भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन का इतिहास:

भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन 'भारतीय इतिहास' में लम्बे समय तक चलने वाला एक प्रमुख राष्ट्रीय आन्दोलन था। इस आन्दोलन की औपचारिक शुरुआत 1885 ई. में कांग्रेस की स्थापना के साथ हुई थी, जो कुछ उतार-चढ़ावों के साथ 15 अगस्त, 1947 ई. तक अनवरत रूप से जारी रहा। वर्ष 1857 से भारतीय राष्ट्रवाद के उदय का प्रारम्भ माना जाता है। राष्ट्रीय साहित्य और देश के आर्थिक शोषण ने भी राष्ट्रवाद को जगाने में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया।

भारतीय राष्ट्रीय स्वतंत्रता आन्दोलन अवधि में बनी महत्वपूर्ण संस्थाएं:

स्थापना वर्ष संस्थाओं का नाम किसके द्वारा बनायीं गई
1784 एशियाटिक सोसाइटी विलियम जोन्स
- युवा बंगाल हेनरी लुई विवियन डिरोजियो
1828 ब्रह्म समाज राजा राम मोहन राय
1843 ब्रिटिश सार्वजानिक सभा दादा भाई नौरोजी
1851 रहनुमाई भानदयासन समाज दादा भाई नौरोजी
1862 साइंटिफिक सोसाइटी सर सैयद अहमद खां
1863 मोहम्मडन एंग्लो  लिटरेरी  सोसाइटी अब्दुल लतीफ़
1871 वेद समाज श्रीधरालू नायडू
1867 प्रार्थना समाज केशव चन्द्र सेन,महादेव रानाडे,रविन्द्रनाथ  टैगोर
1870 पूना सार्वजानिक सभा रानाडे/चिपुलकर और जोशी
1872 इंडियन सोसाइटी आनंद मोहन बोस
1875 आर्य समाज स्वामी दयानंद सरस्वती
1875 थियोसोफिकल सोसाइटी मैडम ब्लाव्त्सकी  और कर्नल अल्काट
1875 मोहम्मडन एंग्लो ओरिएंटल कॉलेज सर सैयद अहमद खां
1876 इंडियन एसोसिएशन सुरेन्द्र  नाथ बनर्जी
1883 भारतीय  राष्ट्रीय कांफ्रेंस एस.एन. बनर्जी
1885 भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ए. ओ. ह्यूम
1885 बॉम्बे प्रेसिडेंसी एसोसिएशन फिरोज शाह मेहता, तैलंग तथा  तैयब जी
1887 बेलूर मठ स्वामी विवेकानंद
1887 इंडियन सोशल कांफ्रेंस महादेव गोविन्द रानाडे
1888 यूनाइटेड इंडियन पेट्रियाटिक एसोसिएशन सर सैयद अहमद खां
1896 राम कृष्ण मिशन स्वामी विवेकानंद
1905 सर्वेट्स ऑफ़ इंडिया सोसाइटी गोपाल कृष्ण गोखले
1906 मुस्लिम लीग सलीमुल्लाह  एवं  आगा  खां
1913 ग़दर पार्टी हरदयाल, काशीराम व सोहन  सिंह
1916 होमरूल  लीग बालगंगाधर  तिलक
1918 विश्व  भारती रविन्द्र नाथ टैगोर
1920 कम्युनिस्ट  पार्टी ऑफ़ इंडिया एम् एन राय (ताशकंद में)
1920 सर्वेट्स ऑफ़ पीपुल सोसाइटी लालालाजपत  राय
1920 अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस एन. एम्. जोशी
1923 स्वराज पार्टी मोतीलाल नेहरु, चितरंजन दास  व एन.सी. केलकर
1925 राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के बी हेडगेवार
1928 हिंदुस्तान सोशलिस्ट  रिपब्लिकन एसोसिएशन चन्द्र शेखर आज़ाद, भगत सिंह
1936 अखिल भारतीय किसान  सभा एन. जी. रंग व सहजानन्द
1936 अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् मीनू  मसानी , अशोक  मेहता व डा. अशरफ
1937 खुदाई खिदमतगार खान अब्दुल गफ्फार खान
1939 फॉरवर्ड  ब्लाक सुभाष चन्द्र बोस
1940 रेडिकल डेमोक्रेटिक दल एम. एन. राय
1942 आज़ाद हिंद फौज रस बिहारी बोस

अब संबंधित प्रश्नों का अभ्यास करें और देखें कि आपने क्या सीखा?

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन से संबंधित प्रश्न उत्तर 🔗

यह भी पढ़ें:

भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन प्रश्नोत्तर (FAQs):

19वीं सदी में शुरू हुआ पहला सुधार आंदोलन "भारतीय समाज सुधर सभा" था। इसकी स्थापना 1814 में राजा राममोहन राय ने की थी। यह आंदोलन भारतीय समाज में विभिन्न सामाजिक और सांस्कृतिक सुधारों को प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित किया गया था।

"भारत छोडो आंदोलन" 1942 ई. में अगस्त माह में शुरू किया गया था। इस आंदोलन को "आज़ादी आंदोलन" भी कहा जाता है। इसका मुख्य लक्ष्य था ब्रिटिश शासन से भारत की पूर्ण स्वतंत्रता को प्राप्त करना। महात्मा गांधी ने इस आंदोलन को नेतृत्व किया और उसने 8 अगस्त 1942 को "भारत छोडो" का नारा दिया।

खिलाफत आंदोलन 1920 ई. के दशक में भारतीय मुस्लिमों द्वारा आयोजित किया गया था। इस आंदोलन का मुख्य उद्देश्य खिलाफत के मामले में तुर्की सुल्तान और खलीफा के समर्थन में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ लड़ाई लड़ना था।

असहयोग आंदोलन की शुरुआत 1920 ई. के दशक में हुई। यह आंदोलन गांधीजी द्वारा नेहरू रिपोर्ट के प्रस्तावों के आधार पर आयोजित किया गया था। इस आंदोलन का मुख्य उद्देश्य ब्रिटिश सरकार के खिलाफ आंदोलन, असहयोग और अहिंसा के माध्यम से भारतीय स्वतंत्रता की मांग को मजबूत करना था।

गांधी जी ने 1922 ई. में असहयोग आन्दोलन वापस ले लिया था। इसका कारण चौरी चौकड़ी कांड था जो 5 फरवरी 1922 को वाराणसी में हुआ था। इस घटना में एक निर्दोष अंग्रेज अधिकारी मारा गया और इसके बाद असहयोग आंदोलन वापस लेने की अपील की गई।

  Last update :  Fri 7 Oct 2022
  Download :  PDF
  Post Views :  12914