पोंगल संक्षिप्त तथ्य

त्यौहार का नामपोंगल (Pongal)
त्यौहार की तिथि14-15 जनवरी 2024
त्यौहार का प्रकारसांस्कृतिक
त्यौहार का स्तरवैश्विक
त्यौहार के अनुयायीतमिल हिंदू व अन्य

पोंगल का इतिहास

पोंगल त्योहार मुख्य रूप से दक्षिण भारत में मनाया जाने वाला पारंपरिक सफलता का त्योहार है। यह त्योहार आमतौर पर 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाया जाता है। पोंगल का त्यौहार मुख्य रूप से ग्रहों के शासक भगवान सूर्य नारायण के सम्मान में मनाया जाता है।

पोंगल त्योहार का इतिहास हजारों साल पुराना है और इसे दक्षिण भारत के ग्रामीण जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है। यह त्योहार मुख्य रूप से किसानों की विशेषता पर आधारित है और मक्का की फसल की सराहना और आशीर्वाद के रूप में मनाया जाता है।

पोंगल से संबंधित कहानी

पोंगल और देवराज इंद्र की कहानी

पोंगल को भोगी पोंगल कहा जाता है जो देवराज इंद्र को समर्पित है। इसे भोगी पोंगल इसलिए कहा जाता है क्योंकि देवराज इंद्र को भोग भोगने वाला देवता माना जाता है। इस दिन शाम के समय लोग अपने घरों से पुराने कपड़े, कूड़ा-करकट आदि लाते हैं और उन्हें एक स्थान पर इकट्ठा करके जला देते हैं। यह भगवान के प्रति सम्मान और बुराइयों के अंत की भावना को दर्शाता है। इस आग के चारों ओर, युवा रात भर भोगी कोट्टम, भैंस के सींग से बना एक प्रकार का ढोल बजाते हैं।

सूर्य पोंगल

पोंगल को कहा जाता है सूर्य पोंगल। यह भगवान सूर्य से निवेदन है। इस दिन पोंगल नामक एक विशेष प्रकार की खीर बनाई जाती है, जो मिट्टी के बर्तन में नए धान, मूंग की दाल और गुड़ से तैयार चावल से बनाई जाती है। पोंगल तैयार होने के बाद, सूर्य देव की विशेष पूजा की जाती है और उन्हें प्रसाद के रूप में यह पोंगल और गन्ना चढ़ाया जाता है और फसल देने के लिए आभार व्यक्त किया जाता है।

पोंगल का महत्व

पोंगल भारत के तमिलनाडु राज्य में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण फसल उत्सव है| यहां कुछ प्रमुख कारण बताए गए हैं कि पोंगल का इतना महत्व क्यों है:

  1. कटाई का उत्सव: पोंगल खेती के मौसम की समाप्ति और फसलों की कटाई, विशेष रूप से चावल की कटाई का प्रतीक है। यह एक ऐसा समय है जब किसान अपने श्रम के फल पर खुश होते हैं और प्रकृति की प्रचुरता का जश्न मनाते हैं। त्योहार समुदायों को बनाए रखने में कृषि की महत्वपूर्ण भूमिका की याद दिलाता है।
  2. सूर्य देव को धन्यवाद: पोंगल भगवान सूर्य, सूर्य देव को समर्पित है, जो जीवन-दाता और कृषि गतिविधियों के लिए ऊर्जा के स्रोत के रूप में पूजनीय हैं। किसान अपनी फसलों को सूरज की रोशनी और पोषण प्रदान करने, एक सफल फसल सुनिश्चित करने के लिए सूर्य देव का आभार व्यक्त करते हैं।
  3. मवेशियों के प्रति आभार व्यक्त करना:पोंगल कृषि में मवेशियों के योगदान को स्वीकार करने का अवसर भी है। किसान अपने मवेशियों को मालाओं से सजाते हैं, उन पर रंगीन निशान लगाते हैं, और आभार के प्रतीक के रूप में विशेष व्यवहार पेश करते हैं। यह इशारा किसानों और उनके पशुओं के बीच सहजीवी संबंध पर प्रकाश डालता है।
  4. सांस्कृतिक महत्व: पोंगल केवल एक फसल उत्सव नहीं है; यह परिवारों के एक साथ आने और जश्न मनाने का समय है। यह पारिवारिक बंधन को मजबूत करता है, क्योंकि रिश्तेदार पारंपरिक भोजन तैयार करने और साझा करने के लिए इकट्ठा होते हैं। त्योहार जीवंत सजावट, पारंपरिक पोशाक, संगीत, नृत्य और विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों द्वारा चिह्नित किया जाता है।

पोंगल कैसे मनाते हैं

पोंगल का त्योहार चौथे दिन से शुरू होता है और चार दिनों तक चलता है। पोंगल को को बहुत तरीको से मनाया जा सकता है :-

  1. भगवान सूर्य की पूजा: भगवान सूर्य की पूजा पोंगल के दिन लोग भगवान सूर्य की पूजा करते हैं। सूरज को अर्घ्य (जल) दिया जाता है और उसे नमन किया जाता है। यह कृषि की सफलता और धन की वृद्धि की इच्छा का जन्म है।
  2. पोंगल बनाना: पोंगल का मुख्य व्यंजन "पोंगल" है जो चावल, मूंग की दाल, गुड़ और दूध का मिश्रण होता है। इस व्यंजन को पकाने के लिए एक बड़े बर्तन का उपयोग किया जाता है। सबसे पहले आप चावल और मूंग की दाल को चावल में पका लें। फिर गुड़ और दूध को मिलाकर उबाला जाता है। जब यह मिश्रण उबलने लगे और बर्तन से भरा हुआ दिखने लगे, तो टैब लॉग "पोंगल! पोंगल!" के नारे लगते हैं।
  3. कोलम रंगोली : पोंगल के मौके पर घर-पास और दरवाजे के सामने कोल्लम रंगोली बनाई जाती है। कोलम रंगोली में रंगोली पाउडर, चावल, रंगोली रंगों का इस्तेमाल किया जाता है। यह रंगोली घर को सजाने के मुख्य तरीकों में से एक है और यह सुख-शांति का प्रतीक लगती है।
  4. मट्टू पोंगल: पोंगल के दूसरे दिन को "मट्टू पोंगल" के नाम से जाना जाता है, जिसमें सांप और अन्य जानवरों की पूजा की जाती है। जानवरों को सुंदर कपड़े और फूलों से सजाया जाता है। उन्हें माला पहनाई जाती है और उन्हें विशेष प्रसाद दिया जाता है।

पोंगल की परंपराएं और रीति-रिवाज

पोंगल को मनाने के रीति रिवाज विभिन्न चरणों में आते हैं, जो इस त्योहार को यादगार बनाते हैं:

  1. भोगी: पोंगल के पहले दिन को भोगी कहा जाता है। इस दिन पुरानी वस्त्रों, गृहस्थी और संपत्ति को आहुति देकर धन्यवाद व्यक्त किया जाता है। लोग घरों को साफ सुथरा करते हैं और नए कार्पेट या वस्त्रों को खरीदकर अपने घर को सजाते हैं।
  2. सूर्य पूजा: दूसरे दिन को सूर्य पूजा कहा जाता है, जब लोग सूर्यदेव को धन्यवाद देते हैं। वे अपने घरों के छत पर अपनी पूजा सामग्री संगठित करते हैं और सूर्य की ओर ध्यान केंद्रित करते हैं। यह दिन शुभ माना जाता है और लोग नए कार्पेट या वस्त्रों को खरीदने और घर को सजाने के लिए खर्च करते हैं।
  3. पोंगल बनाना: तीसरे दिन को पोंगल बनाने का दिन कहा जाता है। लोग मूल चावल, मूंग दाल, जीरा, घी, और चीनी का उपयोग करके एक विशेष पोंगल भोजन बनाते हैं। यह भोजन विशेष बरतानों में और दर्शकों के सामने बनाया जाता है। इसके बाद, इस भोजन को सूर्यदेव को अर्पित किया जाता है और उसे प्रसाद के रूप में बांटा जाता है।
  4. मत्स्य पूजा: चौथे दिन को मत्स्य पूजा कहा जाता है, जब लोग मछली को आराधना करते हैं। वे मत्स्य देवता को धन्यवाद देते हैं और उन्हें जल और चावल के द्वारा प्रसाद के रूप में अर्पित करते हैं।

ये रीति रिवाज समाप्त होने के बाद, लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ पोंगल का भोजन करते हैं और इस खुशी और उत्साह भरे मौके का आनंद लेते हैं।

पोंगल के बारे में अन्य जानकारी

पोंगल एक परंपरागत त्योहार है, लेकिन यह धीरे-धीरे बदल रहा है और सामाजिक, पारिवारिक और सांस्कृतिक परिवेश में प्रभाव डाल रहा है:

पोंगल त्योहार को अब विदेशों में भी धूमधाम से मनाया जाता है। तमिल समुदाय के विदेशी निवासी भी इसे अपनी प्रमुख त्योहारों में शामिल कर रहे हैं। इससे त्योहार की चर्चा विश्वस्तरीय हो रही है और अलग-अलग क्षेत्रों में भी पोंगल के आयोजन के आदर्श देखे जा सकते हैं। त्योहार अब विभिन्न समुदायों में अपनाई जा रही है।

यह पूरी तरह से तमिल समुदाय सीमित नहीं है, बल्कि दूसरे भारतीय राज्यों और समुदायों में भी प्रभाव डाल रहा है। इससे विविधता और सामाजिक समरसता का अभिनय हो रहा है। पोंगल के आयोजन में भी मॉडर्नता के असर देखे जा रहे हैं। लोग अपनी रंगीन और आकर्षक वस्त्रों में सजे होते हैं, सांस्कृतिक कार्यक्रमों और विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है, और संगठित तरीके से इसे मनाया जाता है।

महत्वपूर्ण त्योहारों की सूची:

तिथि त्योहार का नाम
25 मार्च 2024होली
14-15 जनवरी 2024पोंगल
14 फरवरी 2024वसंत पंचमी
8 मार्च 2024 महा शिवरात्रि
15 नवंबर 2023भाई दूज
28 जून 2023ईद अल-अज़हा
17 नवंबर 2023 - 20 नवंबर 2023छठ पूजा
23 मई 2024बुद्ध पूर्णिमा
7 सितंबर 2023जन्माष्टमी
19 सितंबर 2023गणेश चतुर्थी
12 नवंबर 2023दिवाली
27 नवंबर 2023 गुरु पर्व
11 सितंबर 2023 - 18 सितंबर 2023पर्यूषण पर्व
10 – 11 अप्रैल 2024ईद उल-फितर

पोंगल प्रश्नोत्तर (FAQs):

इस वर्ष पोंगल का त्यौहार 14-15 जनवरी 2024 को है।

पोंगल एक सांस्कृतिक त्यौहार है, जिसे प्रत्येक वर्ष बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

पोंगल का त्यौहार प्रत्येक वर्ष तमिल हिंदू व अन्य धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता है।

पोंगल एक वैश्विक स्तर का त्यौहार है, जिसे मुख्यतः तमिल हिंदू व अन्य धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा धूम धाम से मनाया जाता है।

  Last update :  Thu 8 Jun 2023
  Post Views :  3107
विश्व संस्कृत दिवस (श्रावणी पूर्णिमा) का अर्थ, इतिहास एवं महत्व
क्रिसमस डे (25 दिसम्बर) का इतिहास, महत्व, थीम और अवलोकन
होली का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
मकर संक्रांति का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
वसंत पंचमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महा शिवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
चैत्र नवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
गणगौर का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
राम नवमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महर्षि वाल्मीकि जयंत्री का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
भगवान विश्वकर्मा जयंती का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी