मकर संक्रांति संक्षिप्त तथ्य

त्यौहार का नाममकर संक्रांति (Makar Sankranti)
त्यौहार की तिथि14 जनवरी 2024
त्यौहार का प्रकारसांस्कृतिक
त्यौहार का स्तरक्षेत्रीय
त्यौहार के अनुयायीहिन्दू, बौद्ध

मकर संक्रांति का इतिहास

मकर संक्रांति का पर्व जनवरी में मनाया जाता है। मकर संक्रांति को पूरे भारत में अलग-अलग रूपों में मनाया जाता है। मकर संक्रांति पर सूर्य देव की विशेष रूप से पूजा, आराधना और प्रसन्न किया जाता है। इसके अलावा भक्त भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की भी पूजा करते हैं।

लोहड़ी के एक दिन बाद मकर संक्रांति मनाई जाती है। यह एक वैदिक पर्व है, इस दिन खिचड़ी का भोग लगाया जाता है। इस पर्व का संबंध प्रकृति, ऋतु परिवर्तन और कृषि से है। इस पर्व पर गुड़, तिल, रेवड़ी, गजक का प्रसाद बांटा जाता है। इस पर्व में प्रकृति के कारक सूर्य देव की पूजा की जाती है, जिन्हें शास्त्रों में भौतिक और अभौतिक तत्वों की आत्मा कहा गया है। उनकी स्थिति के अनुसार ऋतुएँ बदलती हैं और पृथ्वी खाद्यान्न पैदा करती है, जो जीवित समुदाय को भरण-पोषण प्रदान करती है। इस त्योहार को मनाने का सबसे बड़ा कारण यह है कि इस समय नई फसलें काटी जाती हैं और किसानों के घर अनाज से भर जाते हैं। इसी खुशी में लोग भोजन की पूजा करते हैं और अच्छा खाना बनाकर खाते हैं। मकर संक्रांति गर्मियों की शुरुआत का प्रतीक है। भारत के कुछ क्षेत्रों में यह एक दिन से अधिक समय तक रहता है, लेकिन अधिकांश स्थानों पर यह पर्व केवल एक दिन का ही होता है। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण धार्मिक कृत्य और त्योहार है।

मकर संक्रांति से संबंधित कहानी

मकर संक्रांति की मान्यता है कि इस दिन भगवान भास्कर स्वयं अपने पुत्र शनि से मिलने उनके घर जाते हैं। चूँकि शनि देव मकर राशि के स्वामी हैं इसलिए इस दिन को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। मकर संक्रांति के दिन समुद्र में कपिल मुनि के आश्रम से गुजरते हुए गंगा जी भागीरथ से मिली थीं।

भीष्म पितामह की महानता: यह कहानी महाभारत से जुड़ी है। भीष्म पितामह, महाभारत में कौरवों के सेनापति थे। उन्होंने महाभारत युद्ध के दौरान अपने वचन निभाए थे और सूर्य मास में अपने प्राणों को छोड़ दिया था। मकर संक्रांति के दिन उन्हें याद किया जाता है और उनकी महानता और निष्ठा की कहानी सुनाई जाती है।

किंग महबली की कथा: यह कहानी मकर संक्रांति को भारत के कई राज्यों में मनाया जाने वाला त्योहार, पोंगल, के साथ जुड़ी है। इस कथा के अनुसार, महबली राजा को देवताओं का शासक माना जाता था। उन्होंने भगवान विष्णु की प्रतिष्ठा की थी, जिसके बाद उन्हें स्वर्ग में जाने की अनुमति दी गई। तारे फेंककर और अन्य प्रयासों के साथ इस कथा को संबोधित किया जाता है।

मकर संक्रांति का महत्व

मकर संक्रांति का वैज्ञानिक महत्व यह है कि इस दिन से सूर्य के उत्तरायण होने के बाद प्रकृति में परिवर्तन शुरू हो जाता है। ठंड से सिकुड़ रहे लोगों को सूर्य के उत्तरायण होने से सर्दी के मौसम से राहत मिलने लगती है। भारत एक कृषि प्रधान देश है जहाँ त्यौहारों का सम्बन्ध कृषि पर बहुत कुछ निर्भर करता है। मकर संक्रांति ऐसे समय आती है जब किसान रबी की फसल लगाकर खरीफ की फसल, पैसा, मक्का, गन्ना, मूंगफली, उड़द घर लाते हैं। किसानों के घर अन्न से भर गए हैं। इसलिए मकर संक्रांति पर खरीफ फसलों के साथ पर्व की खुशी मनाई जाती है।

मकर संक्रांति कैसे मनाते हैं

मकर संक्रांति पर्व को नई शुरुआत का प्रतीक माना जाता है। मकर संक्रांति पर सूर्य देव की विशेष रूप से पूजा, अर्चना और उन्हें प्रसन्न किया जाता है। इसके अलावा मकर संक्रांति के अवसर पर भक्त भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की भी पूजा करते हैं।

स्नान और दान: इस दिन लोग सूर्योदय के समय स्नान करते हैं, विशेष रूप से नदी, तालाब या सागर में स्नान किया जाता है। स्नान के बाद दान किया जाता है, जैसे धन, अन्न, वस्त्र आदि। यह शुभकामनाएं और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है।

पूजा और व्रत: मकर संक्रांति के दिन मां गंगा, सूर्यदेव और शिवजी की पूजा की जाती है। मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना की जाती है और लोग व्रत रखते हैं और मन्त्रों का जाप करते हैं।

खिचड़ी का भोजन: मकर संक्रांति को खिचड़ी का भोजन महत्वपूर्ण माना जाता है। लोग इस दिन तिल, गुड़, मूंगफली और मक्के की खिचड़ी बनाते हैं और उसे पूरे परिवार के साथ बांटते हैं।

पतंग उड़ाना: यह एक प्रमुख रस्म है जो मकर संक्रांति पर मनाई जाती है। लोग पतंग उड़ाते हैं और उसे आसमान में ले जाते हैं। यह सूर्य की प्रसन्नता और खुशहाली का प्रतीक है।

लोहड़ी का मनाना: कुछ राज्यों में, मकर संक्रांति के दिन लोहड़ी का त्योहार मनाया जाता है। इसमें लोग बाल व पर्यावरण के लिए आग का पूजन करते हैं, दांवती पार्टी करते हैं, गीत गाते हैं और मिठाई बांटते हैं।

मकर संक्रांति की परंपराएं और रीति-रिवाज

मकर संक्रांति को आध्यात्मिक साधनाओं के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है और तदनुसार, लोग नदियों, विशेष रूप से गंगा, यमुना, गोदावरी, कृष्णा और कावेरी में पवित्र डुबकी लगाते हैं। मान्यता है कि स्नान करने से पुण्य या पिछले पाप नष्ट हो जाते हैं। वे सूर्य की भी प्रार्थना करते हैं और अपनी सफलताओं और समृद्धि के लिए उन्हें धन्यवाद देते हैं। भारत के विभिन्न हिस्सों से हिंदुओं के बीच पाई जाने वाली एक साझा सांस्कृतिक प्रथा विशेष रूप से गुड़ की तरह तिल (तिल) और चीनी का आधार व्यक्तियों के बीच विशिष्टता और मतभेदों के बावजूद, इस प्रकार की मिठाई शांति और खुशी में एक साथ रहने का प्रतीक है।

भारत के अधिकांश हिस्सों के लिए, यह अवधि रबी की फसल और कृषि चक्र के शुरुआती चरणों का एक हिस्सा है, जहां फसलें बोई जा चुकी हैं और खेतों में कड़ी मेहनत ज्यादातर खत्म हो चुकी है। इस प्रकार यह समय समाजीकरण की अवधि को चिह्नित करता है और परिवार एक-दूसरे की कंपनी का आनंद लेते हैं, मवेशियों की देखभाल करते हैं और अलाव के आसपास जश्न मनाते हैं, गुजरात में त्योहार पतंग उड़ाकर मनाया जाता है।

मकर संक्रांति के बारे में अन्य जानकारी

मकर संक्रांति को पूरे भारत और नेपाल में अलग-अलग रूपों में मनाया जाता है। यह पर्व पौष मास में सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के दिन मनाया जाता है। वर्तमान शताब्दी में यह पर्व जनवरी माह के सौवें या पन्द्रहवें दिन पड़ता है, इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करता है। तमिलनाडु में इसे पोंगल त्यौहार के रूप में जाना जाता है जबकि कर्नाटक, केरल और आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति कहा जाता है। बिहार के कुछ जिलों में यह पर्व 'टीला संक्रांत' के नाम से भी प्रसिद्ध है। मकर संक्रांति पर्व को 'उत्तरायण' भी कहा जाता है। वैज्ञानिक रूप से इसका मुख्य कारण लगातार 6 महीने की अवधि के बाद पृथ्वी का उत्तर से दक्षिण की ओर झुकना है।

महत्वपूर्ण त्योहारों की सूची:

तिथि त्योहार का नाम
13 जनवरी 2024 लोहड़ी
14 जनवरी 2024 मकर संक्रांति
9 अप्रैल 2024 - 17 अप्रैल 2024चैत्र नवरात्रि
11 अप्रैल 2024 गणगौर
17 अप्रैल 2024 राम नवमी
17 सितंबर 2023 भगवान विश्वकर्मा जयंती
24 अक्टूबर 2023विजयादशमी
9 अप्रैल 2024गुडी पडवा
30 अगस्त 2023रक्षाबंधन
15 अक्टूबर 2023 - 24 अक्टूबर 2023नवरात्रि
20 अक्टूबर 2023 - 24 अक्टूबर 2023दुर्गा पूजा
10 नवंबर 2023धन तेरस
21 अगस्त 2023नाग पंचमी
23 अप्रैल 2024हनुमान जयंती

मकर संक्रांति प्रश्नोत्तर (FAQs):

इस वर्ष मकर संक्रांति का त्यौहार 14 जनवरी 2024 को है।

मकर संक्रांति एक सांस्कृतिक त्यौहार है, जिसे प्रत्येक वर्ष बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

मकर संक्रांति का त्यौहार प्रत्येक वर्ष हिन्दू, बौद्ध धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता है।

मकर संक्रांति एक क्षेत्रीय स्तर का त्यौहार है, जिसे मुख्यतः हिन्दू, बौद्ध धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा धूम धाम से मनाया जाता है।

  Last update :  Thu 8 Jun 2023
  Post Views :  3624
विश्व संस्कृत दिवस (श्रावणी पूर्णिमा) का अर्थ, इतिहास एवं महत्व
क्रिसमस डे (25 दिसम्बर) का इतिहास, महत्व, थीम और अवलोकन
होली का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
पोंगल का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
वसंत पंचमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महा शिवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
चैत्र नवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
गणगौर का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
राम नवमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महर्षि वाल्मीकि जयंत्री का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
भगवान विश्वकर्मा जयंती का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी