महा शिवरात्रि संक्षिप्त तथ्य

त्यौहार का नाममहा शिवरात्रि (Maha Shivratri)
त्यौहार की तिथि8 मार्च 2024
त्यौहार का प्रकारधार्मिक
त्यौहार का स्तरवैश्विक
त्यौहार के अनुयायीहिंदू

महा शिवरात्रि का इतिहास

महाशिवरात्रि हिन्दुओं का प्रमुख पर्व है। हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि मनाई जाती है। यह पर्व व्रत, पूजा और भगवान शिव की पूजा करके मनाया जाता है। शिवरात्रि पर उपवास करना बेहद शुभ माना जाता है और ऐसा माना जाता है कि यह आशीर्वाद और मनोकामनाओं की पूर्ति करता है।

महाशिवरात्रि हिंदू धर्म का एक प्रमुख त्योहार है जो भगवान शिव की पूजा और आराधना करने का अवसर है। यह पर्व फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन सृष्टि की शुरुआत अग्निलिंग (जो कि महादेव का विराट रूप है) के उदय से हुई थी। इस दिन भगवान शिव का विवाह देवी पार्वती से हुआ था। महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव और उनकी पत्नी पार्वती की पूजा की जाती है।

महा शिवरात्रि से संबंधित कहानी

सती और शिव का विवाह: एक प्रसिद्ध कथा के अनुसार, महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव और देवी सती का विवाह हुआ था। यह कथा पुराणों में विवरणित है और महाशिवरात्रि को इस विशेष अवसर के रूप में मनाने का कारण बनती है।

सागर मंथन: दूसरी प्रमुख कहानी में, देवताओं और असुरों के बीच एक सागर मंथन का वर्णन होता है जिसमें शिव ने अमृत (अमृता) को प्राप्त करने के लिए भगवान विष्णु की सहायता की। इस कथा में महाशिवरात्रि का महत्व बताया जाता है क्योंकि इस दिन शिव ने अमृत प्राप्त किया था।

भूतनाथ व्रत कथा: यह कथा महाशिवरात्रि के अवसर पर व्रत रखने के महत्व को दर्शाती है। कथा के अनुसार, एक गरीब व्यक्ति ने महाशिवरात्रि के दिन शिव पर विशेष भक्ति और व्रत किया। शिव ने उसे आशीर्वाद दिया और उसकी समस्याओं को दूर किया।

महा शिवरात्रि का महत्व

महाशिवरात्रि फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन को रात्रि का विशेष महत्व दिया जाता है, क्योंकि भगवान शिव की अनुपम आराधना के लिए रात्रि को विशेष मान्यता दी जाती है।

शिवतत्व की पूजा: महाशिवरात्रि पर शिवतत्व की विशेष पूजा की जाती है। इस दिन भगवान शिव की आराधना करके भक्ति, ध्यान और मन्त्रजाप के माध्यम से उनके पास समर्पित होने का अवसर मिलता है।

प्रलय से रक्षा: इसे मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव ने सृष्टि को प्रलय से बचाया था। इसलिए, यह दिन उनकी शक्ति और करुणा की प्रतीक है और लोग इस दिन उनकी आराधना करते हैं और उनसे आशीर्वाद मांगते हैं।

पापों से मुक्ति: महाशिवरात्रि को पूरी भक्ति और श्रद्धा के साथ मनाने से मान्यता है कि सभी पापों से मुक्ति मिलती है। यह दिन व्यक्ति को आत्मिक शुद्धि और सद्गति की प्राप्ति का अवसर प्रदान करता है।

महा शिवरात्रि कैसे मनाते हैं

महाशिवरात्रि को विभिन्न रूपों में मनाया जाता है, जो विभिन्न क्षेत्रों और संप्रदायों के अनुसार थोड़ा भिन्न हो सकता है:

शिवलिंग पूजा: महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग की पूजा की जाती है। शिवलिंग पर जल, धूप, फूल, बेल पत्र, बिल्व पत्र आदि चढ़ाकर शिव की आराधना की जाती है। यह पूजा श्रद्धा और भक्ति के साथ की जाती है।

जागरण: महाशिवरात्रि के दिन रात भर जागरण की जाती है। लोग उठे रहते हैं और भजन, कीर्तन, आरती और शिव कथा के पाठ करते हैं। यह जागरण शिव की प्राप्ति के लिए भक्ति और आराधना का एक महत्वपूर्ण माध्यम है।

व्रत और उपवास: बहुत से लोग महाशिवरात्रि के दिन व्रत रखते हैं और उपवास करते हैं। इस दिन अन्न, तांदुल, घी, मैदा, मसाले, प्याज और लहसुन जैसे अन्न पदार्थों का त्याग किया जाता है। यह व्रत आत्म-शुद्धि और शिव की कृपा के लिए किया जाता है।

शिव भजन और कीर्तन: लोग शिव भजन और कीर्तन करते हैं और शिव के नाम का जाप करते हैं। यह शिव की स्तुति और आराधना का एक महत्वपूर्ण तरीका है।

शिव मंदिरों की यात्रा: महाशिवरात्रि के दिन शिव मंदिरों की यात्रा की जाती है। लोग शिवलिंग पर जल चढ़ाते हैं और अपनी प्रार्थनाएं करते हैं।

महा शिवरात्रि की परंपराएं और रीति-रिवाज

महाशिवरात्रि की परंपराएं विभिन्न क्षेत्रों, संप्रदायों और आचार्य वृत्तियों के अनुसार थोड़ी भिन्नता दिखा सकती है। यहां कुछ प्रमुख महाशिवरात्रि की परंपराएं हैं:

ज्ञानागम संप्रदाय: इस प्रमुख संप्रदाय में महाशिवरात्रि को भगवान शिव के विशेष आराधना का दिन माना जाता है। इस दिन विशेष पूजा-अर्चना, अभिषेक, ध्यान और भजन-कीर्तन की जाती है। मंदिरों में लोगों की भीड़ एकत्र होती है और विभिन्न शिवलिंगों पर जल चढ़ाया जाता है।

काशी विश्वनाथ प्रम्परा: वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में महाशिवरात्रि का आयोजन विशेष ढंग से होता है। इस दिन प्रातःकाल से ही मंदिर के प्रांगण में भक्तों की विशेष भीड़ एकत्र होती है और प्रदोष काल से रात्रि तक निरंतर पूजा, अर्चना, आरती और भजन-कीर्तन की जाती है।

नागा संप्रदाय: उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में नागा संप्रदाय की परंपरा के अनुसार महाशिवरात्रि मनाई जाती है। इस दिन नागा साधुओं की भीड़ और अनुयायों की संख्या विशेष रूप से बढ़ जाती है।

पंचामृत आभिषेक: बहुत से लोग इस दिन पंचामृत (दूध, दही, घी, मधु, शहद) से शिवलिंग का आभिषेक करते हैं। यह पूजा-अर्चना का महत्वपूर्ण हिस्सा है और शिव की कृपा के लिए अर्चना की जाती है।

तांडव नृत्य: कुछ स्थानों पर महाशिवरात्रि के दिन शिव का तांडव नृत्य भी किया जाता है। यह नृत्य शिव के अनंत शक्ति और सृष्टि-संहार का प्रतीक है।

महा शिवरात्रि के बारे में अन्य जानकारी

महाशिवरात्रि विभिन्न सांस्कृतिक और सामाजिक परिवर्तनों के साथ सालों से बदलता रहा है। पहले के समय में महिलाएं महाशिवरात्रि के दौरान परंपरागत रूप से पूजा और व्रत नहीं करती थीं, लेकिन आजकल बहुत सारी महिलाएं इसे धार्मिक तथा सामाजिक दायित्व के रूप में मानती हैं और व्रत रखती हैं और पूजा-अर्चना करती हैं। आजकल, बहुत सारे शिव मंदिर और संगठन महाशिवरात्रि के दिन सामाजिक सेवा कार्यों को आयोजित करते हैं। यह शिव की आराधना के अलावा समाज के लिए भी महत्वपूर्ण कार्य होते हैं, जैसे भोजन का वितरण, मेडिकल कैंप, शिक्षा संबंधित कार्यक्रम आदि।

कुछ स्थानों पर महाशिवरात्रि के दौरान शिव का तांडव नृत्य और शिवलिंग पर जल की बारिश की विशेष प्रदर्शनी की जाती है। इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को धार्मिक और सांस्कृतिक आनंद देना है। महाशिवरात्रि के दौरान आजकल धार्मिक संगठन और धार्मिक गुरुओं की ओर से धार्मिक प्रचार कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इन कार्यक्रमों में शिवलिंग के महत्व, शिव के गुण और महिमा, धार्मिक कथाएं आदि पर चर्चा की जाती है। कुछ संप्रदायों में महाशिवरात्रि के दौरान तंत्रिक पूजा और साधना का आयोजन किया जाता है। इसमें विशेष तंत्र मंत्र, यंत्र और पूजा विधि का अनुसरण किया जाता है।

महत्वपूर्ण त्योहारों की सूची:

तिथि त्योहार का नाम
25 मार्च 2024होली
14-15 जनवरी 2024पोंगल
14 फरवरी 2024वसंत पंचमी
8 मार्च 2024 महा शिवरात्रि
15 नवंबर 2023भाई दूज
28 जून 2023ईद अल-अज़हा
17 नवंबर 2023 - 20 नवंबर 2023छठ पूजा
23 मई 2024बुद्ध पूर्णिमा
7 सितंबर 2023जन्माष्टमी
19 सितंबर 2023गणेश चतुर्थी
12 नवंबर 2023दिवाली
27 नवंबर 2023 गुरु पर्व
11 सितंबर 2023 - 18 सितंबर 2023पर्यूषण पर्व
10 – 11 अप्रैल 2024ईद उल-फितर

महा शिवरात्रि प्रश्नोत्तर (FAQs):

इस वर्ष महा शिवरात्रि का त्यौहार 8 मार्च 2024 को है।

महा शिवरात्रि एक धार्मिक त्यौहार है, जिसे प्रत्येक वर्ष बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

महा शिवरात्रि का त्यौहार प्रत्येक वर्ष हिंदू धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता है।

महा शिवरात्रि एक वैश्विक स्तर का त्यौहार है, जिसे मुख्यतः हिंदू धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा धूम धाम से मनाया जाता है।

  Last update :  Thu 8 Jun 2023
  Post Views :  2999
विश्व संस्कृत दिवस (श्रावणी पूर्णिमा) का अर्थ, इतिहास एवं महत्व
क्रिसमस डे (25 दिसम्बर) का इतिहास, महत्व, थीम और अवलोकन
होली का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
मकर संक्रांति का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
पोंगल का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
वसंत पंचमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
चैत्र नवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
गणगौर का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
राम नवमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महर्षि वाल्मीकि जयंत्री का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
भगवान विश्वकर्मा जयंती का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी