संगीत और वाद्य यंत्रो के नाम हिंदी में: एक वाद्य यंत्र का निर्माण या प्रयोग, संगीत की ध्वनि निकालने के प्रयोजन के लिए होता है। सिद्धांत रूप से, कोई भी वस्तु जो ध्वनि पैदा करती है, वाद्य यंत्र कही जा सकती है। वाद्ययंत्र का इतिहास, मानव संस्कृति की शुरुआत से प्रारंभ होता है। वाद्ययंत्र का शैक्षणिक अध्ययन, अंग्रेज़ी में ओर्गेनोलोजी कहलाता है।

संगीत वाद्य के रूप में एक विवादित यंत्र की तिथि और उत्पत्ति 67,000 साल पुरानी मानी जाती है; कलाकृतियां जिन्हें सामान्यतः प्रारंभिक बांसुरी माना जाता है करीब 37,000 साल पुरानी हैं।   भारत के विभिन्न क्षेत्रों में अनेक प्रकार के वाद्य यंत्रों का विकास हुआ है जिनको मुख्य रूप से चार वर्गों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

संगीत और वाद्य यंत्रो के प्रकार:

  • घन-वाद्य: जिसमें डंडे, घंटियों, मंजीरे आदि शामिल किये जाते हैं जिनको आपस में ठोककर मधुर ध्वनि निकाली जाती है।
  • अवनद्ध-वाद्य या ढोल: जिसमें वे वाद्य आते हैं, जिनमें किसी पात्र या ढांचे पर चमड़ा मढ़ा होता है जैसे- ढोलक।
  • सुषिर-वाद्य: जो किसी पतली नलिका में फूंक मारकर संगीतमय ध्वनि उत्पन्न करने वाले यंत्र होते हैं, जैसे- बांसुरी।
  • तत-वाद्य: जिसमें वे यंत्र शामिल होते हैं, जिनसे तारों में कम्पन्न उत्पन्न करके संगीतमय ध्वनि निकाली जाती है, जैसे- सितार।

भारत और विश्व के प्रमुख संगीत और वाद्य यंत्रो की सूची:

Musical Instruments names in English संगीत और वाद्य यंत्रो के नाम हिन्दी में
Bagpipe मशक बीन
Banjo बैंजो
Bell घंटी
Bugle सिंघा या बिगुल
Clarion तुरही
Clarionet शहनाई
Conch शंख
Cymbal झांझ, छैना, करताल
Drum ढोल
Drum नगाड़ा
Drumet डुगडुगी
Flute बांसुरी
Guitar गिटार
Harmonium हरमोनियम
Harp वीणा
Jew’s harp मुरचंग
Mouth-organ बीन-बाजा
Piano पियानो
Sarod सरोद
Sitar सितार
Tabor तबला
Tambourine डफ
Tomtom ढोलक
Violin बेला
Whistle सीटी

यह भी पढ़ें:

  Last update :  Tue 13 Dec 2022
  Download :  PDF
  Post Views :  27415
  Post Category :  शब्दार्थ