विश्व की प्रमुख स्थानीय पवनें, प्रकृति एवं उनके स्थान: 

स्थानीय पवनें किसे कहते है?

स्थानीय धरातलीय बनावट, तापमान एवं वायुदाब की विशिष्ट स्थिति के कारण स्भावतः प्रचलित पवनों के विपरीत प्रवाहित होनें वाली पवनें "स्थानीय पवनों" या "स्थानीय हवाएँ" (local winds) के रूप में जानी जाती हैं। इनका प्रभाव अपेक्षाक्रत छोटे छेत्रों पर पडता हैं। ये क्षोभमण्डल (Troposphere) की सबसे नीचे की परतों तक सीमित रहती हैं। नोट: क्षोभमण्डल पृथ्वी के वायुमंडल का सबसे निचला हिस्सा होता है।

व्यापारिक पवनें किसे कहते है?

दक्षिणी अक्षांश के क्षेत्रों अर्थात उपोष्ण उच्च वायुदाब कटिबंधों (Subtropical high Pressure zone) से भूमध्य रेखीय निम्न वायुदाब कटिबंध (Equatorial low Pressure zone) की ओर दोनों गोलाद्धों में वर्ष भर निरन्तर प्रवाहित होने वाले पवन को व्यापारिक पवन (Trade winds) कहा जाता हैं। ये पवन वर्ष भर एक ही दिशा में निरन्तर बहती हैं। सामान्यतः इस पवन को उत्तरी गोलार्द्ध में उत्तर से दक्षिण दिशा में तथा दक्षिण गोलार्द्ध में दक्षिण से उत्तरी दिशा में प्रवाहित होना चाहिए, किन्तु फेरेल के नियम (Ferrel's law) एवं कोरोऑलिस बल के कारण “ ये हवाएं पृथ्वी की गति के कारण उत्तरी गोलार्द्ध में दाहिनी ओर तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में बायीं ओर मुड़ जाती हैं।”

व्यापरिक पवनों की विशेषताएं:

  • व्यापरिक पवनों को अंग्रेज़ी में ‘ट्रेड विंड्स (Trade winds)’  कहते हैं। यहाँ ‘ट्रेड’ शब्द जर्मन भाषा से लिया गया है, जिसका तात्पर्य 'निर्दिष्ट पथ (Specified way)' या 'मार्ग' से है। इससे स्पष्ट है कि ये हवाएँ एक निर्दिष्ट पथ पर वर्ष भर एक ही दिशा में बहती रहती हैं।
  • उत्तरी गोलार्ध में ये हवाएँ उत्तर-पूर्व से दक्षिण-पश्चिम की ओर बहती हैं। वहीं दक्षिणी गोलार्ध में इनकी दिशा दक्षिण-पूर्व से उत्तर-पश्चिम की ओर होती है।
  • नियमित दिशा में निरंतर प्रवाह के कारण प्राचीन काल में व्यापारियों को पाल युक्त जलयानों के संचालन में इन हवाओं से काफ़ी मदद मिलती थी, जिस कारण इन्हें व्यापारिक पवन कहा जाने लगा था।
  • भूमध्य रेखा के समीप दोनों व्यापारिक पवन आपस में मिलकर अत्यधिक तापमान के कारण ऊपर उठ जाती हैं तथा घनघोर वर्षा का कारण बन जाती हैं, क्योंकि वहाँ पहुँचते-पहुँचते ये जलवाष्प से पूर्णत: संतुष्ट हो जाती हैं।
  • व्यापारिक पवनों का विश्व के मौसम पर भी व्यापक प्रभाव पड़ता है।

स्वभावगत इन हवाओ की विशेषताएं एवं उनके प्रभाव विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं, विश्व की कुछ प्रमुख स्थानीय हवाये निम्नलिखित है:-

विश्व की प्रमुख स्थानीय पवनों की सूची:

स्थानीय पवनों के नाम प्रकृति स्थान का नाम
लू (Loo) गर्म एवं शुष्क उत्तरी भारत -पाकिस्तान
उत्तरी भारत में गर्मियों में उत्तर-पूर्व तथा पश्चिम से पूरब दिशा में चलने वाली धुलभरी ,तूफ़ानी उष्ण तथा शुष्क हवाओं को लू कहतें हैं। इस तरह की हवा मई और जून में चलती हैं। लू के समय तापमान 45° सेंटिग्रेड से चला जाता है।
हबूब (Haboob) गर्म सूडान
उत्तर पूर्वी सुडान, विशेषकर खारतूम के समीप चलने वाली एक प्रकार की धूल भरी आँधी, जिसके कारण दिखाई देना भी कम हो जाता हैं तथा कभी-कभी बिजली कड़कने के साथ भारी वर्षा भी होती हैं। यह विशेषकर मई तथा सितम्बर के महिनों में दोपहर के बाद चलती हैं। हबूब का अर्थ होता है- पानी का बुलबुला।
चिनूक (Chinook) गर्म एवं शुष्क रॉकी पर्वत
पर्वतीय ढाल (mountain slopes) के सहारे चलने वाली गर्म व शुष्क हवा है जो संयुक्त राज्य अमेरिका मे चलती है। यह पवन रॉकी पर्वत (Rocky Mountains) की पूर्वी ढाल में कोलारेडो से उत्तर में कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया तक चलती है । इस हवा का औसत तापक्रम 40 डिग्री फा० होता हैं। इस पवन को हिमभक्षी के नाम से भी जाना जाता हैं।
मिस्ट्रल (Mistral) ठंडी स्पेन -फ़्रांस
यह स्पेन मूलतः फ्रांस के रोनघाटी में जाड़े में चलने वाली ठंडी हवा हैं।
हरमट्टन (Harmattan) गर्म एवं शुष्क पश्चिम अफ्रीका
हरमट्टन सहारा मरुस्थल से दक्षिण पश्चिम दिशा में चलनें वाली गर्म तथा शुष्क हवा हैं। हरमट्टन हवाओं के आने से अफ्रीका का उष्ण पश्चिमी तट हरा-भरा हो जाता है। गिनी तट पर इस प्रकार की हवा को "डाक्टर वायु" के नाम से जाना जाता हैं। क्योंकि यह वायु इस क्षेत्र के निवासियों को आर्द्र मौसम से राहत दिलाती हैं। उत्तरी अमेरिका में "ब्लैक रोलर" व फारस की खाड़ी के उत्तर-पूर्व में "शामाल" कहा जाता है।
सिरोको (Sirocco) गर्म एवं शुष्क सहारा मरुस्थल
यह सहारा मरुस्थल में भूमध्य सागर की ओर चलने वाली गर्म हवा हैं। सहारा मरुस्थल से इटली में प्रवाहित होने वाली सिराँको हवा बालू के कणों से मिली होती हैं और जब सागर से नमी लेने के बाद जब इटली में वर्षा करती हैं तो इन बालू के कणों के कारणबारिश की बूंदे लाल हो जाती हैं। इस प्रकार इटली में इसे रक्त की वर्षा या खून की बारिश भी कहतें हैं।
सिमूम (Simoom) गर्म एवं शुष्क अरब मरुस्थल
यह अरब के मरुस्थल में चलने वाली गर्म एवं शुष्क हवा होती हैं। यह हवा बहुत तेज गति से चलती है। इसके चलने से सांस लेने में कठिन हो जाता है।
बोरा (Bora) ठंडी एवं शुष्क इटली एवं हंगरी
बोरा यूगोस्लाविया के एड्रियाटिक तट पर चलने वाली ठंडी हवा को कहा जाता है। इटली के उत्तरी भाग में उत्तर-पूर्व से चलने वाली ठंडी हवाओं को बोरा कहते हैं।
बिल्जर्ड (Blizzard) ठंडी टुंड्रा प्रदेश
एक बर्फ़ीला तूफ़ान एक गंभीर बर्फ़ीला तूफ़ान है जिसकी विशेषता कम से कम 56 किमी / घंटा (35 मील प्रति घंटे) की तेज हवाओं और लंबे समय तक चलने वाली हवाएं हैं।
लेवेंतर (Levant) ठंडी स्पेन
लेवेंट एक पूर्वी हवा है जो पश्चिमी भूमध्य सागर और दक्षिणी फ्रांस में चलती है। रूसिलॉन में इसे "लेवेंट" और कोर्सिका में "लेवेंटे" कहा जाता है।
ब्रिक फील्डर (Brickfielder) गर्म एवं शुष्क आस्ट्रेलिया
यह आस्ट्रेलिया के विक्टोरिया राज्य में चलने वाली गर्म एंव शुष्क हवा हैं।
फ्राईजेम (Friagem) ठंडी ब्राज़ील
यह ब्राजील के उष्णटिबन्धीय कैम्पोज क्षेत्र में प्रति चक्रवात उत्पन्न हो जाने के कारण आने वाली तीव्र शीत-लहर हैं, जो मई या जून के महिनों में प्रवाहित होकर इस क्षेत्र के तापमान को10 डिग्री सेण्टिग्रेड तक घटा देती हैं।
पापागयो (Papagayo) ठंडी एवं शुष्क मैक्सिको
Papagayo जेट, जिसे Papagayo Wind या Papagayo Wind Jet के रूप में भी जाना जाता है, तेज रुक-रुक कर चलने वाली हवाएं हैं जो Papagayo की खाड़ी से लगभग 70 किमी उत्तर में चलती हैं।
ख़मसिन (Khamsin) गर्म एवं शुष्क मिस्र
ख़मसिन जिसे सामान्यतः मिस्र में खमासीन के रूप में जाना जाता है मिस्र को प्रभावित करने वाली शुष्क, गर्म, रेतीली स्थानीय हवा है लेवेंट के नाम से जाने जानी वाली इसी तरह की हवाएं, उत्तरी अफ्रीका के अन्य हिस्सों, अरब प्रायद्वीप में बहती हैं
सोलानो (solano) गर्म एवं आर्द्रतायुक्त सहारा
सोलानो एक पूर्व से दक्षिण-पूर्वी हवा है वसंत और गर्मियों में, जून से सितंबर तक, यह जिब्राल्टर जलडमरूमध्य के ऊपर अफ्रीकी तट से, अक्सर बारिश के साथ और कभी-कभी धूल के साथ गर्म हवा ले जातीहै।
पुनाज़ (Punas) ठंडी  एवं शुष्क इंडीज़ (andes) पर्वत
पेरू में पुना नामक टेबललैंड के पार कॉर्डिलरस से पुना हवा चलती है। यह ठंडी और शुष्क हवा है।
बुरान (Buran) ठंडी साइबेरिया
रूसी में बुरान एक हवा है जो ईरान, पूर्वी एशिया, विशेष रूप से झिंजियांग, साइबेरिया और कजाकिस्तान में चलती है। टुंड्रा के ऊपर, इसे урга, purga के नाम से भी जाना जाता है।
नोरवेस्टर्स (Nor'westers) गर्म भारत
नोरवेस्टर्स असम में जाना जाने वाला बोर्डोइसिला, स्थानीयकृत वर्षा और आंधी और तूफान की घटना है जो भारतीय राज्यों बिहार, झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में होती है, जो अक्सर 100 किमी / घंटा (62 मील प्रति घंटे) से अधिक होती है।
सांता एना (Santa Ana) गर्म एवं शुष्क कैलिफोर्निया
सांता एना हवाएं तेज, बेहद शुष्क डाउनस्लोप हवाएं हैं जो अंतर्देशीय उत्पन्न होती हैं और तटीय दक्षिणी कैलिफ़ोर्निया और उत्तरी बाजा कैलिफ़ोर्निया को प्रभावित करती हैं। वे ग्रेट बेसिन में ठंडी, शुष्क उच्च दाब वायुराशियों से उत्पन्न होते हैं।
शामल (Shamal) गर्म एवं शुष्क इराक, ईरान
यह मेसोपोटामिया (इराक) तथा फारस की खाडी में चलने वाली गर्म तथा शुष्क उत्तर-पूर्वी हवा हैं।
जोंडा (Zonda) गर्म एवं शुष्क अर्जेंटीना
ज़ोंडा पवन फेन हवा के लिए एक क्षेत्रीय शब्द है जो अक्सर अर्जेंटीना में एंडीज के पूर्वी ढलान पर होता है। ज़ोंडा एक शुष्क हवा है (अक्सर धूल ले जाती है) जो ध्रुवीय समुद्री हवा से आती है।
पैम्पेरो (Pampero) ठंडी पम्पास मैदान
पैम्पेरो ब्राजील, अर्जेंटीना, उरुग्वे, पराग्वे और बोलीविया के दक्षिण में पम्पास पर पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम या दक्षिण से ठंडी ध्रुवीय हवा का एक विस्फोट है। यह हवा (अक्सर हिंसक रूप से) एक सक्रिय कम गुजरने वाले ठंडे मोर्चे के पारित होने के दौरान उठाती है।

