इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे शरन रानी (Sharan Rani) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए शरन रानी से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Sharan Rani Biography and Interesting Facts in Hindi.

शरन रानी का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नामशरन रानी (Sharan Rani)
वास्तविक नामशरण रानी बैकलीवाल
जन्म की तारीख09 अप्रैल
जन्म स्थानदिल्ली, भारत
निधन तिथि08 अप्रैल
उपलब्धि1930 - विश्व की प्रथम महिला सरोद वादक
पेशा / देशमहिला / संगीतकार / भारत

शरन रानी - विश्व की प्रथम महिला सरोद वादक (1930)

शरन रानी एक भारतीय शास्त्रीय संगीतकार और संगीत विद्वान थी। शरन रानी प्रथम महिला थीं, जिन्होंने सरोद जैसे मर्दाना साज को संपूर्ण ऊँचाई दी थी।

शरन रानी का जन्म 09 अप्रैल 1929 को शरण रानी माथुर के रूप में पुरानी दिल्ली की दीवार वाले शहर में प्रसिद्ध व्यापारियों और शिक्षाविदों के एक रूढ़िवादी हिंदू परिवार में हुआ था। एक युवा लड़की के रूप में, शरण रानी ने उस्ताद संगीतकार अलाउद्दीन खान और उनके बेटे अली अकबर खान से सरोद बजाना सीखा था।
1974 में उनकी एक बेटी राधिका नारायण हुई। कुछ वर्षों तक कैंसर से जूझने के बाद, अपने 79वें जन्मदिन से एक दिन पहले 8 अप्रैल 2008 को उनका निधन हो गया।
वर्ष 1953 में, उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से एमए किया, और इंद्रप्रस्थ महिला कॉलेज में अध्ययन किया। उन्होंने अच्छन महाराज से शास्त्रीय भारतीय नृत्य का कथक रूप और नाभा कुमार सिन्हा से मणिपुरी नृत्य भी सीखा था।

शरन रानी वाद्य संगीत तथा सरोद वादन के क्षेत्र में वह देश की पहली महिला कलाकार थीं। बैकलीवाल ने कई पारिवारिक विरोध के बावजूद अपने संगीत करियर की शुरुआत की थी। भारतीय इतिहास में इस अवधि के दौरान, एक संगीतकार का रूप नाच लड़कियों या बाईजी का पेशा हुआ करता था जो एक सम्मानित, गैर-संगीतकार की बेटी के लिए उपयुक्त नहीं था। जिसके कारण उन्हे अपने परिवार से विरोध का सामना करना पड़ा था।

1930 के दशक के उत्तरार्ध से, शरण रानी ने सात दशकों से अधिक समय तक भारत में संगीत कार्यक्रम के मंच पर अपना सरोद गायन प्रस्तुत किया। वह यूनेस्को के लिए रिकॉर्ड करने वाली पहली और संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस में प्रमुख रिकॉर्ड कंपनियों के साथ संगीत रिकॉर्डिंग जारी करने वालों में से एक थीं। जवाहरलाल नेहरू के अनुसार, वह "भारत की सांस्कृतिक राजदूत" थीं और वहीं डॉ जाकिर हुसैन ने उनके बारे में कहा, "शरण रानी ने संगीत में पूर्णता हासिल कर ली है।

रानी ऑल इंडिया रेडियो और दूरदर्शन की शुरुआती कलाकारों में से एक थीं। वह लोकप्रिय रूप से 'सरोद रानी' (सरोद की रानी) के रूप में जानी जाती थीं। शरण रानी भारत की पहली महिला वाद्य वादक थीं जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त की।


2004 में, भारत सरकार ने चुनिंदा कलाकारों को 'राष्ट्रीय कलाकार' की उपाधि देकर सम्मानित किया। शरण रानी यह उपाधि पाने वाली एकमात्र महिला वाद्य वादक थीं। उन्हें मिले अन्य पुरस्कारों और सम्मानों में शामिल हैं:

वर्षपुरस्कार का नाम
1953विष्णु दिगंबर परितोषिक
1968पद्म श्री
1974साहित्य कला परिषद पुरस्कार
1979आचार्य' और 'तंत्री विलास'
1986संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार
1993व्यावसायिक उत्कृष्टता के लिए राजीव गांधी पुरस्कार
1997दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा प्रतिष्ठित पूर्व छात्र पुरस्कार
1999राष्ट्रीय उत्कृष्टता पुरस्कार
2000पद्म भूषण
2000लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
2004महाराणा मेवाड़ फाउंडेशन पुरस्कार
2005भोपाल से कला परिषद पुरस्कार

शरन रानी प्रश्नोत्तर (FAQs):

शरन रानी का जन्म 09 अप्रैल 1929 को दिल्ली, भारत में हुआ था।

शरन रानी को 1930 में विश्व की प्रथम महिला सरोद वादक के रूप में जाना जाता है।

शरन रानी का पूरा नाम शरण रानी बैकलीवाल था।

शरन रानी की मृत्यु 08 अप्रैल 2008 को हुई थी।

  Last update :  Tue 28 Jun 2022
  Post Views :  5518
हरिता देओल का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
नीरजा भनोट का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
संतोष यादव का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
सुरेखा यादव का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
लीला सेठ का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
दुर्गा बनर्जी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
सरला ठकराल का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
रंजना कुमार का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
आनंदीबाई जोशी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
अपर्णा कुमार का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
अर्चना रामासुन्द्रम का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी