फ़िजी देश का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था तथा महत्वपूर्ण घटनाएं

✅ Published on August 16th, 2018 in ओशिनिया द्वीपसमूह, देशों की जानकारी

विश्व के भूगोल में फ़िजी देश का एक अलग ही स्थान है| इस देश में कई ऐसी बातें है जो इस देश को अन्य देशों से अलग करती है जैसे की भाषा, रहन सहन, वेश-भूषा, संस्कृति, धर्म, व्यवसाय| आइये जानते है फ़िजी(Fiji) देश से जुड़े कुछ ऐसे अनोखे तथ्य तथा इतिहास से जुड़ी महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में, जिन्हें जानकर आपका ज्ञान बढ़ेगा|

फ़िजी देश की संक्षिप्त जानकारी

देश का नामफ़िजी
देश की राजधानीसूवा
देश की मुद्राफिजियन डॉलर
महाद्वीप का नामOceania

Read Also: देश का नाम, उनकी राजधानी तथा मुद्रा की सूची

फिजी के पहले निवासियों का आगमन यूरोपीय अन्वेषकों से बहुत पहले ही हो गया था जो कि सत्रहवीं शताब्दी में फिजी आये थे। मिट्टी के बर्तनों की खुदाई से पता चलता है कि 1000 ई.पू के आसपास भी फिजी में निवासी रहा करते थे, हालांकि अभी भी उनके फिजी प्रवास के विषय मे कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिलि है। डच अन्वेषक हाबिल टैस्मान सन 1643 में जब दक्षिणी महाद्वीप की तलाश में निकले थे तब उन्होनें फिजी का दौरा किया था।

1874 में ब्रिटेन ने इस द्वीप को अपने नियंत्रण मे लेकर इसे अपना एक उपनिवेश बना लिया। ब्रिटिश लोग भारतीय मजदूरों को यहाँ ठेके पर गन्ने के खेतों में काम करने के लिये ले आये। सन 1970 में इस देश को ब्रिटेन ने स्वतंत्रता दी। सन 1987 में देश का लोकतांत्रिक शासन दो सैन्य विद्रोहों से बाधित हुआ क्योंकि पहले तख्तापलट में ऐसा माना गया की तत्कालीन सरकार मे भारतीय फ़ीजियों का प्रभुत्व था तथा दूसरे में ब्रिटिश राजशाही और गवर्नर जनरल की जगह एक गैर कार्यकारी अध्यक्ष की नियुक्ति हुई। इसके बाद देश का नाम परिवर्तित करके 'फिजी गणराज्य' कर दिया गया (1997 में इसे बदलकर फ़िजी द्वीप समूह गणराज्य कर दिया गया)।

फिजी में 322 द्वीप हैं (जिनमें से 106 बसे हुए हैं) इसके अतिरिक्त 522 क्षुद्रद्वीप हैं। द्वीप के दो सबसे महत्वपूर्ण द्वीप हैं विती लेवु और वनुआ लेवु। ये द्वीप पहाड़ी हैं, जिनमे 1300 मीटर (4250 फुट) तक की चोटियां हैं, जो उष्णकटिबंधीय वनों से आच्छादित हैं। राजधानी सुवा विती लेवू मे स्थित है और देश की लगभग तीन चौथाई आबादी का घर है। अन्य महत्वपूर्ण शहरों में शामिल हैं नान्दी (अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा यहाँ स्थित है) और लौतोका (एक बड़ी चीनी मिल और समुद्री-पत्तन यहाँ स्थित हैं)।

वनुआ लेवु के मुख्य शहरों में लाबासा और सावुसावु प्रमुख हैं। अन्य द्वीपों या द्वीप समूहों में शामिल हैं तावेउनी और कन्दावु जो क्रमशः तीसरा और चौथा सबसे बड़ा द्वीप हैं इसके अलावा मामानुका समूह (नान्दी से थोड़ा बाहर) और यसावा समूह लोकप्रिय पर्यटन स्थलों मे हैं, लोमाईविती समूह, सुवा से बाहर है और दूरस्थ लाउ समूह। रोटुमा, द्वीपसमूह के उत्तर में कुछ 500 किलोमीटर (310 मील) की दूरी पर स्थित है और इसे फिजी मे एक विशेष प्रशासनिक दर्जा हासिल है। फिजी के निकटतम पड़ोसी टोंगा है। फिजी में उष्णकटिबंधीय जलवायु है और वर्ष भर मौसम गर्म बना रहता है।

यह् प्रशांत द्वीप क्षेत्र की तुलनात्मक रूप से अधिक विकसित अर्थव्यवस्थाओं मे से एक है। फिजी ने 1960 व 1970 के दशक में तेजी से वृद्धि की लेकिन 1980 के दशक की शुरुआत में अर्थव्यवस्था मे ठहराव आ गया, 1987 के तख्तापलट ने तो इसे और मंदा कर दिया। तख्तापलट के बाद के वर्षों में आर्थिक उदारीकरण के चलते कपड़ा उद्योग का विकास बडी़ तेज गति से हुआ है साथ ही चीनी उद्योग से जुडी़ जमीन के पट्टों की अनिश्चितता के बावजूद देश की अर्थव्यवस्था ने अपनी वृद्धि दर कायम रखी है। फिजी दूसरे स्थान पर है।