इन्हें भी जाने: नदियों के किनारे बसे विश्व के प्रमुख शहरों के नाम और सम्बंधित देश

अब संबंधित प्रश्नों का अभ्यास करें और देखें कि आपने क्या सीखा?

विश्व की स्थानीय पवनों से संबंधित प्रश्न उत्तर 🔗

यह भी पढ़ें:

प्रमुख स्थानीय पवनें प्रश्नोत्तर (FAQs):

ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी-वेस्टर्न तट से सटे होने के कारण उष्ण कटिबंधीय तीव्र तूफान को विलि-विली कहा जाता है।

पवन वेग (विंड गति) एक मूल राशि है। वायु का प्रवाह, उच्च दाब से निम्न दाब की ओर होता है। अलग-अलग जगहों के फैसले अलग-अलग होते हैं, जो ताप के अंतर के कारण होते हैं।

दक्षिणी अक्षांश अर्थात् उपोष्णकटिबंधीय उच्च वायुदाब कटिबंध के क्षेत्रों से भूमध्यरेखीय निम्न वायुदाब कटिबंध की ओर दोनों गोलार्धों में वर्ष भर निरंतर बहने वाली पवन को व्यापारिक पवन कहते हैं।

मानसूनी हवाएँ हवा की एक ऐसी प्रणाली को संदर्भित करती हैं जिसमें ऋतु परिवर्तन के साथ दिशा पूरी तरह से उलट जाती है। ये हवाएँ गर्मियों में समुद्र से ज़मीन की ओर और सर्दियों में ज़मीन से समुद्र की ओर चलती हैं।

व्यापारिक हवाएँ वे हवाएँ हैं जो उपोष्णकटिबंधीय उच्च दबाव वाले क्षेत्रों से भूमध्यरेखीय निम्न दबाव की ओर, उत्तरी गोलार्ध में उत्तर-पूर्व से और दक्षिणी गोलार्ध में दक्षिण-पूर्व से चलती हैं। इसीलिए इन्हें उत्तर-पूर्वी व्यापारिक पवनें और दक्षिण-पूर्वी व्यापारिक पवनें कहा जाता है।

  Last update :  Thu 20 Apr 2023
  Download :  PDF
  Post Views :  18640