांगुली का जन्म 18 जुलाई 1861 को भागलपुर, बिहार (भारत) में हुआ था। इनके पिता का नाम बृजकिशोर बासु था। इनके पिता भागलपुर स्कूल में हेडमास्टर के रूप कार्यत थे तथा वे एक ब्रह्मो सुधारक भी थे। ये अपने माता पिता की इकलोती संतान थी।

कादम्बिनी गांगुली का निधन

कादम्बिनी गांगुली की मृत्यु 3 अक्टूबर 1923 (आयु 63 ) को कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) में हुआ था।

कादम्बिनी गांगुली की शिक्षा

कादम्बिनी ने अपनी शिक्षा बंगा महिला विद्यालय में शुरू की और जबकि 1878 में बेथ्यून स्कूल (बेथ्यून द्वारा स्थापित) ने कलकत्ता विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा पास करने वाली पहली महिला बनीं। यह आंशिक रूप से उनके प्रयासों की मान्यता में था कि बेथ्यून कॉलेज ने पहले एफए (प्रथम कला) की शुरुआत की, और फिर 1883 में स्नातक पाठ्यक्रम। वह और चंद्रमुखी बसु बेथ्यून कॉलेज से पहले स्नातक बने, और इस प्रक्रिया में देश में पहली बार स्नातक बने।

कादम्बिनी गांगुली का करियर

यह भारत की पहली महिला स्नातक और पहली महिला फ़िजीशियन थीं। कादम्बिनी इंडिया की पहली वर्किंग मॉम थीं। 1893 में, उन्होंने एडिनबर्ग की यात्रा की और LRCP (एडिनबर्ग), LRCS (ग्लासगो) और GFPS (डबलिन) के रूप में अर्हता प्राप्त की। 1893 में, उन्होंने एडिनबर्ग की यात्रा की और LRCP (एडिनबर्ग), LRCS (ग्लासगो) और GFPS (डबलिन) के रूप में अर्हता प्राप्त की। उनका परिवार चन्दसी (बारीसाल, अब बांग्लादेश में) से था। कांग्रेस के 1889 के मद्रास अधिवेशन में उन्होंने भाग लिया और भाषण दिया। संस्था के उस समय तक के इतिहास में भाषण देने वाली कादम्बिनी पहली महिला थीं।

कादम्बिनी गांगुली के पुरस्कार और सम्मान

उनकी जीवनी पर आधारित एक टेलीविजन बंगाली धारावाहिक प्रोथोमा कादम्बिनी का प्रसारण 2020 में किया गया था। सोलंकी रॉय ने स्टार जलशा पर प्रसारित धारावाहिक में उन्हें चित्रित किया और डिजिटल प्लेटफॉर्म हॉटस्टार पर भी उपलब्ध थे।

भारत के अन्य प्रसिद्ध चिकित्सक

व्यक्तिउपलब्धि
रीता फारिया की जीवनीभारत की पहली मिस वर्ल्ड
रखमाबाई राऊत की जीवनीभारत की पहली महिला डॉक्टर
आनंदीबाई जोशी की जीवनीडॉक्‍टरी की डिग्री प्राप्त वाली पहली भारतीय महिला
Previous « Next »