शहरीकरण और सेवा क्षेत्र के विस्तार ने, हाल के सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि में योगदान किया है। तेजी से बढ़ रहा चीनी का निर्यात और पर्यटन उद्योग विदेशी मुद्रा के प्रमुख स्रोत हैं। फिजी राजस्व के लिए पर्यटन पर निर्भर हैं। लंबे समय की समस्याओं मे कम निवेश और अनिश्चित संपदा अधिकार शामिल हैं।

फिजी में राजनीतिक उथलपुथल ने अर्थव्यवस्था पर गंभीर प्रभाव डाला है, जो वर्ष 2000 में 2.8% से घटी और 2001 में केवल 1 % की दर से बढ़ी है। पर्यटन क्षेत्र में तेजी से बढोत्तरी हुई है हालाँकि मुद्रास्फीति कम है फिर भी फिजी के रिजर्व बैंक ने ऋण द्वारा वित्तपोषित, अत्यधिक उपभोग के भय के कारण नीति सूचक दर फरवरी 2006 में 1 % से बढा़कर 3.25 % कर दी है। कम ब्याज दरों ने अब तक निर्यात के लिए अधिक निवेश नहीं जुटाया है।

फिजी मे बोली जाने वाली हिन्दी अवधी भाषा का ही स्वरूप है। फिजी मे अवध क्षेत्र का बहुत प्रभाव है, वहाँ रामायण का बोली में भी बहुत प्रभाव है। अवध में प्रयुक्त शब्दावली आज भी ज्यो कि त्यों यंहा प्रचलित है। राष्ट्रकवि पंडित कमला प्रसाद मिश्र, हिंदी सेवी व मंत्री स्व. श्री विवेकानंद शर्मा, प्रो॰सतेंदर नंदन आदि सभी की जड़े भारतीय अवध क्षेत्र में है।

फिजी के मूल निवासी पोलिनेशियाई और मेलाशियाई लोगों का मिश्रण हैं, जो सदियों पहले दक्षिण प्रशांत के मूल स्थान से यहाँ आये थे। 1879 से 1916 के बीच ब्रिटिश 61000 मजदूरों को भारत से यहाँ गन्ने के खेतों मे काम करने के लिये यहाँ लाये थे आज यही भारतीय फिजी की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं।

भारतीय फिजियों की जनसंख्या मे तेजी से वृद्धि हुई है। फिजी के मूल निवासी पूरे देश में रहते हैं,| भारतीय फ़ीजियों में 77 प्रतिशत हिंदू हैं, 16 प्रतिशत मुस्लिम, 6 प्रतिशत ईसाई के साथ कुछ सिख भी हैं।राष्ट्रीय जनगणना हर दस वर्ष मे आयोजित की जाती है।

  • फ़िजी को आधिकारिक तौर पर फ़िजी द्वीप समूह गणराज्य कहा जाता है यह दक्षिण प्रशान्त महासागर के मेलानेशिया मे एक द्वीपीय है।
  • फ़िजी ने 10 अक्टूबर 1970 में यूनाइटेड किंगडम (UK) से स्वतंत्रता हासिल की थी।
  • फ़िजी का कुल क्षेत्रफल 18,274 वर्ग कि.मी. (7,056 वर्ग मील) है।
  • फ़िजी की राष्ट्रीय भाषाएं अंग्रेज़ी, इताउकी (फिजियन) और हिंदी (फ़िजी हिंदी) है।
  • फ़िजी की मुद्रा का फिजियन डॉलर है।
  • विश्व बैंक के अनुसार 2016 में फ़िजी की कुल जनसंख्या 8.99 लाख थी।
  • फ़िजी का सबसे ऊँचा पर्वत माउंट टॉमअनिवी (Mount Tomanivi) है, जिसकी ऊंचाई 1,324 मीटर है।
  • फ़िजी का राष्ट्रीय पक्षी कोल्लारेड लॉरी (Collared Lory) है।
  • फ़िजी का राष्ट्रीय पकवान कोकोडा (Kokoda) है।
  • फ़िजी का राष्ट्रीय फूल टैगिमौसिया (tagimaucia) है।
  • 10 अक्टूबर 1970 - फ़िजी को ब्रिटेन से स्वतंत्रता मिली और इस दिन को इस देश का राष्ट्रीय दिवस घोषित किया गया।
  • 11 सितम्बर 2009 - प्रशांत महासागर में गौ के द्वीप के 130 साल से गायब होने के बाद एक दुर्लभ पक्षी को देखा गया था। फ़िजी पेट्राल को गंभीर रूप से लुप्तप्राय प्रजातियों के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।
Lautoka, Nandi, Labasa, Suva,
France [M] , Solomon Islands [M] , Tonga [M] , Tuvalu [M] , Vanuatu [M] ,
अंतरराष्ट्रीय सीमा की परिभाषा: L = Land Border (भूमि सीमा)| M = Maritime Border (समुद्री सीमा)

📊 This topic has been read 52 times.

« Previous
Next »