गुरु पर्व संक्षिप्त तथ्य

त्यौहार का नामगुरु पर्व (Gurupurab)
त्यौहार की तिथि 27 नवंबर 2023
त्यौहार का प्रकारधार्मिक
त्यौहार का स्तरवैश्विक
त्यौहार के अनुयायीसिख

गुरु पर्व का इतिहास

गुरुपर्व को गुरु नानक जयंती और गुरपुरब (Gurpurab) भी कहा जाता है। सिखों के पहले गुरु, गुरु नानक देव जी सिख धर्म के संस्थापक हैं। गुरपुरब सिख समुदाय से संबंधित लोगों के बीच अत्यधिक उत्साह के साथ मनाया जाता है।

गुरु पर्व का इतिहास महर्षि व्यास के संबंध में है, जिन्हें हिंदू धर्म में महान गुरु माना जाता है। व्यास जी महर्षि वेद व्यास के नाम से भी जाने जाते हैं और महाभारत के रचयिता माने जाते हैं। उन्होंने महाभारत की रचना की थी और वेदों को व्यासीय व्याख्यान के रूप में संकलित किया था। व्यास जी को सर्वश्रेष्ठ गुरु माना जाता है, और गुरु पूर्णिमा उन्हें समर्पित है। इस दिन लोग गुरुओं के चरणों में चढ़ाई करते हैं, उन्हें बधाई देते हैं और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। छात्रों द्वारा गुरुओं को गुरुदक्षिणा दी जाती है और उनके द्वारा निर्धारित धार्मिक कार्यक्रमों में भाग लिया जाता है। इसके अलावा, लोग विभिन्न धार्मिक और सामाजिक कार्यों का आयोजन करते हैं और गुरुओं को विशेष भोजन और भक्ति भोजन प्रदान करते हैं।

गुरु पर्व से संबंधित कहानी

गुरु दक्षिणा और ईश्वर की प्रसन्नता: यह कहानी महाभारत से जुड़ी है। एक बार अर्जुन ने गुरु द्रोणाचार्य को दक्षिणा के रूप में वीरता मांगी। गुरु द्रोणाचार्य ने अर्जुन से अपने पुत्र ईक्ष्वाकु की जीवनी में उसकी रक्षा के लिए कहा। अर्जुन ने ईक्ष्वाकु की रक्षा की और उसे मार डाला। इससे गुरु द्रोणाचार्य प्रसन्न हुए और अर्जुन को अद्यतन गुणों का ज्ञान दिया। इस कहानी से यह बताया जाता है कि गुरु की सेवा करने से छात्र को आदर्शता और ज्ञान प्राप्त होता है।

कबीर और रामानंद: इस कहानी मे संत कबीरदास और उनके गुरु रामानंद की कथा दर्शाई जाती है। कबीर जी ने अपने गुरु की सेवा की और उनके मार्गदर्शन में अपने जीवन को धार्मिकता और सद्गुणों की ओर प्रवृत्त किया। इस कहानी से यह संदेश मिलता है कि गुरु के मार्गदर्शन में अपने आपको समर्पित करके अच्छे गुणों का विकास किया जा सकता है।

व्यास मुनि और गणेश: यह कहानी महर्षि व्यास और भगवान गणेश की है। महर्षि व्यास ने महाभारत की रचना करने का संकल्प बनाया था, लेकिन उनके पास एकाधिकार सूक्ष्मता थी। इसलिए, उन्होंने गणेश को अपने लिए लिखने के लिए मांग की। गणेश ने उन्हें शर्त रखी कि वे निरंतर लिखते रहेंगे और कहीं भी थक जाएं तो व्यास उन्हें रुकने का आदेश न देंगे। महर्षि व्यास ने सहमति दी और महाभारत की रचना आरंभ की। इस कहानी से यह बताया जाता है कि गुरु की सेवा के लिए आपातकाल में तालीम के लिए समर्पित रहना आवश्यक है।

गुरु पर्व का महत्व

गुरु पर्व गुरु-शिष्य संबंध के सम्मान और महत्व को दर्शाता है। गुरु शिष्य का संबंध एक पवित्र और समर्पित संबंध होता है जहां गुरु छात्र को ज्ञान, मार्गदर्शन, और समस्याओं का समाधान प्रदान करता है। गुरु पर्व इस संबंध की महिमा को प्रशंसा करता है और छात्रों को गुरुओं के प्रति आदरभाव और समर्पण को अभिव्यक्त करने के लिए प्रेरित करता है। गुरु पर्व गुरुओं के महत्व को प्रशंसा करने का अवसर प्रदान करता है। गुरु जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो छात्र को ज्ञान, संदेश, मार्गदर्शन और प्रेरणा प्रदान करता है। इस दिन छात्रों को अपने गुरुओं के प्रति आदरभाव और विश्वास का प्रदर्शन करने का अवसर मिलता है। यह पर्व ज्ञान की महिमा को प्रमोट करता है। यह दिन छात्रों को ज्ञान की प्राप्ति के लिए गुरुओं की आराधना और आशीर्वाद का समय होता है। छात्रों को गुरुओं के प्रति समर्पण और विश्वास का प्रदर्शन करने का अवसर मिलता है और वे ज्ञान के प्रतीक गुरुओं के प्रति आदरभाव और श्रद्धा को व्यक्त करते हैं।

गुरु पर्व कैसे मनाते हैं

भारतीय संस्कृति में गुरु को बहुत महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। गुरु पूरब एक प्रमुख हिंदू त्योहार है जो गुरुओं के जन्मदिन के अवसर पर मनाया जाता है। यह त्योहार भक्तों के लिए गुरु की महिमा और उनके आदर्शों को याद करने का एक अवसर है। गुरु पूरब का महत्व उसके भक्तों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। गुरु पूरब के दिन, लोग अपने प्रिय गुरुओं को नमन करते हैं और उनके प्रति अपनी श्रद्धा और समर्पण प्रकट करते हैं। यह एक आदर्श अवसर है जब छात्र अपने गुरु के प्रति आभार व्यक्त कर सकते हैं और उनके द्वारा सिखाए गए मूल्यों को समझ सकते हैं। गुरु पूरब का उत्सव विभिन्न रूपों में मनाया जाता है। यह दिन संगत के साथ साझा की जाने वाली परंपराओं, पूजा-अर्चना और भक्ति गायन के रूप में मनाया जाता है। गुरुद्वारे में धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिसमें गुरु की कथा सुनी जाती है और कीर्तन किया जाता है। गुरु पूरब के दिन लोग अपने गुरुओं की प्रतिमा और फोटो की पूजा करते हैं और उनसे आशीर्वाद मांगते हैं। वे ध्यान और प्रार्थना करते हैं और उनके उपदेशों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। इसके अलावा, गुरु पूरब पर भक्तों को भोजन और पानी का प्रबंध करना, संगत की सेवा करना, दान-धर्म करना और अन्य नेक काम करना भी अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है।

इन सभी रीति-रिवाजों के माध्यम से गुरु पूरब के महत्व को स्मरण किया जाता है और गुरु के आदर्शों को अपनाया जाता है। गुरु पूरब का महत्व उसकी परंपराओं, शिक्षा के प्रणेताओं और गुरु शिष्य परंपराओं को जीवित रखने का एक अवसर है। इस दिन को मनाकर, हम अपने जीवन में गुरु के मार्गदर्शन को स्मरण करते हैं और उनकी सिखायी हुई सभी महत्वपूर्ण बातें अपनाते हैं। गुरु पूरब हमें धार्मिकता, आदर्शों, समर्पण और सेवा की महत्ता को याद दिलाता है।इस तरह, गुरु पूरब एक महत्वपूर्ण और आदर्शिक पर्व है जो हमें गुरु की महिमा को याद रखने और उनकी शिक्षाओं को अपनाने का अवसर प्रदान करता है। इस दिन पर हमें अपने गुरुओं के प्रति आभार व्यक्त करना चाहिए और उनके प्रभाव को अपने जीवन में जीवित रखने का संकल्प लेना चाहिए।

गुरु पर्व की परंपराएं और रीति-रिवाज

कुछ सामान्य परंपराएं हैं जिनका पालन गुरु पर्व के दौरान किया जाता है। उत्सव का उद्देश्य गुरुओं की शिक्षाओं और योगदानों का सम्मान करना और उन्हें याद रखना, एकता, समानता और निस्वार्थ सेवा को बढ़ावा देना और समुदाय के बीच आध्यात्मिक बंधन को मजबूत करना है।

गुरुद्वारा यात्रा: गुरु पर्व पर लोग गुरुद्वारों में जाते हैं, जो सिखों के पूजा स्थल हैं। वे प्रार्थना करते हैं, पवित्र ग्रंथों के पाठ में भाग लेते हैं और सिख पुजारियों द्वारा दिए गए उपदेशों को सुनते हैं।

नगर कीर्तन: नगर कीर्तन एक धार्मिक जुलूस है जो गुरु पर्व पर होता है। भक्त सिखों के पवित्र ग्रंथ, गुरु ग्रंथ साहिब को खूबसूरती से सजाई गई पालकी या नाव पर इकट्ठा करते हैं और ले जाते हैं। वे भजन गाते हैं, भक्ति छंद गाते हैं, और सड़कों पर चलते हुए गुरु के संदेश का प्रसार करते हैं।

लंगर सेवा: लंगर सामुदायिक रसोई को संदर्भित करता है जहां सभी आगंतुकों को उनकी जाति, पंथ या सामाजिक स्थिति की परवाह किए बिना मुफ्त भोजन परोसा जाता है। गुरु पर्व पर, भक्त सक्रिय रूप से लंगर की तैयारी और सेवा में भाग लेते हैं। यह अभ्यास समानता, विनम्रता और निःस्वार्थ सेवा का प्रतीक है।

कथा और कीर्तन: कथा का तात्पर्य गुरु ग्रंथ साहिब से धार्मिक कहानियों और शिक्षाओं के पाठ से है। कीर्तन में गुरु की स्तुति में भक्ति गायन और भजनों का जप शामिल है। ये गतिविधियाँ गुरुद्वारों और सामुदायिक हॉल में आयोजित की जाती हैं, जहाँ भक्त आध्यात्मिक प्रवचन सुनने के लिए इकट्ठा होते हैं और भक्ति गायन में संलग्न होते हैं।

अखंड पथ: अखंड पाठ दो से तीन दिनों की अवधि में, बिना किसी विराम के, गुरु ग्रंथ साहिब का निरंतर पठन है। यह अक्सर गुरु पर्व के अवसर पर गुरुद्वारों में आयोजित किया जाता है। भक्त बारी-बारी से शास्त्रों का पाठ करते हैं और इस निर्बाध वाचन के दौरान उनका सम्मान करते हैं।

सेवा: सेवा का तात्पर्य दूसरों के लाभ के लिए की गई निस्वार्थ सेवा से है। भक्त सेवा के विभिन्न कार्यों में संलग्न होते हैं जैसे कि गुरुद्वारा परिसर की सफाई, आगंतुकों को पानी और भोजन परोसना, कार्यक्रम के आयोजन में सहायता करना और तीर्थयात्रियों को आवास प्रदान करना।

गुरु पर्व के बारे में अन्य जानकारी

गुरुपर्व के मनाने में काफी बदलाव हुए हैं जो लोगों के सामाजिक और तकनीकी परिवर्तनों के साथ जुड़े हुए हैं। यहां कुछ प्रमुख बदलावों की उल्लेख किया जा सकता है:

तकनीकी संबंधित बदलाव: आधुनिकता के युग में, गुरुपर्व के अवसर पर लोग सोशल मीडिया और इंटरनेट का उपयोग करके गुरुद्वारों के आयोजनों, कथा-कीर्तन, और संबंधित कार्यक्रमों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। वे भजन, कीर्तन और संगत के साथ अपने अनुभव और श्रद्धांजलि को सोशल मीडिया पर साझा कर सकते हैं।

समुदायिक सेवा: आजकल गुरुपर्व के दौरान समुदाय की सेवा कार्यक्रमों में वृद्धाश्रम, अस्पताल, यतीमखाना या अन्य सामाजिक संस्थानों में सेवा करने की प्रथा बढ़ी है। लोग अपने समय और संसाधनों को उन लोगों की सेवा में लगा सकते हैं जिन्हें आर्थिक या सामाजिक रूप से सहायता की जरूरत होती है।

संगत के साथ साझा करना: लोग अब गुरुपर्व के अवसर पर संगत के साथ अपने अनुभव, सोच और श्रद्धा को साझा करने का मार्ग चुनते हैं। इसके लिए, समाज में साझेदारी की भावना बढ़ गई है और लोग गुरुपर्व पर उत्साह से गुरुद्वारों में इकट्ठे होते हैं।

शिक्षा और प्रेरणा: अधिकांश गुरुपर्व के आयोजनों में गुरुद्वारों में विशेष उपदेश और प्रेरणा सत्रों का आयोजन किया जाता है। ये सत्र शिक्षार्थियों और समुदाय के लोगों को गुरुओं द्वारा दिए गए मार्गदर्शन, आदर्शों और सत्यों के बारे में संशोधित करने और सीखने का मार्ग प्रदान करते हैं।

महत्वपूर्ण त्योहारों की सूची:

तिथि त्योहार का नाम
25 मार्च 2024होली
14-15 जनवरी 2024पोंगल
14 फरवरी 2024वसंत पंचमी
8 मार्च 2024 महा शिवरात्रि
15 नवंबर 2023भाई दूज
28 जून 2023ईद अल-अज़हा
17 नवंबर 2023 - 20 नवंबर 2023छठ पूजा
23 मई 2024बुद्ध पूर्णिमा
7 सितंबर 2023जन्माष्टमी
19 सितंबर 2023गणेश चतुर्थी
12 नवंबर 2023दिवाली
27 नवंबर 2023 गुरु पर्व
11 सितंबर 2023 - 18 सितंबर 2023पर्यूषण पर्व
10 – 11 अप्रैल 2024ईद उल-फितर

गुरु पर्व प्रश्नोत्तर (FAQs):

इस वर्ष गुरु पर्व का त्यौहार 27 नवंबर 2023 को है।

गुरु पर्व एक धार्मिक त्यौहार है, जिसे प्रत्येक वर्ष बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

गुरु पर्व का त्यौहार प्रत्येक वर्ष सिख धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता है।

गुरु पर्व एक वैश्विक स्तर का त्यौहार है, जिसे मुख्यतः सिख धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा धूम धाम से मनाया जाता है।

  Last update :  Thu 8 Jun 2023
  Post Views :  2512
विश्व संस्कृत दिवस (श्रावणी पूर्णिमा) का अर्थ, इतिहास एवं महत्व
क्रिसमस डे (25 दिसम्बर) का इतिहास, महत्व, थीम और अवलोकन
होली का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
मकर संक्रांति का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
पोंगल का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
वसंत पंचमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महा शिवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
चैत्र नवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
गणगौर का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
राम नवमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महर्षि वाल्मीकि जयंत्री का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी